Monday, July 15, 2024
Homeविविध विषयधर्म और संस्कृतिसंतों की सभा के बाद गुजरात के सालंगपुर मंदिर से हटाए गए विवादित चित्र,...

संतों की सभा के बाद गुजरात के सालंगपुर मंदिर से हटाए गए विवादित चित्र, स्वामी सहजानंद के सेवक के तौर पर प्रदर्शित किए गए थे हनुमानजी

इसी विवाद पर 4 सितम्बर को ही गुजरात के ही गांधीनगर में मुख्यमंत्री भूपेन्द्र पटेल और गृहमंत्री हर्ष संघवी की मौजूदगी में साधु-संतों और हिंदू नेताओं की बैठक हुई थी। इस बैठक में भी विवाद को जल्द से जल्द निपटाने पर सहमति बनी थी। अंततः अब इस पर विवाद पर पूर्ण विराम लग गया है।

गुजरात के सालंगपुर मंदिर की दीवालों पर बने हनुमानजी के विवादित चित्रों को हटा दिया गया है। सोमवार (4 सितंबर 2023) को इसे हटाने का निर्णय संतों और हिन्दू संगठन से जुड़े लोगों की बैठक में सर्वसम्मति से लिया गया था। बैठक के बाद वड़ताल स्वामीनारायण संस्था विवादित चित्रों को 5 सितंबर (मंगलवार) की सुबह तक हटाने पर सहमत हो गई थी। अब उस स्थान पर नए चित्रों को लगाया गया है।

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार मंदिर प्रशासन ने सूर्योदय से पूर्व विवादित चित्रों को हटाने के वादे पर अमल किया। इस दौरान पुलिस ने भी सुरक्षा के इंतजाम किए थे। देर रात इन चित्रों को हटाने से पहले लाइटें बंद कर दी गई थी। साथ ही दीवालों के आगे पर्दे लगा दिए थे। इन चित्रों के चलते पूरे गुजरात में विवाद खड़ा हो गया था। गौरतलब है कि सालंगपुर मंदिर में हनुमान जी की मूर्ति के नीचे बने भित्तिचित्रों में महावीर बजरंगबली को सहजानंद स्वामी के सेवक के रूप में चित्रित किया गया था।

एक दिन पहले ही बन गई थी सहमति

बताते चलें कि विश्व हिंदू परिषद (VHP) की कोशिशों के बाद सोमवार (4 सितंबर) को अहमदाबाद में संतों की एक सभा हुई थी। यह सभा शिवानंद आश्रम में हुई जो लगभग करीब 2 घंटे तक चली थी। इस बैठक में विवाद को खत्म करने पर आपसी सहमति बन गई। सहमति के तौर पर अगले दिन सूर्योदय से पहले सभी विवादित चित्रों को हटाना तय हुआ था। संत परमानंद स्वामी ने प्रेस वार्ता में स्वामीनारायण संप्रदाय को वैदिक सनातन धर्म का अंग बताया था। साथ ही उन्होंने कहा था कि इसके सभी भक्त व संत वैदिक परंपराओं, पूजा विधियों और प्रथाओं का सम्मानपूर्वक पालन करते हैं।

परमानन्द स्वामी ने कहा था कि हिंदू समाज का हिस्सा होने के चलते स्वामीनारायण संप्रदाय समाज की भावनाओं को चोट नहीं पहुँचाना चाहता। बकौल परमानन्द स्वामी विश्व हिंदू परिषद हिंदू समाज में सद्भाव बनाए रखने और हिन्दुओं की एकता के लिए प्रतिबद्ध है।

परमानन्द स्वामी ने बैठक को सार्थक बताते हुए सभी से समाज के सौहार्द को बनाए रखने की अपील के साथ मनमुटाव पैदा करने वाले बयानों से परहेज करने के लिए कहा था। इसी विवाद पर 4 सितम्बर को ही गुजरात के ही गांधीनगर में मुख्यमंत्री भूपेन्द्र पटेल और गृहमंत्री हर्ष संघवी की मौजूदगी में साधु-संतों और हिंदू नेताओं की बैठक हुई थी। इस बैठक में भी विवाद को जल्द से जल्द निपटाने पर सहमति बनी थी। अंततः अब इस पर विवाद पर पूर्ण विराम लग गया है।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

शराब घोटाले में दिल्ली CM के खिलाफ जाँच पूरी, अब ₹1100 करोड़ की प्रॉपर्टी कुर्क करने की तैयारी: रिपोर्ट में ED अधिकारी के हवाले...

शराब घोटाला मामले में प्रवर्तन निदेशालय ने दावा किया है कि उनकी इस केस में पार्टी के साथ-साथ अरविंद केजरीवाल के खिलाफ जाँच पूरी हो गई है।

जो प्रधानमंत्री है खालिस्तानी आतंकियों का ‘हमदर्द’, उसने अब दिलजीत दोसांझ को दिया ‘सरप्राइज’: PM ट्रुडो से मिलकर बोले भारतीय सिंगर- विविधता कनाडा की...

कनाडा पीएम ट्रुडो जो हमेशा से खालिस्तानी आतंकियों के 'हमदर्द' बनकर रहे उन्होंने हाल में दिलजीत दोसांझ को कनाडा में 'सरप्राइज' दिया।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -