Wednesday, August 12, 2020
Home फ़ैक्ट चेक सोशल मीडिया फ़ैक्ट चेक टीवी और मिक्सर ग्राइंडर के कचरे से 'ड्रोन बॉय' प्रताप एनएम ने बनाए 600...

टीवी और मिक्सर ग्राइंडर के कचरे से ‘ड्रोन बॉय’ प्रताप एनएम ने बनाए 600 ड्रोन: फैक्ट चेक में खुली पोल

ई-कचरे का उपयोग करके कथित तौर पर 600 ड्रोन बनाने के बावजूद, यह एक बड़ा आश्चर्य है कि ड्रोन बॉय द्वारा बनाए गए ड्रोन का एक भी फोटो या वीडियो इंटरनेट पर उपलब्ध नहीं है। विभिन्न वेबसाइटों पर उनके साथ दिखाई देने वाले ड्रोन की सभी तस्वीरें विभिन्न कंपनियों द्वारा बनाए गए व्यावसायिक उत्पादन वाली ड्रोन हैं।

पिछले कई दिनों से सोशल मीडिया ‘ड्रोन बॉय’ प्रताप एनएम (Drone boy Prathap NM) के किस्सों से लबरेज़ है, जिसे कि सब लोग ‘ड्रोन वैज्ञानिक’ बता रहे हैं। इन्टरनेट यूजर्स ऐसी कहानियाँ साझा कर रहे हैं कि कैसे प्रताप ने दुनिया भर के विभिन्न ड्रोन एक्सपो में कई स्वर्ण पदक जीते हैं, 87 देशों द्वारा उसे आमंत्रित किया गया है, और अब पीएम मोदी के साथ ही डीआरडीपी से उन्हें काम पर रखने के लिए कहा गया है।

हालाँकि, कर्नाटक के 22 वर्षीय लड़के की कहानियाँ नई नहीं हैं, लेकिन वे पिछले 2 वर्षों से इंटरनेट पर घूम रही हैं, और अब अचानक उसकी कहानियाँ वायरल होने लगी हैं। और जबकि अधिकांश भारतीय इस ‘ड्रोन बॉय’ की कहानियों को कई बार साझा कर रहे हैं, कुछ ऐसे हैं, जो सोचते हैं कि उनकी कहानियाँ संदिग्ध रूप से नासा की उन कहानियों के समान हैं जिनमें अक्सर ‘स्कूल बॉय का नासा द्वारा चयन’ जैसे किस्से कहे जाते हैं, जो कि लगभग हमेशा ही झूठी निकल आती हैं। इसी संदर्भ में, प्रताप एनएम के बारे में किए जा रहे दावों का विश्लेषण यहाँ दिया जा रहा है।

पदक और पुरस्कार

दिसंबर 2018 में ‘डेक्कन हेराल्ड’ की एक रिपोर्ट के अनुसार, प्रताप ने जर्मनी के हनोवर में आयोजित ‘इंटरनेशनल ड्रोन एक्सपो 2018’ में अल्बर्ट आइंस्टीन इनोवेशन गोल्ड मेडल जीता, जर्मनी में आयोजित इंटरनेशनल ड्रोन एक्सपो में स्वर्ण पदक हासिल किया, CeBIT ड्रोन में पहला स्थान हासिल किया। एक्सपो 2018, हनोवर, जर्मनी में, और दिसंबर 2017 में जापान के टोक्यो में आयोजित अंतरराष्ट्रीय रोबोटिक प्रदर्शनी में स्वर्ण पदक भी जीता।

अगर हम ध्यान से देखें, तो हम पाएँगे कि उन्होंने वर्ष 2018 में जर्मनी स्थित हनोवर में तीन, इंटरनेशनल ड्रोन एक्सपो में दो और CeBIT ड्रोन एक्सपो में एक पुरस्कार जीता। इन नाम वाली सभी घटनाओं को इन्टरनेट पर सर्च करने पर वेब सर्च आपको कोई भी रिजल्ट नहीं दिखाता है। CeBIT एक कंप्यूटर एक्सपो है, जो जर्मनी के हनोवर में होता है, लेकिन CeBIT द्वारा अलग से कोई ‘ड्रोन एक्सपो’ आयोजित करने से सम्बंधित किसी भी प्रकार की कोई रिपोर्ट मौजूद नहीं है। हनोवर में आयोजित किसी अन्य अंतरराष्ट्रीय ड्रोन एक्सपो की भी कोई रिपोर्ट उपलब्ध नहीं है, इसलिए यह स्पष्ट नहीं हो पाता कि प्रताप ने कहाँ भाग लिया और पुरस्कार जीते।

- विज्ञापन -

इससे भी महत्वपूर्ण बात यह है कि इन एक्सपो में प्रताप के जीतने की कोई स्वतंत्र रिपोर्ट भी मौजूद नहीं है। जबकि CeBIT इनोवेशन अवार्ड CeBIT ईवेंट में दिया जाता है, लेकिन इस ईवेंट के बारे में कोई रिपोर्ट नहीं है कि प्रताप ने यह अवार्ड जीता है। पिछले सभी नामांकित व्यक्ति और पुरस्कार के विजेता मोटोरोला, मैकएफी आदि जैसी कंपनियाँ हैं, और किसी भी व्यक्ति विशेष द्वारा यह पुरस्कार जीतने की कोई रिपोर्ट या विवरण उपलब्ध नहीं है।

इसी तरह, हनोवर में किसी भी ड्रोन एक्सपो में ‘अल्बर्ट आइंस्टीन इनोवेशन मेडल’ की भी कहीं कोई रिपोर्ट नहीं है। इस नाम के पुरस्कार के सभी सर्च रिजल्ट केवल प्रताप एनएम की कहानियों की ओर इशारा करते हैं, लेकिन इस तरह के पुरस्कार के बारे में बताने वाला कोई अन्य स्रोत उपलब्ध नहीं है। ‘अल्बर्ट आइंस्टीन वर्ल्ड अवार्ड ऑफ़ साइंस’ नामक एक पुरस्कार है, लेकिन विजेताओं की सूची में हमारे ‘ड्रोन बॉय’ प्रताप का नाम शामिल नहीं है, और यह CeBIT द्वारा सम्मानित नहीं किया गया है। हलाँकि, एक पदक के साथ प्रताप की तस्वीर जरूर है और एक प्रमाण पत्र, जो कह रहा है कि CeBIT द्वारा ‘अल्बर्ट आइंस्टीन इनोवेशन मेडल’, CeBIT द्वारा ऐसे किसी अवार्ड देने कि कोई जानकारी कहीं मौजूद नहीं है।

प्रताप एनएम की रिपोर्ट्स के अनुसार, उन्होंने जापान 2017 में अंतरराष्ट्रीय रोबोट प्रदर्शनी में एक रोबोट प्रतियोगिता में भाग लिया था, जिसके लिए उनके विमान से आवागमन के खर्च में उनके कॉलेज के शिक्षकों द्वारा मदद की गई थी। टोक्यो में आयोजित अंतरराष्ट्रीय रोबोट प्रदर्शनी एक व्यापार मेला है, जहाँ रोबोट बनाने वाली कंपनियाँ भाग लेती हैं। उनके रोबोट के साथ कॉलेज और विश्वविद्यालय के छात्र भी इस शो में भाग लेते हैं, लेकिन ड्रोन के इस कार्यक्रम का हिस्सा होने का कोई रिकॉर्ड नहीं है, और इस आयोजन में प्रथम पुरस्कार, या किसी भी पुरस्कार को जीतने का कोई रिकॉर्ड नहीं है।

भले ही, दुनिया में कई रोबोट प्रतियोगिताएँ होती हैं, लेकिन अंतरराष्ट्रीय रोबोट प्रदर्शनी में आयोजित होने वाली किसी भी प्रतियोगिता का कोई रिकॉर्ड नहीं है, जो मूल रूप से औद्योगिक रोबोटों के लिए एक व्यापार मेला है। हालाँकि, छात्र अपनी रचनाओं को प्रदर्शित करने के लिए भी इसमें भाग लेते हैं, लेकिन वे किसी प्रतियोगिता में शामिल नहीं होते हैं।

जबकि प्रताप ने कथित तौर पर अपने ड्रोन के लिए बड़ी संख्या में पुरस्कार और पदक जीते हैं, लेकिन एक भी तस्वीर या वीडियो कहीं मौजूद नहीं है, जिसमें उन्हें इस तरह के पुरस्कार प्राप्त करते हुए दिखाया गया हो। इस तरह के पदक और पुरस्कारों के साथ उनकी कुछ तस्वीरें हैं, लेकिन वे किसी भी समारोह से नहीं हैं, जहाँ उन्हें यह प्राप्त हुआ होगा।

उन्होंने आईआईटी और आईआईएम में ड्रोन पर एक सत्र को संबोधित करने का भी दावा किया है, लेकिन उस दावे की पुष्टि करने के सम्बन्ध में कोई रिपोर्ट नहीं है।

ड्रोन

‘ड्रोन बॉय’ पर इंटरनेट की अधिकांश कहानियाँ ‘एडेक्सलाइव’ द्वारा दिसंबर, 2019 में प्रकाशित एक रिपोर्ट पर आधारित हैं। एडेक्सलाइव ‘द न्यू इंडियन एक्सप्रेस’ की एक पहल है। यह एक एक्सपो के दौरान अपने ड्रोन के साथ प्रताप की तस्वीर पेश करता है। दर्जनों वेबसाइट्स द्वारा खींची गई तस्वीरें नीचे दी गई हैं –

एसीएसएल स्टॉल पर एसीएसएल ड्रोन के साथ प्रताप

यहाँ हम प्रताप के साथ एक बेहद आधुनिक नजर आने वाला ड्रोन देखते हैं। लेकिन पहली नज़र के बाद, कोई भी देख सकता है कि ड्रोन को कई जगहों पर ACSL नाम को ब्रांड किया गया है। यह ACSL एक जापानी कंपनी है, जो मानव रहित हवाई वाहन या ड्रोन बनाती है। यह आसानी से देखा जा सकता है कि यह वास्तव में प्रताप के साथ खींचे गए ड्रोन पर ACSL का लोगो है। थोड़ा सा ऑनलाइन सर्च से ही पता चलता है कि यह ACSL द्वारा बनाया गया PF-1 ड्रोन है, और यह ‘ड्रोन बॉय’ द्वारा रिसाइकिल किए गए भागों से बना ड्रोन नहीं है। तस्वीर में एक ACSL ब्रांडेड शर्ट वाला व्यक्ति भी है, और स्टॉल की दीवार में और दीवार पर लगे टीवी पर भी ACSL का लोगो देखा जा सकता है। ये सभी इस संभावना की ओर इशारा करते हैं कि प्रताप ने किसी प्रदर्शनी में भाग लिया था, जहाँ ACSL ने अपने ड्रोन दिखाए थे, और खुद को खड़ा कर जापानी कंपनी द्वारा बनाए गए ड्रोन में से एक के साथ फोटो लिया था।

‘ड्रोन बॉय’ प्रताप पर ‘द बेटर इंडिया’ द्वारा प्रकाशित एक अन्य लेख में ऊपर दी गई फोटो के अलावा, प्रदर्शनी स्टालों में कई अलग-अलग प्रकार के ड्रोन के साथ उनकी कई तस्वीरें हैं। तस्वीरों में से एक में यह निर्धारित किया जा सकता है कि यह जापान में एक प्रदर्शनी है। यहाँ भी, निम्नलिखित तस्वीरों में, ACSL का ब्रांड क्वाडकॉप्टर के एक मोटर में दिखाई देता है, जिसका अर्थ है कि यह जापानी कंपनी द्वारा बनाया गया एक और ड्रोन है।

एक और एसीएसएल ड्रोन के साथ प्रताप

इसके अलावा, जापानी में सेल विवरण को भी डेस्क पर देखा जा सकता है, जिसका अर्थ है कि यह एक व्यावसायिक उत्पादन के लिए निर्मित ड्रोन है। उसी लेख में अन्य तस्वीरें भी दिखाती हैं कि प्रताप को जापान और जर्मनी में प्रदर्शित व्यावसायिक उत्पादन ड्रोन के साथ तस्वीरें खींची जा रही हैं। ड्रोन प्रचार सामग्री के साथ हैं, और उनमें से कोई भी रिसाइकिल किए गए ‘ई-कचरे’ से बना हुआ नहीं दिखता है, क्योंकि प्रताप को रीसाइक्लिंग सामग्री द्वारा ड्रोन बनाने के लिए जाना जाता है।

‘रेडिट’ के एक यूजर ने एक ई-मेल ACSL को भेजा, जिसमें पूछा गया कि क्या प्रताप उनकी कंपनी के लिए काम करता है या उसने उनके लिए ड्रोन विकसित किए हैं? जवाब में, कंपनी ने स्पष्ट रूप से कहा कि वह कंपनी के किसी भी उत्पाद विकास में शामिल नहीं है। उन्होंने कहा कि ई-मेल मिलने से पहले उन्हें इसकी जानकारी भी नहीं थी। उन्होंने यह भी पुष्टि की कि प्रताप के साथ फोटो में देखा गया पीएफ -1 ड्रोन जापान में इन-हाउस विकसित किया गया था, और उनके पास आईपी पेटेंट और अधिकार हैं। यह साबित करता है कि प्रताप ने जापान के एसीएसएल ड्रोन के साथ फोटो खिंचवाई थी, और वह इसकी निर्माण प्रक्रिया से जुड़ा नहीं है।

एसीएसएल का जवाब प्रताप के साथ किसी भी लिंक से इनकार करता है

ई-कचरे का उपयोग करके कथित तौर पर 600 ड्रोन बनाने के बावजूद, यह एक बड़ा आश्चर्य है कि ड्रोन बॉय द्वारा बनाए गए ड्रोन का एक भी फोटो या वीडियो इंटरनेट पर उपलब्ध नहीं है। विभिन्न वेबसाइटों पर उनके साथ दिखाई देने वाले ड्रोन की सभी तस्वीरें विभिन्न कंपनियों द्वारा बनाए गए व्यावसायिक उत्पादन वाली ड्रोन हैं।

बाढ़ राहत

‘एडेक्सलाइव’ के लेख के अनुसार, कर्नाटक में 2019 में बाढ़ के दौरान, प्रताप ने अपने ड्रोन का उपयोग प्रभावी क्षेत्रों में भोजन और राहत सामग्री पहुँचाने के लिए किया था। लेख में एक राहत-बचाव नाव में एक ड्रोन रिमोट के साथ प्रताप की तस्वीर भी है, जिसमें दो बचावकर्मी हैं। लेकिन यहाँ भोजन वितरित करने के लिए ‘अपने ड्रोन’ का उपयोग करने के इस दावे के साथ दो समस्या हैं।

सबसे पहली समस्या यह कि विभिन्न तस्वीरों में उसके साथ जिस तरह के ड्रोन देखे गए हैं, वे बाढ़ जैसी प्राकृतिक आपदाओं के दौरान भोजन वितरित करने के लिए उपयोगी नहीं हैं। ये छोटे ‘रोटरी विंग ड्रोन’ बेहद कम वजन ले जा सकते हैं, और इसलिए उन्हें भोजन वितरित करने के लिए इस्तेमाल नहीं किया जा सकता है। आमतौर पर, नावों और हेलीकाप्टरों का उपयोग बाढ़ वाले क्षेत्रों में राहत सामग्री वितरित करने के लिए किया जाता है, ड्रोन का उपयोग नहीं किया जाता है। लेकिन बाढ़ जैसी आपदाओं के दौरान राहत कार्यों में ड्रोन महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं। वे हुए नुकसान का पता लगाने, फँसे हुए लोगों का पता लगाने आदि में बहुत उपयोगी हैं।

