Saturday, September 25, 2021

विषय

फैक्ट चेक

वुहान में मच्छरों पर प्रयोग, दिया जाता था वियाग्रा… गलती से निकल भागे हजारों: Fact Check

लोगों का कहना है कि आखिर दुनिया की हर मुसीबत चीन के वुहान शहर से ही क्यों शुरू होती है। कुछ कह रहे हैं कि चीन जो न करे, वो थोड़ा है।

‘असम में मियाँ-मुस्लिम माँग रहे अलग देश, क्योंकि CM हिमंत बिस्वा सरमा ने पुलिस से करवाई ठुकाई’: वायरल वीडियो का फैक्टचेक

सोशल मीडिया में एक वीडियो धड़ल्ले से शेयर किया जा रहा है। दावा किया जा रहा है कि मियाँ-मुस्लिम (बांग्लादेशी मुस्लिम) असम में अलग देश की माँग कर रहे हैं।

‘कोविशील्ड वैक्सीन लिया हुआ दूल्हा चाहिए, लड़की ने भी ले रखी है’ – अख़बार में छपा मैट्रिमोनियल एड वायरल – Fact Check

लोग पूछ रहे हैं कि क्या सचमुच किसी ने इस तरह का एड दिया है? लोग देशी एरेंज्ड मैरिज के लिए कोरोना का टीका लिए हुए दूल्हे/दुल्हन की खोज कर रहे हैं?

‘काली मिर्च, अदरक और शहद… भारतीय स्टूडेंट ने खोजा कोरोना का इलाज, WHO ने दी मान्यता’: वायरल नुस्खों में कितना दम

कोरोना संक्रमण के इलाज को लेकर सोशल मीडिया में कई तरह के दावे किए जाते हैं। इन घरेलू नुस्खों की सच्चाई जानें।

‘भक्तों को ₹2 प्रति ट्वीट’: जिस ऑडियो पर द वायर की रोहिणी सिंह चला रही थीं प्रोपेगेंडा, वो निकला फेक, 2 गिरफ्तार

यूपी पुलिस की जाँच में यह पता चला है कि यह ऑडियो फेक था और जानबूझकर एडिट करके बनाया गया था। सोशल मीडिया मैनेजमेंट का कार्य करने वाले अतुल कुशवाहा ने इस मामले में थाने में शिकायत दर्ज कराई थी।

PETA वाली महिला गोरिल्ला के वीर्य से हुई गर्भवती… प्रजाति बचाने के लिए उठाया कदम – Fact Check

चिड़ियाघर में रहने वाले 12 साल के अफ्रीकी गोरिल्ला को मौली हीथर के गर्भ में पल रहे भ्रूण का पिता माना जा रहा है।

‘2 साल में मर जाएँगे वैक्सीन लेने वाले’: फेसबुक-इंस्टाग्राम ने सरकारी फैक्ट-चेक को हटाया, फिर कहा – ‘गलती हो गई’

फ़्रांसिसी नोबेल पुरस्कार के विजेता लुक मोन्टैग्नीर के हवाले से बयान चलाया जा रहा था कि किसी ने कोरोना की कोई भी वैक्सीन ली हो, उसके बचने की कोई संभावना नहीं है।

हाथ में बल्ब-सिर पर इस्लामी टोपी, दावा- कोरोना वैक्सीन लगवाने पर बाँह से पैदा होती है बिजली: जानें वायरल वीडियो की सच्चाई

एक वीडियो में दावा किया जा रहा है कि कोविड-19 वैक्सीनेशन के बाद टीका लगाए हुए बाँह से बिजली पैदा होती है।

‘Ketto के पैसे मेरे पर्सनल अकाउंट में नहीं आए’- प्रोपेगेंडा पत्रकार राणा अयूब का दावा: जानिए क्या है सच

राणा आयूब का यह पहला कैम्पेन नहीं है जो संदेह के दायरे में आया है। इससे पहले उन्होंने महाराष्ट्र, बिहार और असम में राहत कार्यों के लिए कैम्पेन चलाया गया था। इस कैम्पेन में 68 लाख रुपए इकट्ठा हुए थे।

फोन कॉल, वॉट्सएप मैसेज, फेसबुक, ट्विटर सब पर सरकार रखेगी निगरानी: वायरल संदेश की सच्चाई क्या?

दावा किया जा रहा है कि सरकार नए संचार नियम के चलते लोगों के सोशल मीडिया पर और फोन कॉल्स पर निगरानी बनाए हुए हैं।

ताज़ा ख़बरें

प्रचलित ख़बरें

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
124,228FollowersFollow
410,000SubscribersSubscribe