‘ठोक के बजा दूँगा यहीं’ – प्रियंका गाँधी के गुंडों ने दी ABP पत्रकार को धमकी

इस वीडियो में ABP पत्रकार प्रियंका गाँधी से अनुच्छेद 370 पर उनकी राय पूछते हैं जिस पर प्रियंका गाँधी के मैनेजर्स पत्रकार को धक्का देते हुए रोक रहे हैं और उन्हें प्रियंका गाँधी से सवाल पूछने से रोक रहे हैं।

नेता और नेतागिरी के साथ एक अन्य शब्द अनायास ही ध्यान आ जाता है, वो है ‘गुंडागिर्दी’। सोशल मीडिया के दौर में नेता और उनके मैनेजर्स द्वारा पत्रकारों के साथ की जाने वे बद्तमीजी को छुपा पाना आसान नहीं है। ऐसा ही एक वीडियो ट्विटर के जरिए सामने आया है, जिसमें राहुल गाँधी की बहन प्रियंका वाड्रा गाँधी के मैनेजर्स ABP न्यूज़ के एक पत्रकार को धमकी देते हुए और हाथापाई करते हुए देखा जा रहा है।

यह वीडियो अचानक से ट्विटर पर शेयर किया जाने लगा और लोग प्रियंका गाँधी से सवाल पूछते हुए भी देखे जा रहे हैं। हर कोई इस वीडियो पर अपने तरह से प्रतिक्रियाएँ देते हुए देखे जा रहे हैं। कुछ लोगों का कहना है कि लिबरल पत्रकार जिस डर की बात कर रहे थे, प्रियंका गाँधी के गुंडे बस यही समझा रहे हैं। वहीं कुछ यूज़र्स का मानना है कि पत्रकार को प्रियंका वाड्रा से सवाल नहीं करना चाहिए था क्योंकि उन्होंने मना कर दिया था।

‘ठोक के यहीं बजा दूँगा’

इस वीडियो में ABP पत्रकार प्रियंका गाँधी से अनुच्छेद 370 पर उनकी राय पूछते हैं जिस पर प्रियंका गाँधी के मैनेजर्स पत्रकार को धक्का देते हुए रोक रहे हैं और उन्हें प्रियंका गाँधी से सवाल पूछने से रोक रहे हैं।

- विज्ञापन - - लेख आगे पढ़ें -

मैनेजर: सुनो सुनो ठोक के यहीं बजा दूँगा। मारूँगा तो गिर जाओगे।
रिपोर्टर: प्रियंका जी देखिए कॉन्ग्रेस कार्यकर्त्ता द्वारा कैमरे पर धक्का मारा जा रहा है। संदीप आप मुझे बताओ, आपने मुझे मारने की धमकी दी। आप हाथ चलाओगे? संदीप जी आप मुझे धमकी दे रहे हो। आप मुझे ठोक के बजा दोगे?
मैनेजर (संदीप): तुम भाजपा से पैसा ले कर आए हो।
रिपोर्टर: सर आप बात सुनिए, हमारे कुछ सवाल हैं।
मैनेजर (संदीप): बीजेपी से पैसा लेकर हमें डिस्टर्ब मत करो।
रिपोर्टर: हमने डिस्टर्ब नहीं किया, हमने सिर्फ बात किया।

इसके बाद प्रियंका गाँधी के मैनेजर (संदीप) पत्रकार को अलग से समझाते हुए देखे जा रहे हैं कि उनको इस सबसे कोई फर्क नहीं पड़ता है।

शेयर करें, मदद करें:
Support OpIndia by making a monetary contribution

बड़ी ख़बर

अमित शाह, राज्यसभा
गृहमंत्री ने कहा कि पिछले वर्ष इस वक़्त तक 802 पत्थरबाजी की घटनाएँ हुई थीं लेकिन इस साल ये आँकड़ा उससे कम होकर 544 पर जा पहुँचा है। उन्होंने बताया कि सभी 20,400 स्कूल खुले हैं। उन्होंने कहा कि 50,000 से भी अधिक (99.48%) छात्रों ने 11वीं की परीक्षा दी है।

सबसे ज़्यादा पढ़ी गईं ख़बरें

ताज़ा ख़बरें

हमसे जुड़ें

114,891फैंसलाइक करें
23,419फॉलोवर्सफॉलो करें
122,000सब्सक्राइबर्ससब्सक्राइब करें

ज़रूर पढ़ें

Advertisements
शेयर करें, मदद करें: