Wednesday, July 28, 2021
Homeसोशल ट्रेंडक्या दो कौड़ी का आदमी ₹1 फाइन भर पाएगा? प्रशांत भूषण पर हुए फाइन...

क्या दो कौड़ी का आदमी ₹1 फाइन भर पाएगा? प्रशांत भूषण पर हुए फाइन पर लोगों ने लिए मजे

देसी मोजिटो नाम के ट्विटर हैंडल से पूछा गया है कि ये सुप्रीम कोर्ट की अवमानना है या प्रशांत भूषण की या फिर प्रशांत भूषण की औकात ही एक रुपए की है।

प्रशांत भूषण मामले में सुप्रीम कोर्ट का फैसला आने के बाद अब इसकी हर जगह चर्चा है। अदालत ने आज उन पर 1 रुपए का फाइन लगाया है। साथ ही फैसला सुनाते हुए कहा है कि अगर 15 सितंबर तक फाइन नहीं भरा गया तो भूषण को जेल जाना पड़ेगा और उनका लाइसेंस भी रद्द हो सकता है।

कोर्ट के इस फैसले ने कुछ लोगों को अचंभित किया है। तो अधिकांश लोग इसे सुनकर प्रशांत भूषण की चुटकी ले रहे हैं। यूजर्स उन्हें दो कौड़ी का आदमी बता कर पूछ रहे हैं कि क्या प्रशांत भूषण एक रुपया का फाइन भर पाएँगे?

एक यूजर मजे लेते हुए कहता है, “सर, मैं आपका बहुत बड़ा फैन हूँ। फासीवाद के ख़िलाफ आपकी लड़ाई की सराहना करता हूँ। मुझे उम्मीद है आप 1 रुपए का जुर्माना नहीं भरोगे। ऐसा किया तो मोदी को राहत मिल जाएगी।”

इसी तरह देसी मोजिटो नाम के ट्विटर हैंडल से पूछा गया है कि ये सुप्रीम कोर्ट की अवमानना है या प्रशांत भूषण की या फिर प्रशांत भूषण की औकात ही एक रुपए की है।

अनुज धर लिखते हैं, “गाँधीवादी भावना पर खरे उतरिए जैसे पहले किया था। प्रशांत भूषण जी ये एक रुपए का फाइन देने से मना कर दीजिए और खुशी-खुशी कानूनी रूप से मिलने वाले दंड को स्वीकारें।”

कॉन्ग्रेस से जुड़ी हासिबा बार एंड बेंच का ट्वीट शेयर करते हुए लिखती हैं, “अब प्रशांत भूषण के लिए फंड इकट्ठा किया जा रहा है। अधिक जानकारी के लिए डायरेक्ट मैसेज करें।”

बता दें कि ऐसे ही अनेकों ट्वीट इस समय सोशल मीडिया पर घूम रहे हैं। लोग कई मीम्स के जरिए प्रशांत भूषण की खिल्ली उड़ा रहे हैं।

कुछ यूजर्स का ये भी कहना है कि कोर्ट ने ऐसा करके भूषण को उनका स्तर दिखाया है और कुछ इसे जोक ऑफ द डे बता रहे हैं।

इसके अलावा भूषण की तस्वीर सामने आई है जिसमें वह अपनी वकील से 1 रुपया लेते दिख रहे हैं।

इससे पहले याद दिला दें प्रशांत भूषण पर कोर्ट और सीजेआई की अवमानना का आरोप तय होने के बाद मीडिया के एक बड़े वर्ग द्वारा लगातार प्रशांत भूषण का समर्थन कर उनके लिए माहौल बनाया जा रहा था। कई वकीलों ने उनके समर्थन में मोर्चा खोला था, जिसके बाद कई वकीलों ने पत्र लिख कर उन पर कार्रवाई की भी माँग की थी।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘बद्रीनाथ नहीं, वो बदरुद्दीन शाह हैं…मुस्लिमों का तीर्थ स्थल’: देवबंदी मौलाना पर उत्तराखंड में FIR, कभी भी हो सकती है गिरफ्तारी

मौलाना के खिलाफ़ आईपीसी की धारा 153ए, 505, और आईटी एक्ट की धारा 66F के तहत केस किया गया है। शिकायतकर्ता का आरोप है कि उसके बयान से हिंदू भावनाएँ आहत हुईं।

बसवराज बोम्मई होंगे कर्नाटक के नए मुख्यमंत्री: पिता भी थे CM, राजीव गाँधी के जमाने में गवर्नर ने छीन ली थी कुर्सी

बसवराज बोम्मई के पिता एस आर बोम्मई भी राज्य के मुख्यमंत्री रह चुके हैं, जबकि बसवराज ने भाजपा 2008 में ज्वाइन की थी।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
111,573FollowersFollow
394,000SubscribersSubscribe