Monday, November 28, 2022
Homeविविध विषयअन्य'बधाई देना भी हराम': सारा ने अमित शाह को किया बर्थडे विश, आरफा सहित...

‘बधाई देना भी हराम’: सारा ने अमित शाह को किया बर्थडे विश, आरफा सहित लिबरलों को लगी आग, पटौदी की पोती को बताया ‘डरपोक’

आरफा के मन में केंद्रीय गृहमंत्री के प्रति कितनी नफरत है इसका अंदाजा इससे लगता है कि उन्हें ये भी बर्दाश्त नहीं है कि कोई उनके समुदाय का गृहमंत्री को जन्मदिन की शुभकामनाएँ दे।

केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह के जन्मदिन के मौके पर उन्हें देश के कोने-कोने से बधाई मिल रही हैं। ऐसे में बॉलीवुड अभिनेत्री सारा अली खान के नाम वाले एक ट्विटर अकॉउंट से भी उन्हें सम्मानपूर्वक उनके जन्मदिन पर शुभकामनाएँ दी गईं। लेकिन ये देख कट्टरपंथी बिदक गए और उन्हें भला बुरा बोला जाने लगा। इस क्रम में एक सबसे बड़ा नाम आरफा खानुम शेरवानी का है। 

यहाँ स्पष्ट कर दें कि सारा के नाम वाले अकॉउंट से ट्वीट किया गया था, “माननीय केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह को जन्मदिन की हार्दिक बधाई एवं शुभकामनाएँ।” इस पर आरफा ने लिखा, “टाइगर पटौदी की पोती से ऐसी कायरता (डरपोक) देखकर अफ़सोस हुआ..साथ ही उनकी दादी शर्मिला टैगोर की पारिवारिक जड़ें रवींद्रनाथ टैगोर से जुड़ी हैं। वह व्यक्ति जिन्होंने एक ऐसी दुनिया की कल्पना की थी जहाँ ‘मन बिना किसी डर के हो और सिर ऊँचा रहे।”

आरफा के मन में केंद्रीय गृहमंत्री के प्रति कितनी नफरत है इसका अंदाजा इससे लगता है कि उन्हें ये भी बर्दाश्त नहीं है कि कोई उनके समुदाय का गृहमंत्री को जन्मदिन की शुभकामनाएँ दे।

ऐसी घृणा देख कई यूजर ने आरफा को लताड़ लगाई। प्रणव महाजन ने लिखा, “तुम्हारे पास दूसरों से नफरत करने का गजब का टैलेंट है।”

एक यूजर ने कहा, “मतलब अपने से अलग सोच वाले लोग होने ही नहीं चाहिए।”

पल्लवी पूछती हैं, “अब जन्मदिन विश करना हराम हो गया। आपको लगता है कि अमित शाह को बर्थडे विश कर देने से एनसीबी और ईडी उसे छोड़ देंगी अगर वो दोषी हुई तो। अगर ऐसा है तो टैक्स वाले कैफे कॉफी डे के मालिक के पीछे क्यों थे जबकि उनके पिता एसएम कृष्णा भाजपा से जुड़ गए थे।”

अनूप कहते हैं, “तुम डरपोक हो अगर तुम किसी ऐसे व्यक्ति को विश करो जिसे आरफा ने न विश किया हो।”

यहाँ बता दें कि एक ओर जहाँ आरफा को उनके ट्वीट के लिए सुनाया जा रहा है। वहीं दूसरी ओर सारा अली खान के ट्वीट पर तमाम लिबरल गिरोह वाले और कट्टरपंथी उनके ट्वीट को भाजपा से बचने का उपाय बता रहे हैं। उन्हें कहा जा रहा है कि ये सब काम नहीं आएगा। कोई उस अकॉउंट को ही फेक बता रहा है जिससे ट्वीट किया गया।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

केरल: चर्च की भीड़ ने लाठी-पत्थरों से पुलिस थाने पर किया हमला, 36 पुलिसकर्मी घायल, 15 पादरियों पर केस दर्ज

सामने आई वीडियोज में दिख रहा है कि किस तरह बेकाबू भीड़ स्टेशन के सामने हर जगह लाठियाँ मार रही है और पत्थर फेंक रही है।

मदरसों में पढ़ रहे आठवीं तक के छात्रों को अब नहीं मिलेगी स्कॉलरशिप, पिछले साल 16558 मदरसों के 5 लाख बच्चों को मिला था

केंद्र की मोदी सरकार ने फैसला लिया है कि मदरसों में पढ़ने वाले बच्चों को जो छात्रवृत्ति मिलती है वो 1 से 8 कक्षा तक नहीं मिलेगी।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
235,826FollowersFollow
417,000SubscribersSubscribe