Tuesday, October 19, 2021
Homeसोशल ट्रेंडशशि थरूर के 'तिरंगे' की स्पेलिंग में मिस्टेक है, उम्रक़ैदी संजीव भट्ट के परिवार...

शशि थरूर के ‘तिरंगे’ की स्पेलिंग में मिस्टेक है, उम्रक़ैदी संजीव भट्ट के परिवार से मिलते हुए कर दी बड़ी भूल

थरूर द्वारा शेयर की गई तस्वीर में उनकी टेबल पर जो झंडा रखा गया है वो 'तिरंगे' जैसा नजर आ रहा है। वास्तव में यह झंडा तिरंगा ही है, लेकिन यह उल्टा रखा हुआ है।

कॉन्ग्रेस नेता और सांसद शशि थरूर अक्सर चर्चा में रहते हैं। कभी अपनी अंग्रेजी के शब्दकोष के लिए, तो कभी क्रिकेट मैच की दर्शक-दीर्घा के बीच अपने प्रशंसकों के साथ तस्वीरों को लेकर। युवाओं के बीच भी वे काफी लोकप्रिय हैं। लेकिन शशि थरूर का ज्ञान राष्ट्रीय ध्वज तिरंगा को लेकर फिसड्डी ही नजर आता है।

शशि थरूर ने आज जो तस्वीर ट्वीट की है, उसमें उनकी टेबल पर जो तिरंगा है, उसमें सबसे ऊपर हरा रंग आता है, उसके बाद सफ़ेद और सबसे बाद में केसरिया। हालाँकि, यह कॉन्ग्रेस की विचारधारा का प्रतीक चिन्ह जरूर हो सकता है लेकिन भारत देश के तिरंगे का रंग तो कम से कम यह नहीं है।

शशि थरूर ने ट्विटर पर एक फोटो शेयर की है। इस ट्वीट में थरूर बता रहे हैं कि उन्होंने गुजरात के विवादित बर्खास्त आईपीएस अधिकारी संजीव भट्ट, जिसे हाल ही में उम्रकैद की सजा सुनाई गई है, की पत्नी और बच्चे से मुलाक़ात की।

कॉन्ग्रेस नेता शशि थरूर द्वारा शेयर की गई तस्वीर में उनकी टेबल पर जो झंडा रखा गया है वो ‘तिरंगे’ जैसा नजर आ रहा है। वास्तव में यह झंडा तिरंगा ही है, लेकिन यह उल्टा रखा हुआ है। हो सकता है कि शशि थरूर का ध्यान इस ‘मामूली’ बात पर ना गया हो, लेकिन ट्वीटर यूज़र्स इस बात को लेकर शशि थरूर से नाराज हैं। तिरंगे के अपमान से नाराज लोग शशि थरूर को रिप्लाई में अपनी प्रतिक्रिया दे रहे हैं।

तिरंगे को उल्टा रखने के साथ ही ट्विटर यूज़र्स ने सजा भोग रहे संजीव भट्ट की पत्नी और बच्चे से मुलाकात पर भी आपत्ति जताई है। लोगों का कहना है कि संजीव भट्ट के लिए ‘Detention’ शब्द इस्तेमाल करना जरूरी नहीं है, क्योंकि वे एक अपराधी हैं और उन्हें इसके लिए सजा मिली है।

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

धर्मांतरण कराने आए ईसाई समूह को ग्रामीणों ने बंधक बनाया, छत्तीसगढ़ की गवर्नर का CM को पत्र- जबरन धर्म परिवर्तन पर हो एक्शन

छत्तीसगढ़ के दुर्ग में ग्रामीणों ने ईसाई समुदाय के 45 से ज्यादा लोगों को बंधक बना लिया। यह समूह देर रात धर्मांतरण कराने के इरादे से पहुँचा था।

सूरत में मंदिरों-घर की छत पर लाउडस्पीकर, सुबह-शाम हनुमान चालीसा; शनिवार को सत्संग भी: धर्म के लिए हिंदू हुए लामबंद

सूरत में आठ महीने पहले लाउडस्पीकर पर हनुमान चालीसा की हुई शुरुआत ने कैसे हिंदुओं को जोड़ा, इसका संदेश कितना गहरा हुआ, पढ़िए।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
129,980FollowersFollow
411,000SubscribersSubscribe