Monday, April 6, 2020
होम रिपोर्ट मीडिया रवीश जी, इतने दुबले क्यों हो रहे हैं कश्मीर को लेकर?

रवीश जी, इतने दुबले क्यों हो रहे हैं कश्मीर को लेकर?

वो व्यक्ति पत्रकारिता का स्तंभ होने का दंभ भरता है जिसके पैनल में हमेशा एक ही विचार के लोग होते हैं, और विरोध के मत वालों को बुलाने की कोशिश भी नहीं होती। रवीश के प्राइम टाइम से ज्यादा अलोकतांत्रिक न्यूजरूम कहीं नहीं होता जहाँ, ऐसी तानाशाही प्रवृत्ति के लोग, हर रात यह चिल्लाते हैं कि असली पत्रकारिता वही कर रहे हैं, वो जो कह रहे हैं वही शाश्वत सत्य है, जबकि नंगा सच यह है कि रवीश कुमार से ज़्यादा मैनेज्ड पैनल किसी भी स्टूडियो में नहीं दिखता।

ये भी पढ़ें

अजीत भारतीhttp://www.ajeetbharti.com
सम्पादक (ऑपइंडिया) | लेखक (बकर पुराण, घर वापसी, There Will Be No Love)

मैग्ससे अवॉर्ड से पुरस्कृत रवीश कुमार जी को अवॉर्ड मिला ही था कि अमित शाह ने पूरी कोशिश कर दी कि आदमी गुस्से में अवॉर्ड वापसी कर दे। अभी चॉकलेट फ्लेवर केक की महक स्टूडियो के एग्जॉस्ट फैन ने पूरी तरह से बाहर फेंकी भी नहीं थी कि अमित शाह ने उनकी खुशियों की चमक को हैलोजन लाइट से सीधा लाल-हरी एलईडी में बदल दिया। प्राइम टाइम इंट्रो करते-करते रवीश जी कश्मीर पर पूरा प्राइम टाइम ही निकाल ले गए।

स्टूडियो में परममित्र फैजान मुस्तफा जी के अलावा किसी राजनैतिक दल के प्रतिनिधि नहीं थे। ये बात और है कि रवीश भक्त मानते हैं कि रवीश जी स्वयं ही अपने आप में सारे राजनीतिक दल हैं। अगर महाभारत की बात करें तो रवीश जी आने वाले दिनों में अपना विराट रूप दिखा सकते हैं, जिसमें हम देखेंगे कि ‘सब जन्म मुझी से पाते हैं, फिर लौट मुझी में आते हैं’। उस हिसाब से उन्होंने विपक्षी दलों की भूमिका में स्वंय को रखते हुए, पत्रकारिता के स्वनिर्धारित फर्जी मापदंड कि ‘पत्रकार का काम हमेशा सरकार के विरोध में रहना होता है’ को शिद्दत से निभाया। पक्ष में अमित शाह के क्लिप्स तो आ ही रहे थे।

कश्मीर की बात करते हुए पहला दर्द जो रवीश जी के फूले हुए सीने में सुई जैसा चुभा वो यह था कि सरकार ने कश्मीर के लोगों से राय क्यों नहीं ली? उन्होंने ज़ोर दे कर पूछा कि पीडीपी और नेशनल कॉन्फ़्रेंस के सासंदों से क्यों नहीं पूछा गया। कश्मीर के लोगों की राय इसलिए नहीं ली गई क्योंकि उन्होंने किसी भी नेता को अपनी राय देने के लिए नहीं चुना था, इसलिए सरकार गिर चुकी है। जहाँ तक इन पार्टियों के सांसदों का सवाल है, एक ने अपना कुर्ता फाड़ कर श्रग नामक फैशनेबल वस्त्र बना लिया, और साथ ही संविधान को भी सदन में फाड़ गया। दूसरी बात यह है कि सासंदों को नाम लिखवा कर अपनी राय देने का प्रावधान है, उन्हें सुपारी और जनेऊ देकर बुलाया नहीं जाता कि भैया राय दे दो।

