Tuesday, May 21, 2024
Homeदेश-समाजदलितों और मुस्लिमों में हिंदुत्व-RSS का डर फैलाने के लिए पाकिस्तान ने बनाया...

दलितों और मुस्लिमों में हिंदुत्व-RSS का डर फैलाने के लिए पाकिस्तान ने बनाया था यह प्लान

इस प्लान में भारत के लिए सबसे खतरनाक रणनीति भारत की ‘फॉल्टलाइंस’ पर वार करने की थी। मसलन जाति और रिलिजन के आधार पर भारत में दंगे भड़काना।

पिछले तीन सालों में मोदी सरकार के दौरान अचानक खड़े हुए दलित, मुस्लिम और क्रिश्चियन आंदोलन या फिर उनपर बढ़ते हमलों को लेकर खूब हाय तौबा मचाई गई। एक छोटी सी घटना को भी देश के लिबरल मीडिया ने तुरंत बढ़ा-चढ़ा कर प्रस्तुत किया। दरसअल मोदी को हराने के लिए पाकिस्तान ने बहुत सोच समझकर एक मास्टरप्लान बनाया था जिसे अक्टूबर 2016 में पाकिस्तान के उच्च सदन सीनेट की हाई पावर कमेटी ने तैयार किया था।

इस पॉलिसी गाइडलाइंस प्लान को तैयार करने में पाकिस्तान के डिफेंस मिनिस्टर ख्वाजा मोहम्मद आसिफ, डिफेंस सेक्रेटरी, पीएम एडवाइज़र सरताज़ अजीज समेत सीनेट के 13 सदस्य शामिल थे। इस प्लान को पाकिस्तान की ‘कमेटी ऑफ़ द होल’ द्वारा 4 अक्टूबर, 2016 को सर्वसम्मति से स्वीकार कर लिया गया था।

इस रिपोर्ट की भाषा से ऐसा प्रतीत होता है कि भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा स्वतंत्रता दिवस पर बलोचिस्तान का नाम लेने भर से पाकिस्तान डर गया था। रिपोर्ट में यह भी लिखा गया है कि 1971 के बाद पाकिस्तान पर भारत के किसी प्रधानमंत्री द्वारा इतना दबाव नहीं बनाया गया था जितना नरेंद्र मोदी ने बनाया था।

इस प्लान के तहत पाकिस्तान के खिलाफ नरेंद्र मोदी के रवैये को काउंटर करने लिए 22 सूत्रीय योजना बनाई गयी थी जिसमें अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर कश्मीर मुद्दे को लेकर भारत के खिलाफ प्रोपगैंडा शुरू करने से लेकर, सार्क देशों समेत तमाम देशों में कश्मीर में ह्यूमन राइट्स का प्रोपगैंडा फैलाने की योजना तैयार की गयी थी।

लेकिन इस प्लान में भारत के लिए सबसे खतरनाक रणनीति भारत की ‘फॉल्टलाइंस’ पर वार करने की थी। मसलन जाति और रिलिजन के आधार पर भारत में दंगे भड़काना। इस प्लान के तहत भारत में दलित, मुस्लिम, सिख, और क्रिश्चियन समुदाय के लोगों को हिंदुत्व-आरएसएस के नाम पर भड़का कर देश को टुकड़ों में बांटने का प्लान बनाया गया था। इस प्रोपगैंडा को फैलाने के लिए पीएम मोदी के खिलाफ लिखने वाले मीडिया, एनजीओ और ह्यूमन राइट्स संगठनों की भी मदद लेने की बात कही गयी थी।

पाकिस्तान को अपने इस प्लान को भारत में लागू करने में आंशिक तौर पर सफलता भी मिली। जिसका नतीजा ये है कि देश में मोदी सरकार के दौरान दलित, मुस्लिम और क्रिश्चियन समुदाय के लोगों पर हमले और फिर उसके नाम पर देश विरोधी फ़र्ज़ी आंदोलन खड़े किये गए। उन्हें हिंदुत्व और आरएसएस के नाम पर जानबूझकर भड़ाकाया गया।

यह आसानी से समझा जा सकता है कि कैसे भारतीय मीडिया और लिबरल लॉबी एक छोटा से केस की बिना जाँच परख किए, मोदी सरकार के खिलाफ माहौल बनाने लगती है।

अपने प्लान को लागू करवाने के लिए पाकिस्तान ने इंटरनेशनल स्तर पर लॉबिंग करवाने के लिए एजेंसियों को भी हायर किया था। यह भी इसका प्लान का हिस्सा था और उस रिपोर्ट में लिखा है जो पाकिस्तान की सीनेट कमेटी ने तैयार किया था। पाकिस्तान की सीनेट कमेटी की रिपोर्ट आज भी वेबसाइट पर उपलब्ध है।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

J&K के बारामुला में टूट गया पिछले 40 साल का रिकॉर्ड, पश्चिम बंगाल में सर्वाधिक 73% मतदान: 5वें चरण में भी महाराष्ट्र में फीका-फीका...

पश्चिम बंगाल 73% पोलिंग के साथ सबसे आगे है, वहीं इसके बाद 67.15% के साथ लद्दाख का स्थान रहा। झारखंड में 63%, ओडिशा में 60.72%, उत्तर प्रदेश में 57.79% और जम्मू कश्मीर में 54.67% मतदाताओं ने वोट डाले।

भारत पर हमले के लिए 44 ड्रोन, मुंबई के बगल में ISIS का अड्डा: गाँव को अल-शाम घोषित चला रहे थे शरिया, जिहाद की...

साकिब नाचन जिन भी युवाओं को अपनी टीम में भर्ती करता था उनको जिहाद की कसम दिलाई जाती थी। इस पूरी आतंकी टीम को विदेशी आकाओं से निर्देश मिला करते थे।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -