Tuesday, October 19, 2021
Homeसोशल ट्रेंड'अल्लाह का शुक्र है कि 'पापा मोदी' की कोई औलाद नहीं, वरना...' - JNU...

‘अल्लाह का शुक्र है कि ‘पापा मोदी’ की कोई औलाद नहीं, वरना…’ – JNU वाली शेहला रशीद ने फिर उगला जहर

"अगर शेहला के बच्चे होते तो वो अभी तक आतंकी कैम्पों में ट्रेनिंग के लिए भेज दिए गए होते। और शेहला अपने ख़ुदा से ज़्यादा मोदी को क्यों याद करती हैं?"

जेएनयू के पूर्व छात्र नेता शेहला रशीद ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर व्यक्तिगत टिप्पणी की है। शहेला ने सोशल मीडिया के माध्यम से पीएम मोदी पर टिप्पणी की। शेहला रशीद ने ट्विटर पर लिखा- “अल्लाह का शुक्र है कि नरेंद्र मोदी की कोई औलाद नहीं है। अगर उनके बच्चे होते तो उन्हें स्कूल में काफ़ी शर्मिंदा होना पड़ता।” ये पहली बार नहीं है जब शेहला रशीद ने पीएम मोदी को लेकर ऐसी टिप्पणी की हो। शेहला ने 2018 में भाजपा समर्थकों को ट्रोल करते हुए लिखा था कि वो अपने ‘पापा मोदी’ को कहें कि वो अनुच्छेद 370 हटा कर दिखाएँ और राम मंदिर बना कर दिखाएँ।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर उनके वैवाहिक जीवन या परिवार को लेकर कई विपक्षी नेता व एक्टिविस्ट टिप्पणी करते रहे हैं। आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री चन्द्रबाबू नायडू ने पीएम मोदी पर टिप्पणी करते हुए कहा था कि जिस व्यक्ति ने अपनी पत्नी को छोड़ दिया हो, वो पारिवारिक सिस्टम का सम्मान कैसे कर सकता है? यूपी की पूर्व सीएम मायावती ने भी कहा था कि भाजपा की महिला नेताओं को डर है कि पीएम मोदी की संगत में आकर उनके पति भी उन्हें छोड़ देंगे, इसीलिए वो अपने पति को प्रधानमंत्री से नहीं मिलने देती हैं। इसी तरह एनसीपी सुप्रीमो शरद पवार ने भी कहा था कि पीएम मोदी के बाल-बच्चे और बीवी नहीं हैं, इसीलिए वो ये नहीं जानते हैं कि परिवार क्या होता है?

शेहला रशीद ने इसी श्रृंखला में नया बयान जोड़ा है। कई लोगों ने शेहला के इस बयान से आपत्ति भी जताई, वहीं कई अन्य लोगों ने जवाब भी दिया। एक व्यक्ति ने लिखा कि अगर शेहला के बच्चे होते तो वो अभी तक आतंकी कैम्पों में ट्रेनिंग के लिए भेज दिए गए होते। एक यूजर ने पूछा कि शेहला अपने ख़ुदा से ज़्यादा मोदी को क्यों याद करती हैं? एक व्यक्ति ने याद दिलाया कि पीएम मोदी के बेटे-बेटी अगर होते भी तो वो कब का स्कूल की पढ़ाई पूरी कर चुके होते। एक ट्विटर यूजर ने कहा कि बच्चे तो राहुल गाँधी के भी नहीं हैं।

शेहला रशीद ने जम्मू कश्मीर की राजनीति में क़दम रखा ही था कि उनके नेता शाह फैसल तुर्की भागते हुए पकड़े गए। वो फ़िलहाल पुलिस की हिरासत में हैं। अनुच्छेद 370 के प्रावधानों को निरस्त किए जाने के साथ ही शेहला की राजनितिक महत्वाकांक्षाएँ भी धूमिल हो गईं और उन्होंने राजनीति से दूरी बना ली। फ़िलहाल वह ‘फ्रीलान्स प्रोटेस्टर’ के रूप में अजीबोगरीब टिप्पणियाँ करती रहती हैं।

हमारी दोस्ती चाहिए तो अपने हिस्से का आरक्षण मुस्लिमों को भी दें दलित: शेहला रशीद की नई शर्त

शेहला को परेश रावल ने दिखाया आईना, कहा- तुम्हें इंटरनेट की पड़ी है, कश्मीरी पंडित सालों से बेघर हैं

…जरूरत पड़े तो शेहला राशिद को गिरफ्तार करो, कोर्ट ने दिया आदेश: भारतीय सेना को किया था बदनाम

‘पापा मोदी’, हिम्मत है तो राम मंदिर बनाओ और अनुच्छेद 370 हटाओ: कबूल हुई शेहला रशीद की दोनों दुआएँ

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

नई पार्टी बनाएँगे पूर्व CM अमरिंदर सिंह, BJP के साथ हो सकता है गठबंधन, ‘किसान आंदोलन’ का समाधान भी जल्द: रिपोर्ट

कैप्टेन अमरिंदर सिंह ने घोषणा की है कि वो एक नई पार्टी बनाएँगे। उनकी पार्टी भाजपा, अकालियों के एक गुट व अन्य छोटे दलों के साथ गठबंधन करेगी।

पाकिस्तान हारे भी न और टीम इंडिया गँवा दे 2 अंक: खुद को ‘देशभक्त’ साबित करने में लगे नेता, भूले यह विश्व कप है-द्विपक्षीय...

सृजिकल स्ट्राइक का सबूत माँगने वाले और मंच से 'पाकिस्तान ज़िंदाबाद' का नारा लगवाने वाले भारत-पाकिस्तान क्रिकेट मैच रद्द कराने की माँग कर 'देशभक्त' बन जाएँगे?

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
130,026FollowersFollow
411,000SubscribersSubscribe