Monday, August 2, 2021
Homeव्हाट दी फ*महाराष्ट्र में अब अजीबो-गरीब समस्या मुर्गियों ने अंडे देने किए बंद, शिकायत लेकर थाने...

महाराष्ट्र में अब अजीबो-गरीब समस्या मुर्गियों ने अंडे देने किए बंद, शिकायत लेकर थाने पहुँचा पोल्ट्री फर्म का मालिक

इस संबंध में पुलिस अधिकारी ने बताया कि फर्म मालिक ने उनके पास बुधवार को शिकायत की। हालाँकि, इस पर एफआईआर नहीं हुई क्योंकि जिस कंपनी पर फर्म मालिक ने आरोप मढ़ा, वह उसके लिए उसे मुआवजा देने को तैयार हो गया है।

महाराष्ट्र के पुणे से एक बहुत अजीबोगरीब मामला सामने आया है। वहाँ एक मुर्गी पालक ने अपने फर्म में मुर्गियों के अंडे न देने पर एक कंपनी को जिम्मेदार बताते हुए पुलिस के पास शिकायत की। मालिक का कहना है कि एक निश्चित कंपनी का उत्पाद खाकर उसकी मुर्गियाँ अंडे नहीं दे रहीं।

डेक्कन हेराल्ड की खबर के अनुसार, इस संबंध में पुलिस अधिकारी ने बताया कि फर्म मालिक ने उनके पास बुधवार को शिकायत की। हालाँकि, इस पर एफआईआर नहीं हुई क्योंकि जिस कंपनी पर फर्म मालिक ने आरोप मढ़ा, वह उसके लिए उसे मुआवजा देने को तैयार हो गया है। 

लोनी कालभोर पुलिस थाने के वरिष्ठ पुलिस अधिकारी राजेंद्र मोक्षी ने कहा, “शिकायतकर्ता पोल्ट्री फार्म का मालिक है। वह और कम से कम 4 अन्य पोल्ट्री फार्म मालिक इलाके में इसी परेशानी से ग्रसित थे। सबने हमारे पास शिकायत करवाई।”

अधिकारी के मुताबिक, शिकायतकर्ताओं ने कहा कि वह राज्य के अहमदनगर जिले में बनी एक कंपनी से उत्पाद खरीद कर मुर्गियों को खिलाते थे। लेकिन मुर्गियों ने उत्पाद का सेवन करने के बाद अंडे देना ही बंद कर दिया।

शिकायत मिलने के बाद पुलिस ने ब्लॉक लेवल एनिमल हस्बैंड्री अधिकारी को अहमदनगर में संपर्क किया। अधिकारियों ने पुलिस को बताया कि ये बहुत सामान्य प्रक्रिया है कि कई बार कुछ उत्पाद मुर्गियों को सूट नहीं होते और वह उन्हें खाने के बाद अंडे देना बंद कर देती हैं। अधिकारियों के हवाले से पुलिस ने कहा कि मुर्गियों के अंडे न देने का मामला मुर्गियों द्वारा नए उत्पाद सेवन करने के बाद आया है। जैसे ही मुर्गियों पुराने खाने का सेवन करेंगी वह दोबारा अंडे देने लगेंगी।

पुलिस अधिकारी ने कहा, “हमने संबंधित कंपनी से भी बात की, जिन्होंने बताया कि उन्हें कुछ अन्य ग्राहकों से भी फीड के बारे में ऐसी ही शिकायतें मिली हैं। निर्माता ने हमें आश्वासन दिया कि वे उत्पाद वापस ले लेंगे और प्रभावित लोगों को उनके नुकसान के लिए मुआवजे की पेशकश करेंगे।” पुलिस ने बताया कि शिकायतकर्ता एक नामी उत्पाद कंपनी से अपनी मुर्गियों के लिए खाना खरीदते थे। लेकिन बाद में रेट बढ़ने के कारण उन्होंने अहमद नगर से माल खरीदना शुरू कर दिया और तभी से उन्हें यह समस्या हुई।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘किताब खरीद घोटाला, 1 दिन में 36 संदिग्ध नियुक्तियाँ’: MGCUB कुलपति की रेस में नया नाम, शिक्षा मंत्रालय तक पहुँची शिकायत

MGCUB कुलपति की रेस में शामिल प्रोफेसर शील सिंधु पांडे विक्रम विश्वविद्यालय में कुलपति थे। वहाँ पर वो किताब खरीद घोटाले के आरोपित रहे हैं।

‘दविंदर सिंह के विरुद्ध जाँच की जरूरत नहीं…मोदी सरकार क्या छिपा रही’: सोशल मीडिया में किए जा रहे दावों में कितनी सच्चाई

केंद्र सरकार के ख़िलाफ़ कई कॉन्ग्रेसियों, पत्रकारों, बुद्धिजीवियों ने सोशल मीडिया पर दावा किया। लेकिन इनमें से किसी ने एक बार भी नहीं सोचा कि अनुच्छेद 311 क्या है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
112,620FollowersFollow
394,000SubscribersSubscribe