- विज्ञापन - - लेख आगे पढ़ें -

एक लाइन जो रवीश जी ने अपने डार्क ह्यूमर का प्रयोग करते हुए बार-बार कही और अपने भक्तों को रवीश प्रोफेशनल प्रोपेगेंडा यूनिवर्सिटी (व्हाट्सएप्प पत्राचार माध्यम) के नए शोध के कोर्सवर्क के तौर पर प्रदान की, वो यह थी कि ‘इससे क्या होगा, ये समस्याएँ तो बाकी राज्यों में भी है, उन्हें भी केन्द्र शासित बना दिया जाए’। रवीश जी शायद मैग्ससे वाले केक खाने के चक्कर में भूल गए कि बाकी राज्यों में न तो 370 था, न 35A, और कश्मीर बाकी राज्यों की तरह नहीं था इसीलिए ऐसा करना पड़ा।

कहने लगे कि रोजगार के अवसर अगर पैदा होते हैं तो फलाँ राज्य को भी केन्द्रशासित बना दिया जाना चाहिए। भ्रष्टाचार तो हर जगह है, सबको बाँट देना चाहिए। ऐसे ही वक्त पर रवीश जी क्यूटाचारी हो जाते हैं। मतलब, एक राज्य को, जहाँ बाहरी व्यक्ति रोजगार ला ही नहीं सकता, बाहरी का बसना गैरकानूनी है, बाकी के राज्यों के समकक्ष रख रहे हैं जो नॉर्मल है? ‘रोजगार नहीं है’ का भांडा कई बार फूट चुका है, इसलिए इस पर चर्चा नहीं करूँगा।

कश्मीर सामान्य राज्य नहीं था, इसलिए वहाँ जो समस्याएँ थीं, भले ही वो बाकी राज्यों में भी हो, उसके समाधान के लिए उसकी उस विशेषता को हटाना होगा जो उसके विकास की बाधक है। इसलिए, चुटकुलेबाजी के लिए तो नकली हँसी हँसते हुए रवीश कह सकते हैं कि यूपी को भी बाँट दिया जाए, लेकिन वो कुतर्क है, उस पर चर्चा नहीं होनी चाहिए।

उसके बाद, भावुक आवाज किन्तु भावहीन चेहरे के साथ रवीश जी ने बताया कि कैसे 1948 में जब आतंकियों ने हमला किया तब नेशनल कॉन्फ्रेंस के कार्यकर्ताओं ने अपनी शहादत दी थी। बिल्कुल दी थी रवीश जी, बाकी पार्टियों के कार्यकर्ता भी मरे थे। और संसद में रखे गए आँकड़ों की माने तो कश्मीर में अब तक लगभग 50,000 लोग मारे जा चुके हैं।

दूसरी बात यह है कि रवीश जी 1948 में तो चले गए, क्योंकि उनको सूट कर रहा था, लेकिन 1989-90 में क्या हुआ, ये पूरे एपिसोड में नहीं बता सके। रवीश कुमार एक लाइन नहीं बोल सके कि इन दो सालों के बीच, और उसके बाद ऐसा क्या हुआ कि रातों रात कश्मीर की डेमोग्रफी बदल गई और शिव की धरती पर मंदिरों में नमाज पढ़े गए। आप ये कह कर नहीं बच सकते कि उस घटना के सामने तो सारे तर्क निरस्त हो जाते हैं। आपको हर बार क्रूरता की डिग्री को माइक्रोस्कोप से देखना होगा, एक पूरी जनसंख्या की हर छटपटाहट को पढ़ना होगा और तब कहिए कि कश्मीर कैसे अलग है, और जो हुआ उसे कैसे ठीक किया जाए।

‘डर का माहौल’, ‘आवाज को दबाया जा रहा है’, ‘सवाल करना एंटी नेशनल बनाता है’ जैसी फर्जी बातें बेच कर, हजारों करोड़ के मनी लॉन्ड्रिंग का आरोप झेल रहे मालिक की डुगडुगी बजाते पत्रकारिता के स्वघोषित स्तंभ ने कहा कि अगर लोग प्रश्न पूछेंगे तो उन्हें अलगाववादी कह दिया जाएगा। लगता है कि प्राइम टाइम में जिस अनौपचारिकता और उपेक्षा से रवीश आजकल बैठते हैं, बातें करते हैं, उन्होंने सिर्फ वही क्लिप्स देखीं जो उनके एडिटर ने उनके लिए छाँटी थी। अगर उन्होंने पूरी कार्यवाही देखी होती तो कैमरे में देख कर ऐसा बेहूदा झूठ नहीं बोलते। लेकिन बात तो वही है कि हमारा कैमरा, हमारा स्टूडियो और हमारे रवीश भक्त, हम जो कहेंगे वही सही है। जबकि, संसद में कई सांसदों ने सवाल किए, उन्हें जवाब दिया गया। उन्होंने स्पष्टीकरण माँगे, उन्हें स्पष्टीकरण दिया गया।

कश्मीर की बात हो और कश्मीरी पंडित कैसे नहीं आएँगे चर्चा में! लेकिन अगर रवीश का शो हो तो वो सरकार को गलत साबित करने के लिए पूरे भारत से तीन ऐसे गाँव ले आएँगे जहाँ बिजली के खंबे तो हैं लेकिन उन पर सरकार ने तार खींचने से पहले पूरे भारत के विद्युतीकरण का हल्ला कर दिया। ये इंसान इस बात पर अचंभित नहीं होता कि भारत के कई हजार गाँव अब बिजली पा सकेंगे, बल्कि वो इस पर खुश होता है कि तीन में तो नहीं हुआ न! उसी तर्ज पर, कश्मीरी पंडितों के बारे में लम्बी हाँकने के बाद रवीश ने किसी व्यक्ति को यह कहते दिखाया कि कश्मीर में 5-6000 कश्मीरी पंडित 101 जगहों पर रह रहे हैं। उन्हें कोई समस्या नहीं है।

रवीश जी किताबों का हवाला देते हैं, पन्ने का नंबर बताते हैं। मैं भी आँकड़ों की बात करते हुए बताना चाहूँगा कि सबसे कम संख्या बताने वाले लोग कहते हैं कि जनवरी 1990 से घाटी छोड़ने वाले कश्मीरी हिन्दुओं की संख्या एक लाख है। कुछ के अनुसार यह संख्या डेढ़ लाख है, और कुछ इसे आठ लाख तक बताते हैं। सबसे कम वाले को भी सही माना जाए तो क्या पाँच हजार लोगों के कश्मीर में होने से बाकी के 95,000 और उनके अभी के परिवारों का न्याय हो गया? पाँच प्रतिशत के वहाँ होने की बात दिखा कर किसको सांत्वना दे रहे हैं? क्योंकि आने वाले दिनों में आपके भक्तगण काले बैकग्राउंड पर ‘भाजपा का झूठ पकड़ा रवीश ने, कश्मीरी पंडित अभी भी खुशहाल हैं घाटी में’ घुमाते मिलेंगे। उनमें से किसी को तीन साल बाद रवीश श्री या रवीश विभूषण भी मिल जाएगा, किसको पता!

