Friday, April 23, 2021
Home विविध विषय कला-साहित्य क्या विभाजन की विचारधारा आज भी जिन्दा है: अजीत भारती और संजय दीक्षित के...

क्या विभाजन की विचारधारा आज भी जिन्दा है: अजीत भारती और संजय दीक्षित के बीच बातचीत

अजीत भारती ने कहा कि उम्माह के नाम पर सिर्फ अपनी कौम के लिए ही हमेशा फैसले लेने वाले लोग 'भारत' की बात नहीं कर सकते। उन्होंने कहा कि अगर ऐसा होता तो पीएचडी कर रहे मुस्लिम छात्र भी भारत को असम से काटने की बात नहीं कर रहे होते

राजस्थान कैडर के IAS अधिकारी रह चुके संजय दीक्षित (Sanjay Dixit) की पुस्तक ‘Nullifying article 370 and enacting CAA’ (अनुच्छेद 370 का निरस्तीकरण और CAA को लागू करना) पर ऑपइंडिया के सम्पादक अजीत भारती और संजय दीक्षित के बीच भारत में रह रहे कथित अल्पसंख्यकों के विभाजन की विचारधारा पर बातचीत हुई।

आईएएस अधिकारी के यूट्यूब चैनल ‘The Jaipur Dialogues’ पर अजीत भारती ने बताया कि किस तरह से आजादी के बाद भी आज तक इस देश को तोड़ने वाली विचारधारा की अच्छी खासी पैठ है और वो यह समय-समय पर साबित भी करने का प्रयास करते हैं।

इस चर्चा के दौरान भारतीय स्वतन्त्रता आंदोलन के दौरान चलाए गए खिलाफत आंदोलन के बारे में भी चर्चा हुई। किताब के लेखक संजय दीक्षित ने समुदाय विशेष के भीतर आजादी के दौर से ही चली आ रही अलगाववाद की भावना का जिक्र करते हुए कहा कि यह हमारे लोगों को कभी नजर क्यों नहीं आया कि काफिरों को इस्तेमाल करने को तो मुस्लिम राजी रहते हैं, लेकिन देखते वो उन्हें हिकारत की ही नजर से आए हैं।

बातचीत में अजीत भारती ने कहा कि अल्पसंख्यकों को जो अधिकार इस देश में मिले हैं, वो हिन्दू अल्पसंख्यकों को भी अपने ही देश में हासिल नहीं हैं। उन्होंने कहा कि देश में जो अल्पसंख्यक हैं उनके लिए अल्पसंख्यक का दर्जा छोटी इकाइयों के रूप में या जिले के स्तर पर होना चाहिए क्योंकि कश्मीर में यदि आप मुस्लिमों को अल्पसंख्यक कहते हैं तो यह किसी भी तरह से जायज नहीं है।

उन्होंने कहा कि मजहब के नाम पर हुए 1947 के विभाजन में कई मुस्लिम अल्पसंख्यकों को उनकी जमीन भी मिली लेकिन ऐसे लोग, जो आजादी की लड़ाई में सबसे आगे रहे, उन्हें विभाजन के समय हाशिए पर धकेल दिया गया। ऑपइंडिया के सम्पादक ने कहा कि तब तुष्टिकरण की नीति वाले जिन्ना ने पूरे देश को ही तोड़कर रख दिया था और अभी भी यह मानसिकता देश के विभाजन का सपना देखती है।

संजय दीक्षित ने अपनी इस पुस्तक का जिक्र करते हुए कहा कि उनकी पुस्तक में भारत में अल्पसंख्यकों की स्थिति पर भी एक हिस्से में चर्चा की गई है। उन्होंने अल्पसंख्यकों के तुष्टिकरण को ‘नेहरूवाद’ का नाम दिया है, जो कि आज तक भी हमारे तंत्र में जिन्दा है।

उन्होंने बताया कि यह अल्पसंख्यक और तुष्टिकरण शब्दों का बीजारोपण आजादी की लड़ाई के आख़िरी वर्षों में तब हुआ जब मुस्लिमों को चुनावों में सुरक्षित कोटा बाँट दिया जाने लगा और गाँधी के आगमन के बाद से तो मानो यह एक स्थापित सत्य बन गया।

आईएएस अधिकारी ने कहा कि हिंदूवादी समूहों ने तब भी इसका विरोध किया था और आज तक भी सत्ताधारी दलों द्वारा इस अल्पसंख्यकों के कोटा का विरोध नहीं किया जाता है। सरदार पटेल ने संविधान सभा की बैठक में कहा था कि अल्पसंख्यक, जिन्होंने देश के विभाजन को बढ़ावा दिया, वो अपने आप को अल्पसंख्यक क्यों कहते हैं? संजय दीक्षित ने अपनी पुस्तक से इस हिस्से को पढ़कर बताया कि सरदार पटेल ने संविधान सभा में यही सवाल किया था कि अगर आप ताकतवर हैं तो फिर आप खुद को अल्पसंख्यक क्यों कहना चाहते हैं?

अल्पसंख्यकों की विचारधारा और देश के प्रति आस्था के विचार पर अजीत भारती ने कहा कि मुस्लिमों ने उम्माह या उम्मत के नाम पर 1947 में विभाजन के बाद से ही बांग्लादेश और पाकिस्तान को अपनी सम्पत्ति और भारत को अपनी साझा सम्पत्ति के रूप में देखा। इसी तरह से खिलाफत आन्दोलन देश के विभाजन का कारण बना, जिसे कि कॉन्ग्रेस ने भी हिन्दू-मुस्लिम एकता के नाम पर भरपूर समर्थन दिया था। लेकिन इसमें सिर्फ हिन्दुओं को ही बेवकूफ बनाकर अपना उल्लू सीधा कर लिया गया। वो मंदिर तोड़ते गए और खुद तुर्की में चाँद देखकर अपने मजहब के प्रति अपनी जिम्मेदारी की मिशाल देते रहे।

उन्होंने कहा कि यही ‘हिन्दू-मुस्लिम एकता’ समय के साथ सिर्फ और सिर्फ हिन्दुओं पर एक बोझ ही साबित हुई है, जबकि मुस्लिम नेताओं ने इसे एक ब्लैकमेल करने और विक्टिम कार्ड खेलने के लिए ही इस्तेमाल किया है।

विभाजन की विचारधारा पर चर्चा करते हुए अजीत भारती ने कहा कि उम्माह के नाम पर सिर्फ और सिर्फ अपनी कौम के लिए ही हमेशा फैसले लेने वाले लोग ‘भारत’ की बात नहीं कर सकते। उन्होंने कहा कि अगर ऐसा होता तो पीएचडी कर रहे मुस्लिम छात्र भी भारत को असम से काटने की बात नहीं कर रहे होते और शरजील इमाम जैसे लोग इसका बेहतर उदाहरण हैं।

संजय दीक्षित ने अपनी पुस्तक का जिक्र करते हुए बताया कि उन्होंने इसमें डॉक्टर अंबेडकर के एक बयान को इस्तेमाल किया है, जिसमें उन्होंने मुस्लिमों की राजनीति को गैंगस्टर्स का तरीका बताया था।

अजीत भारती ने बताया कि अल्पसंख्यक शुरुआत से ही अपनी भीड़ के अनुपात में अपने दायरे को बढ़ाते और घटाते हैं। उन्होंने कहा कि खुद दंगा करने के बाद जिसे पीड़ा पहुँचाई उन पर ही इसका आरोप भी थोप दिया गया। यही कारसेवकों को जला देने के बाद हुआ और यही रणनीति दिल्ली में हुए हिन्दू-विरोधी दंगों के दौरान भी अपनाई गई।

संजय दीक्षित और अजीत भारती के बीच की पूरी बातचीत आप नीचे दी गई यूट्यूब लिंक पर देख सकते हैं

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

13 मरीज अस्पताल में जल कर मर गए, महाराष्ट्र के स्वास्थ्य मंत्री ने कहा – ‘यह नेशनल न्यूज नहीं’

महाराष्ट्र में आग लगने से 13 कोविड मरीजों की दर्दनाक मौत को लेकर राज्य के स्वास्थ्य मंत्री राजेश टोपे ने कहा कि यह राष्ट्रीय खबर नहीं है।

डॉ आमिर खान गिरफ्तार, ₹4000 का इंजेक्शन बेच रहा था ₹60000 में: कोरोना पीड़ितों को ठगने में MR इमरान भी शामिल

अस्सिस्टेंट ड्यूटी डॉक्टर आमिर खान और MR इमरान खान के खिलाफ एक महिला ने शिकायत की थी। दोनों इंजेक्शन को 15 गुना अधिक कीमत पर बेच रहे थे।

थरूर और पवार ने पूर्व लोकसभा अध्यक्ष सुमित्रा महाजन की ‘मौत की खबर’ फैलाई, बाद में डिलीट किए ट्वीट्स

थरूर ने लिखा, "पूर्व लोकसभा स्पीकर सुमित्रा महाजन के गुजर जाने से मैं बेहद दुःखी हूँ।" महाजन के परिजनों ने फेक न्यूज़ पर आपत्ति जताई।

13 कोरोना मरीजों की ICU में जल कर मौत: महाराष्ट्र के विजय वल्लभ अस्पताल में लगी भीषण आग

कोरोना संकट के बीच महाराष्ट्र के अस्पतालों में आग लगने का सिलसिला थमने का नाम नहीं ले रहा। मुंबई के विरार में विजय वल्लभ अस्पताल में...

Remdesivir के नाम पर अकाउंट में पैसे मँगवा गायब हो रहे धोखेबाज, सिप्ला ने चेतायाः जानें ठगी से कैसे बचें

सिप्ला ने 'रेमडेसिविर' के नाम पर लोगों के साथ की जा रही धोखाधड़ी को लेकर सावधान किया है।

बंगाल में रैली नहीं, कोरोना पर हाई लेवल मीटिंग करेंगे PM मोदी; पर क्या आप जानते हैं रिव्यू मीटिंग में कितनी बार शामिल हुईं...

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 23 अप्रैल की बंगाल की रैली कैंसिल कर दी है, जबकि इसी दिन ममता बनर्जी चार रैलियों को संबोधित करेंगी।

प्रचलित ख़बरें

‘प्लाज्मा के लिए नंबर डाला, बदले में भेजी गुप्तांग की तस्वीरें; हर मिनट 3-4 फोन कॉल्स’: मुंबई की महिला ने बयाँ किया दर्द

कुछ ने कॉल कर पूछा क्या तुम सिंगल हो, तो किसी ने फोन पर किस करते हुए आवाजें निकाली। जानिए किस प्रताड़ना से गुजरी शास्वती सिवा।

सीताराम येचुरी के बेटे का कोरोना से निधन, प्रियंका ने सीताराम केसरी के लिए जता दिया दुःख… 3 बार में दी श्रद्धांजलि

प्रियंका गाँधी ने इस घटना पर श्रद्धांजलि जताने हेतु ट्वीट किया। ट्वीट को डिलीट किया। दूसरे ट्वीट को भी डिलीट किया। 3 बार में श्रद्धांजलि दी।

पाकिस्तान के जिस होटल में थे चीनी राजदूत उसे उड़ाया, बीजिंग के ‘बेल्ट एंड रोड’ प्रोजेक्ट से ऑस्ट्रेलिया ने किया किनारा

पाकिस्तान के क्वेटा में उस होटल को उड़ा दिया, जिसमें चीन के राजदूत ठहरे थे। ऑस्ट्रेलिया ने बीआरआई से संबंधित समझौतों को रद्द कर दिया है।

रेप में नाकाम रहने पर शकील ने बेटी को कर दिया गंजा, जैसे ही बीवी पढ़ने लगती नमाज शुरू कर देता था गंदी हरकतें

मेरठ पुलिस ने शकील को गिरफ्तार किया है। उस पर अपनी ही बेटी ने रेप करने की कोशिश का आरोप लगाया है।

मधुबनी: धरोहर नाथ मंदिर में सोए दो साधुओं का गला कुदाल से काटा, ‘लव जिहाद’ का विरोध करने वाले महंत के आश्रम पर हमला

बिहार के मधुबनी जिला स्थित खिरहर गाँव में 2 साधुओं की गला काट हत्या कर दी गई है। इससे पहले पास के ही बिसौली कुटी के महंत के आश्रम पर रात के वक्त हमला हुआ था।

बहादुरी के बाद अब दुनिया ने देखी मयूर शेलके की दरियादिली: जिस बच्चे की जान बचाई अब उसे देंगे आधा इनाम

मयूर शेलके ने इनाम में मिली राशि का आधा हिस्सा उस बच्चे और उसकी माँ को देने का फैसला किया है, जिसकी जिंदगी उन्होंने बचाई थी।
- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

293,845FansLike
83,429FollowersFollow
394,000SubscribersSubscribe