Monday, August 2, 2021
Homeरिपोर्टराष्ट्रीय सुरक्षाआतंकी फंडिंग के लिए पीएम आवास योजना के खातों का इस्तेमाल: धरे गए फहीम...

आतंकी फंडिंग के लिए पीएम आवास योजना के खातों का इस्तेमाल: धरे गए फहीम और सिराजुद्दीन

महिलाओं को जब इस बात की भनक लगी कि उनके एकाउंट इस तरह की गतिविधि के लिए उपयोग किए जा रहे हैं तो उन्होंने खाता खुलवाने वाले लोगों से इसका विरोध किया। महिलाओं की बात सुनने की बजाय उनलोगों ने महिलाओं को मुँह बंद रखने की धमकी दी कि.....

देश के सभी नागरिको को 2022 तक रहने के लिए छत मिल सके इस उद्देश्य से शुरू की गई योजना में भी दहशत फ़ैलाने वाले जिहादियों ने अब आतंकवाद को बढ़ावा देने का रास्ता ढूंढ लिया है। टेरर फंडिंग के मामले में प्रधानमंत्री आवास योजना के खातों के दुरूपयोग का मामला सामने आया है।

दरअसल मामला बरेली का है जहाँ पीएम आवास योजना के लिए खोले गए खातों से आतंक के आकाओं तक रुपया-पैसा पहुँचाने के लिए पूरा प्लान तैयार किया गया। इसके लिए आतंकवादियों के एक हमदर्द गिरोह ने उनको फंड पहुँचाने के लिए महिलाओं के खातों का भी इस्तेमाल किया।

टेरर फंडिंग की इस पूरी योजना में सोची समझी साजिश के तहत आवास योजना की सब्सिडी लेने वाले लोगों के खाते उत्कर्ष स्मॉल फाइनेंस बैंक में खुलवाए गए, और उन सबके एकाउंट एसबीआई में खुलवाए गए। प्रत्येक व्यक्ति को ढाई-लाख की सब्सिडी देने वाली इस योजना के इन सभी एकाउंट्स के ज़रिए करीब 50 लाख का लेनदेन किया गया।

महिलाओं को जब इस बात की भनक लगी कि उनके एकाउंट इस तरह की गतिविधि के लिए उपयोग किए जा रहे हैं तो उन्होंने खाता खुलवाने वाले लोगों से इसका विरोध किया। महिलाओं की बात सुनने की बजाय उनलोगों ने महिलाओं को मुँह बंद रखने की धमकी दी कि घटना का ज़िक्र पुलिस में करने पर सीधे जान से मारने की धमकी दे डाली। आरोपितों ने खाताधारकों को धमकी देते हुए यह कहा कि वे लोग विदेश में लेन-देन करते हैं और उनकी पहुँच बहुत ऊपर तक है। पैसे को लेकर तमाम घटनाओं को सुनने के बाद सभी में थोड़ी हिम्मत जागी और उन्होंने कोतवाली में शिकायत कर दी। इसके साथ ही उन्होंने उस गिरोह में से एक व्यक्ति को पुलिस के हवाले भी कर दिया।

खाताधारकों ने कहा कि वे लोग काफी गरीब हैं, किराए के मकान में रहते हैं। आरोपितों ने उन्हें झांसा दिया था कि उनके इस काम में मदद करने पर सभी को ढाई-ढाई लाख रुपए दिए जाएँगे। वहीं जब मामले में संलिप्त बैंक के मैनेजर से बात की गई तो मालूम चला कि उनके बैंक में इस प्रकार के पाँच एकाउंट खोले गए थे जिसमें 5 लाख से 7 लाख का लेनदेन हुआ है।

मैनेजर ने बताया कि उनसे पूछताछ करने आईबी के अधिकारी आए थे और उनकी माँगी हर डिटेल मैनेजर ने उन्हें दे दी। इस घटना में कोतवाली में तहरीर मिलने के बाद एसपी सिटी अभिनंदन सिंह ने बताया, “मामले में एफआईआर दर्ज हो चुकी है, जाँच चल रही है, अभी आतंकी फंडिंग को लेकर कुछ भी स्पष्ट नहीं कहा जा सकता। एसपी के मुताबिक मामले की जाँच में अन्य जाँच एजेंसियां भी लगी हुई हैं। गौरतलब है कि एटीएस ने लखीमपुर से उम्मीद, एजाज, समीर सलमानी और संजय अग्रवाल को भी गिरफ्तार किया था, बाद में इन्ही लोगों की निशानदेही पर एटीएस ने सिराजुद्दीन और फहीम नाम के दो लोगों को बरेली से टेरर फंडिंग में संलिप्त होने के आरोप में गिरफ्तार किया था।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

मुहर्रम पर यूपी में ना ताजिया ना जुलूस: योगी सरकार ने लगाई रोक, जारी गाइडलाइन पर भड़के मौलाना

उत्तर प्रदेश में डीजीपी ने मुहर्रम को लेकर गाइडलाइन जारी कर दी हैं। इस बार ताजिया का न जुलूस निकलेगा और ना ही कर्बला में मेला लगेगा। दो-तीन की संख्या में लोग ताजिया की मिट्टी ले जाकर कर्बला में ठंडा करेंगे।

हॉकी में टीम इंडिया ने 41 साल बाद दोहराया इतिहास, टोक्यो ओलंपिक के सेमीफाइनल में पहुँची: अब पदक से एक कदम दूर

भारतीय पुरुष हॉकी टीम ने टोक्यो ओलिंपिक 2020 के सेमीफाइनल में जगह बना ली है। 41 साल बाद टीम सेमीफाइनल में पहुँची है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
112,549FollowersFollow
394,000SubscribersSubscribe