Sunday, March 7, 2021
Home रिपोर्ट अंतरराष्ट्रीय ईरान के परमाणु कार्यक्रम के जनक की हत्या: '62 लोग बुलेटप्रूफ कार को घेर...

ईरान के परमाणु कार्यक्रम के जनक की हत्या: ’62 लोग बुलेटप्रूफ कार को घेर कर मारे’ – इजरायल पर आरोप, कई जगह अलर्ट

इजरायल की मीडिया का कहना है कि पिछले कुछ सालों में इजरायल में जितनी सरकारें आईं, या उसकी ख़ुफ़िया एजेंसी मोसाद के जितने भी डायरेक्टर बदले, उनका निशाना मोहसिन फखरीजादेह तो था ही था। लेकिन...

जो लोग इजरायल और उसकी कूटनीति पर नजर रखते हैं, उन्हें पता है कि फिलिस्तीन से तो उसका युद्ध चल ही रहा है, लेकिन वो ईरान को अपना दुश्मन नंबर एक मानता है। अमेरिका से भी ईरान के रिश्ते ठीक नहीं हैं। अब एक नई घटना ने फिर से बड़ा विवाद खड़ा कर दिया है। शुक्रवार (नवंबर 27, 2020) को ईरान के सबसे बड़े परमाणु वैज्ञानिक मोहसिन फखरीजादेह की हत्या कर दी गई। ईरान ने इसका आरोप इजरायल पर लगाते हुए बदला लेने की धमकी दी है।

ईरान का परमाणु कार्यक्रम शुरू से विवादित रहा है और इसी कारण उस पर अमेरिका और संयुक्त राष्ट्र ने कई प्रतिबंध लगाए। मोहसिन फखरीजादेह को इस परमाणु कार्यक्रम का मास्टरमाइंड माना जाता है। तेहरान के पूर्वी क्षेत्र में उनकी कार को घेर कर उनकी हत्या कर दी गई। उसके बाद वायरल हुई तस्वीरों में सड़क पर खून और उनकी टूटी-फूटी कार देखी जा सकती है। ईरान के ब्रिगेडियर जनरल आमिर हातमी ने बताया कि फायरिंग और बमबारी के जरिए उन्हें निशाना बनाया गया।

वहीं ईरान के विदेश मंत्री जरीफ ने इस हत्याकांड को कायरता भरी घटना करार दिया और इसके पीछे इजरायल का हाथ बताया। इलीट रेवोलुशनरी गार्ड के न्यू टेक्नोलॉजी के रिसर्च सेंटर के मुखिया मोहसिन फखरीजादेह ही थे। ईरान ने कहा है कि यूरोपियन यूनियन अपना ‘दोहरा रवैया’ त्यागे और इजरायल द्वारा अंजाम दी गई इस ‘युद्ध भड़काने वाली घटना’ को देखे। एक पत्रकार ने कहा कि ईरान के लिए ये पेशेवर और मानसिक तौर पर एक बड़ी घटना है।

अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प ने भी इस ट्वीट को रीट्वीट किया। खुद अमेरिका का कहना है कि ये हत्याकांड एक बड़ी घटना है और इस पर नजर रखी जा रही है। ईरान ने तो इसे आतंकी घटना करार दिया है। ईरान ने कहा कि इससे उसके विज्ञान और तकनीक के क्षेत्र में तरक्की के लिए इरादे और मजबूत होंगे ही, साथ में वो बदला भी लेगा। लेबनान ने भी ईरान का समर्थन किया है और इसके पीछे अमेरिका-इजरायल का हाथ बताया।

अमेरिका और ‘इंटरनेशनल एटॉमिक एनर्जी एजेंसी’ की कई रिपोर्ट्स में मोहसिन फखरीजादेह का नाम है। हालाँकि, वो ईरान के परमाणु कार्यक्रम को विकसित करने में अपने रोल से इनकार करते रहे थे। लेकिन, उन्हें ईरान की पुरानी महत्वाकांक्षाओं का प्रतीक माना जाता था और उनकी सुरक्षा व्यवस्था के लिए विशेष इंतजाम किए गए थे। अमेरिका में सत्ता हस्तांतरण के लिए 50 दिन बचे हैं, इस बीच इस घटना के होने के कई अर्थ लगाए जा रहे हैं।

मध्य-पूर्व में तनाव उपजने के साथ ही यूएन ने शांति की अपील की है। यूएन ने कहा है कि ऐसी किसी भी कार्रवाई से बचा जाना चाहिए, जिससे तनाव और बढ़े। साथ ही यूएन ने किसी भी ‘हत्या या एक्स्ट्राजुडिशल मर्डर’ की भी निंदा करने की बात कही है। वहीं इजरायल की मीडिया में ख़बरें चल रही हैं कि ईरान के परमाणु अभियान का जनक कई दशकों से इजरायल के निशाने पर था और उसका मारा जाना इजरायल के लिए एक सफलता है।

इजरायल की मीडिया का कहना है कि पिछले कुछ सालों में इजरायल में जितनी सरकारें आईं, या उसकी ख़ुफ़िया एजेंसी मोसाद के जितने भी डायरेक्टर बदले, उनका निशाना मोहसिन फखरीजादेह तो था ही था। इजरायल को ईरान द्वारा बदले की कार्रवाई की आशंका है और इसके लिए वो इसके लिए तैयारी कर रहा है। आशंका है कि अब ईरान यहूदियों को निशाना बनाएगा, गाजा में हमले तेज करेगा और इजरायल के जहाजों को निशाना बना कर उसके व्यापारिक हितों पर चोट पहुँचाएगा।

इजरायल के दूतावासों पर हमले हो सकते हैं, इसीलिए वहाँ अलर्ट जारी कर दिया गया है। अमेरिकी मीडिया में चल रहा है कि जो बायडेन ने 2015 के उस परमाणु करार में फिर से घुसने की इच्छा जताई थी, जिससे डोनाल्ड ट्रम्प पीछे हट गए थे। वहाँ की मीडिया ये अंदाज़ा लगा रहा है कि ईरान के साथ नया अमेरिकी प्रशासन के रिश्ते सुधारने की कोई कोशिश परवान न चढ़े, इसीलिए इस हत्याकांड को अंजाम दिया गया है।

कई विशेषज्ञों का कहना है कि ये हत्याकांड ईरान के परमाणु कार्यक्रम को नेस्तनाबूत करने के इरादे से अंजाम नहीं दिया गया, इसके द्वारा कूटनीति को निशाना बनाया जा रहा है। कुछ विशेषज्ञ कह रहे हैं कि अमेरिकी विदेश मंत्री माइक पोंपियो नवंबर के शुरुआती हफ्ते में इजरायल पानी पीने तो आए नहीं थे, कोई न कोई बात रही होगी। ईरान के सुप्रीम लीडर अयातुल्लाह अली खमेनेई ने बदले की धमकी देते हुए कहा कि दोषियों को दंडित किया जाएगा।

एक अन्य मीडिया रिपोर्ट में कहा गया है कि मोहसिन फखरीजादेह को मारने वाले सभी हत्यारों और ख़ुफ़िया प्रोफेशनल्स को विदेश में प्रशिक्षित किया गया था। इस घटना में 62 लोगों के शामिल होने की संभावना है। ख़ुफ़िया तैयारी ऐसी थी कि हत्यारों को परमाणु वैज्ञानिक की गतिविधियों के बारे में सब पता था। 4 बाइक सहित कई गाड़ियों से इंतजार कर रहे हत्यारों ने पहले ही वहाँ की बिजली काट दी थी।

तीन बुलेटप्रूफ कारों के काफिले में से दूसरे को निशाना बनाया गया, जिसमें वो बैठे थे। कहा जा रहा है कि उन्हें गाड़ी से बाहर निकाल कर गोली मारी गई। उनके घायल लोगों को जब अस्पताल ले जाया गया, तो वहाँ बिजली ही नहीं थी। इसीलिए, सबको तेहरान रेफर करना पड़ा। ‘ELINT News’ ने ईरान के सूत्रों के हवाले से दावा किया है कि 12 हत्यारे पकड़े भी गए हैं। इजरायल की तरफ से अभी तक कोई बयान नहीं आया है।

कुछ ही महीनों पहले ईरान के टॉप सैन्य कमांडर कासिम सुलेमानी को अमेरिका ने बग़दाद में मार गिराया था। दुनिया भर के कई इलाकों में हज़ारों मुस्लिमों ने अमेरिका और इजरायल के ख़िलाफ़ भड़काऊ नारेबाजी करते हुए सुलेमानी के मारे जाने पर रोष जताया था। अमेरिकी राष्ट्रपति ट्रम्प ने खुलासा किया था कि सुलेमानी पर निर्दोष लोगों की मौत की सनक सवार थी और उसने दिल्ली में भी आतंकी साज़िश को अंजाम दिया था।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

CM योगी से मिला किसानों का प्रतिनिधिमंडल, कहा- कृष‍ि कानूनों पर भड़का रहे लोग, आंदोलन से आवागमन बाधित होने की शिकायत

मुख्‍यमंत्री योगी आदित्‍यनाथ ने किसानों के हितों की रक्षा का भरोसा दिलाते हुए कहा कि नए कृषि कानून उनकी आय दोगुनी करने के उद्देश्य से लागू किए गए हैं और इससे कृषकों की आय में निरंतर वृद्धि होगी।

पिछले 1000-1200 वर्षों से बंगाल में हो रही गोहत्या, कोई नहीं रोक सकता: ममता के मंत्री सिद्दीकुल्लाह का दावा

"उत्तर प्रदेश के सीएम योगी आदित्यनाथ ने यहाँ आकर कहा था कि अगर भाजपा सत्ता में आती है, तो वह राज्य में गोहत्या को समाप्त कर देगी।"

‘फेक न्यूज फैक्ट्री’ कॉन्ग्रेस का पैतरा फेल: असम में BJP को बदनाम करने के लिए शेयर किया झारखंड के मॉकड्रिल का पुराना वीडियो

कॉन्ग्रेस को फेक न्यूज की फैक्ट्री कहते हुए बीजेपी के मंत्री ने लिखा, “वीडियो में 2 मिनट पर देखें, किस तरह से झारखंड के मॉक ड्रिल को असम पुलिस द्वारा शूटिंग बताया जा रहा है।”

नंदीग्राम में ममता और शुभेंदु के बीच महामुकाबला: बीजेपी ने पहले और दूसरे फेज के लिए 57 कैंडिडेट्स के नामों का किया ऐलान

पश्चिम बंगाल विधान सभा चुनाव को लेकर भारतीय जनता पार्टी (BJP) ने 57 सीटों पर कैंडिडेट्स की लिस्ट जारी कर दी है। नंदीग्राम सीट से ममता के अपोजिट शुभेंदु अधिकारी को टिकट दिया गया है।

‘एक बेटा तो चला गया, कोर्ट-कचहरी में फँसेंगे तो वो बाकियों को भी मार देंगे’: बंगाल पुलिस की क्रूरता के शिकार एक परिवार का...

पश्चिम बंगाल में राजनीतिक हिंसा आम बात है। इसी तरह की एक घटना बैरकपुर थाना क्षेत्र के भाटपाड़ा में जून 25, 2019 को भी हुई थी, जब रिलायंस जूट मिल पर कुछ गुंडों ने बम फेंके थे।

‘40 साल के मोहम्मद इंतजार से नाबालिग हिंदू का हो रहा था निकाह’: दिल्ली पुलिस ने हिंदू संगठनों के आरोपों को नकारा

दिल्ली के अमन विहार में 'लव जिहाद' के आरोपों के बाद धारा-144 लागू कर दी गई है। भारी पुलिस बल की तैनाती है।

प्रचलित ख़बरें

माँ-बाप-भाई एक-एक कर मर गए, अंतिम संस्कार में शामिल नहीं होने दिया: 20 साल विष्णु को किस जुर्म की सजा?

20 साल जेल में बिताने के बाद बरी किए गए विष्णु तिवारी के मामले में NHRC ने स्वत: संज्ञान लिया है।

‘शिवलिंग पर कंडोम’ से विवादों में आई सायानी घोष TMC कैंडिडेट, ममता बनर्जी ने आसनसोल से उतारा

बंगाल विधानसभा चुनाव के लिए टीएमसी ने उम्मीदवारों का ऐलान कर दिया है। इसमें हिंदूफोबिक ट्वीट के कारण विवादों में रही सायानी घोष का भी नाम है।

‘वे पेरिस वाले बँगले की चाभी खोज रहे थे, क्योंकि गर्मी की छुट्टियाँ आने वाली हैं’: IT रेड के बाद तापसी ने कहा- अब...

आयकर छापों पर चुप्पी तोड़ते हुए तापसी पन्नू ने बताया है कि मुख्य रूप से तीन चीजों की खोज की गई।

‘40 साल के मोहम्मद इंतजार से नाबालिग हिंदू का हो रहा था निकाह’: दिल्ली पुलिस ने हिंदू संगठनों के आरोपों को नकारा

दिल्ली के अमन विहार में 'लव जिहाद' के आरोपों के बाद धारा-144 लागू कर दी गई है। भारी पुलिस बल की तैनाती है।

मनसुख हिरेन का शव लेने से परिजनों का इनकार, कहा- पोस्टमार्टम रिपोर्ट सार्वजनिक हो, मौत का कारण बताएँ: रिपोर्ट

मनसुख हिरेन का शव लेने से परिजनों ने इनकार कर दिया है। उनका कहना है कि पोस्टमार्टम रिपोर्ट सार्वजनिक किए जाने के बाद ही वे शव लेंगे।

1 साल से छात्रा को धर्मांतरण व निकाह के लिए प्रताड़ित कर रहा था सलमान, पीड़िता के लिए वरदान बना MP का नया कानून

सलमान की करतूतों से तंग आकर पीड़िता को उसके परिजनों ने मामा के घर भेज दिया। फिर भी वह बाज नहीं आया। उसने हत्या की धमकी भी दी।
- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

292,301FansLike
81,965FollowersFollow
393,000SubscribersSubscribe