उसके बाद रवीश कुमार ने बताया कि इन दोनों केन्द्रशासित प्रदेशों की राजनैतिक पहचान आधी रह जाएगी! इसका मतलब क्या है, मुझे नहीं पता क्योंकि इतनी खूफियागीरी तो मैं नहीं कर सकता। कश्मीर की पहचान, दुर्भाग्य से, एक आतंकग्रस्त राज्य के रूप में ही रही है जहाँ के लोग अपने आप को आजादी के लिए तैयार करते रहते हैं। ऐसा मानना सच है या गलत, वो अलग चर्चा है, लेकिन अब कश्मीर की राजनैतिक पहचान भारत के एक अभिन्न अंग के रूप में है जहाँ भारत का संविधान, झंडा, दंड विधान और सारी योजनाएँ लागू होंगी। इसलिए, इनकी राजनैतिक पहचान आधी नहीं हुई, बल्कि अब उन्हें पूर्णता मिली है।

इसके बाद रवीश जी बिलकुल ऐसे बोलने लगे जैसे वो कल ही पैदा हुए और आज उन्हें स्टूडियो में बिठा दिया गया। वो सत्यपाल मलिक के जून और दो दिन पहले के बयान दिखाते हुए बोले कि देखिए राज्यपाल तो कह रहे हैं कि कश्मीर में कुछ नहीं होने वाला, सब अफवाह है कि ये हटेगा, वो हटेगा। लेकिन दो दिन बाद तो हटा दिया गया। इसके बाद रवीश जी ने इसका मतलब निकाला कि इतना बड़ा फैसला था और राज्यपाल को भी ये बात पता नहीं थी। जी रवीश जी, राज्यपाल को पता नहीं था, वरना वो तो लाउडस्पीकर लेकर कहता फिरता कि कश्मीर वालों तुम्हारा स्पेशल स्टेटस गया ‘चितरा के झाँट में’, सड़कों पर उतरो और पत्थरबाजी करो, राज्य सरकार तुम्हें पाँच सौ रुपए देगी। एक ही दिल है कितनी बार सांकेतिक छुरा मार कर आत्महत्या करूँ आपके कुतर्क सुन कर? (‘चितरा के झाँट में’ मिथिला क्षेत्र की ठेठी बोली का मुहावरा है जिसका तात्पर्य है ‘चित्रा नक्षत्र की फुहार’। इसका अर्थ ‘भाँड़ में जाओ’ जैसा है।)

कुल मिला कर, अंग्रेजी की एक कहावत रवीश जी के प्राइम टाइम को समेट देती है कि ‘some people speak because they have something to say, while some speak because they have to say something’. इसका अर्थ है कि कुछ लोग इसलिए बोलते हैं कि उनके पास बोलने के लिए कुछ होता है, जबकि कुछ लोग बस इसलिए बोलते हैं क्योंकि उन्हें कुछ बोलना होता है।

रवीश कुमार की एक समस्या यह भी है कि चालीस मिनट के प्राइम टाइम में वो इस बात पर खुश नहीं होते कि हजारों गाँवों में बिजली पहुँची, बल्कि वो पूरे समय यह बताने में लगे रहते हैं कि नहीं, तीन गाँव में नहीं पहुँची। यही पत्रकारिता उन्हें बाकी पत्रकारों से अलग बनाती है। उनमें यह दैवप्रदत्त कला है कि वो जब पत्रकार होते हैं तो वो अपने भाई और मालिक को भूल जाते हैं कि उनके कांड क्या हैं। वो जब पत्रकार होते हैं तो जेडीयू को यह याद जरूर दिलाते हैं कि वो भाजपा के साथ सरकार में हैं, और उन्हें कश्मीर वाले मसले पर जब सूचना भी नहीं दी गई तो उन्होंने इस्तीफा भी नहीं दिया।

जबकि उन्हें ही पत्रकारिता का आदर्श मानने वाले भक्तों से मेरा सवाल यह है कि मोदी से हर रात कठिन सवाल पूछने वाले रवीश अपने जमीर से कब कठिन सवाल पूछेंगे? आखिर वो कब इस्तीफा देंगे क्योंकि जब तक प्रणय रॉय अपने पैसों वाले कांड से बाइज़्ज़त बरी नहीं हो जाते, वो एनडीटीवी से नैतिकता के आधार पर तो जुड़े नहीं रह सकते? लेकिन वो ऐसा नहीं कर सकते क्योंकि फिर अपने हृदय में अंधेरा लिए घूमने वाले पत्रकार शिरोमणि भारत की जनता को कैसे बताएँगे कि उनके डिश की छतरी की तार मोदी रात में काट देता है!

