Monday, July 26, 2021
Homeसोशल ट्रेंड'दीदी ही वॉल्वरिन है': बैंडेज में बदल गया ममता बनर्जी के पैर का प्लास्टर,...

‘दीदी ही वॉल्वरिन है’: बैंडेज में बदल गया ममता बनर्जी के पैर का प्लास्टर, लोगों ने कहा- गिनीज बुक में हो रिकॉर्ड

एक ट्विटर यूजर ने कहा कि मात्र 2 दिनों में फ्रैक्चर बैंडेज हटवाने के लिए ममता बनर्जी का नाम 'गिनीज बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड्स' में शामिल हो गया है। 'फैक्ट्स' नामक हैंडल ने ममता बनर्जी की तुलना हॉलीवुड फिल्म के किरदार 'वॉल्वरिन' से कर दी।

पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी कोलकाता के SSKM अस्पताल से डिस्चार्ज होकर निकल गई हैं। अस्पताल से निकलने की दौरान व्हील चेयर पर पैर में बैंडेज के साथ बैठी उनकी तस्वीर भी सोशल मीडिया में वायरल हुई। नंदीग्राम में उन पर हमला होने के दावा किया गया था। वे 2 दिन अस्पताल में रहीं। अब उन्हें उनके घर कालीघाट हाउस में ले जाया गया है। लेकिन, उनके पैर में प्लास्टर की जगह बैंडेज देख कर सोशल मीडिया में लोग पूछ रहे हैं कि क्या ये सच में एक गंभीर चोट थी, जैसा बताया गया?

‘द फ़्रस्ट्रेटेड इंडियन’ के कंसल्टिंग एडिटर अजीत दत्ता ने कहा कि एक ही दिन में प्लास्टर से बैंडेज हो गया, यही तो ‘आसोल परिवर्तन है’, अच्छे दिन’ है। एक ट्विटर यूजर ने कहा कि मात्र 2 दिनों में फ्रैक्चर बैंडेज हटवाने के लिए ममता बनर्जी का नाम ‘गिनीज बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड्स’ में शामिल हो गया है। ‘फैक्ट्स’ नामक हैंडल ने ममता बनर्जी की तुलना हॉलीवुड फिल्म के किरदार ‘वॉल्वरिन’ से कर दी।

दरअसल, ये एक ऐसा कैरेक्टर है जिस पर घावों का असर तो होता है लेकिन ये तुरंत ही ठीक होकर सामान्य हो जाता है। लोग पूछ रहे हैं कि इतनी जल्दी हड्डी में फ्रैक्चर कैसे ठीक हो गया? जहाँ कई नेताओं ने उनके उत्तम स्वास्थ्य लाभ की कामना की है, कई डॉक्टरों तक ने भी ममता बनर्जी के इलाज के दौरान आई तस्वीरों में गलतियाँ ढूँढी। उन्होंने प्लास्टर देख कर भी कहा था कि इसकी प्रक्रिया ठीक नहीं है।

TMC ने ऐलान किया है कि रविवार (मार्च 14, 2021) को वो अपना घोषणा पत्र जारी करेगी। बताया जा रहा है कि ममता बनर्जी व्हील चेयर से ही चुनाव प्रचार करेंगी। वहीं विपक्षी नेता इसे सहानुभूति के लिए तैयार किया गया उपक्रम करार दे रहे हैं। कई पूछ रहे कि जब जख्म गंभीर था तो उन्हें नंदीग्राम की जगह 130 किलोमीटर दूर कोलकाता क्यों ले जाया गया?

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

यूपी के बेस्ट सीएम उम्मीदवार हैं योगी आदित्यनाथ, प्रियंका गाँधी सबसे फिसड्डी, 62% ने कहा ब्राह्मण भाजपा के साथ: सर्वे

इस सर्वे में उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को सर्वश्रेष्ठ मुख्यमंत्री बताया गया है, जबकि कॉन्ग्रेस की उत्तर प्रदेश प्रभारी प्रियंका गाँधी सबसे निचले पायदान पर रहीं।

असम को पसंद आया विकास का रास्ता, आंदोलन, आतंकवाद और हथियार को छोड़ आगे बढ़ा राज्य: गृहमंत्री अमित शाह

असम में दूसरी बार भाजपा की सरकार बनने का मतलब है कि असम ने आंदोलन, आतंकवाद और हथियार तीनों को हमेशा के लिए छोड़कर विकास के रास्ते पर जाना तय किया है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
111,226FollowersFollow
393,000SubscribersSubscribe