Saturday, July 24, 2021
Homeरिपोर्टराष्ट्रीय सुरक्षामारा गया हिजबुल मुजाहिद्दीन का सबसे बड़ा आतंकी: ढेर हुआ रियाज नायकू, हंदवाड़ा के...

मारा गया हिजबुल मुजाहिद्दीन का सबसे बड़ा आतंकी: ढेर हुआ रियाज नायकू, हंदवाड़ा के बाद बड़ी कार्रवाई

रियाज नायकू के बारे में मीडिया में कहा जा रहा है कि वो पहले गणित का शिक्षक था। इसी तरह बुरहान वानी को 'हेडमास्टर का बेटा' कह कर प्रचारित किया गया था। रियाज नायकू हिजबुल का मुखिया था और सारी आतंकी गतिविधयों को संचालित करता आ रहा था।

सेना ने हिजबुल मुजाहिद्दीन के सबसे बड़े आतंकी रियाज नायकू को मार गिराया है। वो हिजबुल का मुखिया था और सारी आतंकी गतिविधयों को संचालित करता आ रहा था। इसे हंदवाड़ा में आतंकियों की करतूतों के बदले में की गई जवाबी कार्रवाई माना जा रहा है। इससे पहले जम्मू कश्मीर के बेगपोरा से भारी गोलीबार की ख़बर आई थी और कहा गया था कि नायकू अपने घर के आसपास ही सेना के शिकंजे में आ गया है।

कश्मीर घाटी में आतंक-निरोधी अभियान की ये सबसे बड़ी सफलताओं में से एक मानी जा रही है। इस कार्रवाई को सेना, सीआरपीएफ और राष्ट्रीय राइफल्स ने मिल कर अंजाम दिया। उन्हें सूचना मिली थी कि रियाज अपने घर आया हुआ है, जिसके बाद घेराबंदी की गई। इसके बाद हुई मुठभेड़ में रियाज मारा गया। जुलाई 2016 में अनंतनाग में बुरहान वानी के मारे जाने के बाद रियाज ने ही हिजबुल की कमान संभाली थी।

नायकू के बारे में मीडिया में कहा जा रहा है कि वो पहले गणित का शिक्षक था। इसी तरह बुरहान वानी को ‘हेडमास्टर का बेटा’ कह कर प्रचारित किया गया था। उसके ऊपर 12 लाख रुपए का इनाम भी था। वो 33 वर्ष की उम्र में आतंकी बन गया था। ज़ाकिर मूसा जब हिजबुल से अलग हो गया था तो इसी ने इस आतंकी संगठन को फिर से खड़ा किया था। इस बार वो अपने बीमार माँ को देखने आया था। आज से दो साल पहले सद्दाम पोद्दार को मारा गया था।

इससे पहले हंदवाड़ा एनकाउंटर में पाकिस्तान के रहने वाले टॉप लश्कर आतंकी हैदर को सुरक्षाबलों ने मार गिराया था। भारतीय सेना के हाथ रविवार (मई 3, 2020) को ये बड़ी कामयाबी हाथ लगी थी। इसके कुछ दिनों बाद भारत ने कहा था कि वो पाकिस्तान के उन सभी क़दमों का कड़ा विरोध करता है, जिनके तहत वो अपने कब्जे वाले भारतीय प्रदेशों की स्थिति में बदलाव लाने के लिए उठा रहा है। भारत ने पाकिस्तान को तुरंत अपने अवैध कब्जे वाले प्रदेशों को खाली करने को कहा था।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘धर्मांतरण कोई समस्या नहीं, अपने घर में सम्मान न मिले तो दूसरे के घर जाएँगे ही’: मिशनरी साजिश पर बिहार के पूर्व CM

गया में पिछले कई वर्षों से सिलसिलेवार तरीके से ईसाई धर्मांतरण की साजिश का खुलासा हुआ है। पूर्व मुख्यमंत्री जीतन राम माँझी ने इन घटनाओं का समर्थन किया।

‘हमने मोदी को जिताया की रट लगाते हो, खुद 2 बार लड़े तो क्यों नहीं जीत गए?’ महिला पत्रकार ने उतार दी राकेश टिकैत...

'इंडिया 1 न्यूज़' की गरिमा सिंह ने राकेश टिकैत के इस बयान को लेकर भी सवाल पूछा जिसमें वो बार-बार कहते हैं कि इस सरकार को 'हमने जिताया'।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
110,931FollowersFollow
393,000SubscribersSubscribe