NIA द्वारा पकड़े आतंकी 25 किलो ‘मसाले’ से चिकन मैरिनेट करने वाले थे

माओ की नाजायज़ वामपंथी कामभक्त औलादों को यूँ ही गाली नहीं पड़ती है, ये मोदी-विरोध में इतना गिर चुके हैं कि कल को कोई कह दे कि बच्चे अपने माँ-बाप की पैदाइश होते हैं, तो ये कहने लगेंगे कि ‘नहीं, हम तो माओ के प्रीजर्व्ड सेमेन से जन्मे हैं’।

NIA की टीम ने ISIS के कुछ आतंकी पकड़े और उनसे बरामद की गई वस्तुओं को पब्लिक में दिखाया। उसमें, यूँ तो वैसे भी हथियार थे ही, लेकिन बने-बनाए बम या शायद न्यूक्लियर मैटेरियल नहीं मिलने से इन लम्पटों में खासा रोष है। रोष इसलिए कि कट्टे, रॉकेट लॉन्चर, और 25 किलो बारूद के साथ सौ से ज़्यादा अलार्म क्लॉक और सिम कार्ड तथा फोन मिले।

ज़ाहिर तौर पर इन सब चीजों से सब्जी बनाई जाती है, और अलार्म क्लॉक का प्रयोग गरीब बच्चों को पढ़ाई के लिए जल्दी जगाने के लिए किया जाता है। वामपंथी पत्रकार सब परेशान हो गए कि विद्यार्थियों को पकड़ लिया, वो तो रसायन विज्ञान का प्रोजेक्ट बना रहे थे। इन बुद्धिजीवियों ने सुतली बम पर अपना फ़ोकस लगातार बनाए रखा जैसे कि आतंकी सुतली बम नए साल का स्वागत करने के लिए रखे हुए थे।

- विज्ञापन - - लेख आगे पढ़ें -

एक टर्म आपलोग हमेशा सुनते होंगे ‘IED’, जिसका शब्दशः मतलब है: जुगाड़ से बनाया गया बम। इसमें आप डायनामाइट या टीएनटी जैसे परम्परागत विस्फोटक का प्रयोग नहीं करते, बल्कि बारूद बनाने का रॉ मैटेरियल ले आते हैं, और उसे अलग-अलग ज़रूरतों के अनुसार प्रयोग करते हैं। ये रॉ मेटैरियल कहीं से भी लिया जा सकता है।

सुतली बम से भी बारूद मिलता है, और बाकी बारूद का कैमिकल पहले से निकाल कर रखा हुआ था। ऐसा इसलिए किया जाता है क्योंकि अगर आप एक बड़ी मात्रा में बारूद ख़रीदते हैं, या परम्परागत विस्फोटक सामान ख़रीदते हैं तो आपके पकड़े जाने की संभावना बढ़ जाती है।

लेकिन वामपंथी पत्रकार, और मोदी-विरोधी गिरोह के दोमुँहे फेसबुकिया विश्लेषक, सारी चीज़ों को दरकिनार करते हुए कि आखिर सौ से ज़्यादा अलार्म घड़ियों और सिम कार्ड का ये लोग अचार ही तो डालने वाले थे, ये लिखते पाए गए कि देखो मोदी सरकार ने कट्टे चलाने वाले आतंकी पकड़े हैं।

ये लोग इतने गिरे हुए हैं कि पुल बनने पर नाव चलाने वालों की आजीविका की बात करते हैं, और पुल न बने तो केले के तनों पर नदी पार करके स्कूल जाते बच्चों की तस्वीर लगाकर सरकार से सवाल पूछते हैं। इसलिए, इन गंदी नाली के कीड़ों को वही सड़ाँध वाले दिन चाहिए जब हर त्योहार पर बम फटा करते थे।

ये जो फ़ेसबुकिया स्मार्टी पैन्ट्स हैं, और जो ट्विटर पर अँगूठों से विष्ठा करते रहते हैं, वो एके सैंतालिस भी देख लेंगे तो कहेंगे कि ये तो लोहे के कल-पुर्ज़े हैं, भारत के जेम्स बॉन्ड ने लोहा पकड़ा है! इन्होंने बिलकुल वही किया है। 25 किलो पोटेशियम नाइट्रेट, अमोनिया नाइट्रेट, सल्फ़र आदि तो चिकन को मैरिनेट करने के लिए रखा था आतंकियों ने।

अपने ही देश की सुरक्षा एजेंसियों और क़ाबिल अफ़सरों को इस तरह से नीचा दिखाना इनका टी-टाइम टाइमपास है। वामपंथी चिरकुट पत्रकार गिरोह लगातार ये देख रहा है कि अगर ये सरकार रही तो आतंकी घटनाएँ तो बंद होंगी ही, नक्सलियों का भी शिकार चलता रहेगा। यही कारण है कि प्रधानमंत्री की हत्या की साज़िश रचनेवाला व्यक्ति कभी एक्टिविस्ट हो जाता है, तो कभी कवि कहलाता है।

इनकी छटपटाहट देखते ही बनती है जब एक के बाद एक आतंकी, नक्सली आतंकवादी और आतंकियों के हिमायती लगातार पकड़े जा रहे हैं, और रात के दो बजे भी सुप्रीम कोर्ट खुलवाने के बावजूद वो तथाकथित एक्टिविस्ट जेल में बंद किए जा रहे हैं।

यही कारण है कि आतंकी हमला हो जाने पर यही माओवंशी ‘कड़ी निंदा’ का मजाक बनाते हैं जैसे कि विश्व के किसी भी जगह के राजनेता ने ऐसी घटनाओं पर प्रेस कॉन्फ़्रेंस में ‘कड़ी निंदा’ और ‘बदला लेंगे’ के अलावा कुछ और कहा हो। आखिर और क्या कहा जा सकता है प्रेस से? जहाँ तक करने की बात है, तो वो तो राजनाथ सिंह ने कितना किया है, वो सबके सामने है।

कोई इतने विस्फोटक लेकर पकड़ा जाता है तो वो इसका मजाक बनाते हैं, और अगर कल को राजनाथ सिंह प्रेस कॉन्फ़्रेंस में एक रॉकेट लॉन्चर लेकर पहुँच जाएँ कि ‘इसी से हम आतंकियों का ख़ात्मा करेंगे’ तो यही चिरकुट कहेंगे कि ‘अरे गृहमंत्री पद की गरिमा बनाए रखिए!’

कुल मिलाकर बात बस इतनी है कि जब भी आतंकी पकड़े जाते हैं, इन बेचारों के गुर्दों में जलन होती है। क्योंकि कहीं न कहीं ऐसे लोग, जो भारत को तोड़ना चाहते हैं, यहाँ की जनता में डर भरना चाहते हैं, हनुमान के स्टिकर को धार्मिक आतंक कहते हैं, गाय की रक्षा करनेवालों को आतंकवादी कहते हैं, बम पकड़े जाने पर उसकी क्वालिटी और क्वांटिटी पर डिबेट करते हैं, ये मानते हैं कि पुराना सिस्टम वापस लौट आए जहाँ से इनकी फ़ंडिंग होती थी, और ऑलिव ब्रान्च धरा दिया जाता था।

अब इनको बुद्धिजीवी बनने के पैसे नहीं मिलते, इनके एनजीओ पर ताले लग रहे हैं जो कि कन्वर्जन से लेकर आतंकी गतिविधियों में प्रत्यक्ष या परोक्ष रूप से शामिल रहे हों, तो ज़ाहिर है कि अंदर का कफ ऐसे ही दुर्गंध फेंकता मवाद बनकर बाहर आएगा। ये इनकी सोच और लिखे हुए पोस्ट में छन-छनकर बाहर आता रहा है, आता रहेगा।

लेकिन अब बात यह है कि इनके गुर्दे छीलने के लिए और पिछले कुछ सालों में इनकी नंगई को एक्सपोज करनेवाले बहुत आ गए हैं। अब इनको पोस्ट पर इनको गाली ही पड़ती है। जो इनकी बड़ाई करते हैं, उनके नामों पर सरसरी निगाह डालने से पता चल जाता है कि इनकी विचारधारा कोई भी पंथ नहीं, बल्कि धर्म के नाम पर आतंकियों को प्रोत्साहन देना है।

ये जो सारे आतंकवादी पकड़े गए हैं, सब के सब मुसलमान हैं, लेकिन इनका फ़ोकस ‘इस्लामी आतंक’ से कहीं दूर, ‘ये तो सुतली बम है’ पर है। अभी ये इस्लामी आतंक नहीं है क्योंकि शायद आईसिस के झंडे पर ‘अल्लाहु अकबर’ दूसरी भाषा में होने के कारण ये पहचान नहीं पा रहे। हनुमान तो खैर हर जगह दिखते हैं, तो उनका पोस्टर लगाना हिन्दू आतंक है। तो ऐसा है लम्पटो, सुतली बम के सिरे जोड़ लो, आग लगाकर बैठ जाओ, उसी से तुम्हारी जलन मिटेगी क्योंकि न रहेगा वो, न होगी जलन।

शेयर करें, मदद करें:
Support OpIndia by paying for content

यू-ट्यूब से

बड़ी ख़बर

सुन्नी वक्फ बोर्ड के वकील राजीव धवन को केवल इस बात का सबूत चाहिए कि अयोध्या के किस खास जगह पर राम का जन्म हुआ था। वरना इकबाल के इमाम-ए-हिंद को वे भी याद करते हैं। कृपानिधान तो वाजिद अली शाह के भी राम ही थे। लेकिन, किसी ने न लिखा, न गाया। राम किस प्लॉट में पैदा हुए थे?

ज़्यादा पढ़ी गईं ख़बरें

इमरान ख़ान

मोदी के ख़िलाफ़ बयानबाजी बंद करें इमरान ख़ान: मुस्लिम मुल्कों की पाकिस्तान को 2 टूक

मुस्लिम देशों ने प्रधानमंत्री इमरान खान से कहा है कि कश्मीर मुद्दे को लेकर दोनों देशों के बीच जारी तनाव को कम करने के लिए वह अपने भारतीय समकक्ष के खिलाफ अपनी भाषा में तल्खी को कम करें।
तजिंदर बग्गा, एंड्रिया डिसूजा

‘₹500 में बिक गईं कॉन्ग्रेस नेता’: तजिंदर बग्गा ने खोली रिया (असली नाम एंड्रिया डिसूजा) की पोल

बग्गा ने रिया को व्हाट्सएप मैसेज किया और कहा कि वो उनसे एक प्रमोशनल ट्वीट करवाना चाहते हैं। रिया ने इसके लिए हामी भर दी और इसकी कीमत पूछी। बग्गा ने रिया को प्रत्येक ट्वीट के लिए 500 रुपए देने की बात कही। रिया इसके लिए भी तैयार हो गई और एक फेक ट्वीट को...
सिंध, पाकिस्तान

मियाँ मिट्ठू के नेतृत्व में भीड़ ने हिन्दू शिक्षक को पीटा, स्कूल और मंदिर में मचाई तोड़फोड़

इस हमले में कट्टरपंथी नेता मियाँ मिट्ठू का हाथ सामने आया है। उसने न सिर्फ़ मंदिर बल्कि स्कूल को भी नुक़सान पहुँचाया। मियाँ मिट्ठू के नेतृत्व में भीड़ ने पुलिस के सामने शिक्षक की पिटाई की, मंदिर में तोड़फोड़ किया और स्कूल को नुक़सान पहुँचाया।
सीजेआई रंजन गोगोई

CJI रंजन गोगोई: कश्मीर, काटजू, कन्हैया…CM पिता जानते थे बेटा बनेगा मुख्य न्यायाधीश

विनम्र स्वभाव के गोगोई सख्त जज माने जाते हैं। एक बार उन्होंने अवमानना नोटिस जारी कर सुप्रीम कोर्ट के पूर्व जज मार्कंडेय काटजू को अदालत में तलब कर लिया था। काटजू ने सौम्या मर्डर केस में ब्लॉग लिखकर उनके फैसले पर सवाल उठाए थे।
हिना सिद्धू, मलाला युसुफ़ज़ई

J&K पाकिस्तान को देना चाहती हैं मलाला, पहले खुद घर लौटकर तो दिखाएँ: पूर्व No.1 शूटर हिना

2013 और 2017 विश्वकप में पहले स्थान पर रह कर गोल्ड मेडल जीत चुकीं पिस्टल शूटर हिना सिद्धू ने मलाला को याद दिलाया है कि ये वही पाकिस्तान है, जहाँ कभी उनकी जान जाते-जाते बची थी। उन्होंने कहा कि पाकिस्तान में लड़कियों की शिक्षा के लिए कितने मौके हैं, इसे मलाला बेहतर जानती हैं।

शेख अब्दुल्ला ने लकड़ी तस्करों के लिए बनाया कानून, फॅंस गए बेटे फारूक अब्दुल्ला

फारूक अब्दुल्ला को जिस पीएसए एक्ट तहत हिरासत में लिया गया है उसमें किसी व्यक्ति को बिना मुक़दमा चलाए 2 वर्षों तक हिरासत में रखा जा सकता है। अप्रैल 8, 1978 को जम्मू-कश्मीर के राज्यपाल से इसे मंजूरी मिली थी। यह क़ानून लकड़ी की तस्करी रोकने के लिए लाया गया था।
एन राम

‘The Hindu’ के चेयरमैन बने जज: चिदंबरम को कॉन्ग्रेस के कार्यक्रम में दी क्लीन चिट, कहा- कोई सबूत नहीं

एन राम चिदंबरम को जेल भेजने के लिए देश की अदालतों की आलोचना करने से भी नहीं चूके। उन्होंने कहा कि इस गिरफ्तारी की साजिश करने वालों का मकसद सिर्फ और सिर्फ चिदंबरम की आजादी पर बंदिश लगाना था और दुर्भाग्यवश देश की सबसे बड़ी अदालतें भी इसकी चपेट में आ गईं।
हिन्दू लड़की की हत्या

…बस एक एग्जाम और डेंटल डॉक्टर बन जातीं नमृता लेकिन पाकिस्तान में रस्सी से बंधा मिला शव

बहन के मृत शरीर को देख नमृता के भाई डॉ विशाल सुंदर ने कहा, "उसके शरीर के अन्य हिस्सों पर भी निशान हैं, जैसे कोई व्यक्ति उन्हें पकड़ रखा था। हम अल्पसंख्यक हैं, कृपया हमारे लिए खड़े हों।"
सुप्रीम कोर्ट, राम मंदिर

अगर राम जन्मस्थान को लेकर आस्था है तो इस पर सवाल नहीं उठा सकते: सुप्रीम कोर्ट

मुस्लिम पक्षकार राजीव धवन ने अदालत में दावा किया कि पहले हिंदू बाहर के अहाते में पूजा करते थे, लेकिन दिसंबर 22-23, 1949 की रात रामलला की मूर्ति को अवैध तरीके से मस्जिद के अंदर शिफ्ट कर दिया गया।
नितिन गडकरी

भारी चालान से परेशान लोगों के लिए गडकरी ने दी राहत भरी खबर, अब जुर्माने की राशि 500-5000 के बीच

1 सितंबर 2019 से लागू हुए नए ट्रैफिक रूल के बाद से चालान के रोजाना नए रिकॉर्ड बन और टूट रहे हैं। दिल्ली से लेकर अन्य राज्यों में कई भारी-भरकम चालान काटे गए जो मीडिया में छाए रहे जिसे देखकर कुछ राज्य सरकारों ने पहले ही जुर्माने की राशि में बदलाव कर दिया था।

ताज़ा ख़बरें

हमसे जुड़ें

91,128फैंसलाइक करें
15,115फॉलोवर्सफॉलो करें
97,500सब्सक्राइबर्ससब्सक्राइब करें

ज़रूर पढ़ें

शेयर करें, मदद करें: