Tuesday, April 23, 2024
Homeरिपोर्टराष्ट्रीय सुरक्षापाकिस्तान में इतने भी मजे नहीं हैं: कट्टरपंथियों को केरल हाईकोर्ट ने समझाया, कहा-...

पाकिस्तान में इतने भी मजे नहीं हैं: कट्टरपंथियों को केरल हाईकोर्ट ने समझाया, कहा- भारत ने कभी मुस्लिमों को नहीं बनाया बंधक

अदालत ने कट्टरपंथी विचार रखने वालों को नसीहत दी कि वो विभाजन के बाद से भारत के इतिहास को देखें और महसूस करें कि बाड़ के दूसरी तरफ (पाकिस्तान में) घास ज्यादा हरी नहीं है।

भारत के खिलाफ जंग छेड़ने व कश्मीर में कैंप लगाकर आतंकियों की भर्ती करने के मामले में 10 आरोपितों की उम्रकैद की सजा बरकरार रखते हुए केरल हाई कोर्ट ने इस्लामी कट्टरपंथियों पर अपनी टिप्पणी की। कोर्ट ने इशारा किया कि जिन उग्र विचार वालों को लगता है पाकिस्तान ही उनके लिए सही जगह है वो जान लें कि भारत में उनके साथ कभी कुछ गलत नहीं हुआ।

अदालत ने कट्टरपंथियों पर टिप्पणी करते हुए कहा कि कट्टरपंथी और उग्र विचार वाले लोग विभाजन के बाद से भारत के इतिहास को देखें और महसूस करेंगें कि बाड़ के दूसरी तरफ (पाकिस्तान में) स्थिति इतनी भी ठीक नहीं है जितनी वो लोग समझ के बैठे हैं। न्यायमूर्ति के विनोद चंद्रन और न्यायमूर्ति सी जयचंद्रन ने मामले की सुनवाई के दौरान बताया कि पाकिस्तान के साथ संघर्ष के दौरान भी हिंदू बहुल भारत में मुसलमानों को बंधक बनाने की घटनाएँ विभाजन के बाद से नहीं हुई हैं।

गौरतलब है कि साल 2013 में भारत के खिलाफ आतंकियों की भर्ती करने के मामले में राष्ट्रीय जाँच एजेंसी की अदालत ने केरल के कुछ आरोपितों को पकड़कर आजीवन कारावास की सजा सुनाई थी। इसी मामले पर केरल हाईकोर्ट ने सोमवार को सुनवाई की और हुए लश्कर-ए-तैयार के तदियंतविडे नजीर समेत 10 की सजा जस की तस रखी। लेकिन 3 को बरी कर दिया गया। बताया जाता है कि नजीर ही लश्कर ए तैयबा का केरल कमांडर था।

सुनवाई के दौरान कोर्ट ने आतंकियों को पड़ने के लिए एनआईए और केरल पुलिस की प्रतिबद्धता की तारीफ की। साथ ही लैरी कॉलिन्स और डोमिनिक लैपिएरे की किताब ‘फ्रीडम एट मिडनाइट’ के अध्याय 5 का हवाला दिया जिसमें कहा गया था कि भारत में मुसलमान एक ‘हिंदू समुद्र में द्वीप’ जैसे होंगे और देशों के बीच संघर्ष का शिकार होंगे…। कोर्ट ने कहा कि न तो इतने सालों में ऐसी कोई घटना हुई जहाँ बंधक बनाने की हालत आई और न ही कभी उनकी ओर से अच्छा व्यवहार किया गया। अभियोजन पक्ष ने आरोप लगाया कि आरोपितों की भर्ती केरल से केवल मजहबी आधार पर हुई थी। बाद में इन्हें पाकिस्तान भेजा गया ताकि ये वहाँ से ट्रेनिंग लेकर आएँ और भारत में आतंक मचाएँ। भारतीय सेना के साथ मुठभेड़ में इनमें से तीन मर गए थे जबकि एक ने भर्ती की बात स्वीकार कर ली थी।

न्यायमूर्ति विनोद चंद्रन ने अपने आदेश में कहा, “ऐसी जन्नत की चाह में, जो सिर्फ इंसानों को मार कर और देश के नागरिकों को मार कर मिलती है, पाँच लोगों ने धरती पर ऐसी जन्नत का सफर किया….अब वो वहाँ जन्नत के मजे ले रहे हैं या नहीं ये एक सवाल है लेकिन उन्होंने अपने परिवारजनों के लिए जीवन को जहन्नुम बना दिया जो शर्म से दुख में डूबते जा रहे हैं।”

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘PM मोदी CCTV से 24 घंटे देखते रहते हैं अरविंद केजरीवाल को’: संजय सिंह का आरोप – यातना-गृह बन गया है तिहाड़ जेल

"ये देखना चाहते हैं कि अरविंद केजरीवाल को दवा, खाना मिला या नहीं? वो कितना पढ़-लिख रहे हैं? वो कितना सो और जग रहे हैं? प्रधानमंत्री जी, आपको क्या देखना है?"

‘कॉन्ग्रेस सरकार में हनुमान चालीसा अपराध, दुश्मन काट कर ले जाते थे हमारे जवानों के सिर’: राजस्थान के टोंक-सवाई माधोपुर में बोले PM मोदी...

पीएम मोदी ने कहा कि आरक्षण का जो हक बाबासाहेब ने दलित, पिछड़ों और जनजातीय समाज को दिया, कॉन्ग्रेस और I.N.D.I. अलायंस वाले उसे मजहब के आधार पर मुस्लिमों को देना चाहते थे।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
282,677FollowersFollow
417,000SubscribersSubscribe