वो व्यक्ति पत्रकारिता का स्तंभ होने का दंभ भरता है जिसके पैनल में हमेशा एक ही विचार के लोग होते हैं, और विरोध के मत वालों को बुलाने की कोशिश भी नहीं होती। रवीश के प्राइम टाइम से ज्यादा अलोकतांत्रिक न्यूजरूम कहीं नहीं होता जहाँ, नेता तो चलिए आते नहीं है, जानकार भी अपने विरोध की आवाज को प्रदर्शित करने नहीं बुलाए जाते। क्या राजनैतिक विश्लेषक सिर्फ एक ही विचारधारा के होते हैं, या भाजपा के बायकॉट के बाद, भाजपा के समर्थकों में कोई विश्लेषक नहीं है? ऐसा नहीं है, बात इतनी है कि ऐसे तानाशाही प्रवृत्ति के लोग, हर रात यह चिल्लाते हैं कि असली पत्रकारिता वही कर रहे हैं, वो जो कह रहे हैं वही शाश्वत सत्य है, जबकि नंगा सच यह है कि रवीश कुमार से ज़्यादा मैनेज्ड पैनल किसी भी स्टूडियो में नहीं दिखता।

दुनिया से कठिन सवाल पूछना और उन्हें आदर्श से कम की स्थिति में नहीं स्वीकार पाना, रवीश जी की कई अदाओं में से एक है। सत्तर साल से जिस अस्थाई बात को ढोया जा रहा था, रवीश जी इतने छिछले तरीके से उसे डिफेंड करेंगे, ये नहीं सोचा था। वो ये बात भूल गए कि कश्मीर की डेमोग्रफी कैसे एक तय तरीके से बदली गई। वो यह भूल गए कि 1957 में पंजाब के गुरदासपुर और अमृतसर से कश्मीर में वाल्मीकि समुदाय का एक समूह कश्मीर सरकार की माँग पर उनका कचरा साफ करने आया था, और आज तक उसे वहाँ का नागरिक होने का हक भी नहीं दिया गया है। इसलिए रवीश जी यह ज्ञान तो न दें कि केन्द्रशासित बनाने से क्या हो जाएगा।

रवीश बहुत आराम से भूल गए कि किस अनुच्छेद की आड़ में आजादी की बात होती है। रवीश यह भूल गए कि आईसिस के झंडे गुजरात सा राजस्थान के गाँवों में नहीं दिखते, बल्कि कश्मीर घाटी में वो एक आम दृश्य है। रवीश जी ने कश्मीरी पंडितों की पीड़ा की वो किताबें नहीं पढ़ीं जो वो पीढ़ी लिख रही है जिसका बचपन उनसे छीन लिया गया था और जवानी अपने ही देश में भटकते हुए बीत रही है। रवीश जी ने उस बच्चे के बारे में नहीं सुना जो सेना के जवानों द्वारा दागी गई गोलियों के खोले चुनता है, उसे स्क्रैप मार्केट में बेचता है ताकि वो कुछ खा सके।

किताबें तो मैंने भी बहुत पढ़ी हैं, और पेज नंबर मुझे भी याद हैं, लेकिन मैं अभी तक इतना धूर्त नहीं बन पाया कि उस ज्ञान का इस्तेमाल अपनी फर्जी विचारधारा और मालिकों के प्रोपेगेंडा की रोटी सेंकने में कर सकूँ। वो तरीके रवीश को ही मुबारक हों।

- ऑपइंडिया की मदद करें -
Support OpIndia by making a monetary contribution

ख़ास ख़बरें

अजीत भारतीhttp://www.ajeetbharti.com
सम्पादक (ऑपइंडिया) | लेखक (बकर पुराण, घर वापसी, There Will Be No Love)

