Wednesday, July 15, 2020
Home देश-समाज चोखा धंधा है अभिव्यक्ति की आज़ादी का छिन जाना! गुनाह है ये!

चोखा धंधा है अभिव्यक्ति की आज़ादी का छिन जाना! गुनाह है ये!

नसीरुद्दीन साहब!असंवेदनशील भीड़ से हर किसी को डर लगता है। बहुत लोगों को मुहर्रम की भीड़ से डर लगता है, बहुत से लोग हैं जिन्हें बाज़ार जाते हुए भी डर लगता है क्योंकि वो इस देश में मुंबई आतंकी हमले जैसी तमाम घटनाओं पर इस्लामी आतंक के हस्ताक्षरों को भूल नहीं सके हैं।

ये भी पढ़ें

आशीष नौटियाल
पहाड़ी By Birth, PUN-डित By choice

नसीरुद्दीन शाह को एक बार फिर इस देश में भय महसूस होने लगा है। कम लोग ही ये बात जानते हैं कि आखिरी बार जब उन्हें इस देश मे रहकर भय महसूस हुआ था तब वो ‘वेलकम’ , ‘जैकपॉट’ और ‘बूम’ जैसी फिल्मों में अपनी एक्टिंग देख रहे थे।

आम आदमी तो बस ये सोचकर हैरान है कि जो इंसान हर दूसरे दिन वैश्विक स्तर पर विवादित संस्थाओं के साथ बैठकर अपने दातून करने से लेकर सोने और जागने तक की खबरों को हाई क्वालिटी कैमरा से रिकॉर्ड कर के हर दूसरे दिन लोगों को दिखा रहा है, उसे आखिर और कितनी अभिव्यक्ति की आज़ादी की ज़रूरत है? रही बात डर लगने की, तो डर तो वास्तव में अब आपसे सबको लगना चाहिए नसीरुद्दीन साहब, कि न जाने ऐसे अभी और कितने लोग यहाँ छुपे हुए हैं, जो भारत-विरोधी ताकतों का सबसे पहला हथियार बन सकते हैं। आप ये भूल रहे हैं कि देश में जिस अंधकार की आप बात कर रहे हैं, उसी माहौल के बीच अपनी बात खुलकर किसी विवादित संस्था के साथ मिलकर रख पा रहे हैं।

ये महज इत्तेफ़ाक़ ही हो सकता है कि अभिव्यक्ति की आज़ादी पर जितने निबंध और सत्संग इस देश में 2014 लोकसभा चुनावों के बाद हुए हैं, शायद ही किसी लोकतन्त्र के इतिहास में कभी इस विषय पर इतनी खुलकर चर्चा हुई हो। वरना इतिहास जानता है कि अभिव्यक्ति की आज़ादी के नाम पर इस देश में लगभग साठ लाख लोगों की नसबंदी करवा डाली थी। गुलफ़ाम हसन साहब कभी नहीं जान पाएँगे कि ये देश अपने नागरिकों से लंबे-घने-घुँघराले बालों वाले, डरावने फ़ैशन रखने वाले बच्चे पैदा करने तक की आजादी छीन चुका है।

कुछ साल पहले ऐसे ही एक मनचले, भटके हुए युवाओं के समूह ने जब अभिव्यक्ति की आज़ादी छिन जाने की बात की थी तब उन्हें इस देश ने राष्ट्रीय स्तर का नेता बना दिया था। उसके बाद अभिव्यक्ति की आज़ादी छिन जाना बेकार युवाओं के बीच एक तगड़ा प्लेटफॉर्म बनकर उभरा है। ‘मेक इन जेएनयू’ ने ‘मेक इन इंडिया’ से ज्यादा नम्बर हासिल किए हैं।

अब हर युवा जैसे ही सनसनी बनने निकलता है, अभिव्यक्ति की आज़ादी छिन जाने का दिव्य पाशुपत्यास्त्र उसकी जेब में है। घर में सुबह 11 बजे तक रज़ाई मे दुबककर फ़ेसबुक पर ‘एंजेल प्रिया’ बनकर लड़कों से चैटिंग कर रहे क्रांतिजीव युवा को जब घरवाले बिस्तर छोड़ने की बात करते हैं तो वो भी अभिव्यक्ति की आज़ादी छिन जाने का खुलकर दावा करने लगता है।

देश में रहकर डरने वालों में नसीरुद्दीन शाह पहले आदमी नहीं हैं। शाहरुख खान का नाता यूँ तो ‘डर’ के साथ पुराना है लेकिन फिर भी यश चोपड़ा के रहते वो इस देश में कभी नहीं डरे। डरने का मौका उन्हें 2014 के बाद नसीब हुआ और उसके बाद वो जी भरकर डरे। अपना डर दूर करने के लिए वो कभी पाकिस्तान तो वो नहीं जा पाए लेकिन एयरपोर्ट पर उनका डर दूर करने के साक्ष्य अमेरिका के पास जरूर हैं।

डरे हुए लोगों की लिस्ट में एक नाम सबसे बड़े कलाकार आमिर खान का भी रहा है। जिन्होंने हिन्दू आस्था पर तसल्ली से प्रहार करती ‘PK’ जैसी फ़िल्म इसी देश के दर्शकों के बीच रहते हुए उन्हीं के लिए बनायी। उन्हीं हिन्दुओं से रुपए और नाम कमाने के बावजूद भी उन्हें इस देश में डर लगा।

ये बात अलग है कि इस डर का बदला अब आमिर खान ने यहाँ की जनता को अपनी फ़िल्म ‘ठग्स ऑफ़ हिंदुस्तान’ दिखा कर ले लिया है। इसलिए शायद अब वो हिंदुस्तान छोड़कर जाने का अपना मन भी बदल चुके हैं। अब इतने कद्दावर लोगों के बाद अगर नसीरूद्दीन साहब डर रहे हैं तो इसका कारण ये भी हो सकता है कि उन्होंने टीवी पर हर सप्ताह आती ‘ग़दर’ फ़िल्म देख ली हो।

नसीरुद्दीन शाह के बयानों से प्रभावित होकर अब सनी लियोनी और पूनम पांडे को भी महसूस होने लगा है कि इस देश ने सच में उनकी अभिव्यक्ति की आज़ादी का हनन किया है, जब पत्रकारों ने पूछा कि वो डिविलियर्स के स्ट्राइक रेट से क्यों अंग प्रदर्शन करने लगी हैं? इस पर उनका भी यही जवाब था कि अपनी अभिव्यक्ति का अधिक इस्तेमाल वो अब मोदी सरकार का विरोध करने के लिए कर रही हैं।

जिस तरह मुखर होकर वर्तमान सरकार के अंदर लोग बोलने की स्वतन्त्रता को लेकर आश्वस्त हुए हैं, अगले चुनाव आने से पहले किसी दिन पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह को भी पहल कर बोल देना चाहिए कि ‘हाँ, वाकई में राजमाता ने उन्हें प्रधानमंत्री बनाकर दस वर्षों के लिए उनसे अभिव्यक्ति कि आज़ादी छीन ली थी।’

‘मोहरा’ फ़िल्म के उस ज़िंदाल सेठ को अभी तक दुनिया भूली नहीं है, जो दुनिया की आँखों मे धूल झोंकने के लिए खुद अपनी आँखों पे काला चश्मा पहनकर विशाल अग्निहोत्री जैसे सीधे-सादे नवयुवक से तस्वीर पर लाल निशान खिंचवाने की प्रैक्टिस करवाता था। फिर विशाल क्या बन गया ये हम सब जानते हैं। शायद नसीरुद्दीन शाह अपने अंदर के गुलफ़ाम हसन वाले किरदार से अभी तक बाहर नहीं आ पा रहे हैं।

नसीरुद्दीन शाह साहब, असंवेदनशील भीड़ से हर किसी को डर लगता है। बहुत लोगों को मुहर्रम की भीड़ से डर लगता है, बहुत से लोग हैं जिन्हें बाज़ार जाते हुए भी डर लगता है, क्योंकि वो इस देश में मुंबई आतंकी हमले जैसी तमाम घटनाओं पर इस्लामी आतंक के हस्ताक्षरों को भूल नहीं सके हैं। हम में से कइयों को हर 15 अगस्त और 26 जनवरी को ‘फलाँ ज़िले में बम फटने से कई मरे’ की ख़बर सुनने से डर लगता है। किसी को बनारस के घाट पर जाने से डर लगता है, किसी को संकटमोचन मंदिर जाने से डर लगता है। डर तो इस बात से भी लगता है कि हिन्दू-मुस्लिम दंगे/झगड़े मे ‘समुदाय विशेष’ की जगह ‘मुसलमान समुदाय’ लिखने पर मुझे साम्प्रदायिक कह दिया जाएगा। लेकिन क्या करें साहब, मन मारकर जी रहे हैं, क्योंकि यहाँ तो हिन्दू नाम होना ही साम्प्रदायिक हो जाने की निशानी है।

शायद आपके राजनीतिक सिद्धान्त इस बात को ना मानते हों लेकिन इस देश का इतिहास जानता है कि इस देश ने हर धर्म, आस्था, मत, सम्प्रदाय को शरण दी है, जबकि बदले में इस देश को सिर्फ उन्हीं में से अधिकांश शरणार्थियों ने नफ़रत, घृणा और हिंसा से नवाज़ा है।

यही वो देश है जिसके प्रतिष्ठित विश्वविद्यालयों के अंदर से इसी देश के विरोध में नारेबाज़ी की जा सकती है। और यही वो सरकारें हैं जो इस बात को आसानी से नज़रअंदाज़ कर आपको रातों-रात शहीद भगत सिंह के बराबर लाकर खड़ा कर देती हैं।

इस देश कि सहिष्णुता का मिज़ाज ये है कि हिंदुओं की आस्था के सबसे बड़े प्रतीक, गाय को कभी चुनावी फ़ायदों के लिए पार्टी का चुनाव चिह्न बनाया जाता है, तो कभी सिर्फ हिंदुओं की धार्मिक भावनाओं को आहत करने के उद्देश्य से ही सड़कों पर गाय काट कर उत्सव मनाया जाता है।

उम्र और कैरियर के जिस पड़ाव पर आप आज खड़े हैं, वहाँ पर आपसे हर कोई एक जिम्मेदार बयान की उम्मीद करता है, लेकिन इस देश के हर नागरिक की आपसे बस यही विनती हो सकती है कि आप इस घृणा और नफ़रत की खाई को अगर कम नहीं कर सकते हैं, तो कम से कम इस खाई को और बढ़ाने का काम ना करें। वरना आपकी सस्ती लोकप्रियता के लिए अपनाए जा रहे हथकंडे यही साबित करते हैं कि इस देश के लिए ‘गुलफाम हसन’ साहब सिर्फ अफसोस हो सकते हैं सरफरोश नहीं।

चलते-चलते ये सूचना भी देता चलूँ कि नसीर जी की पिछले 7 सालों में 35 फ़िल्मों को बॉक्सऑफिस इंडिया पर ‘डिज़ास्टर’ की रेटिंग मिली है जो कि ऐसे महान अदाकार को लेकर देश के जनता की असहिष्णुता ही कही जा सकती है। ‘उह ला ला’ इनका आख़िरी हिट गाना है।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

आशीष नौटियाल
पहाड़ी By Birth, PUN-डित By choice

ख़ास ख़बरें

गहलोत ने की राहुल गाँधी के खिलाफ गैंगबाजी, 26 सीटों पर समेटा पार्टी को: सचिन पायलट ने कहा – ‘मैं अभी भी कॉन्ग्रेसी’

"200 सदस्यीय विधानसभा में जब कॉन्ग्रेस 21 सीटों पर सिमट गई, तब मैंने पार्टी की कमान संभाली। मैं जमीन पर मेहनत करता रहा और गहलोत तब चुप थे।"

कामराज प्लान: कॉन्ग्रेस के लिए दवा या फिर पायलट-सिंधिया जैसों को ठिकाने लगाने का फॉर्मूला?

कामराज प्लान। क्या यह राजनीतिक दल को मजबूत करने वाली संजीवनी बूटी है? या फिर कॉन्ग्रेस को परिवार की बपौती बनाने वाली खुराक?

₹9 लाख अस्पताल में रहने की कीमत : बेंगलुरु में बिल सुनते भागा कोरोना संदिग्ध, नहीं हुआ एडमिट

एक मरीज को कोलंबिया एशिया हॉस्पिटल ने 9.09 लाख रुपए का संभावित बिल थमा दिया। जबकि उन्हें कोरोना नहीं था, वो सिर्फ कोरोना संदिग्ध थे।

बकरीद पर कुर्बानी की छूट माँग रहे महाराष्ट्र में कॉन्ग्रेसी नेता, गणेशोत्सव पर लगाए गए हैं कई सारे प्रतिबंध

महाराष्ट्र में कॉन्ग्रेस मंत्री असलम शेख लगातार बकरीद पर छूट दिलवाने के लिए सरकार पर दबाव बना रहे हैं और उप मुख्यमंत्री अजीत पवार के साथ...

विदेश में पढ़ाई के दौरान मोहब्बत, पहले मजहब फिर सारा के CM पिता फारूक अब्दुल्ला बने रोड़ा: सचिन पायलट की लव स्टोरी

सारा और सचिन पेंसिल्वेनिया विश्वविद्यालय के व्हार्टन स्कूल में उच्च शिक्षा प्राप्त करने के दौरान एक दूसरे से मिले थे। एक दूसरे को डेट करने के बाद, दोनों ने सारा के परिवार की तरफ से लगातार आपत्तियों के बावजूद 2004 में एक बंधन में बँधने का फैसला किया।

केजरीवाल शिक्षा मॉडल: ‘योग्यतम की उत्तरजीविता’ के सिद्धांत की भेंट चढ़ते छात्रों का भविष्य चर्चा में क्यों नहीं आता

आँकड़े बताते है कि वर्ष 2008-2015 तक दिल्ली के सरकारी स्कूलों में पढ़ने वाले बच्चों का परीक्षा परिणाम कभी भी 85% से कम नही हुआ। लेकिन राजनीतिक लाभ और मीडिया मैनेजमेंट के लिए बच्चों को आक्रामक रूप से 9वीं और 11वीं में रोक दिया जाना कितना उचित है?

प्रचलित ख़बरें

‘लॉकडाउन के बाद इंशाअल्लाह आपको पीतल का हिजाब पहनाया जाएगा’: AMU की छात्रा का उत्पीड़न

AMU की एक छात्रा ने पुलिस को दी शिकायत में कहा है कि रहबर दानिश और उसके साथी उसका उत्पीड़न कर रहे। उसे धमकी दे रहे।

टीवी और मिक्सर ग्राइंडर के कचरे से ‘ड्रोन बॉय’ प्रताप एनएम ने बनाए 600 ड्रोन: फैक्ट चेक में खुली पोल

इन्टरनेट यूजर्स ऐसी कहानियाँ साझा कर रहे हैं कि कैसे प्रताप ने दुनिया भर के विभिन्न ड्रोन एक्सपो में कई स्वर्ण पदक जीते हैं, 87 देशों द्वारा उसे आमंत्रित किया गया है, और अब पीएम मोदी के साथ ही डीआरडीपी से उन्हें काम पर रखने के लिए कहा गया है।

‘मुझे बचा लो… बॉयफ्रेंड हबीब मुझे मार डालेगा’: रिदा चौधरी का आखिरी कॉल, फर्श पर पड़ी मिली लाश

आरोप है कि हत्या के बाद हबीब ने रिदा के शव को पंखे से लटका कर इसे आत्महत्या का रूप देने का प्रयास किया। गुरुग्राम पुलिस जाँच कर रही है।

कट्टर मुस्लिम किसी के बाप से नहीं डरता: अजान की आवाज कम करने की बात पर फरदीन ने रेप की धमकी दी

ये तस्वीर रीमा (बदला हुआ नाम) ने ट्विटर पर 28 जून को शेयर की थी। इसके बाद सुहेल खान ने भी रीमा के साथ अभद्रता से बात की थी।

मैं हिंदुओं को सबक सिखाना चाहता था, दंगों से पहले तुड़वा दिए थे सारे कैमरे: ताहिर हुसैन का कबूलनामा

8वीं तक पढ़ा ताहिर हुसैन 1993 में अपने पिता के साथ दिल्ली आया था और दोनों पिता-पुत्र बढ़ई का काम करते थे। पढ़ें दिल्ली दंगों पर उसका कबूलनामा।

विदेश में पढ़ाई के दौरान मोहब्बत, पहले मजहब फिर सारा के CM पिता फारूक अब्दुल्ला बने रोड़ा: सचिन पायलट की लव स्टोरी

सारा और सचिन पेंसिल्वेनिया विश्वविद्यालय के व्हार्टन स्कूल में उच्च शिक्षा प्राप्त करने के दौरान एक दूसरे से मिले थे। एक दूसरे को डेट करने के बाद, दोनों ने सारा के परिवार की तरफ से लगातार आपत्तियों के बावजूद 2004 में एक बंधन में बँधने का फैसला किया।

गहलोत ने की राहुल गाँधी के खिलाफ गैंगबाजी, 26 सीटों पर समेटा पार्टी को: सचिन पायलट ने कहा – ‘मैं अभी भी कॉन्ग्रेसी’

"200 सदस्यीय विधानसभा में जब कॉन्ग्रेस 21 सीटों पर सिमट गई, तब मैंने पार्टी की कमान संभाली। मैं जमीन पर मेहनत करता रहा और गहलोत तब चुप थे।"

कामराज प्लान: कॉन्ग्रेस के लिए दवा या फिर पायलट-सिंधिया जैसों को ठिकाने लगाने का फॉर्मूला?

कामराज प्लान। क्या यह राजनीतिक दल को मजबूत करने वाली संजीवनी बूटी है? या फिर कॉन्ग्रेस को परिवार की बपौती बनाने वाली खुराक?

₹9 लाख अस्पताल में रहने की कीमत : बेंगलुरु में बिल सुनते भागा कोरोना संदिग्ध, नहीं हुआ एडमिट

एक मरीज को कोलंबिया एशिया हॉस्पिटल ने 9.09 लाख रुपए का संभावित बिल थमा दिया। जबकि उन्हें कोरोना नहीं था, वो सिर्फ कोरोना संदिग्ध थे।

बकरीद पर कुर्बानी की छूट माँग रहे महाराष्ट्र में कॉन्ग्रेसी नेता, गणेशोत्सव पर लगाए गए हैं कई सारे प्रतिबंध

महाराष्ट्र में कॉन्ग्रेस मंत्री असलम शेख लगातार बकरीद पर छूट दिलवाने के लिए सरकार पर दबाव बना रहे हैं और उप मुख्यमंत्री अजीत पवार के साथ...

Covid-19: भारत में अब तक 23727 की मौत, 311565 सक्रिय मामले, आधे से अधिक संक्रमित महाराष्ट्र, तमिलनाडु और दिल्ली में

केंद्रीय स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय के आधिकारिक आँकड़ों के अनुसार, पिछले 24 घंटे में देशभर में 28,498 नए मामले सामने आए हैं और 553 लोगों की कोरोना वायरस के कारण मौत हुई है।

विदेश में पढ़ाई के दौरान मोहब्बत, पहले मजहब फिर सारा के CM पिता फारूक अब्दुल्ला बने रोड़ा: सचिन पायलट की लव स्टोरी

सारा और सचिन पेंसिल्वेनिया विश्वविद्यालय के व्हार्टन स्कूल में उच्च शिक्षा प्राप्त करने के दौरान एक दूसरे से मिले थे। एक दूसरे को डेट करने के बाद, दोनों ने सारा के परिवार की तरफ से लगातार आपत्तियों के बावजूद 2004 में एक बंधन में बँधने का फैसला किया।

फ्रांस के पिघलते ग्लेशियर से मिले 1966 के भारतीय अखबार, इंदिरा गाँधी की जीत का है जिक्र

पश्चिमी यूरोप में मोंट ब्लैंक पर्वत श्रृंखला पर पिघलते फ्रांसीसी बोसन्स ग्लेशियरों से 1966 में इंदिरा गाँधी की चुनावी विजय की सुर्खियों वाले भारतीय अखबार बरामद हुए हैं।

नेपाल में हिंदुओं ने जलाया इमरान खान का पुतला: पाक में मंदिर निर्माण रोके जाने और हिंदू समुदाय के उत्पीड़न का किया विरोध

"पाकिस्तान में हिंदू अल्पसंख्यक अभी भी सरकार द्वारा प्रताड़ित किए जा रहे हैं। सरकार हिंदू मंदिरों और मठों के निर्माण की अनुमति नहीं देकर एक और बड़ा अपराध कर रही है।"

केजरीवाल शिक्षा मॉडल: ‘योग्यतम की उत्तरजीविता’ के सिद्धांत की भेंट चढ़ते छात्रों का भविष्य चर्चा में क्यों नहीं आता

आँकड़े बताते है कि वर्ष 2008-2015 तक दिल्ली के सरकारी स्कूलों में पढ़ने वाले बच्चों का परीक्षा परिणाम कभी भी 85% से कम नही हुआ। लेकिन राजनीतिक लाभ और मीडिया मैनेजमेंट के लिए बच्चों को आक्रामक रूप से 9वीं और 11वीं में रोक दिया जाना कितना उचित है?

‘अगर यहाँ एक भी मंदिर बना तो मैं सबसे पहले सुसाइड जैकेट पहन कर उस पर हमला करूँगा’: पाकिस्तानी शख्स का वीडियो वायरल

सोशल मीडिया पर एक वीडियो वायरल हो रहा है, जिसमें एक युवक पाकिस्तान में मंदिर बनाने या बुतपरस्ती करने पर उसे खुद बम से उड़ाने की बात कहते हुए देखा जा सकता है।

हमसे जुड़ें

239,591FansLike
63,532FollowersFollow
274,000SubscribersSubscribe