Saturday, July 13, 2024
Homeसोशल ट्रेंडदिल्ली के CM केजरीवाल ठरकी हैं? कौन है Esmee, जिसको फॉलो करने के कारण...

दिल्ली के CM केजरीवाल ठरकी हैं? कौन है Esmee, जिसको फॉलो करने के कारण सोशल मीडिया पर #TharkiKejriwal कर रहा ट्रेंड?

ट्विटर पर @Esmee4Keeps नाम का एक अकाउंट है। प्रोफाइल फोटो किसी महिला की है - दिखने में सुंदर और छोटे वस्त्र पहने हुई। अरविंद केजरीवाल ने इस महिला को फॉलो किया। किसी बड़े राजनेता ने कभी कहा था कि लड़के हैं, गलतियाँ हो जाती हैं।

अरविंद केजरीवाल दिल्ली के मुख्यमंत्री हैं। राजनीति में तहलका मचाने आए थे। हमेशा सुर्खियों में रहना भी जानते हैं। फिलहाल सोशल मीडिया की जनता #TharkiKejriwal (ठरकी केजरीवाल) को ट्रेंड करवा रही है। किसी सुंदर महिला के गंदे-गंदे फोटो-वीडियो के साथ अरविंद केजरीवाल का नाम जोड़ा जा रहा है।

ट्विटर पर @Esmee4Keeps नाम का एक अकाउंट है। प्रोफाइल फोटो किसी महिला की है – दिखने में सुंदर और छोटे वस्त्र पहने हुई। अरविंद केजरीवाल ने इस महिला को फॉलो किया, ऐसा ट्विटर पर मौजूद जनता का कहना है। सिर्फ कहना नहीं है, इन लोगों ने सबूत के तौर पर फोटो-वीडियो भी उपलब्ध कराए हैं।

TharkiKejriwal (ठरकी केजरीवाल)

किसी महिला को फॉलो कर लेने भर से आखिर कोई ठरकी या हमेशा सेक्स के बारे में सोचने वाला भला कैसे हो सकता है? इसके लिए हमने जाँच पड़ताल की। @Esmee4Keeps नाम के अकाउंट ने कुल चार फोटो ट्वीट किए हैं। सामाजिक दृष्टि से देखें तो चारों फोटो गंदे तो हैं – कहीं सिर्फ पैंटी दिखा रही हैं तो कहीं बिना ब्रा पहने हुए।

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल शायद यहीं फिसल गए या पिघल गए। वैसे भी किसी बड़े राजनेता ने कभी कहा था कि लड़के हैं, गलतियाँ हो जाती हैं। खैर! सोशल मीडिया की जनता न तो नेता हैं, न ही माफ करने वाली भीड़। केजरीवाल भी रगड़ दिए गए – #TharkiKejriwal (ठरकी केजरीवाल) ट्रेंड करवा के।

भारत की जनता कितनी क्रिएटिव है, नीचे देखिए:

इतना सब हो जाने के बाद हमने अरविंद केजरीवाल के ट्विटर हैंडल की पड़ताल की। रिपोर्ट लिखते समय उनके हैंडल ने @Esmee4Keeps को फॉलो नहीं किया हुआ है। इसका मतलब हुआ कि इस अकाउंट को अनफॉलो कर दिया गया है।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘आपातकाल तो उत्तर भारत का मुद्दा है, दक्षिण में तो इंदिरा गाँधी जीत गई थीं’: राजदीप सरदेसाई ने ‘संविधान की हत्या’ को ठहराया जायज

सरदेसाई ने कहा कि आपातकाल के काले दौर में पूरे देश पर अत्याचार करने के बाद भी कॉन्ग्रेस चुनावों में विजयी हुई, जिसका मतलब है कि लोग आगे बढ़ चुके हैं।

तिब्बत को संरक्षण देने के लिए अमेरिका ने बनाया कानून, चीन से दो टूक – दलाई लामा से बात करो: जानिए क्या है उस...

14वें दलाई लामा 1959 में तिब्बत से भागकर भारत आ गये, जहाँ उन्होंने हिमाचल प्रदेश के धर्मशाला में निर्वासित सरकार स्थापित की थी।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -