Friday, August 6, 2021
Homeहास्य-व्यंग्य-कटाक्षराहुल के वायनाड जाते ही 'टोंटी-चोर' के भुट्टे पर मर-मिटा मीडिया

राहुल के वायनाड जाते ही ‘टोंटी-चोर’ के भुट्टे पर मर-मिटा मीडिया

गठबंधन के भविष्य पर मंडरा रहे संकट के बादलों से पर्दा हटाते हुए अब बुआ-बबुआ संबंधों से भी मीडिया की उम्मीदें ध्वस्त हो चुकी हैं। ऐसे में आज तक वाले अगर 'टोंटी-चोर' के भुट्टों की रिपोर्टिंग करते नजर आ जाएँ, तो समझ जाइए कि मीडिया के लिए राहुल गाँधी अब प्रासंगिक नहीं रहे।

लोकसभा चुनावों के बाद ‘लगभग’ बेरोजगार चल रहे समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष अखिलेश यादव की आज एक अँधेरे को चीरती हुई सनसनी जैसी खबर सामने आई है और ये खबर लाने का काम किया है ‘आज तक’ नाम के न्यूज़ चैनल ने। इसके बाद अन्य कई समाचार चैनल्स ने इस खबर को हवा देने का काम किया।

आज तक ने ट्विटर पर अखिलेश यादव का एक ‘एक्सक्लूसिव’ वीडियो शेयर करते हुए बड़े ही मार्मिक शब्दों में लिखा है – “U.P के पूर्व मुख्यमंत्री @yadavakhilesh का काफिला आज सड़क किनारे ठेले पर भुट्टा देखकर अचानक रुक गया। अखिलेश ने ठेले पर भुट्टा बेच रहे व्यक्ति से भुट्टे का रेट पूछा और एक भुट्टा भी लिया। उनकी ये सादगी देखकर बाराबंकी की जनता उनकी कायल हो गई।”

गठबंधन के भविष्य पर मंडरा रहे संकट के बादलों से पर्दा हटाते हुए अब बुआ-बबुआ संबंधों से भी मीडिया की उम्मीदें ध्वस्त हो चुकी हैं। ऐसे में आज तक वाले अगर ‘टोंटी-चोर’ के भुट्टों की रिपोर्टिंग करते नजर आ जाएँ, तो समझ जाइए कि मीडिया के लिए राहुल गाँधी अब प्रासंगिक नहीं रहे।

आज तक ने अखिलेश यादव की भुट्टे का भाव पता करने की इस मार्मिक घटना को सनसनी बनाकर साबित कर दिया है कि मीडिया को अपने केजरीवाल तलाशने के लिए ज्यादा मेहनत करने की जरूरत नहीं है। वर्तमान राजनीति केजरीवालों से भरी पड़ी है। चुनाव से पहले कुछ निष्पक्ष पत्रकार जब राहुल-प्रियंका नामक भाई-बहनों की क्यूट तस्वीरों द्वारा माहौल बनाकर थक गए, तब उन्होंने गठबंधन के मंच पर चढ़कर बुआ-बबुआ के ऐतिहासिक क्षण को अपनी आँखों से देखकर कवर करने का फैसला लिया था और उनका फोटोग्राफर बनना तक पसंद किया।

लेकिन तैमूर की दिनचर्या और राजनीति के खानदान विशेष के मोह से निकलकर अखिलेश यादव के भुट्टों की ओर पलायन कर लेना एक सकारात्मक बदलाव है। आज तक को इस तरह के बदलाव के लिए पुरस्कार भी मिलना चाहिए। अगर अब भुट्टों की ओर नहीं बढ़ेंगे तो मीडिया के लाडले अरविन्द केजरीवाल आखिर कब तक सड़कों पर यहाँ-वहाँ रैपट खाकर खबरों में बने रहेंगे? चुनाव में भी अभी काफी समय बाकी है।

अखिलेश यादव इसी तरह सड़कों पर भुट्टे और खीरा का भाव पूछकर मीडिया का नया युवराज बन सकें तो यह मोदी सरकार के दौरान जनता को एक और सकारात्मक बदलाव देखने को मिल सकता है। हालाँकि, आज तक भी ये बात खूब जानता है कि अगर उनके प्यारे युवराज को अमेठी की जनता वायनाड न भगाती तो आज वो भुट्टों के भाव पूछने के लिए कहीं और खड़े होते। खैर, आजादी के बहुत साल बाद ही सही, लेकिन मीडिया को इस तरह से एक विशेष परिवार से बाहर निकलते हुए देखना अच्छा अनुभव है।

वैसे हकीकत तो ये भी है कि जनता भुट्टों की नहीं बल्कि ‘चाय’ की दीवानी है। फिर भी अगर मीडिया अभी भी भुट्टों के पीछे भाग रही है तो हो सकता है अभी भी एक आखिरी उम्मीद बाकी हो।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

आशीष नौटियाल
पहाड़ी By Birth, PUN-डित By choice

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

पाकिस्तान में गणेश मंदिर तोड़ने पर भारत सख्त, सालभर में 7 मंदिर बन चुके हैं इस्लामी कट्टरपंथियों का निशाना

पाकिस्तान के पंजाब प्रांत में मंदिर तोड़े जाने के बाद भारत सरकार ने पाकिस्तान के शीर्ष राजनयिक को तलब किया है।

अफगानिस्तान: पहले कॉमेडियन और अब कवि, तालिबान ने अब्दुल्ला अतेफी को घर से घसीट कर निकाला और मार डाला

अफगानिस्तान के उपराष्ट्रपति अमरुल्लाह सालेह ने भी अब्दुल्ला अतेफी की हत्या की निंदा की और कहा कि अफगानिस्तान की बुद्धिमत्ता खतरे में है और तालिबान इसे ख़त्म करके अफगानिस्तान को बंजर बनाना चाहता है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
113,169FollowersFollow
395,000SubscribersSubscribe