Wednesday, July 8, 2020
Home विविध विषय धर्म और संस्कृति ब्रज से नहीं, बुंदेलखंड से हुई होली की शुरुआत: अंग्रेजों के षड्यंत्र से आज...

ब्रज से नहीं, बुंदेलखंड से हुई होली की शुरुआत: अंग्रेजों के षड्यंत्र से आज नहीं मनेगी वहाँ होली!

झाँसी के महाराजा गंगाधर राव के दत्तक पुत्र को राज्य से बेदखल कर देने का अंग्रेजी आदेश 13 मार्च 1854 को झाँसी पहुँचा था। इस वर्ष 14 मार्च को होली जलाई गई थी। इस आदेश की जानकारी लोगों को अगले दिन हुई, जिसके बाद होली नहीं मनाई गई। इसके बाद से ही यह परम्परा चली आ रही है।

ये भी पढ़ें

घर से बाहर रह रहे लोगों को भले ही साल भर फुरसत ना मिले किन्तु तीज त्योहार पर घर और घर की यादें खींच ले जाती हैं अतीत में।

हमारा भी हाल कमोबेश यही है कुछ कि तीस साल घर से बाहर गुज़ार लेने के कारण घर ज़्यादा याद आता है होली दीवाली पर।

बुंदेलखंडी होने के कारण बचपन की यादों में एक याद ये भी है कि पड़वाँ के दिन होली नहीं खेली जाती है झाँसी में। पड़वाँ यानी कि होली दहन के बाद का दिन झाँसी वालों के लिए शोक दिवस होता था, सो रंगों का कार्यक्रम दूज वाले दिन होता था।

जो कारण यादों में बसा हुआ है या यूँ कहिए बसा हुआ था कल रात तक, वो ये था कि पड़वाँ वाले दिन झाँसी नरेश, महाराज गंगाधर राव का देहांत हो गया था। कल रात जब होली के बारे में कुछ जानकारी एकत्रित कर रहा था तो महराजा के मृत्यु दिवस पर दृष्टि गई।

21 नवम्बर ,1853 की तारीख इतिहास के पन्नों में दर्ज है। ध्यान नहीं गया एक बार और फिर चौंक गया। होली और नवम्बर कुछ जम सा नहीं रहा था।

और खंगालना शुरू किया तो पता ये चला कि महाराजा गंगाधर राव की मृत्यु दिवस में तो कोई गड़बड़ नहीं है किन्तु ब्रिटिश हुकूमत द्वारा फरवरी माह में जारी वो काला अध्यादेश, जिसमें महाराज के दत्तक पुत्र को राज्य से बेदखल कर देने की बात थी, 13 मार्च 1854 को झाँसी पहुँचा था। इसी वर्ष 14 मार्च को होली जलाई गई थी। अध्यादेश की जानकारी लोगों को अगले दिन हुई, जिसके बाद होली नहीं मनाई गई। इसके बाद से ही यह परम्परा चली आ रही है।

इतिहास के जानकार और पारिवारिक मित्र श्री मुकुन्द मेहरोत्रा जी की जानकारी के तथ्यों के अनुसार होलिका दहन के अगले दिन महाराजा गंगाधर राव की पुण्यतिथि मनाई जाती थी और इससे भ्रम की स्थिति बन गई।

वैसे क्या आपको पता है कि रंगों के त्योहार की शुरुआत कहाँ से हुई थी?

अगर आप किसी से ये सवाल पूछें भी तो उसका जवाब शायद ब्रज होगा लेकिन ऐसा नहीं है। दरअसल रंगों के त्योहार होली की शुरुआत बुंदेलखंड के एरच कस्बे से हुई है, जो झाँसी जिले में पड़ता है।

क्यूँ चौंक गए ना?

जी हाँ, यही वो कस्बा है, जो कभी असुरराज हिरण्यकश्यप की राजधानी हुआ करता था। इतिहास में इस बात के प्रमाण भी हैं कि सतयुग में इस एरच को ही ‘एरिकच्छ’ के नाम से जाना जाता था।

एरच के पास बेतवा नदी के किनारे डिकोली गाँव है। बताया जाता है कभी इस गाँव की जगह डिंकाचल पर्वत हुआ करता था। इसी पर्वत से प्रह्लाद को वेतवा नदी में फेंकने का प्रयास किया गया था लेकिन वे भगवान विष्णु के आशीर्वाद की वजह से बच गए। बाद में प्रह्लाद को हिरण्यकश्यप ने अपनी बहन होलिका की गोद में बैठाकर आग में जलाकर मारने का प्रयास किया। लेकिन ये भी संभव नहीं हो पाया और वरदान प्राप्त होने के बावजूद इस आग में खुद होलिका ही जल गई।

कहा जाता है बाद में नरसिंह अवतार में हिरण्यकश्यप को मारने के बाद भगवान ने यहीं असुरों को गुलाल लगाकर उनसे आपसी दुश्मनी को खत्म करने का संदेश दिया था। वहीं लोगों ने बुराई पर अच्छाई की विजय के प्रतीक इस पर्व पर लोगों को रंग लगाकर उत्सव मनाना शुरू किया।

इस इलाके में पुराने महल के भग्नावशेष भी मिलते हैं, जो हिरण्यकश्यप के महल के बताए जाते हैं। खुदाई के दौरान यहाँ हिरण्यकश्यप काल की शिलाएँ और होलिका की गोद में बैठे प्रह्लाद की मूर्तियाँ भी मिली हैं, जो ये साबित करती हैं कि होलिका, हिरण्यकश्यप का संबंध इसी इलाके से रहा है।

वैसे बुंदेलखंड में पड़वाँ वाले दिन होली ना मनाने का एक कारण कुछ लोग राजा हिरण्यकश्यप और उसकी बहन की मृत्यु को भी बताया करते हैं।

इण्टरनेट को खँगालें तो उत्तर प्रदेश के हरदोई व बिहार के पूर्णिया जनपद को राजा हिरण्यकश्यप की रियासत बताने के साथ होली की शुरुआत वहाँ से होने का दावा किया गया है।

फिलहाल होली शुरू कहीं से भी हुई हो, आप कहीं भी किसी को रंग लगा सकते हैं। आज पड़वाँ है तो हम तो खेलने वाले नहीं होली, आप जी भर कर खेलिए और रंग-अबीर से आसमान को रंगीला राजा बना डालिए।

आप सभी को होली की शुभकामनाएं

भारत की विविधता, संस्कृति, लोक कला, साहित्य को समेटती होली, हर राज्य में अलग रंग

वह दौर जब होली ईद-ए-गुलाबी या आब-ए-पाशी हो गई थी

राग-विराग-वैराग की नगरी काशी: क्यों खेली जाती है महाश्मशान के चिता भस्म से होली, जोगीरा-बुढ़वा मंगल की परंपरा

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ख़ास ख़बरें

‘द वायर’ ने फिर फैलाया फेक न्यूज़, लिखा- ‘कोरोना प्रकोप के बाद NCPCR के पास दर्ज शिकायतों में हुई 8 गुना वृद्धि’, जानिए क्या...

पीआईबी फैक्ट चेक की ट्वीट में कहा गया कि राष्ट्रीय बाल अधिकार संरक्षण आयोग (NCPCR) ने शिकायत में 8 गुना वृद्धि को स्पष्ट रूप से नकार दिया है।

कोरोना के दौरान भारत से अनाथ बच्चों को इटली, माल्टा, जॉर्डन भेजा गया: संस्था के CEO दीपक और ईसाई मिशनरियों का गिरोह है इसके...

दीपक कुमार ने CEO रहते CARA में ईसाई महिलाओं की सत्ता स्थापित कर दी थी, जिनके इशारों पर बच्चों को गोद लेने-देने का खेल चलता था। अब हटाए गए।

माँ और जाति की गाली देकर मुस्लिमों ने धारदार हथियारों से किया घायल: बेगूसराय में महादलितों का आरोप

पुलिस की ही गाड़ी में घायल महादलितों को अस्पताल पहुँचाया गया। शंकर पासवान का कहना है कि मुस्लिम बहुल इलाक़े में उनके बाल-बच्चे कैसे जिएँगे?

राहुल गाँधी डॉक्टर नहीं, जो उन्हें वेंटिलेटर जाँचना आता हो: AgVa के प्रोफ़ेसर ने कहा- मैं उन्हें डेमो दिखाना चाहूँगा

राहुल गाँधी ने वेंटिलेटर की जाँच किए बिना ही उससे जुड़ी खबर को रीट्वीट कर दिया। प्रोफेसर दिवाकर वैश ने कहा कि राहुल गाँधी डॉक्टर तो हैं नहीं, जो उन्हें वेंटिलेटर की जाँच करना आता हो। उन्होंने बिना वेरीफाई किए रीट्वीट कर दिया।

विनोद दुआ के वकील ने बचने के लिए ‘ऑपइंडिया’ वाले केस का दिया उदाहरण, कोर्ट ने कहा दोनों केस अलग

विनोद दुआ ने यह याचिका 13 जून को दायर की थी। इस याचिका में उन्होंने अपने ख़िलाफ़ एफआईआर को रद्द कराने की माँग की थी।

ईद का बकरों की मौत से कोई लेनादेना नहीं, हम पशु हिंसा के विरोध में: PETA से एक्सक्लूसिव बातचीत

PETA ने अपने कैम्पेन्स कोऑर्डिनेटर राधिका सूर्यवंशी को हमारे सवालों का जवाब देने के लिए अधिकृत किया। पढ़िए लखनऊ होर्डिंग विवाद पर पूरी बातचीत।

प्रचलित ख़बरें

चीन से अब ‘काली मौत’ का खतरा, अलर्ट जारी: आनंद महिंद्रा बोले- अब बर्दाश्त नहीं कर सकता

पूरी दुनिया को कोरोना संक्रमण देने वाले चीन में अब ब्‍यूबोनिक प्‍लेग के मामले सामने आए हैं। इसे ब्लैक डेथ यानी काली मौत भी कहते हैं।

सब-कलेक्टर आसिफ के युसूफ को नहीं मिलेगा IAS अधिकारी का दर्जा, आरक्षण के लिए दिया था फर्जी दस्तावेज

थालास्सेरी के सब-कलेक्टर आसिफ़ के युसूफ़ को आईएएस अधिकारी का दर्जा नहीं दिया जा सकता है। मंत्रालय ने केरल के मुख्य सचिव को...

‘अगर मंदिर बना तो याद रखना… हिंदुओं को चुन-चुन कर मारूँगा’ – बच्चे ने दी धमकी, Video Viral

"खान साहब! अगर इस्लामाबाद में मंदिर बना तो ये याद रखना मैं उन हिंदुओं को चुन-चुनकर मारूँगा। समझ गए? अल्लाह हाफिज।"

‘…कभी नहीं मानेंगे कि हिन्दू खराब हैं’ – जब मानेकशॉ के कदमों में 5 Pak फौजियों के अब्बू ने रख दी थी अपनी पगड़ी

"साहब, आपने हम सबको बचा लिया। हम ये कभी नहीं मान सकते कि हिन्दू ख़राब होते हैं।" - सैम मानेकशॉ की पाकिस्तान यात्रा से जुड़ा एक किस्सा।

7 मुस्लिम परिवारों ने स्वेच्छा से अपनाया हिंदू धर्म: दिल्ली पुलिस के सब-इंस्पेक्टर (रिटायर्ड) भी शामिल

हरियाणा के सोनीपत जिले के भोगीपुर में 7 मुस्लिम परिवारों ने स्वेच्छा से हिन्दू धर्म अपना लिया। ये गाँव दिल्ली से 70 किमी दूरी पर स्थित है।

CARA को बनाया ईसाई मिशनरियों का अड्डा, विदेश भेजे बच्चे: दीपक कुमार को स्मृति ईरानी ने दिखाया बाहर का रास्ता

CARA सीईओ रहते दीपक कुमार ने बच्चों के एडॉप्शन प्रक्रिया में धाँधली की। ईसाई मिशनरियों से साँठगाँठ कर अपने लोगों की नियुक्तियाँ की।

सबसे बड़ी संख्या ‘ग्राहम नंबर’ की खोज करने वाले महान गणितज्ञ रॉन ग्राहम का निधन, मौत के कारणों का पता नहीं

सोमवार को 84 वर्ष की उम्र में महान गणितज्ञ रॉन ग्राहम का निधन हो गया। इनका पूरा नाम रोनाल्ड लेविस ग्राहम था। उन्होंने ग्राहम नंबर की खोज की, जो एक प्रमाण में इस्तेमाल किया गया सबसे बड़ा नंबर है।

कश्मीर की डल झील में रफीक अहमद डुंडू ने बंधक बनाकर दो माह तक किया था बलात्कार: ऑस्ट्रेलियाई महिला ने किया खुलासा

"इस बोट पर मुझे झाँसे में लेकर एक रात रोका गया। इसके बाद मुझे बोट पर बंधक बना लिया गया और रफीक अहमद डुंडू द्वारा मेरे साथ हाउसबोट पर बार-बार दो महीने तक बलात्कार किया गया।"

‘द वायर’ ने फिर फैलाया फेक न्यूज़, लिखा- ‘कोरोना प्रकोप के बाद NCPCR के पास दर्ज शिकायतों में हुई 8 गुना वृद्धि’, जानिए क्या...

पीआईबी फैक्ट चेक की ट्वीट में कहा गया कि राष्ट्रीय बाल अधिकार संरक्षण आयोग (NCPCR) ने शिकायत में 8 गुना वृद्धि को स्पष्ट रूप से नकार दिया है।

मेघालय में 6 हिन्दू लड़कों पर 20 की भीड़ ने छड़, लाठी और बाँस से किया हमला: 11 आरोपित हिरासत में, जाँच जारी

मेघालय की राजधानी शिलॉन्ग में शुक्रवार को 20 से 24 वर्ष के उम्र के 6 लड़कों पर लगभग 20 लोगों के एक समूह ने हमला किया, जो लोहे की छड़ और लाठी, बाँस आदि से लैस थे।

नेपाल के विवादित नक्शे के विरोध का सांसद सरिता गिरी पर गाज, पार्टी ने की उनकी सदस्यता समाप्त करने की सिफारिश

मंगलवार के दिन समाजवादी पार्टी के महासचिव राम सहाय प्रसाद यादव की अगुवाई में दल के एक टास्क फ़ोर्स ने सरिता गिरी की पार्टी सदस्यता और संसदीय सीट समाप्त करने की सिफारिश की।

कोरोना के दौरान भारत से अनाथ बच्चों को इटली, माल्टा, जॉर्डन भेजा गया: संस्था के CEO दीपक और ईसाई मिशनरियों का गिरोह है इसके...

दीपक कुमार ने CEO रहते CARA में ईसाई महिलाओं की सत्ता स्थापित कर दी थी, जिनके इशारों पर बच्चों को गोद लेने-देने का खेल चलता था। अब हटाए गए।

तूतीकोरिन में पुलिस हिरासत में हुई पिता पुत्र की दर्दनाक मौत की जाँच अब सीबीआई के हवाले, केंद्र ने दी मंजूरी

तूतीकोरिन में पुलिस की हिरासत में हुई जयराज और बेनिक्स के मामले की जाँच अब सीबीआई करेगी। तमिलनाडु सरकार के आग्रह पर केंद्र सरकार ने अधिसूचना जारी करते हुए इस मामले की जाँच सीबीआई को सौंपी है।

केरल नन रेप केस में आरोपित बिशप फ्रैंको मुलक्कल की जमानत याचिका हुई खारिज, करना होगा ट्रायल का सामना

केरल हाई कोर्ट ने नन रेप मामले में आरोपित बिशप फ्रैंको मुलक्कल की जमानत याचिका को खारिज कर दिया है। आरोपित बिशप ने खुद को इस मामले में बरी करने की अपील की थी।

पीएम ओली की कुर्सी बचाने में पूरी ताकत से जुटीं चीनी राजदूत, आतंरिक मामलों में दखल से नेपाल में बढ़ा विवाद

चीनी राजदूत के इस कदम को नेपाल की आंतरिक राजनीति में हस्‍तक्षेप माना जा रहा है। यही नहीं नेपाली विदेश मंत्रालय ने भी कहा कि चीनी राजदूत के मामले......

माँ और जाति की गाली देकर मुस्लिमों ने धारदार हथियारों से किया घायल: बेगूसराय में महादलितों का आरोप

पुलिस की ही गाड़ी में घायल महादलितों को अस्पताल पहुँचाया गया। शंकर पासवान का कहना है कि मुस्लिम बहुल इलाक़े में उनके बाल-बच्चे कैसे जिएँगे?

हमसे जुड़ें

235,287FansLike
63,240FollowersFollow
271,000SubscribersSubscribe