Yuneec Typhoon H + रिमोट के साथ प्रताप, दुसरे चित्र में तुलना के लिए दिया गया रिमोट

दूसरी समस्या इस तस्वीर में नजर आ रही वह रिमोट-कंट्रोल यूनिट है जिसे प्रताप अपने हाथों में पकड़े हुए है। फिर, यह एक व्यावसायिक रूप से निर्मित यूनिट है, और इसे ई-कचरे से घर पर नहीं बनाया जाता है। जब हमने विभिन्न ड्रोन और उनके रिमोट को देखा, तो हमने पाया कि प्रताप द्वारा पकड़े गए रिमोट आश्चर्यजनक रूप से Yuneec Typhoon H + ड्रोन के लिए ST16S ग्राउंड स्टेशन के समान लग रहा है।

इसलिए, यह इस संभावना की ओर इशारा करता है कि प्रताप बाढ़ की स्थिति का आकलन करने में एक टाइफून एच+ ड्रोन के संचालन में बचावकर्मियों की सहायता कर रहा था, और वह अपने द्वारा ई-कचरे से रिसाइकिल कर बनाए गए किसी ड्रोन का उपयोग नहीं कर रहा था।

अफ्रीकी घटना, जो गणित को भी धता बताती है

‘एडेक्सलाइव’ द्वारा प्रकाशित रिपोर्ट में, प्रताप ने सूडान में एक साँप द्वारा काट ली गई 8 वर्षीय लड़की को एंटीवेनम (विषरोधी) देने के लिए अपने ड्रोन का उपयोग करने की कहानी सुनाई। उनके अनुसार, एक व्यक्ति इस साँप, एक काले मांबा द्वारा काटे जाने के बाद केवल 15 मिनट तक जीवित रह सकता है। उन्होंने कहा कि उन्होंने अपने ईगल 2.8 ड्रोन का इस्तेमाल किया, जो 280 किमी प्रति घंटे की दूरी तय कर सकता है, और वह जगह सड़क से 10 घंटे की दूरी पर थी जहाँ वह मौजूद था।

इस दावे में कई चीजें हैं, जो आपस में जुड़ती नजर नहीं आती हैं। सड़क से वह जगह 10 घंटे की दूरी पर थी, जिसका मतलब था कि घटनास्थल लगभग 400-500 किमी दूर था। ‘उसका ड्रोन’ एक घंटे में 280 किमी की दूरी तय कर सकता है, जिसका मतलब है कि एंटीवेनम को डिलीवर करने के लिए प्रत्येक दूरस्थ स्थान पर ड्रोन के लिए 1.5-2 घंटे का समय लगेगा। यहाँ पर उसके स्वयं के दावे के अनुसार, लड़की को 15 मिनट के भीतर एंटी-वेनम की आवश्यकता के लिए बहुत देर हो जाएगी।

लेकिन वह यह भी दावा करता है कि एंटी-वेनम साढ़े आठ मिनट में दिया गया था। जिसका मतलब है, ड्रोन ने 3000 किमी प्रति घंटे से अधिक की गति से यात्रा की। यह ध्वनि, या मैक 3 फाइटर की गति का लगभग तीन गुना है। इस तरह की गति केवल जेट सेनानियों द्वारा इस्तेमाल की जा सकती है, न कि रोटरी-विंग ड्रोन से। भारतीय बल के स्वामित्व वाला कोई भी फाइटर जेट मैक 3 पर उड़ान नहीं भर सकता है। यहाँ तक ​​कि यूएसए और इज़राइल द्वारा बनाए गए सैन्य ड्रोन भी सुपरसोनिक गति से उड़ान नहीं भरते हैं। इसलिए, यह संभव नहीं है कि प्रताप का ड्रोन इतनी तेज गति से उड़े।

‘ड्रोन बॉय’ पहले कहता है कि उसके ड्रोन की गति 280 किमी प्रति घंटे है, फिर वह कहता है कि ड्रोन एक ऐसी जगह पर पहुँचा, जो केवल 8.5 मिनट में सड़क से 10 घंटे दूर है, निश्चित रूप से यह एक गणित को झूठा साबित करने वाला दावा है।

ड्रोन बॉय के दावे के साथ अगली समस्या बैटरी चालित ड्रोन की कैटेगरी है। इस तरह के ड्रोन उस तरह की दूरी को कवर नहीं कर सकते, जो उन्होंने सूडान में कवर करने का दावा किया है। DJI Mavic 2 जूम ड्रोन, इस श्रेणी में सबसे लंबी रेंज वाले ड्रोन हैं, जो अधिकतम 8 किमी की दूरी तय कर सकते हैं और इसका अधिकतम उड़ान समय 31 मिनट है। बैटरी चालित ड्रोन किसी भी सूरत में 400 किमी से अधिक दूरी तय नहीं कर सकता है, जो कि अगर हम उसके वापसी की यात्रा पर भी विचार करें तो यह दोगुना होगा।

ड्रोन्स का एक और महत्वपूर्ण सीमा कण्ट्रोल यूनिट के साथ कनेक्टिविटी है। ड्रोन के साथ वायरलेस कनेक्शन के साथ हैंडहेल्ड रिमोट कंट्रोल का उपयोग कर ड्रोन संचालित किए जाते हैं। और इस कनेक्शन की सीमा है। इसलिए, बैटरी क्षमता और रेडियो सिग्नल रेंज दोनों ड्रोन की सीमा को सीमित करते हैं।

बड़े सैन्य ड्रोन, जैसे कि संयुक्त राज्य अमेरिका के प्रीडेटर ड्रोन में यह सीमा नहीं है। वे इंजन का उपयोग करके उड़ते हैं ना की बैटरी की शक्ति से, और वे उपग्रह कनेक्शन का उपयोग करके नियंत्रित होते हैं, जिसका अर्थ है कि उन्हें दुनिया में कहीं से भी नियंत्रित किया जा सकता है।

‘ड्रोन बॉय’ प्रताप ने कहा कि सूडान के एक विशेष आदिवासी इलाके में एक साल में ब्लैक माम्बा के काटने से 22,000 लोग मारे गए। यह दावा किसी भी समाचार रिपोर्ट द्वारा समर्थित नहीं है। हालाँकि, अफ्रीका में बहुत सारे लोग सर्पदंश से मर जाते हैं, यहाँ तक कि महाद्वीप के सभी सर्पदंश से होने वाली वार्षिक मृत्यु भी 22,000 से कम है। इसके अलावा, सर्पदंश के ऐसे हर मामले में साँप की पहचान करना संभव नहीं है।

सूडान वाली कहानी के बारे में किए गए दावों का समर्थन कोई भी तर्क और ड्रोन की ज्ञात क्षमता नहीं करती है और इस प्रकार यह एक पूरी तरह से बनी हुई कहानी की तरह लगता है।

ई-कचरा

प्रताप ने कथित तौर पर ई-कचरे का उपयोग करके लगभग 600 ड्रोन बनाए हैं। हालाँकि, यह सच है कि रद्दी गैजेट्स से बहुत सारे इलेक्ट्रॉनिक और इलेक्ट्रिकल कंपोनेंट्स का इस्तेमाल DIY प्रोजेक्ट्स में किया जा सकता है, लेकिन प्रताप ने अपने तरीके के बारे में जिस तरह का विवरण दिया है, उससे संदेह पैदा होता है। ‘एडेक्सलिव’ की कहानी में, प्रताप कहता है –

“उदाहरण के लिए, अगर कोई मिक्सर-ग्राइंडर है, जो खराब है, तो मैं मोटर निकाल सकता हूँ और इसे अपने ड्रोन में उपयोग कर सकता हूँ। इसी तरह, मैं अपने ड्रोन का निर्माण करने के लिए टूटे हुए टीवी से चिप्स और प्रतिरोधों का उपयोग करता हूँ। हाँ, मिक्सर-ग्राइंडर में एक मोटर होता है, लेकिन यह ड्रोन में इस्तेमाल करने के लिए उपयुक्त नहीं है। यह 500-600 वाट बिजली की खपत के साथ एक भारी एसी मोटर है, जबकि ड्रोन डीसी मोटर्स का उपयोग करते हैं, और कम बिजली का उपभोग करने की आवश्यकता होती है ताकि बैटरी लंबे समय तक चले। ड्रोन में AC मोटर का उपयोग करने का मतलब होगा कि इसमें डीसी से एसी इन्वर्टर की जरूरत होगी, क्योंकि ड्रोन वो बैटरी चलाते हैं जो डीसी पावर देते हैं। यह ड्रोन को बहुत भारी बना देगा क्योंकि इनवर्टर में भारी उपकरण होते हैं, और यह केवल पुराने मिक्सर ग्राइंडर मोटर का उपयोग करने के लिए एक अतिरिक्त डिवाइस को जोड़ने के लिए एक व्यावहारिक समाधान नहीं है, जब कि वास्तव में डीसी मोटर्स कई उपकरणों में मौजूद होते हैं जिन्हें ड्रोन निर्माण के लिए बचाया जा सकता है।”

ड्रोन बनाने के लिए टूटे हुए टीवी से ‘चिप’ और प्रतिरोधों (रेजिस्टर) का उपयोग करने का दावा भी संदिग्ध है। जबकि, प्रतिरोधक साधारण विद्युत घटक होते हैं, जिनका उपयोग अन्य उपकरणों में किया जा सकता है, चिप्स में सॉफ्टवेयर और निर्देश होते हैं, जो उस उत्पाद के लिए विशिष्ट होते हैं, जिनके लिए इसे बनाया जाता है और उपभोक्ता इलेक्ट्रॉनिक उत्पादों में चिप्स का अन्य उपकरणों में उपयोग नहीं किया जा सकता है। सामान्य भाषा में कहें तो टीवी की चिप्स का उपयोग ड्रोन में या किसी भी अन्य उपकरण में नहीं किया जा सकता है क्योंकि वो एक विशेष प्रोग्राम के लिए ही तैयार किए जाते हैं।

सबसे महत्वपूर्ण बात यह है कि प्रताप द्वारा ई-कचरे से बनाए गए 600 ड्रोनों में से कोई भी तस्वीर या वीडियो मौजूद नहीं है, क्योंकि उसकी सभी तस्वीरें उसके अपने द्वारा नहीं बल्कि विभिन्न प्रदर्शनियों में लगाए गए वाणिज्यिक ड्रोन की हैं।

तर्क को पराजित करने वाली कहानियाँ

ड्रोन बॉय प्रताप पर ‘ऑर्गेनाइजर’ की एक हालिया कहानी में इस कार्यक्रम में उनकी भागीदारी पर एक दिलचस्प कहानी है। वह कहता है कि जैसा कि उसकी जेब में पैसा नहीं था, उसने टोक्यो जाने के बाद आयोजन स्थल तक पहुँचने के लिए प्रसिद्ध बुलेट ट्रेन भी नहीं ली थी। लेकिन समस्या यह है कि बुलेट ट्रेन या शिंकानसेन सेवा जापान में एक इंटर-सिटी हाई-स्पीड ट्रेन सेवा है, और टोक्यो में अंतरराष्ट्रीय रोबोट प्रदर्शनी टोक्यो बिग साइट पर आयोजित की जाती है। जिसका मतलब है, किसी को प्रदर्शनी स्थल तक पहुँचने के लिए बुलेट ट्रेन की आवश्यकता नहीं है, जो वास्तव में अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे से सिर्फ 15 किलोमीटर दूर है।

यह भी दिलचस्प है कि जब वह दावा करता है कि दिसंबर 2017 में उसकी जापान यात्रा उसके अध्यापकों की वित्तीय मदद से संभव हो सकी थी, तो वह कुछ ही महीनों बाद बिजनेस क्लास की यूरोप यात्रा कर रहा था। ड्रोन बॉय के एक बयान के अनुसार, “जब मैंने पहली बार फ्रांस की यात्रा की, तो लोग चौंक गए और बिजनेस क्लास में यात्रा करने के लिए मुझे जज किया। हालाँकि, यह मेरे लिए कोई मायने नहीं रखता था।” इस बयान से हम यह भी तय नहीं कर पा रहे हैं कि ड्रोन बॉय आखिर कहना क्या चाह रहे थे?

प्रताप एनएम ने ई-कचरे से 600 ड्रोन का दावा किया है। किसी भी फोटोग्राफिक या उसी के प्रमाण के वीडियोग्राफी के अभाव के अलावा, उसका दावा एक और सवाल भी उठाता है। डिवाइस बनाने में समय लगता है, यहाँ तक ​​कि ड्रोन को एसेम्बल करने में जो रेडी टू यूज किट्स होती हैं, जो कि इन दिनों आसानी से उपलब्ध हैं, उन्हें इस्तेमाल करने में भी समय लगता है। ड्रोन बॉय ने टेलीविज़न जैसी बेकार वस्तुओं से प्रतिरोधों और चिप्स का उपयोग करके लॉजिक बोर्ड और मोटर्स को अपने दम पर इकट्ठा करने का दावा किया है। इस तरह की एक परियोजना को पूरा होने में कई सप्ताह लगेंगे। जैसा कि वह कहता है कि उसके साथ कोई सहायक भी नहीं है, अगर यह एक औद्योगिक सेटअप में नहीं किया जाता है तो ऐसी स्थिति में 600 ड्रोन बनाने का मतलब कई वर्षों की मेहनत होता है। जबकि इस बीच, वह ड्रोन प्रतियोगिताओं में भाग ले रहा है और तमाम तर्कों के विपरीत 87 देशों के एक्सपो में व्याख्यान दे रहा है। संक्षेप में, यह पूरी टाइमलाइन इन सभी दावों का समर्थन नहीं करती है।

चमत्कारिक संयोग

प्रताप एनएम का कहना है कि उनके द्वारा बनाए गए ड्रोन में से एक का नाम ईगल 2.8 है। आश्चर्यजनक रूप से, यह नाम एक प्रसिद्ध ड्रोन बॉय द्वारा बनाए गए ड्रोन के समान है, जो गुजरात के हर्षवर्धन सिंह जाला द्वारा बनाया गया ईगल ए-7 है। 17 वर्षीय हर्षवर्धन सिंह एरोबोटिक्स 7 के संस्थापक और सीईओ हैं, और उन्होंने ईगल ए-7 ड्रोन विकसित किया है जो कथित तौर पर बारूदी सुरंगों का पता लगा सकता है और उन्हें नष्ट कर सकता है। प्रताप एनम के विपरीत, हर्षवर्धनसिंह के ड्रोन की तस्वीरें और वीडियो ऑनलाइन उपलब्ध हैं। इससे भी महत्वपूर्ण बात यह है कि तस्वीरों से यह स्पष्ट होता है कि वे घर के बने ड्रोन हैं, और वे ए-7 और ईगल ए-7 ब्रांडिंग करते हैं, और इसलिए वे व्यावसायिक रूप से ड्रोन का उत्पादन नहीं करते हैं, जैसे कि प्रताप के एक्सपो से बरामद तस्वीरों के मामले में है, जिनमें किसी और ही ब्रांड के स्टीकर लगे हुए हैं।

यह इस संभावना की ओर इशारा करता है कि प्रताप एनएम हर्षवर्धन सिंह जाला से इतना प्रेरित था कि उसने अपने ‘अनदेखे ड्रोन’ को हर्षवर्धन सिंह के ही ड्रोन का नाम दे दिया।

निष्कर्ष यह निकलता है कि ड्रोन वैज्ञानिक प्रताप एनएम द्वारा कोई भी ड्रोन बनाने, किसी भी पुरस्कार और पदक जीतने का कोई सबूत नहीं है। उन्होंने जो पुरस्कार और पदक जीते हैं, वे काल्पनिक हैं और वास्तव में हैं ही नहीं। विभिन्न वेबसाइट्स पर उसके बारे में सभी कहानियाँ उसी कहानी को कहने वाली अन्य वेबसाइट्स पर आधारित हैं। उनकी उपलब्धियों के संबंध में किए गए दावों में कई तकनीकी और तार्किक खामियाँ हैं, और सबसे महत्वपूर्ण बात यह है कि उनका दावा दूसरे ‘ड्रोन बॉय’ लड़के की कहानी के समान है।

नोट- यह लेख मूल रूप से अंग्रेजी में राजू दास द्वारा लिखा गया है, जिसे आप इस लिंक पर पढ़ सकते हैं।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

Raju Das
Corporate Dropout, Freelance Translator

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

पैगंबर मुहम्मद पर खबर, भड़के दंगे और 17 लोगों की मौत: घटना भारत की, जब दो मीडिया हाउस पर किया गया अटैक

वो 5 मौके, जब पैगंबर मुहम्मद के नाम पर इस्लामी कट्टरता का भयावह चेहरा देखने को मिला। मीडिया हाउस पर हमला भारत में हुआ था, लोग भूल गए होंगे!

भारत में नौकरी कर रहे चायनीज ने की ₹1000+ करोड़ की मनी लॉन्ड्रिंग, IT विभाग ने किया भंडाफोड़

IT विभाग को छानबीन में हवाला से जुड़े दस्तावेज मिले हैं। इसके साथ ही हॉन्ग कॉन्ग की करेंसी और अमेरिकी डॉलर भी हाथ लगे हैं।

ऑपइंडिया एक्सक्लूसिव: 400 Gb/s की इंटरनेट स्पीड, इस समुद्री केबल से बदलेगी अंडमान-निकोबार की तस्वीर

अंडमान-निकोबार में कनेक्टिविटी से वहाँ अनगिनत अवसर पैदा होंगे। पीएम मोदी ने कहा कि 2300 KM पनडुब्बी केबल तय समय से पहले बिछा लिया गया।

पैगम्बर मुहम्मद पर FB पोस्ट लिखने वाला हुआ अरेस्ट: बेंगलुरु में मुस्लिम भीड़ द्वारा हिंसा में 150 दंगाई गिरफ्तार

बेंगलुरु में मुस्लिम भीड़ द्वारा दलित विधायक के घर पर हमले, दंगे, आगजनी और पत्थरबाजी के मामले में CM येदियुरप्पा ने कड़ा रुख अख्तियार किया।

वामपंथियों को दिल्ली दंगों की सच्चाई नहीं आ रही रास, 20 अगस्त को भेजेंगे ओपन लेटर, गुप्त सूचना हुई लीक

पुलिस जाँच कर रही है। लेकिन दिल्ली दंगों की जाँच में निकल कर आ रहे नाम और इलाके वामपंथियों के गले की हड्डी बनते जा रहे हैं। इसी कारण से...

पैगम्बर मुहम्मद पर FB पोस्ट, दलित कॉन्ग्रेस MLA के घर पर हमला: 1000+ मुस्लिम भीड़, बेंगलुरु में दंगे व आगजनी

बेंगलुरु में 1000 से भी अधिक की मुस्लिम भीड़ ने स्थानीय विधायक अखंड श्रीनिवास मूर्ति के घर को घेर लिया और तोड़फोड़ शुरू कर दी।

प्रचलित ख़बरें

पैगम्बर मुहम्मद पर FB पोस्ट, दलित कॉन्ग्रेस MLA के घर पर हमला: 1000+ मुस्लिम भीड़, बेंगलुरु में दंगे व आगजनी

बेंगलुरु में 1000 से भी अधिक की मुस्लिम भीड़ ने स्थानीय विधायक अखंड श्रीनिवास मूर्ति के घर को घेर लिया और तोड़फोड़ शुरू कर दी।

गोधरा पर मुस्लिम भीड़ को क्लिन चिट, घुटनों को सेक्स में समेट वाजपेयी का मजाक: एक राहत इंदौरी यह भी

"रंग चेहरे का ज़र्द कैसा है, आईना गर्द-गर्द कैसा है, काम घुटनों से जब लिया ही नहीं...फिर ये घुटनों में दर्द कैसा है" - राहत इंदौरी ने यह...

महेश भट्ट की ‘सड़क-2’ में किया जाएगा हिन्दुओं को बदनाम: आश्रम के साधु के ‘असली चेहरे’ को एक्सपोज करेगी आलिया

21 साल बाद निर्देशन में लौट रहे महेश भट्ट की फिल्म सड़क-2 में एक साधु को बुरा दिखाया जाएगा, आलिया द्वारा उसके 'काले कृत्यों' का खुलासा...

