पुलवामा का बदला: हमले के लिए कार देने वाले आतंकी को एनकाउंटर में सुरक्षाबलों ने मार गिराया

जम्मू कश्मीर के अनंतनाग में 24 घंटे के अंदर दूसरा एनकाउंटर हुआ है, इसमें जैश के दो आतंकी ढेर हुए हैं। करीब 7 बजे शुरू हुए एनकाउंटर में सेना के एक जवान भी वीरगति को प्राप्त हुए, जबकि दो जवान घायल हुए हैं।

सुरक्षाबलों ने आज अनंतनाग के बिजबेहारा एनकाउंटर में जैश-ए-मोहम्मद के 2 आतंकियों को मार कर बड़ी कामयाबी हासिल की है। इनमें से एक आतंकी सज्जाद भट है। ये वही सज्जाद भट्ट है, जिसकी कार 14 फरवरी को पुलवामा में हुए आत्मघाती हमले में इस्तेमाल हुई थी। आत्मघाती हमलावर आदिल डार को कार देने के बाद सज्जाद भट खुद भी जैश-ए-मोहम्मद में शामिल हो गया था। इलाके में एक और आतंकी के छिपे होने की आशंका है।

जम्मू कश्मीर के अनंतनाग में 24 घंटे के अंदर दूसरा एनकाउंटर हुआ है, इसमें जैश के दो आतंकी ढेर हुए हैं।
करीब 7 बजे शुरू हुए एनकाउंटर में सेना के एक जवान भी वीरगति को प्राप्त हुए, जबकि दो जवान घायल हुए हैं। मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार, ये एनकाउंटर अनंतनाग के बिजबेहरा के वाघोमा इलाके में हुआ है, जहाँ आतंकियों के छिपे होने की खबर मिली थी। सुरक्षा बलों ने जब यहाँ सर्च ऑपरेशन चलाया तो आतंकियों ने फायरिंग शुरू कर दी। सेना की जवाबी कार्रवाई में दोनों आतंकी ढेर हुए हैं। मारा गया आतंकी बीते सोमवार (जून 17, 2019) को पुलवामा में सेना की गाड़ी में हुए IED ब्लास्ट का मास्टरमाइंड था। फिलहाल, सुरक्षाबलों की ओर से पुलवामा और अनंतनाग में सर्च ऑपरेशन चलाया जा रहा है।

आतंकवादियों ने सोमवार (जून 17, 2019) को पुलवामा जिले में आईईडी (इम्प्रोवाइज्ड एक्सप्लोसिव डिवाइस) लगे एक वाहन के जरिए सेना के एक पेट्रोल पंप को भी निशाना बनाया था। विस्फोट में 9 जवान और 2 नागरिक घायल हो गए। उन्हें एक अस्पताल में भर्ती कराया गया है।

- विज्ञापन - - लेख आगे पढ़ें -

यह विस्फोट फरवरी में पुलवामा जिले में सीआरपीएफ के काफिले पर हुए जैश-ए-मोहम्मद के आत्मघाती हमले की जगह से कुछ दूरी पर हुआ है, इसमें 40 जवान मारे गए थे।

शेयर करें, मदद करें:
Support OpIndia by making a monetary contribution

बड़ी ख़बर

जेएनयू छात्र विरोध प्रदर्शन
गरीबों के बच्चों की बात करने वाले ये भी बताएँ कि वहाँ दो बार MA, फिर एम फिल, फिर PhD के नाम पर बेकार के शोध करने वालों ने क्या दूसरे बच्चों का रास्ता नहीं रोक रखा है? हॉस्टल को ससुराल समझने वाले बताएँ कि JNU CD कांड के बाद भी एक-दूसरे के हॉस्टल में लड़के-लड़कियों को क्यों जाना है?

सबसे ज़्यादा पढ़ी गईं ख़बरें

ताज़ा ख़बरें

हमसे जुड़ें

112,491फैंसलाइक करें
22,363फॉलोवर्सफॉलो करें
117,000सब्सक्राइबर्ससब्सक्राइब करें

ज़रूर पढ़ें

Advertisements
शेयर करें, मदद करें: