Tuesday, September 28, 2021
Homeसोशल ट्रेंड'पूरी कॉलोनी की जान खतरे में': लखनऊ में टैक्सी ड्राइवर को थप्पड़ मारने वाली...

‘पूरी कॉलोनी की जान खतरे में’: लखनऊ में टैक्सी ड्राइवर को थप्पड़ मारने वाली प्रियदर्शिनी यादव का एक और वीडियो वायरल

"इन्हें बोलें कि ये दीवार पर एंटी-ब्लैक पेंट करें, क्योंकि इनकी वजह से यहाँ इंटरनेशनल ड्रोन घूमते हैं और पूरी कॉलोनी की जान खतरे में है।"

लखनऊ में टैक्सी ड्राइवर को थप्पड़ मारकर ‘लखनऊ ट्रैफिक गर्ल’ के नाम से चर्चा में आई प्रियदर्शिनी नारायण यादव एक बार फिर सोशल मीडिया पर छाई हुई हैं, इस बार अपने पड़ोसियों से लड़ाई को लेकर।

वायरल वीडियो में प्रियदर्शिनी अपने पड़ोसी पर चिल्लाते हुए दिखाई दे रहीं हैं। वीडियो में उन्हें एक पुलिसकर्मी से अपने पड़ोसी के घर का काला रंग बदलने के लिए कहते हुए सुना गया, क्योंकि इस रंग के कारण ‘इंटरनेशनल ड्रोन’ आते हैं और कॉलोनी में रहने वालों की जान को खतरा हो जाता है। वीडियो में प्रियदर्शिनी पुलिसकर्मी से कह रही हैं, “इन्हें बोलें कि ये दीवार पर एंटी-ब्लैक पेंट करें, क्योंकि इनकी वजह से यहाँ इंटरनेशनल ड्रोन घूमते हैं और पूरी कॉलोनी की जान खतरे में है।”

प्रियदर्शिनी ने पड़ोसी पर आरोप लगाया कि वो उन्हें गाली देते हैं और उन्हें बराक हुसैन ओबामा की बेटी कहते हैं। प्रियदर्शिनी ने यह भी कहा कि जब उन्होंने दीवारों पर चढ़े काले रंग को हटाने की बात कही तो उनके पड़ोसियों ने उन्हें मारने की धमकी दी और दूसरे पड़ोसियों को भी डंडे लेकर उन्हें मारने के लिए कहा। उन्होंने एक पड़ोसी की ओर इशारा करते हुए कहा कि उसने कहा है कि वह भारत के प्रधानमंत्री से भी ऊपर है।

प्रियदर्शिनी यादव वही हैं जिन्होंने लखनऊ में एक टैक्सी ड्राइवर को थप्पड़ मारे थे। उसके बाद सोशल मीडिया पर उन्हें गिरफ्तार करने की माँग भी उठी। इस मामले में उनके खिलाफ एफआईआर भी दर्ज की गई। इसके बाद से इस मामले से सम्बंधित कई मीडिया रिपोर्ट्स प्रकाशित हुई जिनमें कुछ ने टैक्सी ड्राइवर का पक्ष रखा तो कुछ प्रियदर्शिनी की बात जानने पहुँचे।

जी न्यूज से बात करते हुए प्रियदर्शिनी ने दावा किया कि लगभग 100 लोगों ने उनके साथ मारपीट की और 300 मीटर तक उन्हें घसीटते रहे। उन्होंने यह भी दावा किया कि ये लोग लगभग 2 सालों से उनके साथ छेड़खानी करते आ रहे हैं। प्रियदर्शिनी ने कहा कि जब वो जॉगिंग के लिए जाती हैं तो ये लड़के उन्हें घूरते हैं और उन्हें अपशब्द भी कहते हैं और ऐसा ही कुछ 30 जुलाई की रात को भी हुआ था जब टैक्सी ड्राइवर उन्हें टक्कर मारने ही वाला था। इसलिए उन्होंने आत्मरक्षा में मारपीट की।

वहीं दूसरी ओर टैक्सी ड्राइवर सादत अली ने कहा कि जब वह लड़की उसकी कार के सामने आई तो उसने कार रोक दी। लेकिन इसके बाद वह लड़की मारपीट करने लगी। अली ने कहा कि पहले उसे लगा कि वह सिविल ड्रेस में कोई पुलिसकर्मी है। अली ने कहा कि उस लड़की ने न केवल उसके साथ मारपीट की बल्कि उसका फोन और कार के कुछ हिस्से भी तोड़ दिए और साथ ही कार के डैशबोर्ड पर रखे 600 रुपए भी ले लिए। अली ने कहा है कि अगर उस लड़की के खिलाफ कार्रवाई नहीं हुई तो वह आत्महत्या कर लेगा।

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

महंत नरेंद्र गिरि के मौत के दिन बंद थे कमरे के सामने लगे 15 CCTV कैमरे, सुबूत मिटाने की आशंका: रिपोर्ट्स

पूरा मठ सीसीटीवी की निगरानी में है। यहाँ 43 कैमरे लगाए गए हैं। इनमें से 15 सीसीटीवी कैमरे पहली मंजिल पर महंत नरेंद्र गिरि के कमरे के सामने लगाए गए हैं।

अवैध कब्जे हटाने के लिए नैतिक बल जुटाना सरकारों और उनके नेतृत्व के लिए चुनौती: CM योगी और हिमंता ने पेश की मिसाल

तुष्टिकरण का परिणाम यह है कि देश के बहुत बड़े हिस्से पर अवैध कब्जा हो गया है और उसे हटाना केवल सरकारों के लिए कानून व्यवस्था की चुनौती नहीं बल्कि राष्ट्रीय सभ्यता के लिए भी चुनौती है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
124,827FollowersFollow
410,000SubscribersSubscribe