Friday, June 21, 2024
Homeसोशल ट्रेंडभारतीय बनकर पाकिस्तानियों ने उगला अर्शदीप सिंह पर जहर, विकिपीडिया पर 'खालिस्तानी' बनाया: फैक्टचेक...

भारतीय बनकर पाकिस्तानियों ने उगला अर्शदीप सिंह पर जहर, विकिपीडिया पर ‘खालिस्तानी’ बनाया: फैक्टचेक की जगह AltNews के जुबैर ने दी प्रोपेगेंडा को हवा

जो ट्वीट अर्शदीप के खिलाफ किए गए हैं वो अधिकतर पाकिस्तान और अरब देशों के लोगों ने भारतीय बनकर किए हैं। इसके अलावा विकिपीडिया पर एडिट जानकारी भी पाकिस्तान के आईपी एड्रेस से की गई है।

एशिया कप 2022 में भारत-पाकिस्तान मैच के दौरान भारतीय क्रिकेटर अर्शदीप सिंह से एक कैच छूटने का बवाल बन चुका है। ये बवाल भारतीयों ने नहीं बनाया बल्कि सारा किया धरा पाकिस्तान का है।

कल (4 सितंबर 2022) के मैच में अर्शदीप ने 18 वें ओवर की तीसरी गेंद में आसिफ अली का कैच छोड़ा था, जिसके बाद देखा गया कि अचानक उनको सोशल मीडिया पर ट्रोल किया जाने लगा। कुछ अकॉउंट्स से उन्हें देश विरोधी जैसे शब्द तक कहे गए।

ट्विटर पर होते इन नेगेटिव पोस्ट के बाद अचानक से ऑल्ट न्यूज के फैक्टचेकर मोहम्मद जुबैर ने मोर्चे को संभाला और सारे ट्वीट इकट्ठा करके बताया कि देखो कैसे एक कैच मिस हुई तो अर्शदीप को भला-बुरा बोला जा रहा है।

जुबैर का ट्वीट

वहीं हरभजन सिंह भी इस बीच अर्शदीप के समर्थन में आ गए और उन्होंने बिना सारे मामले को समझे भारतीयों को फटकारते हुए कहा, 

“युवा अर्शदीप की आलोचनाएँ बंद करो। कोई जानबूझ कर कैच को नहीं छोड़ता है। हमें अपने लड़कों पर गर्व है। पाकिस्तान ने बढ़िया खेला। शर्म आनी चाहिए उन लोगों को जो अपने लोगों को ऐसा कहकर नीचा गिराते हैं। अर्शदीप सोना है।”

पाकिस्तानी अकॉउंट से हुए अर्शदीप को ‘खालिस्तान’ बताने वाले ट्वीट

अब इन्हीं ट्विट्स को लेकर ट्विटर यूजर ‘द हॉक आई’ ने जुबैर और हरभजन दोनों को आइना दिखाया। अपने ट्वीट में हॉक आई ने बताया कि कैसे ये जो ट्वीट अर्शदीप को देशद्रोही आदि बताते हुए किए गए हैं वो अधिकतर पाकिस्तान और अरब देशों के लोगों ने भारतीय बनकर किए हैं। उन्होंने याद दिलाया शमी के समय भी इसी तरह पोस्ट कर करके भारतीयों को बदनाम करने का प्रयास हुआ था।

देख सकते हैं कि पाकिस्तान के जैद हामिद ने ये सारा खेल शुरू किया था। अपने ट्वीट में उसने दिखाया कि पाकिस्तानियों की मदद सिख ने की। इसके बाद पाकिस्तान का जन्मा यूएस पत्रकार वीएस खान भी ऐसी हरकत करता पाया गया। पाकिस्तान के न्यूज चैनल से भी अर्शदीप को खालिस्तानी कहा गया।

इतने सारे सबूत होने के बावजूद ऑल्ट न्यूज के कथित फैक्ट चेकर्स ने इन पर रिपोर्ट नहीं की बल्कि अगर कोई एंगल खोजा तो केवल भारतीयों को कोसने का और उन्हें नीचा दिखाने का कि कैसे वो अपने क्रिकेटर के खिलाफ जहर उगलते हैं।

पाकिस्तान से बदला गया विकिपीडिया पर अर्शदीप का डाटा, लिखा गया खालिस्तानी

मालूम हो कि पाकिस्तानियों ने केवल सोशल मीडिया पर ही अर्शदीप को खालिस्तानी दिखाने की कोशिश नहीं की। बल्कि उन्होंने विकिपीडिया पर भी अर्शदीप का डाटा बदला। देख सकते हैं कि जहाँ-जहाँ अर्शदीप के नाम के साथ भारतीय होना चाहिए वहाँ जानबूझकर खालिस्तान लिखा गया।

अंशुल सक्सेना के ट्विटर हैंडल पर इस संबंध में स्क्रीनशॉट हैं। इनसे पता चलता है कि पहले अर्शदीप को खालिस्तान स्क्वॉड का बताया गया और फिर हर जगह भारत हटाकर उनके नाम के साथ खालिस्तान जोड़ा गया। ये सारी एडिटिंग जिस आईपी एड्रेस से की गई वो सर्च करने पर देख सकते हैं कि पाकिस्तान का मिला है।

याद दिला दें कि भारत-पाकिस्तान के बीच हुए टी-20 वर्ल्ड कप मैच के दौरान भारतीय गेंदबाज मोहम्मद शमी को इस तरह लोगों की नफरत का शिकार होना पड़ा था। बाद में पता चला था कि शमी के विरुद्ध किए गए ट्वीट ज्यादातर पाकिस्तानियों ने और विदेशी एजेंसियों ने किए थे। उस समय भी माहौल ऐसा बना दिया गया था कि सचिन, हरभजन सिंह जैसे खिलाड़ी शमी के समर्थन में उतर आए थे।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

साल भर में 70% कम हुआ स्विस बैंकों में रखा धन, 2019 से भारत के साथ जानकारी साझा कर रहा है स्विट्जरलैंड: जानिए क्यों...

भारत में ग्राहक जमा खातों और अन्य बैंक शाखाओं के माध्यम से रखी गई धनराशि में भी काफी गिरावट आई है।

सियालकोट से स्वात घूमने गया युवक, इस्लामी भीड़ ने पहले पीटा फिर आग में झोंका: पाकिस्तान में ईशनिंदा के आरोप में एक और हत्या,...

पाकिस्तान में युवक पर ईशनिंदा का आरोप लगाकर इस्लामी कट्टरपंथियों ने उसे पुलिस थाने से निकालकर मार डाला। इस दौरान थाने में भी आग लगा दी गई।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -