Wednesday, July 6, 2022
Homeवीडियोबकैत की रिपोर्टदिल्ली की शिक्षा पर रवीश ने क्या छुपाया? डेटा से कैसे खेले? अजीत भारती...

दिल्ली की शिक्षा पर रवीश ने क्या छुपाया? डेटा से कैसे खेले? अजीत भारती का वीडियो | Ravish lies on Delhi education

रवीश कुमार ने दिल्ली विधानसभा चुनाव के बारे में बात करते हुए कहा कि यह पहला चुनाव है जब शिक्षा का सवाल केंद्र में आते-आते रह गया। जबकि इनके प्राइम टाइम का मूल मुद्दा ही यही था कि कैसे दिल्ली ने शिक्षा के क्षेत्र में नए आयाम व नए कीर्तिमान स्थापित किए हैं और बाकी जगह बेकार है।

रवीश कुमार ने दिल्ली विधानसभा चुनाव के बारे में बात करते हुए कहा कि यह पहला चुनाव है जब शिक्षा का सवाल केंद्र में आते-आते रह गया। जबकि इनके प्राइम टाइम का मूल मुद्दा ही यही था कि कैसे दिल्ली ने शिक्षा के क्षेत्र में नए आयाम व नए कीर्तिमान स्थापित किए हैं और बाकी जगह बेकार है।

रवीश को ये भी बताना था कि दिल्ली की पूरी जीडीपी का कितना प्रतिशत शिक्षा को जा रहा है। वो बताएँगे तो पता चल जाएगा कि यह 2 प्रतिशत से कम है, लेकिन रवीश यह नहीं बताएँगे। रवीश ने दिल्ली की शिक्षा के बारे में बहुत कुछ छुपाया तो वहीं आँकड़ों के साथ भी खूब खेल खेला।

पूरा वीडियो यहाँ क्लिक करके देखें

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

अजीत भारती
अजीत भारती
पूर्व सम्पादक (फ़रवरी 2021 तक), ऑपइंडिया हिन्दी

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘अभिव्यक्ति की आज़ादी सिर्फ हिन्दू देवी-देवताओं के लिए क्यों?’: सत्ता जाने के बाद उद्धव गुट को याद आया हिंदुत्व, प्रियंका चतुर्वेदी ने सँभाली कमान

फिल्म 'काली' के पोस्टर में देवी को धूम्रपान करते हुए दिखाया गया है। जिस पर विरोध जताते हुए शिवसेना ने कहा कि अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता हिंदू देवताओं के लिए ही क्यों?

‘किसी और मजहब पर ऐसी फिल्म क्यों नहीं बनती?’: माँ काली का अपमान करने वालों पर MP में होगी कार्रवाई, बोले नरोत्तम मिश्रा –...

"आखिर हमारे देवी देवताओं पर ही फिल्म क्यों बनाई जाती है? किसी और धर्म के देवी-देवताओं पर फिल्म बनाने की हिम्मत क्यों नहीं हो पाती है।"

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
203,883FollowersFollow
416,000SubscribersSubscribe