मस्जिद के अवैध निर्माण के खिलाफ याचिका डालने वाले वकील पर फायरिंग, अतीक अहमद गैंग का हाथ होने का दावा

प्रयागराज में बदमाशों ने इलाहाबाद हाईकोर्ट के वकील अभिषेक शुक्ला पर फायरिंग की। हमले में वे बाल-बाल बच गए।

बुर्के वाली औरतों की टीम तैयार की गई थी, DU के प्रोफेसर अपूर्वानंद ने दंगों का दिया था मैसेज: गुलफिशा ने उगले राज

"प्रोफेसर ने हमे दंगों के लिए मैसेज दिया था। पत्थर, खाली बोतलें, एसिड, छुरियाँ इकठ्ठा करने के लिए कहा गया था। सभी महिलाओं को लाल मिर्च पाउडर रखने के लिए बोला था।"

सुशांत के फ्लैटमेट सिद्धार्थ पिथानी का पकड़ा गया झूठ! चौकीदार ने कहा- सुशांत की बॉडी के बारे में नहीं बताया गया

सिद्धार्थ पिथानी ने पहले दावा किया था कि उन्होंने सुशांत की बॉडी देखने के बाद चौकीदार को सूचित किया था, मगर चौकीदार का कहना है कि उसे किसी ने कुछ भी नहीं बताया।

जो बना CAA विरोधी उपद्रव का गढ़, जहाँ नसीरुद्दीन शाह ने उगला था जहर: बेंगलुरु में मुस्लिम भीड़ ने वहीं किया दंगा

भारत के लिबरल गैंग जिस भी चीज का हद से ज्यादा गुणगान करे, उसके बारे में समझ जाना चाहिए कि वो उतना ही ज्यादा खतरनाक है। उदाहरण के लिए दिल्ली के शाहीन बाग को ही ले लीजिए। इसी क्रम में बेंगलुरु के बिलाल बाग को भी प्रचारित किया गया।

पैगंबर मुहम्मद पर खबर, भड़के दंगे और 17 लोगों की मौत: घटना भारत की, जब दो मीडिया हाउस पर किया गया अटैक

वो 5 मौके, जब पैगंबर मुहम्मद के नाम पर इस्लामी कट्टरता का भयावह चेहरा देखने को मिला। मीडिया हाउस पर हमला भारत में हुआ था, लोग भूल गए होंगे!

बेंगलुरु दंगा के पीछे SDPI का हाथ: मुजम्मिल पाशा ने हिंसा भड़काने के लिए बाँटे थे रुपए, 165 हिरासत में

पूर्वी बेंगलुरु में हुई इस घटना के मामले में 'सोशल डेमोक्रेटिक पार्टी ऑफ इंडिया (SDPI)' के नेता मुजम्मिल पाशा को गिरफ्तार किया गया है। वो इन दंगों का मास्टरमाइंड है।

पैंगबर से ज्यादा तारीफ इंसान की, गाना लिख कर वायरल करने वाले संगीतकार को अब मौत की सजा

यहाया फिलहाल हिरासत में हैं। गाना कंपोज करने के बाद से वह छिपते फिर रहे थे। जिसके कारण प्रदर्शनकारियों ने उनके परिवार के घर को जला दिया।

रायबरेली में बने भव्य बाबरी मस्जिद, सुप्रीम कोर्ट ने नहीं माना कि राम मंदिर तोड़ कर मस्जिद बनी थी: मुनव्वर राना

मुनव्वर राना की बेटी सुमैया ने भी कहा कि अयोध्या के राम मंदिर परिसर में ही छोटी सी मस्जिद बनाने के लिए इजाजत दी जानी चाहिए थी।

भारत में नौकरी कर रहे चायनीज ने की ₹1000+ करोड़ की मनी लॉन्ड्रिंग, IT विभाग ने किया भंडाफोड़

IT विभाग को छानबीन में हवाला से जुड़े दस्तावेज मिले हैं। इसके साथ ही हॉन्ग कॉन्ग की करेंसी और अमेरिकी डॉलर भी हाथ लगे हैं।

ऑपइंडिया एक्सक्लूसिव: 400 Gb/s की इंटरनेट स्पीड, इस समुद्री केबल से बदलेगी अंडमान-निकोबार की तस्वीर

अंडमान-निकोबार में कनेक्टिविटी से वहाँ अनगिनत अवसर पैदा होंगे। पीएम मोदी ने कहा कि 2300 KM पनडुब्बी केबल तय समय से पहले बिछा लिया गया।

नाबालिग हिन्दू लड़कियों को नशे का आदी बना रहा था जावेद: इंस्टाग्राम पर दोस्ती कर ले जाता था हुक्का बार

मेरठ के जावेद खान (नाबालिग, इसीलिए बदला हुआ नाम) का पेशा प्रतिष्ठित हिन्दू कॉलनियों की लड़कियों को हुक्का बार ले जाकर नशे का आदी बनाना है।

पैगम्बर मुहम्मद पर FB पोस्ट लिखने वाला हुआ अरेस्ट: बेंगलुरु में मुस्लिम भीड़ द्वारा हिंसा में 150 दंगाई गिरफ्तार

बेंगलुरु में मुस्लिम भीड़ द्वारा दलित विधायक के घर पर हमले, दंगे, आगजनी और पत्थरबाजी के मामले में CM येदियुरप्पा ने कड़ा रुख अख्तियार किया।

गोधरा पर मुस्लिम भीड़ को क्लिन चिट, घुटनों को सेक्स में समेट वाजपेयी का मजाक: एक राहत इंदौरी यह भी

"रंग चेहरे का ज़र्द कैसा है, आईना गर्द-गर्द कैसा है, काम घुटनों से जब लिया ही नहीं...फिर ये घुटनों में दर्द कैसा है" - राहत इंदौरी ने यह...

हमसे जुड़ें

246,500FansLike
64,617FollowersFollow
295,000SubscribersSubscribe
Advertisements