Thursday, April 15, 2021
Home हास्य-व्यंग्य-कटाक्ष व्यंग्य: यूट्यूब बनाम टिकटॉक पर बोले रवीश- ये डिजिटल साम्प्रदायिकता है, डर का माहौल...

व्यंग्य: यूट्यूब बनाम टिकटॉक पर बोले रवीश- ये डिजिटल साम्प्रदायिकता है, डर का माहौल है

अब प्रसिद्धि और पैसे पर सिर्फ ऊँची जात के हिंदुओं का आधिपत्य ख़त्म होने का वक्त आ गया था। टिकटॉक पर मिस्टर फैसु, रियाज़ अली, जन्नत ज़ुबैर, आमिर सिद्दकी जैसे वंचित अल्पसंख्यकों को पहचान मिली। पहुँच, पैसे और फॉलोवर्स की गिनती में ये लोग यूट्यूब के सम्पन्न अपर कास्ट हिन्दू पुरुषों से भी आगे निकल गए।

नमस्कार, मैं रवीश कुमार। प्राइमटाइम में आपका स्वागत है। आजकल यूट्यूब बनाम टिकटॉक का मुद्दा गरमाया हुआ है। आपने सुना ही होगा। आप सोच रहे होंगे कि मुझ जैसे मँजे हुए वरिष्ठ पत्रकार को इस महत्वहीन मुद्दे में दिलचस्पी भला क्यों होने लगी। दिलचस्पी इसलिए क्योंकि मुद्दा महत्वहीन नहीं, महत्वपूर्ण है।

आप नहीं देख पा रहे क्योंकि इसके पीछे छिपी हुई साजिश को समझने के लिए मैग्सेसे पुरष्कृत पत्रकार जैसी सूझबूझ, परिपक्वता और पारखी नज़र चाहिए जो.. हे हे हे.. आपको पता है कि किसमें है। यूट्यूब बनाम टिकटॉक युवाओं के दो गुटों के बीच पनप रही प्रतिस्पर्धा और वर्चस्व की लड़ाई नहीं है। ये दरअसल एकक्षत्र राज कर रहे अभिजात हिन्दू बहुल यूट्यूब और उसे चुनौती दे रहे वंचित मजहब बहुल टिकटॉक के बीच का संघर्ष है।

आपको ज्ञात हो कि यूट्यूब पर ऊँची जात के हिंदुओं का आधिपत्य है। आशीष चंचलानी, कैरीमिनाती उर्फ अजय नागर, भुवन बाम, हमारा खासमखास ध्रुव राठी, गाली गलौच में पारंगत हिंदुस्तानी भाऊ, इत्यादि सब ऊँची जात के हिन्दू हैं और यूट्यूब पर इनकी तूती बोलती है। इनके रहते यूट्यूब पर कोई भी दलित या अल्पसंख्यक समाज का व्यक्ति पनप नहीं पाया।

समय का पहिया घूमता है और भारत में चाइनीज कम्पनी द्वारा निर्मित एक ऐप टिकटॉक आती है जिसे गरीबों का यूट्यूब भी कहा जाता है। टिकटॉक प्रतिभा होने के बावजूद संसाधन न होने की वजह से दरकिनार हुए गरीबों, अल्पसंख्यकों, वंचितों और पिछड़ों के लिए आशा की किरण बनकर आया।

अब प्रसिद्धि और पैसे पर सिर्फ ऊँची जात के हिंदुओं का आधिपत्य ख़त्म होने का वक्त आ गया था। टिकटॉक पर मिस्टर फैसु, रियाज़ अली, जन्नत ज़ुबैर, आमिर सिद्दकी जैसे वंचित अल्पसंख्यकों को पहचान मिली। पहुँच, पैसे और फॉलोवर्स की गिनती में ये लोग यूट्यूब के सम्पन्न अपर कास्ट हिन्दू पुरुषों से भी आगे निकल गए।

ऐसे में जलन होना स्वाभाविक ही है। यही कारण है कि कैरीमिनाती के छद्मनाम से प्रसिद्ध अजय नागर, जो कि एक ब्राह्मण हैं, एक अल्पसंख्यक आमिर सिद्दकी से भिड़ गए। आमिर उस शांतिप्रिय युवा का प्रतिनिधित्व करते हैं जिसका बचपन 2002 के दंगों के साये में गुजरा। जिसकी जवानी फासीवादी ताकतों के शोषण में गुज़री।

इतना सहने के बावजूद सिद्दकी अजय नागर से सम्पन्न ब्राह्मण की तरफ यह कहकर दोस्ती का हाथ बढ़ाते हैं कि हम यहाँ एक दूसरे के साथ के साथ आगे बढ़ना चाहते हैं, वहीं पितृसत्तात्मक ब्राह्मणवाद से लबरेज़ नागर उन्हें ये कहकर ठुकरा देते हैं कि वो उन्हें 200 रुपए के भाव में मिठाई की दुकान पर बेच देंगे।

हेकड़ी देख रहे हैं आप? क्या ऐसे बचेगी गंगा-जमुनी तहज़ीब? अजय नागर साफ साफ यह संदेश देना चाह रहे हैं कि अल्पसंख्यक में चाहे जितनी काबलियत और उपलब्धियाँ हो, वो सवर्ण हिंदुओं की नज़रों में कभी सम्मान नहीं पा सकता। बड़ी विडंबना है।

शायद आपको अब तक समझ आ ही गया होगा कि यूट्यूब बनाम टिकटॉक कोई वर्चस्व की लड़ाई नहीं है। ये एक किस्म का डिजिटल साम्प्रदायिकता है जो कि बहुत दुखद है। चलिए ज़्यादा नहीं कहेंगे क्योंकि फ़ासीवादियों की आलोचना सुनने की क्षमता बहुत कम होती है। पता चला कल हमारे ही नाम पर एफआईआर की घोषणा हो जाए।

डर का माहौल है। शुभरात्रि!

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘वीडियो और तस्वीरों ने कोर्ट की अंतरात्मा को हिला दिया है…’: दिल्ली दंगों में पिस्टल लहराने वाले शाहरुख को जमानत नहीं

दिल्ली हाई कोर्ट ने दिल्ली दंगों के आरोपित शाहरुख पठान को जमानत देने से इनकार कर दिया है।

ESPN की क्रांति, धार्मिक-जातिगत पहचान खत्म: दिल्ली कैपिटल्स और राजस्थान रॉयल्स के मैच की कॉमेंट्री में रिकॉर्ड

ESPN के द्वारा ‘बैट्समैन’ के स्थान पर ‘बैटर’ और ‘मैन ऑफ द मैच’ के स्थान पर ‘प्लेयर ऑफ द मैच’ जैसे शब्दों का उपयोग होगा।

‘बेड दीजिए, नहीं तो इंजेक्शन देकर उन्हें मार डालिए’: महाराष्ट्र में कोरोना+ पिता को लेकर 3 दिन से भटक रहा बेटा

किशोर 13 अप्रैल की दोपहर से ही अपने कोरोना पॉजिटिव पिता का इलाज कराने के लिए भटक रहे हैं।

बाबा बैद्यनाथ मंदिर में ‘गौमांस’ वाले कॉन्ग्रेसी MLA इरफान अंसारी ने की पूजा, BJP सांसद ने उठाई गिरफ्तारी की माँग

"जिस तरह काबा में गैर मुस्लिम नहीं जा सकते, उसी तरह द्वादश ज्योतिर्लिंग बाबा बैद्यनाथ मंदिर में गैर हिंदू का प्रवेश नहीं। इरफान अंसारी ने..."

‘मुहर्रम के कारण दुर्गा विसर्जन को रोका’ – कॉन्ग्रेस के साथी मौलाना सिद्दीकी का ममता पर आरोप

भाईचारे का राग अलाप रहे मौलाना फुरफुरा शरीफ के वही पीरजादा हैं, जिन्होंने अप्रैल 2020 में वायरस से 50 करोड़ हिंदुओं के मरने की दुआ माँगी थी।

‘जब गैर मजहबी मरते हैं तो खुशी…’ – नाइजीरिया का मंत्री, जिसके अलकायदा-तालिबान समर्थन को लेकर विदेशी मीडिया में बवाल

“यह जिहाद हर एक आस्तिक के लिए एक दायित्व है, विशेष रूप से नाइजीरिया में... या अल्लाह, तालिबान और अलकायदा को जीत दिलाओ।”

प्रचलित ख़बरें

छबड़ा में मुस्लिम भीड़ के सामने पुलिस भी थी बेबस: अब चारों ओर तबाही का मंजर, बिजली-पानी भी ठप

हिन्दुओं की दुकानों को निशाना बनाया गया। आँसू गैस के गोले दागे जाने पर हिंसक भीड़ ने पुलिस को ही दौड़ा-दौड़ा कर पीटा।

‘कल के कायर आज के मुस्लिम’: यति नरसिंहानंद को गाली देती भीड़ को हिन्दुओं ने ऐसे दिया जवाब

यमुनानगर में माइक लेकर भड़काऊ बयानबाजी करती भीड़ को पीछे हटना पड़ा। जानिए हिन्दू कार्यकर्ताओं ने कैसे किया प्रतिकार?

थूको और उसी को चाटो… बिहार में दलित के साथ सवर्ण का अत्याचार: NDTV पत्रकार और साक्षी जोशी ने ऐसे फैलाई फेक न्यूज

सोशल मीडिया पर इस वीडियो के बारे में कहा जा रहा है कि बिहार में नीतीश कुमार के राज में एक दलित के साथ सवर्ण अत्याचार कर रहे।

जानी-मानी सिंगर की नाबालिग बेटी का 8 सालों तक यौन उत्पीड़न, 4 आरोपितों में से एक पादरी

हैदराबाद की एक नामी प्लेबैक सिंगर ने अपनी बेटी के यौन उत्पीड़न को लेकर चेन्नई में शिकायत दर्ज कराई है। चार आरोपितों में एक पादरी है।

पहले कमल के साथ चाकूबाजी, अगले दिन मुस्लिम इलाके में एक और हिंदू पर हमला: छबड़ा में गुर्जर थे निशाने पर

राजस्थान के छबड़ा में हिंसा क्यों? कमल के साथ फरीद, आबिद और समीर की चाकूबाजी के अगले दिन क्या हुआ? बैंसला ने ऑपइंडिया को सब कुछ बताया।

छबड़ा में कर्फ्यू जारी, इंटरनेट पर पाबंदी बढ़ी: व्यापारियों का ऐलान- दोषियों की गिरफ्तारी तक नहीं खुलेंगी दुकानें

राजस्थान के बाराँ स्थित छबड़ा में आबिद, फरीद और समीर की चाकूबाजी के अगले दिन भड़की हिंसा में मुस्लिम भीड़ ने 6 दर्जन के करीब दुकानें जला डाली थी।
- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

292,985FansLike
82,215FollowersFollow
394,000SubscribersSubscribe