Thursday, July 25, 2024
Homeफ़ैक्ट चेकराजनीति फ़ैक्ट चेकप्रियंका गाँधी ने जिस किसान को लेकर फैलाया झूठ, उसी ने खोली पोल, कहा-...

प्रियंका गाँधी ने जिस किसान को लेकर फैलाया झूठ, उसी ने खोली पोल, कहा- वाड्रा को सही खबर पढ़कर रिएक्शन देना चाहिए

इस वीडियो में आलोक मिश्रा कह रहे हैं, “प्रियंका जी का क्या है कि उनको राजनीति करनी है, वो वैसे ही करती है। उनको न्यूज तो देखना नहीं है। देखना चाहिए कि पूरी न्यूज कम से कम क्या थी।”

उत्तर प्रदेश प्रभारी व कॉन्ग्रेस महासचिव प्रियंका गाँधी ने उत्तर प्रदेश में गन्ने का बकाया भुगतान न होने को लेकर एक बार फिर से झूठ फैलाया। प्रियंका गाँधी ने केंद्र की नरेंद्र मोदी सरकार और उत्तर प्रदेश की योगी सरकार पर निशाना साधते हुए ट्विटर पर लिखा कि 14 दिन में भुगतान एवं आय दुगनी का वादा जुमला निकला। प्रियंका गाँधी ने ट्वीट में लखीमपुर खीरी के एक किसान आलोक मिश्रा का भी जिक्र किया। 

प्रियंका गाँधी ने बुधवार (फरवरी 17, 2021) को ट्वीट करते हुए लिखा, “लखीमपुर खीरी के किसान आलोक मिश्रा का 6 लाख रुपए का गन्ना भुगतान बकाया है। उनको खेती, इलाज आदि के लिए 3 लाख का लोन लेना पड़ा। 10,000 करोड़ का भुगतान फँसा होने के चलते यूपी के लाखों किसानों का यही हाल है। 14 दिन में भुगतान एवं आय दुगनी का वादा जुमला निकला।”

इस ट्वीट के सामने आने के बाद एबीपी न्यूज की पत्रकार रुबिका लियाकत ने एक ट्वीट किया। इसमें उन्होंने लिखा, “प्रियंका के ट्वीट में जिस किसान आलोक मिश्रा का ज़िक्र है वो कह रहे हैं कि प्रियंका वाड्रा को सही खबर पढ़कर रिएक्शन देना चाहिए। मुझे पिछले साल का पूरा भुगतान मिल गया है।”

इस ट्वीट को रीट्वीट करते हुए यूपी कॉन्ग्रेस ने लिखा, “आप जैसे गोदी पत्रकारों को मर्म नहीं दिखता। जिस खबर का जिक्र किया गया है उसमें साफ लिखा है कि किसानों को 14 दिन में भुगतान का वादा किया गया था। साल बीत जाते हैं लेकिन किसानों को भुगतान नहीं मिलता, कर्ज लेना पड़ता है। किसान गन्ना की खेती छोड़ रहे हैं।”

इसके जवाब में रुबिका लियाकत ने आलोक मिश्रा के बयान का वीडियो ट्वीट किया। इस वीडियो में आलोक मिश्रा कह रहे हैं, “प्रियंका जी का क्या है कि उनको राजनीति करनी है, वो वैसे ही करती है। उनको न्यूज तो देखना नहीं है। देखना चाहिए कि पूरी न्यूज कम से कम क्या थी।”

बता दें कि बीते दिनों प्रियंका गाँधी वाड्रा ने फेसबुक पर एक वीडियो डालकर किसान आंदोलन को भड़काने की कोशिश की थी। जिसको PIB Fact Check ने झूठा दावा करार दिया और प्रियंका गाँधी के पोस्ट के साथ उसे फर्जी बताया।

प्रियंका गाँधी ने फेसबुक पर वीडियो शेयर करते हुए लिखा था, “जिस भारतीय रेलवे को देश के करोड़ों लोगों ने अपनी मेहनत से बनाया। भाजपा सरकार ने उस पर अपने अरबपति मित्र अडानी का ठप्पा लगवा दिया। कल को धीरे-धीरे रेलवे का एक बड़ा हिस्सा मोदी के अरबपति मित्रों को चला जाएगा। देश के किसान खेती-किसानी को भी आज मोदी के अरबपति मित्रों के हाथ में जाने से रोकने की लड़ाई लड़ रहे हैं।” हालाँकि पीआईबी ने इसका खंडन कर दिया था।

गौरतलब है कि कॉन्ग्रेस पार्टी द्वारा फर्जी खबर फैलाना आम बात हो गई है। यहाँ तक कि उनके पार्टी के वरिष्ठ नेता भी इस सूची में शामिल हैं, जो अक्सर अपनी राजनीति को चमकाने के लिए भ्रामक सूचनाओं और फर्जी खबरें फैलाने का सहारा लेते है। 

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘तुमलोग वापस भारत भागो’: कनाडा में अब सांसद को ही धमकी दे रहा खालिस्तानी पन्नू, हिन्दू मंदिर पर हमले का विरोध करने पर भड़का

आर्य ने कहा है कि हमारे कनाडाई चार्टर ऑफ राइट्स में दी गई स्वतंत्रता का गलत इस्तेमाल करते हुए खालिस्तानी कनाडा की धरती में जहर बोते हुए इसे गंदा कर रहे हैं।

मुजफ्फरनगर में नेम-प्लेट लगाने वाले आदेश के समर्थन में काँवड़िए, सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बाद बोले – ‘हमारा तो धर्म भ्रष्ट हो गया...

एक कावँड़िए ने कहा कि अगर नेम-प्लेट होता तो कम से कम ये तो साफ हो जाता कि जो भोजन वो कर रहे हैं, वो शाका हारी है या माँसाहारी।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -