Thursday, June 13, 2024
Homeसोशल ट्रेंड'मैं सिखाऊँगा दीवाली अच्छे से कैसे मनाएँ': विराट कोहली के 'ज्ञान' पर लोगों ने...

‘मैं सिखाऊँगा दीवाली अच्छे से कैसे मनाएँ’: विराट कोहली के ‘ज्ञान’ पर लोगों ने कहा – हम सिखा सकते हैं आप कप्तानी कैसे करें?

"विराट, क्या आप अपनी पत्नी अनुष्का शर्मा से एक किताब लिखवा कर प्रकाशित करवा सकते हैं, जिसमें हिन्दुओं के लिए दिशानिर्देश हो कि वो दीवाली, होली, दशहरा, जन्माष्टमी, शिवरात्रि, दुर्गा पूजा और गणेश चतुर्थी जैसे त्योहार अच्छे से कैसे मनाएँ।"

भारतीय क्रिकेट टीम के कप्तान विराट कोहली ने कहा है कि वो अगले कुछ दिनों में वीडियो के जरिए लोगों को ‘अर्थपूर्ण’ दीवाली मनाने के टिप्स देंगे। उन्होंने कहा कि अपने करीबी लोगों और परिजनों के साथ दीवाली कैसे मनाई जाए, इस सम्बन्ध वो कुछ व्यक्तिगत टिप्स देंगे। उन्होंने कहा कि वो अपने ‘Pinterest’ प्रोफ़ाइल के जरिए ये टिप्स शेयर करेंगे। इस वीडियो में उन्हें कसरत करते हुए और अलग-अलग परिधानों में भी दिखाया गया है।

हालाँकि, सोशल मीडिया पर कई लोगों को विराट कोहली का ऐसा कहना पसंद नहीं आया और उन्होंने कहा कि फिर से हिन्दुओं को सलाह दी जाएगी कि वो पटाखे न चलाएँ। लोगों ने कहा कि ये हिन्दू त्योहार है और इसे हिन्दू रीति-रिवाज से ही मनाया जाना चाहिए, न कि कसी सेलब्स के टिप्स से। लोगों ने नाराज़गी जाहिर करते हुए कहा कि दीवाली के दौरान हिन्दू विधि-विधान से पूजा-पाठ करना चाहिए, क्योंकि ये एक हिन्दू त्योहार है।

‘कह के पहनो’ नाम के ट्विटर हैंडल ने लिखा, “विराट, क्या आप अपनी पत्नी अनुष्का शर्मा से एक किताब लिखवा कर प्रकाशित करवा सकते हैं, जिसमें हिन्दुओं के लिए दिशानिर्देश हो कि वो दीवाली, होली, दशहरा, जन्माष्टमी, शिवरात्रि, दुर्गा पूजा और गणेश चतुर्थी जैसे त्योहार कैसे मनाएँ। मेरा मतलब है कि कौन-कौन सी चीजें महत्वपूर्ण हैं और किस-किस गैर-ज़रूरी चीज को हमें नज़रअंदाज़ करना है।”

फर्रागो अब्दुल्ला ने कहा, “ये क्या है? बकरीद पर कोई ज्ञान नहीं। क्रिसमस पर कोई ज्ञान नहीं। 2000 Cc इंजन की कार का प्रयोग करने पर कोई ज्ञान नहीं? नया साल पर पटाखे चलाने पर कोई ज्ञान क्यों नहीं?”

अरुण पुदुर नामक के ट्विटर यूजर ने लिखा, “ये सब करने के लिए विराट कोहली को ‘Pinterest’ रुपए दे रहा है। अगर आपको लगता है कि विराट कोहली जैसे सेलेब्स या कोई अमेरिकी ब्रांड सचमुच दीवाली की चिंता करता है तो आप गलत हैं। पैसा ही इनका मालिक है। मंदिर जाइए। कुछ सीखना है तो अपने दादा-दादी या नाना-नानी से पूछिए। इन लोगों की बातों में बार-बार मत आइए।”

वहीं कुछ लोगों ने विभिन्न कार्यक्रमों और मैचों में BCCI द्वारा की जाने वाली आतिशबाजी की तस्वीरें शेयर करते हुए पूछा कि इस पर आप गया क्यों नहीं देते?

एक व्यक्ति ने पूछा कि ‘मीनिंगफुल दीवाली’ के बारे में बात करने वाले विराट कोहली ‘मीनिंगफुल ईद’ कैसे मनाएँ, इस बारे में कुछ क्यों नहीं बताते?

‘मैथुन’ नाम के ट्विटर हैंडल ने पूछा कि अगर विराट कोहली हमें सीखा सकते हैं कि दीवाली ठीक से कैसे मनाएँ, लेकिन उन्हें नहीं सीखा सकते कि क्रिकेट कैसे खेलें।

‘द स्किन डॉक्टर’ नामक ट्विटर हैंडल ने लिखा कि भारत में प्रति व्यक्ति 1.8 टन प्रति वर्ष का CO2 उत्सर्जन होता है, लेकिन विराट कोहली और अनुष्का शर्मा का प्राइवेट जेट 3 घंटे की ट्रिप में ही इतना कार्बनडाइऑक्साइड एमिट कर देता है। यही लोग बता रहे हैं कि अच्छी दीवाली कैसे मनाएँ। उन्होंने लिखा, “हमें उन्हें बताना चाहिए कि क्रिकेट कैसे खेलें और कप्तानी कैसे करें। आप सब उन्हें ‘अर्थपूर्ण’ सलाह दें।”

याद दिला दें कि विराट कोहली ने हाल ही में घोषणा की है कि वो इस T20 विश्व कप के बाद टी-20 टीम की कप्तानी छोड़ देंगे। मीडिया रिपोर्ट्स में बताया गया था कि ड्रेसिंग रूम में विराट कोहली के व्यवहार से कई सीनियर खिलाड़ी नाराज थे। विराट कोहली काफी लंबे समय से फॉर्म से बाहर चल रहे हैं। 32 वर्षीय खिलाड़ी ने टेस्ट, वनडे और टी20 में 53 पारियाँ खेली, लेकिन एक में भी शतक नहीं जड़ पाए।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

लड़की हिंदू, सहेली मुस्लिम… कॉलेज में कहा, ‘इस्लाम सबसे अच्छा, छोड़ दो सनातन, अमीर कश्मीरी से कराऊँगी निकाह’: देहरादून के लॉ कॉलेज में The...

थर्ड ईयर की हिंदू लड़की पर 'इस्लाम' का बखान कर धर्म परिवर्तन के लिए प्रेरित किया गया और न मानने पर उसकी तस्वीरों को सोशल मीडिया पर वायरल करने की धमकी दी गई।

जोशीमठ को मिली पौराणिक ‘ज्योतिर्मठ’ पहचान, कोश्याकुटोली बना श्री कैंची धाम : केंद्र की मंजूरी के बाद उत्तराखंड सरकार ने बदले 2 जगहों के...

ज्तोतिर्मठ आदि गुरु शंकराचार्य की तपोस्‍थली रही है। माना जाता है कि वो यहाँ आठवीं शताब्दी में आए थे और अमर कल्‍पवृक्ष के नीचे तपस्‍या के बाद उन्‍हें दिव्‍य ज्ञान ज्‍योति की प्राप्ति हुई थी।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -