Friday, June 21, 2024
Homeसोशल ट्रेंडइस्लाम में शादी से पहले सेक्स हराम है फिर भी आप करते हो: उर्फी...

इस्लाम में शादी से पहले सेक्स हराम है फिर भी आप करते हो: उर्फी जावेद ने कट्टरपंथियों को लताड़ा

र्फी जावेद ने कहा, "अगर आप दिल से कुछ नहीं कर रहे हो, सिर्फ ऊपर जाने के लिए कर रहे हो तो आप कर रहे हो ना पाँच वक्त की नमाज या जो कुछ भी... आपको कभी जन्नत नसीब नहीं होगी। इससे बेटर है कि आप जाकर किसी इंसान की हेल्प कर दो। और औरत को उस नजरिए से देखना बंद कर दो। तब जाकर फिर भी कुछ हो सकता है।"

सोशल मीडिया सेंसेशन उर्फी जावेद को चरमपंथी मुस्लिमों की सोच से दिक्कत है। अपनी इस परेशानी को उर्फी जावेद कई मौकों पर मुखर होकर बता चुकी हैं। वैसे उन्हें ट्रोल करने वालों में ज्यादातर मुस्लिम ही होते हैं। सोशल मीडिया फैनक्लब पर उर्फी जावेद का एक वीडियो सामने आया है, जहाँ उन्होंने चरमपंथियों पर निशाना साधा है।

वीडियो की शुरुआत में उर्फी जावेद हाथों में बिल्ली को पकड़े हुए नजर आ रही हैं। उर्फी जैसे ही बोलती हैं कि वो मुस्लिम कट्टरपंथियों के बारे में बोलना चाहती हैं, तभी बिल्ली उनके हाथ से कूद कर भाग जाती है। तब उर्फी कहती हैं, “मैंने मुस्लिम चरमपंथियों का नाम लिया तो ये भी बेचारी खौफ में आ गई।”

उर्फी कहती हैं, “मुस्लिम चरमपंथी मेरी फोटो पर कमेंट कर कहते हैं कि मैं तो इस्लाम के नाम पर धब्बा हूँ, मैं मुस्लिम के नाम पर ये हूँ… वो हूँ… मेरे खिलाफ फतवा जारी कर देना चाहिए। मेरे कपड़े ये नहीं… मेरे कपड़े वो नहीं… आदि आदि।”

मुस्लिमों के धर्म ग्रंथ को कुरान को लेकर वो कहती हैं, “कुरान में ये कहीं भी नहीं लिखा है कि मुस्लिम महिलाओं को जबरन पर्दा कराओ। हाँ, ये जरूर लिखा है कि एक औरत को पर्दा करना चाहिए, लेकिन ये नहीं लिखा कि वो नहीं करना चाहती जबरदस्ती उसको गालियों की बौछार करो, इतना शर्मिंदा करवाओ… उसको नंगी बुलाओ… उसको इतना शर्मिंदा करो कि वो खुद ही पर्दे में आ जाए। ये नहीं लिखा है यार। आप जाकर फिर से कुरान पढ़ो। हाँ, ये जरूर लिखा है कि मर्दों को नजरों का पर्दा करना जरूरी है। मतलब कि एक आदमी शादी से पहले औरत को उस नजर से देख ही नहीं सकता है।”

उर्फी जावेद ने माफी माँगते हुए बोला कि जो लोग इंस्टा पर आकर लड़कियों को देखते हैं, फिर उनकी फोटो पर फालतू के कमेंट भी करते हैं। वो हराम है। वह कहती हैं, “आप नहीं कर सकते ये सब। आप ऐसी औरतों के पिक्चर्स नहीं देख सकते यार…. स्पेशली जब उन्होंने कपड़े नहीं पहने हैं। बहुत गलत कर रहे हो आप।”

इस्लाम को लेकर उर्फी ने कहा, “जो इस्लाम के रूल्स बने थे ना वो डेढ़ हजार साल पहले बने थे, जब औरतों के पास कोई राइट्स नहीं थे। वो शोषित थीं। इस्लाम में चार शादियाँ भी इसीलिए अलाउ है, क्योंकि उस वक्त जब औरतों के पति मर जाते थे, तब उनका रेप कर लेते थे। उनके साथ न्याय नहीं हो पाता था। तब उनकी मॉडेसटी को बचाने के लिए 4 शादियाँ बनाई गईं।”

उर्फी ने आगे कहा, “बट ‘कट्टू’ (कट्टरपंथी) डेढ़ हजार साल बाद… क्या मैं आपको एक दबी हुई कमजोर मुस्लिम महिला लग रही हूँ? नहीं। मैं आपकी मदद नहीं माँग रही हूँ। मुझे आपकी सलाह की जरूरत भी नहीं है। सलाह देना बंद करें कि मुझे अपने शरीर के साथ क्या करना है… मुझे कैसे कपड़े पहनने हैं… आदि आदि।”

कट्टरपंथियों पर निशाना साधते हुए उर्फी ने कहा, “आप लोग भी कई सारी ऐसी इस्लामिक चीजें हैं, जिसे खुद फॉलो नहीं करते हो और एक लड़की को सलाह देते हो कि ऐसे नहीं वैसे कपड़े पहनो। क्या आपलोग जानते हो कि इस्लाम में शादी से पहले सेक्स करना हराम है, लेकिन तब भी आप वो करते हो। कितने ऐसे लोग हैं, जो पाँचों वक्त का नमाज पढ़ते हैं? मुझे तो लगता है कि ऐसा कोई नहीं होगा। अगर पाँचों वक्त का नमाज पढ़ रहे होते तो इंस्टाग्राम पर लड़कियों की पिक्चर पर कमेंट करने का टाइम नहीं मिलता आपको।”

उर्फी जावेद ने कहा, “अगर आप दिल से कुछ नहीं कर रहे हो, सिर्फ ऊपर जाने के लिए कर रहे हो तो आप कर रहे हो ना पाँच वक्त की नमाज या जो कुछ भी…आपको कभी जन्नत नसीब नहीं होगी। इससे बेटर है कि आप जाकर किसी इंसान की हेल्प कर दो। और औरत को उस नजरिए से देखना बंद कर दो। तब जाकर फिर भी कुछ हो सकता है।”

उर्फी जावेद ने वीडियो में ये ऐलान किया कि वो इस्लाम को नहीं मानती हैं। उर्फी जावेद ने साफ कहा कि वो स्प्रिचुअल हैं, वो किसी धर्म को नहीं मानतीं। वो अच्छे काम करने में यकीन रखती हैं। उनका ये वीडियो कई सवाल खड़े करता है। सोशल मीडिया पर खुद का आईना देखे बिना दूसरों को फ्री का ज्ञान देने वालों के लिए उर्फी जावेद का ये वीडियो बड़ा सबक है। उर्फी का वीडियो सोशल मीडिया पर तेजी से वायरल हो रहा है। 

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

अभी तिहाड़ जेल से बाहर नहीं आ पाएँगे दिल्ली के CM अरविंद केजरीवाल, हाई कोर्ट ने बेल पर लगाई रोक: ED ने बताया- अब...

दिल्ली की राउज एवेन्यू कोर्ट से बेल मिलने के बाद भी अभी सीएम केजरीवाल जेल से रिहा नहीं होंगे। ईडी के विरोध पर दिल्ली हाई कोर्ट ने बेल पर रोक लगा दी है।

साल भर में 70% कम हुआ स्विस बैंकों में रखा धन, 2019 से भारत के साथ जानकारी साझा कर रहा है स्विट्जरलैंड: जानिए क्यों...

भारत में ग्राहक जमा खातों और अन्य बैंक शाखाओं के माध्यम से रखी गई धनराशि में भी काफी गिरावट आई है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -