Wednesday, July 28, 2021
Homeवीडियोबकैत की रिपोर्टकश्मीरी हिन्दू मुसलमानों से माफ़ी क्यों माँगे? अजीत भारती का वीडियो | Why'd Kashmiri...

कश्मीरी हिन्दू मुसलमानों से माफ़ी क्यों माँगे? अजीत भारती का वीडियो | Why’d Kashmiri Hindus say sorry to Muslims?

इसी तरह से एक पक्ष को चर्चा से गायब किया जाता है। आतंकियों के अपराधों पर, उसके दुष्कृत्यों पर हम कभी चर्चा नहीं करते। इसी तरह से एजेंडा पेश किया जाता है कि हम तो कश्मीरी पंडितों के साथ हैं, लेकिन क्या तुम मुसलमान आतंकियों के खिलाफ हो?

कश्मीरी पंडितों की जब हम बात करते हैं तो उसके दो पहलू हैं। एक पहलू कश्मीरी पंडित या कश्मीरी हिंदू है, तो वहीं दूसरे पहलू पर कभी बात नहीं होती। हम इनके दु:ख के बारे में बात करते हैं, लेकिन मुसलमानों के आतंक की बात नहीं करते। जबकि उल्टा होना चाहिए। इनका दु:ख तो ये जी ही रहे हैं, लेकिन जिन पर चर्चा होना चाहिए कि इन मुसलमानों ने क्या किया? उसका क्या? उस पर बात क्यों नहीं होती?

इसी तरह से एक पक्ष को चर्चा से गायब किया जाता है। आतंकियों के अपराधों पर, उसके दुष्कृत्यों पर हम कभी चर्चा नहीं करते। इसी तरह से एजेंडा पेश किया जाता है कि हम तो कश्मीरी पंडितों के साथ हैं, लेकिन क्या तुम मुसलमान आतंकियों के खिलाफ हो?

रवीश लिखते हैं, “इंसाफ का इंतजार लंबा हो ही गया है और शायद आगे भी हो, लेकिन चुप्पी उनके भीतर चुप रही।” रवीश इंसाफ दोगे कैसे इन लोगों को? जब तुम बात ही नहीं कर रहे हो कि किसने इनके साथ अपराध किया है, तो इंसाफ दोगे कैसे?

पूरा वीडियो यहाँ क्लिक करके देखें

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

अजीत भारती
पूर्व सम्पादक (फ़रवरी 2021 तक), ऑपइंडिया हिन्दी

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

एक शक्तिपीठ जहाँ गर्भगृह में नहीं है प्रतिमा, जहाँ हुआ श्रीकृष्ण का मुंडन संस्कार: गुजरात का अंबाजी मंदिर

गुजरात के बनासकांठा जिले में राजस्थान की सीमा पर अरासुर पर्वत पर स्थित है शक्तिपीठों में से एक श्री अरासुरी अंबाजी मंदिर।

5 या अधिक हुए बच्चे तो हर महीने पैसा, शिक्षा-इलाज फ्री: जनसंख्या बढ़ाने के लिए केरल के चर्च का फैसला

केरल के चर्च के फैसले के अनुसार, 2000 के बाद शादी करने वाले जिन भी जोड़ों के 5 या उससे अधिक बच्चे हैं, उन्हें प्रत्येक माह 1500 रुपए की मदद दी जाएगी।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
111,580FollowersFollow
394,000SubscribersSubscribe