ताज़ा ख़बरें

वो 20 खबरें जो ‘नौ बजे नौ मिनट’ के बाद लिब्रान्डू-वामपंथी मीडिया फैला सकती है

सोशल मीडिया समेत ऑपइंडिया के भी कुछ सुझाव हैं कि आने वाले समय में 'नौ बजे नौ मिनट' के नाम पर कैसी दर्द भरी कहानियाँ आ सकती हैं। हमने ये सुझाव वामपंथियों की कम होती क्रिएटिविटी के कारण उन पर तरस खाकर दिए हैं।

4.1 दिन में ही दोगुनी हो गई कोरोना संक्रमित मरीजों की संख्या, तबलीगी जमात नहीं होता तो लगते 7.1 दिन

कल से आज तक 472 नए मामले सामने आए हैं, जिससे देश में कोरोना संक्रमित कुल मामलों की संख्या अब 3374 तक पहुँच चुकी है। अग्रवाल ने यह भी बताया कि अब तक देश के 274 जिलों से कोरोना संक्रमण के केसेस आ चुके हैं। जबकि भारत में अब तक कोरोना के कारण मरने वालों की संख्या 79 हो चुकी है, जिसमें से 11 शनिवार और रविवार को मिलाकर हुई हैं।

तबलीगी कारनामे की लीपापोती में जुटा ध्रुव राठी और गैंग, फैलाया 8 फैक्ट चेक (फर्जी) का प्रोपेगेंडा

जब 50 करोड़ हिन्दुओं को कोरोना से खत्म करने की दुआ करता मौलवी गिरफ्तार होता है, या फिर TikTok पर युवक इसे अल्लाह का कहर बताते नजर आते हैं, तो लोगों की जिज्ञासा एक बार के लिए मुस्लिम समुदाय पर सवाल खड़े जरूर कर देती है। ऑल्ट न्यूज़ जैसे फैक्ट चेकर्स के कंधे पर बंदूक रखकर दक्षिणपंथियों के दावों को खारिज करने का दावा करने वाला ध्रुव राठी यहाँ पर एक बार फिर सस्ती लोकप्रियता जुगाड़ते व्यक्ति से ज्यादा कुछ भी नजर नहीं आते।

राहुल-थरूर को ठेंगा दिखा इस कॉन्ग्रेसी नेता ने कर दिया PM मोदी का समर्थन, MP कॉन्ग्रेस में एक और फूट!

ग्वालियर से कॉन्ग्रेस विधायक प्रवीण पाठक ने प्रधानमंत्री मोदी के रात नौ बजे नौ मिनट पर 'दिया जलाने' की मुहिम का समर्थन करने का एलान कर दिया। ट्विटर पर पूर्व प्रधानंत्री अटल बिहारी वाजपेयी की कविता "आओ फिर से दिया जलाएँ" के जरिए उन्होंने कहा कि यही एकता प्रदर्शित करने का समय है और...

AIMIM के नहीं हैं 5 सांसद, इसके लिए मोदी जिम्मेदार: मीटिंग का बुलावा न मिलने पर ओवैसी ने बताया अपमान

ओवैसी के ये सारे आरोप महज राजनीति से ही प्रेरित नजर आते हैं क्योंकि प्रधामंत्री कार्यालय की तरफ से इस संदर्भ में जो प्रेस रिलीज जारी की गई है, उसमें यह स्पष्ट तौर पर रेखांकित है कि प्रधामंत्री इस विडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए होने वाली मीटिंग में सिर्फ उन्हीं राजनीतिक दलों के फ्लोर लीडर्स से बात करेंगे, जिनके सदस्यों की संख्या दोनों सदनों में मिलाकर कम से कम 5 है।

सरकार जान से मार देगी, नहीं लेंगे दवा-सूई: जमातियों का हॉस्पिटल में हँगामा, DM ने मुस्लिम डॉक्टर को बुलाकर समझाया

26 तबलीगी जमात के सदस्यों को दरियापुर से लाकर सोला के सिविल अस्पताल के आइसोलेशन वार्ड में भर्ती करवाया गया था। जब मेडिकल टीम ने उनकी जाँच करने की कोशिश की, तो उन्होंने जाँच करवाने से मना करते हुए हँगामा खड़ा कर दिया। इनका आरोप था कि सरकार इन्हें जान से मारने की कोशिश कर रही है।

प्रचलित ख़बरें

फलों पर थूकने वाले शेरू मियाँ पर FIR पर बेटी ने कहा- अब्बू नोट गिनने की आदत के कारण ऐसा करते हैं

फल बेचने वाले शेरू मियाँ का एक वीडियो सोशल मीडिया में वायरल हो रहा था, जिसमें वो फलों पर थूक लगाते हुए देखे जा रहे थे। इसके बाद पुलिस ने उन पर कार्रवाई कर गिरफ्तार कर लिया, जबकि उनकी बेटी फिजा का कुछ और ही कहना है।

वैष्णो देवी गए 145 को हुआ कोरोना: पत्रकार अली ने फैलाया झूठ, कमलेश तिवारी की हत्या का मनाया था जश्न

कई लोग मीडिया पर आरोप लगा रहे थे कि जब किसी हिन्दू धार्मिक स्थल में श्रद्धालु होते हैं तो उन्हें 'फँसा हुआ' बताया जाता है जबकि मस्जिद के मामले में 'छिपा हुआ' कहा जाता है। इसके बाद फेक न्यूज़ का दौर शुरू हुआ, जिसे अली सोहराब जैसों ने हज़ारों तक फैलाया।

नर्सों के सामने नंगे हुए जमाती: वायर की आरफा खानम का दिल है कि मानता नहीं

आरफा की मानें तो नर्सें झूठ बोल रही हैं और प्रोपेगेंडा में शामिल हैं। तबलीगी जमात वाले नीच हरकत कर ही नहीं सकते, क्योंकि वे नि:स्वार्थ भाव से मजहब की सेवा कर रहे हैं। इसके लिए दुनियादारी, यहॉं तक कि अपने परिवार से भी दूर रहते हैं।

मधुबनी, कैमूर, सिवान में सामूहिक नमाज: मस्जिद के बाहर लाठी लेकर औरतें दे रही थी पहरा

अंधाराठाढ़ी प्रखंड के हरना गॉंव में सामूहिक रूप से नमाज अदा की गई। यहॉं से तबलीगी जमात के 11 सदस्य क्वारंटाइन में भेजे गए हैं। बताया जाता है कि वे भी नमाज में शामिल थे। पुरुष जब भीतर नमाज अदा कर रहे थे दर्जनों औरतें लाठी और मिर्च पाउडर लेकर बाहर खड़ी थीं।

जो लाइट्स ऑफ करेगा, उनके दरवाजे पर चॉक से निशान बनेगा: TMC अपनाएगी हिटलर वाला तरीका

पीएम मोदी ने लोगों से 5 अप्रैल की रात नौ बजे नौ मिनट के लिए घर की सभी लाइटें बंद कर दीया, मोमबत्ती या टॉर्च जलाने की अपील कर रखी है। टीएमसी से जुड़े प्रसून भौमिक ने अपने फेसबुक पोस्ट में दावा किया है कि जो ऐसा करेंगे उनके घरों के दरवाजे पर निशान लगा कर चिह्नित किया जाएगा।

ऑपइंडिया के सारे लेख, आपके ई-मेल पे पाएं

दिन भर के सारे आर्टिकल्स की लिस्ट अब ई-मेल पे! सब्सक्राइब करने के बाद रोज़ सुबह आपको एक ई-मेल भेजा जाएगा

हमसे जुड़ें

172,802FansLike
53,692FollowersFollow
213,000SubscribersSubscribe
Advertisements