Tuesday, May 28, 2024
Homeफ़ैक्ट चेकसोशल मीडिया फ़ैक्ट चेककोरोना डेथ सर्टिफिकेट में पीएम मोदी की फोटो? हफ्तेभर में लिबरल फेक न्यूज़ फैक्ट्री...

कोरोना डेथ सर्टिफिकेट में पीएम मोदी की फोटो? हफ्तेभर में लिबरल फेक न्यूज़ फैक्ट्री ने कर दिखाया सच: गैंग की करतूत का पर्दाफाश

कॉन्ग्रेस की सोशल मीडिया विंग की नेशनल कोऑर्डिनेटर लावण्या बल्लाल ने कहा, "कोरोना से जान गँवाने वाले हर व्यक्ति के मृत्यु प्रमाणपत्र में नरेंद्र मोदी की तस्वीर होनी चाहिए। हर कब्रिस्तान, श्मशान में उनका बिलबोर्ड होना चाहिए। यह भी राष्ट्र के लिए उनका योगदान है।"

महाराष्ट्र सरकार में मंत्री नवाब मलिक ने पिछले सप्ताह (18 अप्रैल, 2021) प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के खिलाफ फेक न्यूज फैलाई थी। उन्होंने कहा था कि अगर वैक्सीनेशन सर्टिफिकेट्स पर प्रधानमंत्री मोदी की फोटो लगाई जाती है, तो कोविड-19 से जान गँवाने वालों के मृत्यु प्रमाणपत्र पर भी उनकी फोटो लगाई जानी चाहिए।

महाविकास अघाड़ी सरकार में अल्पसंख्यक मामलों के मंत्री मलिक ने देश में कोरोना के बढ़ते मामलों और इससे हो रही मौतों के लिए प्रधानमंत्री को जिम्मेदार ठहराया था। उन्होंने एएनआई को दिए इंटरव्यू में कहा था कि अगर प्रधानमंत्री टीकाकरण का श्रेय लेना चाहते हैं, तो उन्हें कोविड-19 से होने वाली मौतों की जिम्मेदारी भी लेनी चाहिए। उनके इस बयान के बाद से अन्य नेता और तथाकथित बुद्धिजीवी भी इसी तरह की माँग करने लगे थे।

सेक्युलर एक्ट्रेस नगमा ने ट्विटर पर कहा, “वैक्सीनेशन सर्टिफिकेट्स की तरह ही मोदी की एक तस्वीर कोरोना से मरने वाले हर भारतीय के मृत्यु प्रमाणपत्र पर होनी चाहिए।” नगमा ने केंद्रीय मंत्री वीके सिंह की पुरानी फोटो के साथ उनका हाल ही में पोस्ट किया गया एक ट्वीट शेयर करते हुए दावा किया गया कि पूर्व सेना प्रमुख अपने भाई के लिए अस्पताल में बेड की तलाश कर रहे थे। हालाँकि, वह दावा फर्जी था। वास्तव में, जनरल वीके सिंह किसी और की मदद करने की कोशिश कर रहे थे, उसके लिए वो बेड की व्यवस्था कर रहे थे।

कॉन्ग्रेस की सोशल मीडिया विंग की नेशनल कोऑर्डिनेटर लावण्या बल्लाल ने कहा, “कोरोना से जान गँवाने वाले हर व्यक्ति के मृत्यु प्रमाणपत्र में नरेंद्र मोदी की तस्वीर होनी चाहिए। हर कब्रिस्तान, श्मशान में उनका बिलबोर्ड होना चाहिए। यह भी राष्ट्र के लिए उनका योगदान है।”

लावण्या बल्लाल का ट्वीट

तृणमूल कॉन्ग्रेस की कथित फायरब्रांड महुआ मोइत्रा ने वैक्सीनेशन सर्टिफिकेट्स की एक फोटो साझा करते हुए कहा, “अगर कोविड-19 के वैक्सीनेशन सर्टिफिकेट्स में माननीय पीएम की फोटो है, तो क्या ऑक्सीजन से मरने वालों के मृत्यु प्रमाण पत्र में उनकी फोटो नहीं लगाई जा सकती है?”

महुआ मोइत्रा का ट्वीट

कॉन्ग्रेस समर्थक और मोदी के खिलाफ नफरत फ़ैलाने वाले ट्रोलर्स और फेक न्यूज फैलाने वालों को इन नेताओं के बयानों से एक मौका मिल गया है। कुछ पोस्ट सोशल मीडिया पर दिखाई देने लगे हैं, जिसमें दावा किया गया है कि अब मृत्यु प्रमाण पत्र पर भी पीएम मोदी की फोटो आ सकती है।

ये है सच्चाई

जब हमने वायरल फोटो को रिवर्स सर्च किया तो ‘इंडिया टाइम्स’ की एक रिपोर्ट में हमें यही फोटो मिली। ये रिपोर्ट एनसीपी नेता नवाब मलिक के उस बयान से जुड़ी है, जिसमें उन्होंने कहा था, “जिस तरह से वैक्सीनेशन सर्टिफिकेट्स में पीएम मोदी की फोटो लगाई जा रही है, उसे देखते हुए हम ये माँग रखते हैं कि पीएम मोदी की फोटो मृत्यु प्रमाणपत्र में भी लगाई जाए।”

इंडिया टाइम्स की रिपोर्ट में यह फोटो मिली है

बता दें कि वायरल फोटो में दिख रहा दस्तावेज धुँधला है, वहीं ‘इंडिया टाइम्स’ की रिपोर्ट वाली फोटो में यह दस्तावेज तुलनात्मक रूप से स्पष्ट दिखाई दे रहा है। इसे जूम करने पर साफ देखा जा सकता है कि इसके ऊपरी हिस्से में बाईं तरफ ‘Provisional Certificate for Covid-19 Vaccination’ लिखा हुआ है।

मृत्यु प्रमाणपत्र ऐसा होता है, सोशल मीडिया पर ट्रोलर्स द्वारा शेयर किया गया मृत्यु प्रमाणपत्र फेक है

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

2014 – प्रतापगढ़, 2019 – केदारनाथ, 2024 – कन्याकुमारी… जिस शिला पर विवेकानंद ने की थी साधना वहीं ध्यान धरेंगे PM नरेंद्र मोदी, मतगणना...

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी सातवें चरण के लिए प्रचार-प्रसार का शोर थमने के साथ थी 30 मई को ही कन्याकुमारी पहुँच जाएँगे, 4 जून को होनी है मतगणना।

पंजाब में Zee मीडिया के सभी चैनल ‘बैन’! मीडिया संस्थान ने बताया प्रेस की आज़ादी पर हमला, नेताओं ने याद किया आपातकाल

जदयू के प्रवक्ता KC त्यागी ने इसकी निंदा करते हुए कहा कि AAP का जन्म मीडिया की फेवरिट संस्था के रूप में हुआ था, रामलीला मैदान में संघर्ष के दौरान मीडिया उन्हें खूब कवर करता था।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -