Wednesday, July 17, 2024
Homeसोशल ट्रेंडयूट्यूबर ने किया हिन्दू धर्म का अपमान तो खिलखिला कर हँस पड़ी RJ सायमा,...

यूट्यूबर ने किया हिन्दू धर्म का अपमान तो खिलखिला कर हँस पड़ी RJ सायमा, फिर विरोध करने वालों पर ही लगा दिया घृणा फैलाने का आरोप

सायमा ने आगे कहा, "नफरत करने वालों को इसलिए नियुक्त किया गया है कि वो झूठ को अपने तरीके से पेश करें। मुझे खुशी है कि मैंने जल्द ही सफाई पेश कर दी थी। श्याम के ट्वीट की अंतिम लाइन क्यों डिलीट की गई? तुम अपने घृणित मंसूबों को छिपा नहीं पाओगे।”

रेडियो जॉकी सायमा (RJ Sayema) यूट्यूबर श्याम मीरा सिंह का एक हिन्दूफोबिक ट्वीट शेयर करने के बाद विवादों में घिर गई हैं। मंगलवार (12 सितंबर 2023) को अपनी इस हरकत के बाद सायमा ने बेशर्मी से उसे छिपाने की भी कोशिश की। हालाँकि, इसी दौरान Sarvin (सरविन) नाम के एक एक्स (पूर्व ट्विटर) यूजर ने सायमा को आईना दिखा दिया और उन्हें हिंदूफोबिया का समर्थन करने वालों में टॉप पर बताया।

दरअसल, सायमा ने ट्वीट को हँसी की इमोजी के साथ Quote (कोट) किया था, जिसमें श्याम मीरा सिंह ने हिन्दुओं का मजाक बनाया था। श्याम मीरा सिंह ने रिपब्लिक टीवी की एंकर श्वेता सिंह की आस्था पर हमला करते हुए लिखा था कि भगवान कृष्ण की 16 पत्नियाँ थीं और द्रौपदी के 5 पति थे।

इसके साथ ही अंत में उसने सवाल किया, “आप किस तरह की हिंदू हैं?” श्याम मीरा सिंह ने श्वेता पर कई लोगों की पत्नी होने जैसे संकेत किए। इस ट्वीट पर सायमा हँसी की इमोजी लगाकर श्याम मीरा सिंह की भद्दी टिप्पणी का समर्थन करती दिखीं।

ये वही सायमा हैं, जो दूसरे लोगों को नफरत और पूर्वाग्रह से दूर रहने का लेक्चर देती रही रहती हैं। हालाँकि, जब यूजर सरविन ने सायमा को आईना दिखाया, तब वो अपने ही ट्वीट को बड़ी बेशर्मी से फर्जी बताने लगीं।

अपने बचाव में सायमा ने लिखा, “अगर आपको मेरी सोच के बारे में पता करना है तो मेरे सारे ट्वीट्स देखने चाहिए। एडिटेड और फर्जी ट्वीट पर न जाएँ। कुछ लोग उन आवाजों को बदनाम करने के लिए नियुक्त हैं, जो उन्हें परेशान करती हैं। अपनी आँखें खोलो। आसपास की सच्चाई देखो। आप का दिन शुभ हो।”

@_sayema का ट्विटर स्क्रीनशॉट

कई अन्य नेटिज़न्स द्वारा उनके झूठ का पर्दाफाश किए जाने के बावजूद सायमा यूजर सरविन पर ही हमलावर रहीं। उन्होंने सरविन पर अपने ट्वीट को काट-छाँट कर शेयर करने का आरोप लगाना जारी रखा।

सायमा ने आगे कहा, “नफरत करने वालों को इसलिए नियुक्त किया गया है कि वो झूठ को अपने तरीके से पेश करें। मुझे खुशी है कि मैंने जल्द ही सफाई पेश कर दी थी। श्याम के ट्वीट की अंतिम लाइन क्यों डिलीट की गई? तुम अपने घृणित मंसूबों को छिपा नहीं पाओगे।”

सायमा अपने कुतर्क से लोगों को यह संदेश देने की कोशिश करती रहीं कि वो श्याम मीरा सिंह द्वारा हिन्दू धर्म के अपमान पर नहीं, बल्कि उनके ट्वीट की अंतिम लाइन ‘पूछता है भारत’ पर हँसी थीं।

सायमा की इस सफाई पर अभिषेक नाम के एक यूजर ने लिखा, “समझाने की कोई आवश्यकता नहीं है मोहतरमा, निश्चिन्त रहिये। आप पूरी तरह सुरक्षित हैं, क्योंकि मेरे धर्म में सर तन से जुदा जैसे आतंकी कार्य नहीं होते। हम इंसान हैं। राक्षस नहीं।”

इसी बीच इस्लामी भीड़ को उकसाने वाला एक अन्य प्रोपेगेंडा आउटलेट ‘टीम साथ’ भी विचित्र तर्क के साथ सायमा के बचाव में उतरा। टीम साथ ने सायमा के ट्वीट से अंतिम लाइन क्रॉप करने को लक्षित उत्पीड़न करार दे दिया। टीम साथ के मुताबिक, समस्या सायमा के पूरे ट्वीट नहीं, बल्कि सरविन द्वारा क्रॉप की गई अंतिम लाइन में है।

असलियत यह है कि क्रॉप की गई अंतिम लाइन से ये कतई साबित नहीं होता कि श्याम मीरा सिंह का ट्वीट हिन्दू विरोधी था और सायमा ने उस आपत्तिजनक ट्वीट का समर्थन किया। हालाँकि, सच सामने आने पर सायमा के वामपंथी और इस्लामी समर्थक उनके बचाव में अजीब और बेतुके तर्क गढ़ रहे हैं।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

अमेरिकी राजनीति में नहीं थम रहा नस्लवाद और हिंदू घृणा: विवेक रामास्वामी और तुलसी गबार्ड के बाद अब ऊषा चिलुकुरी बनीं नई शिकार

अमेरिका में भारतीय मूल के हिंदू नेताओं को निशाना बनाया जाना कोई नई बात नहीं है। निक्की हेली, विवेक रामास्वामी, तुलसी गबार्ड जैसे मशहूर लोग हिंदूफोबिया झेल चुके हैं।

आज भी फैसले की प्रतीक्षा में कन्हैयालाल का परिवार, नूपुर शर्मा पर भी खतरा; पर ‘सर तन से जुदा’ की नारेबाजी वाले हो गए...

रिपोर्ट में यह भी कहा गया था कि गौहर चिश्ती 17 जून 2022 को उदयपुर भी गया था। वहाँ उसने 'सर कलम करने' के नारे लगवाए थे।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -