Sunday, July 14, 2024
Homeव्हाट दी फ*'बड़ी छिपकलियों की चर्बी से बढ़ेगी यौन ताकत …केवल 4 बूँद जादू कर देंगी'...

‘बड़ी छिपकलियों की चर्बी से बढ़ेगी यौन ताकत …केवल 4 बूँद जादू कर देंगी’ : वियाग्रा बैन के बाद पाकिस्तानियों ने खोजा ‘विकल्प’, कीमत 600-1200 रुपए

रिपोर्ट्स की मानें तो यह तेल ऐसी छिपकली की चर्बी से बनता है जो रेगिस्तानी इलाकों में मिलती है। यह तेल वैज्ञानिक दृष्टि से कितना कारगर इसका कोई सबूत नही है। लेकिन पाकिस्तान में इसकी बिक्री धड़ल्ले से हो रही है।

पाकिस्तान में वियाग्रा बैन होने के बाद और आर्थिक तंगी के बीच एक कारोबार ने तेज रफ्तार पकड़ी है। ये कारोबार यौन शक्ति बढ़ाने वाले तेल की ब्रिकी का है जिसे छिपकली की चर्बी निकालकर बिच्छू के तेल के साथ गर्म करके बनाया जाता है और पाकिस्तान में लोग इसे ‘सांडे का तेल’ कहते हैं।

रिपोर्ट्स की मानें तो यह तेल ऐसी छिपकली की चर्बी से बनता है जो रेगिस्तानी इलाकों में मिलती है। यह तेल वैज्ञानिक दृष्टि से कितना कारगर इसका कोई सबूत नही है। इस्लामाबाद के डॉ अहमद सहाब इसे बकवास चीज बताकर इसके असर को खारिज कर चुके हैं। लेकिन पाकिस्तान में इसकी बिक्री धड़ल्ले से हो रही है।

कथिततौर पर इस तेल को बेचने वाले पाकिस्तान में रोड किनारे बैठे मिलते हैं। ये लोग छिपकलियाँ पंजाब और सिंध प्रांत से अवैध ढंग से शिकार करके लाते हैं। जिनका साइज आम छिपकलियों से बड़ा (2 फीट तक का) होता है। रात के समय इनका शिकार जाल लेकर किया जाता है। जब ये पकड़ में आ जाती हैं तो क्रूरता से इनकी पीठ तोड़ी जाती है ताकि ये भाग न पाएँ। फिर प्रदर्शनी की तरह इन्हें सड़कों पर बिछाया जाता है और ग्राहकों को आकर्षित किया जाता है।

तेल बनाने वाले लोग इन छिपकलियों को काटकर इनकी पूँछ के नीचे से एक ग्रंथि (ग्लैंड) निकाल लेते हैं। इसके बाद इसे छोटे पैन में गर्म करते हैं और यही ग्राहक को बाद में दिया जाता है।

एएफपी की रिपोर्ट में इस कारोबार का जिक्र करते हुए उस दुकानदार का बयान भी है जो ऐसे तेल बेचता है। विक्रेता का नाम यासिर अली है। अली ने कहा कि इस तेल की चार बूँदे बहुत असरदार होती हैं। यह तेल यौन शक्ति बढ़ाने में जादू जैसे काम करता है। लोग शीशियों में भरकर ग्राहक की माँग पर इसे देते हैं। इसकी कीमत 600 से 1200 पाकिस्तानी रुपया तय की गई है।

ये तेल बेचने वाले दावा करते हैं कि ये तेल सिर्फ यौन शक्ति नहीं बढ़ाता बल्कि ज्वाइंट के दर्द, बैक के दर्द और बाल झड़ने से भी रोकता है। पुलिस ने कई बार ऐसे कारोबार करने वालों को पाकिस्तान में पकड़ा। लेकिन फिर इन्हें 10 हजार फाइन के बाद छोड़ दिया गया और ये दोबारा छिपकली लाकर अपना धंधा करने लगे।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

जिसने चलाई डोनाल्ड ट्रंप पर गोली, उसने दिया था बाइडेन की पार्टी को चंदा: FBI लगा रही उसके मकसद का पता

पेंसिल्वेनिया के मतदाता डेटाबेस के मुताबिक, डोनाल्ड ट्रंप पर हमला करने वाला थॉमस मैथ्यू क्रूक्स रिपब्लिकन के मतदाता के रूप में पंजीकृत था।

डोनाल्ड ट्रंप को मारी गई गोली, अमेरिकी मीडिया बता रहा ‘भीड़ की आवाज’ और ‘पॉपिंग साउंड’: फेसबुक पर भी वामपंथी षड्यंत्र हावी

डोनाल्ड ट्रंप की हत्या के प्रयास की पूरी दुनिया के नेताओं ने निंदा की, तो अमेरिकी मीडिया ने इस घटना को कमतर आँकने की कोशिश की।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -