इमरान के झूठ के साथी बने पाकिस्तानी विदेश मंत्री शाह महमूद कुरैशी, पकड़े गए तो त्यौरियाँ चढ़ाने लगे

"किसके एजेंडे पर काम कर रहे हो?" जब कुरैशी को कोई जवाब नहीं सूझा तो वे जावेद चौधरी पर ही बिफ़रने लगे। "अब आप मुझे बताएँगे या तय करेंगे कि कौन-से देश ने UN में पाकिस्तान का समर्थन किया है या नहीं? जो लिखना है लिख दो।" झल्लाए हुए कुरैशी का यह जवाब था।

जब एक पाकिस्तानी पत्रकार ने पाकिस्तान के विदेश मंत्री शाह महमूद कुरैशी से उन “58” देशों की सूची माँग ली, जिन्होंने पाकिस्तान के अंतरराष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग में हिंदुस्तान के खिलाफ प्रस्ताव के समर्थन का कथित वादा किया था, तो कुरैशी को गुस्सा आ गया। पाकिस्तानी चैनल एक्सप्रेस न्यूज़ के होस्ट जावेद चौधरी कुरैशी का इंटरव्यू ले रहे थे, जब यह वाकया हुआ। कुरैशी लगातार इमरान खान के उस झूठ का समर्थन करते जा रहे थे, जिसमें इमरान ने मानवाधिकार आयोग में “58 देशों” का समर्थन पा लेने का दावा किया था।

किसके एजेंडे पर काम कर रहे हो?

“किसके एजेंडे पर काम कर रहे हो?” जब कुरैशी को कोई जवाब नहीं सूझा तो वे जावेद चौधरी पर ही बिफ़रने लगे। “अब आप मुझे बताएँगे या तय करेंगे कि कौन-से देश ने UN में पाकिस्तान का समर्थन किया है या नहीं? जो लिखना है लिख दो।” झल्लाए हुए कुरैशी का यह जवाब था।

जब कुरैशी से चौधरी ने इमरान खान के दावे का समर्थन अपने खुद के ट्विटर हैंडल से करने के बारे में पूछा, तो चौधरी का आपा ही खो गया। “नहीं! नहीं! दिखाइए मुझे जो ट्वीट मैंने लिखा था। वो मत दिखाइए जो प्रधानमंत्री ने लिखा था। आपने कहा मेरे ट्वीट। दिखाइए मुझे। मुझे मेरा ट्वीट चाहिए।” कुरैशी न केवल ज़ोर-ज़ोर से चिल्लाने लगे, बल्कि उन्होंने जावेद चौधरी पर “एजेंडा चलाने” का आरोप भी मढ़ दिया।

ट्वीट दिखाने पर भी “इसमें गलत क्या है?”

- विज्ञापन - - लेख आगे पढ़ें -

यहाँ तक कि जब चौधरी को उनका वह ट्वीट दिखा दिया गया, जिसमें उन्होंने “50 से अधिक देशों” के UNHRC में पाकिस्तान के समर्थन का दावा किया था, तो भी उन्हें समझ नहीं आया कि उसमें गलत क्या है। “मैंने जो कहा, उस पर मैं कायम हूँ। इसमें इतनी हैरत की क्या बात है? आप किसका एजेंडा चला रहे हो?” गौरतलब है कि UNHRC में सदस्यों की संख्या ही महज़ 47 है, जबकि कुरैशी और उनके बॉस इमरान खान “50 से अधिक”/”58” देशों के समर्थन का दावा कर रहे थे।

शेयर करें, मदद करें:
Support OpIndia by making a monetary contribution

बड़ी ख़बर

बीएचयू, वीर सावरकर
वीर सावरकर की फोटो को दीवार से उखाड़ कर पहली बेंच पर पटक दिया गया था। फोटो पर स्याही लगी हुई थी। इसके बाद छात्र आक्रोशित हो उठे और धरने पर बैठ गए। छात्रों के आक्रोश को देख कर एचओडी वहाँ पर पहुँचे। उन्होंने तीन सदस्यीय कमिटी गठित कर जाँच का आश्वासन दिया।

सबसे ज़्यादा पढ़ी गईं ख़बरें

ताज़ा ख़बरें

हमसे जुड़ें

114,578फैंसलाइक करें
23,209फॉलोवर्सफॉलो करें
121,000सब्सक्राइबर्ससब्सक्राइब करें

ज़रूर पढ़ें

Advertisements
शेयर करें, मदद करें: