Wednesday, May 27, 2020
होम राजनीति जिन मुस्लिम लड़कों ने दी जान से मारने की धमकी, उसे मोदी ने किया...

जिन मुस्लिम लड़कों ने दी जान से मारने की धमकी, उसे मोदी ने किया माफ: मोदी ‘फ़ासिस्ट’ है या अति-लिबरल?

रज़ाक कासिम ने मोदी को एक 'धमकी भरा' ईमेल भेजा था। महाराष्ट्र की पुलिस ने पकड़ लिया। लेकिन मोदी ने उसे माफ कर दिया। इतना ही नहीं, इस घटना के बाद नौकरी छूट जाने पर कंपनी को पत्र लिख मोदी ने उसकी नौकरी...

ये भी पढ़ें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

मोदी सरकार को दमनकारी और मोदी को ‘फ़ासिस्ट’ कहने वालों को न ही मोदी या भाजपा के बारे में कुछ पता है और न ही फ़ासिस्ट के मायने पता हैं। हाल ही में एक ट्रायल कोर्ट ने 49 सेलेब्रिटियों पर जो केस करने का निर्देश दिया, उसका ठीकरा भी मोदी के ही सर फोड़ दिया गया। लेकिन विरोध करने वालों को लेकर मोदी का नज़रिया क्या है, इस पर राय कायम करने के पहले दो ऐसी घटनाओं की जानकारी ले लेना ज़रूरी है, जब मुसलमानों ने मोदी को जान से मारने की धमकी दी, लेकिन नरेंद्र मोदी ने उनके गिरफ्तार होने के बाद उन्हें माफ़ कर दिया ताकि उनकी ज़िंदगी न खराब हो। यही नहीं, उनमें से एक को तो नौकरी से निकाले जाने पर तत्कालीन गुजरात सीएम ने आरोपित को दोबारा नौकरी दिए जाने की सिफ़ारिश करते हुए खुद पत्र लिखा

‘मैंने उसे नई ज़िंदगी दी’

2002 के दिसंबर में तब गुजरात के मुख्यमंत्री मोदी ने उन्हें मारने की धमकी भरा ईमेल लिखने वाले एक मुस्लिम युवक को माफ़ी दी थी। उस समय इस खबर को रिपोर्ट करने वाले Rediff.com के अनुसार, “गुजरात के सीएम नरेंद्र मोदी ने महाराष्ट्र राज्य सरकार से कहा कि वह रज़ाक नाज़िर कासिम के खिलाफ सभी मामले बंद कर दें। उसे ATS ने गिरफ्तार किया था, जब उसने उन्हें एक ‘धमकी भरा’ ईमेल भेजा था। मुख्यमंत्री (महाराष्ट्र के तत्कालीन सीएम विलास राव देशमुख) का कहना है कि जाँच एजेंसी के पास रज़ाक को पाँच साल के लिए जेल भेजने और 1 लाख रुपए का जुर्माना लगाने के लिए पर्याप्त सबूत हैं।“ यह राज्य में साइबर क्राइम का पहला मामला था। लेकिन मोदी ने उसे न केवल जाने दिया, बल्कि इसे रज़ाक को दी गई एक नई ज़िंदगी भी बताया। मोदी ने तब कहा था, “इससे उसकी ज़िंदगी बर्बाद हो जाती। चूँकि उसने धमकी मेरी जान को लेकर दी थी, इसलिए मैंने उसे माफ़ कर एक नई ज़िंदगी देने का निर्णय लिया है।”

रज़ाक मुंबई के अँधेरी स्थित एक निजी आईटी फर्म में प्रोजेक्ट लीडर था। कंपनी ने उसे इस मामले के बाद नौकरी से निकाल दिया था। मोदी ने उसे वापस नौकरी पर रखने की गुज़ारिश भी आईटी फर्म से की थी। यही नहीं, 2006 में भी उन्होंने एक मुस्लिम युवक को ऐसा ही एक पत्र लिखने के लिए माफ़ी दे दी थी, क्योंकि उन्हें लगा था कि लिखने वाले लड़के ने बिना सोचे-समझे भूल कर दी थी, जिसके लिए उसने अपने पश्चाताप का प्रदर्शन किया था।

मोदी ही नहीं, पूरी भाजपा माफ़ी-मोड में

- विज्ञापन - - लेख आगे पढ़ें -

और ऐसा भी नहीं है कि यह उदारता की प्रवृत्ति केवल नरेंद्र मोदी की है। अमित शाह को सोहराबुद्दीन एनकाउंटर मामले में बदनाम किया गया, और उनके खिलाफ़ जस्टिस लोया की हत्या कराने का प्रोपेगंडा कारवाँ पत्रिका ने रचा। The Wire ने उनके बेटे जय शाह तक को नहीं छोड़ा, और भ्रष्टाचार का झूठा आरोप मढ़ दिया। अमित शाह और मोदी पर 2014 के लोकसभा चुनावों के कुछ ही समय पहले एक लड़की की पुलिसिया अमले से ‘स्टॉकिंग’ कराने को लेकर ‘स्नूपगेट’ कांड नामक प्रपंच की रचना तक की गई। लेकिन इस मामले पर न मोदी कुछ बोले न शाह।

ऐसे में यह सवाल उठाना लाज़मी है कि मोदी-शाह, और पूरी भाजपा ही, फ़ासिस्ट हैं या अति-उदारवादी?

Note: इसके लेखक “गुजरात दंगे: द ट्रू स्टोरी” पुस्तक के लेखक हैं। इस किताब में 2002 गुजरात दंगों – गोधरा और उसके बाद जो कुछ भी हुआ, उसके बारे में सभी विवरण हैं। www.gujaratriots.com के ऐडमिन भी हैं लेखक। इस लेख को आप विस्तार में यहाँ पढ़ सकते हैं

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ख़ास ख़बरें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

‘उत्तराखंड जल रहा है… जंगलों में फैल गई है आग’ – वायरल तस्वीरों की सच्चाई का Fact Check

क्या उत्तराखंड के जंगल इस साल की गर्मियों में वास्तव में आग में झुलस रहे हैं? जवाब है- नहीं।

ईद का जश्न मनाने के लिए दी विशेष छूट: उद्धव के तुष्टिकरण की शिवसेना के मुखपत्र सामना ने ही खोली पोल

शिवसेना के मुखपत्र सामना में प्रकाशित एक लेख के मुताबिक मुंब्रा में समुदाय विशेष के लोगों को ईद मनाने के लिए विशेष रियायत दी गई थी।

वियतनाम: ASI को खुदाई में मिला 1100 साल पुराना शिवलिंग, बलुआ पत्थर से है निर्मित

ASI को एक संरक्षण परियोजना की खुदाई के दौरान 9वीं शताब्दी का शिवलिंग मिला है। इसकी जानकारी विदेश मंत्री एस जयशंकर ने ट्वीट कर दी है।

‘मोदी मंदिर’ बनाने की खबर फर्जी: MLA गणेश जोशी ने कॉन्ग्रेस को बताया ‘मोदीफोबिया’ से ग्रसित

"मोदी मंदिर' बनाने की खबर पूरी तरह फर्जी है। जबकि मोदी-आरती लिखने वाली डॉ. रेनू पंत का भाजपा से कोई लेना-देना नहीं है और वो सिर्फ..."

चुनाव से पहले फिर ‘विशेष राज्य’ के दर्जे का शिगूफा, आखिर इस राजनीतिक जुमले से कब बाहर निकलेगा बिहार

बिहार के नेता और राजनीतिक दल कब तक विशेष राज्य का दर्जा माँगते रहेंगे, जबकि वे जानते हैं कि यह मिलना नहीं है और इसके बिना भी विकास संभव है।

‘पूरी डायन हो, तुझे आत्महत्या कर लेनी चाहिए’: रुबिका लियाकत की ईद वाली फोटो पर टूट पड़े इस्लामी कट्टरपंथी

रुबिका लियाकत ने पीले परिधान वाली अपनी फोटो ट्वीट करते हुए ईद की मुबारकबाद दी। इसके बाद कट्टरपंथियों की पूरी फौज उन पर टूट पड़ी।

प्रचलित ख़बरें

‘चीन, पाक, इस्लामिक जिहादी ताकतें हो या नक्सली कम्युनिस्ट गैंग, सबको एहसास है भारत को अभी न रोक पाए, तो नहीं रोक पाएँगे’

मोदी 2.0 का प्रथम वर्ष पूरा हुआ। क्या शानदार एक साल, शायद स्वतंत्र भारत के इतिहास का सबसे ज्यादा अदभुत और ऐतिहासिक साल। इस शानदार एक वर्ष की बधाई, अगले चार साल अद्भुत होंगे। आइए इस यात्रा में उत्साह और संकल्प के साथ बढ़ते रहें।

लगातार 3 फेक न्यूज शेयर कर रवीश कुमार ने लगाई हैट्रिक: रेलवे पहले ही बता चुका है फर्जी

रवीश कुमार ने अपने फेसबुक पेज पर ‘दैनिक भास्कर’ अखबार की एक ऐसी ही भावुक किन्तु फ़ेक तस्वीर शेयर की है जिसे कि भारतीय रेलवे एकदम बेबुनियाद बताते हुए पहले ही स्पष्ट कर चुका है कि ये पूरी की पूरी रिपोर्ट अर्धसत्य और गलत सूचनाओं से भरी हुई है।

मोदी-योगी को बताया ‘नपुंसक’, स्मृति ईरानी को कहा ‘दोगली’: अलका लाम्बा की गिरफ्तारी की उठी माँग

अलका लाम्बा PM मोदी और CM योगी के मुँह पर थूकने की बात करते हुए उन्हें नपुंसक बता रहीं। उन्होंने स्मृति ईरानी को 'दोगली' तक कहा और...

‘राम मंदिर की जगह बौद्ध विहार, सुप्रीम कोर्ट ने माना’ – शुभ कार्य में विघ्न डालने को वामपंथन ने शेयर की पुरानी खबर

पहले ये कहते थे कि अयोध्या में मस्जिद था। अब कह रहे हैं कि बौद्ध विहार था। सुभाषिनी अली पुरानी ख़बर शेयर कर के राम मंदिर के खिलाफ...

38 लाख फॉलोवर वाले आमिर सिद्दीकी का TikTok अकॉउंट सस्पेंड, दे रहा था कास्टिंग डायरेक्टर को धमकी

जब आमिर सिद्दीकी का अकॉउंट सस्पेंड हुआ, उस समय तक उसके 3.8 मिलियन फॉलोवर्स थे। आमिर पर ये कार्रवाई कास्टिंग डायरेक्टर को धमकी...

हमसे जुड़ें

207,939FansLike
60,325FollowersFollow
242,000SubscribersSubscribe
Advertisements