Sunday, June 26, 2022
Homeविविध विषयधर्म और संस्कृतिCRPF करेगी ज्ञानवापी में मिले शिवलिंग की सुरक्षा, अदालत ने सील की जगह, वजू...

CRPF करेगी ज्ञानवापी में मिले शिवलिंग की सुरक्षा, अदालत ने सील की जगह, वजू पर मनाही: जैसे ही दिखे बाबा, ‘हर-हर महादेव’ से गूँजा विवादित ढाँचा

वाराणसी सिविल कोर्ट ने जिला प्रशासन को कहा है कि जिस जगह पर शिवलिंग मिला है उसे सील किया जाए, उसे संरक्षित करते हुए किसी को भी अंदर जाने की इजाजत न दी जाए।

वाराणसी स्थित ज्ञानवापी विवादित (Gyanvapi Mosque Survey) ढाँचे का तीन दिनों तक चले सर्वे का काम समाप्त हो गया है। सर्वे के तीसरे दिन हिन्दू पक्ष की तरफ से सोमवार (16 मई, 2022) को करीब 12 फीट 8 इंच लंबा शिवलिंग नंदी के सामने विवादित ढाँचे के वजूखाने में मिलने का दावा किया गया है। जिसके बाद वाराणसी सिविल कोर्ट के जज रवि कुमार दिवाकर ने शिवलिंग की जगह को सील करते हुए उसे सीआरपीएफ के हवाले कर दिया है। वहीं वजू पर भी पाबन्दी लगा दी है।

वहीं आज तीसरे दिन 2 घंटे के सर्वे के बाद सर्वे का काम अब पूरा हो गया और कल यानी मंगलवार 17 मई को कोर्ट के सामने टीम की तरफ से रिपोर्ट रखी जाएगी। रिपोर्ट के अनुसार, सर्वे के फोटोग्राफर ने बताया कि करीब एक से डेढ़ हजार तस्वीर ली गई है। वहीं सभी तस्वीरें कोर्ट कमिश्नर को सौंप दी गईं हैं। मुस्लिम पक्ष के वकील ने बताया कि हमें तो कुछ नहीं दिखा। हम अपना पक्ष कोर्ट में रखेंगे।

मीडिया रिपोर्ट के अनुसार, शिवलिंग मिलाने के बाद से ही परिसर में हर-हर महादेव के नारे लगने लगे वहीं शिवलिंग की सुरक्षा के लिए एक याचिका दाखिल की गई थी, जिसमें अधिवक्ता विष्णु शंकर जैन ने कहा कि सर्वे के दौरान शिवलिंग मिला है। उन्होंने कहा कि बाबा मिल गए हैं। जिसके बाद वाराणसी सिविल कोर्ट के जगह को सील करने का आदेश दिया है। वाराणसी सिविल कोर्ट ने जिला प्रशासन को कहा है कि जिस जगह पर शिवलिंग मिला है उसे सील किया जाए, उसे संरक्षित करते हुए किसी को भी अंदर जाने की इजाजत न दी जाए।

बता दें कि कमिश्नर की अगुवाई में 52 सदस्यीय टीम ने परिसर के तहखाने से लेकर ऊपरी हिस्से तक सर्वेक्षण किया। हालाँकि, तीन दिन तक चले इस सर्वे में तीसरे दिन सूचनाएँ लीक करने के आरोप में एक सदस्य को हटा भी दिया गया। जानकारी के अनुसार पत्रकार राम प्रसाद सिंह को हटाया गया है। सर्वे की समाप्ति के साथ ही हिंदू पक्ष ने संस्कृत श्लोक, दिया रखने की जगह, शिवलिंग, स्वास्तिक, प्राचीन शिलाएँ मिलने का दावा किया है।

इस बीच परिसर से बाहर निकले सर्वे टीम में शामिल वादी पक्ष के पैरोकार सोहनलाल आर्य ने मीडिया से कहा कि सर्वे में बाबा मिल गए हैं। उन्होंने दावा किया कि गुंबद, दीवार और फर्श के सर्वे के दौरान कई साक्ष्य दबे हुए से दिखे।

इधर, डीएम कौशल राज शर्मा ने ज्ञानवापी विवादित ढाँचे के सर्वे के बारे में बताया कि कोर्ट कमिश्नर की कार्यवाही आज खत्म हुई है। सवा दस बजे कोर्ट कमीशन के तीन सदस्यों ने कार्यवाही समाप्त की। उन्होंने बताया कि अब अदालत में सुनवाई होगी और अगला निर्णय कोर्ट के आदेश पर होगा। कोर्ट के आदेश द्वारा जो ऑर्डर आएगा उसका पालन होगा। इस बीच वादी और प्रतिवादी पक्ष के जो भी दावे हैं वो उनके निजी हैं। उधर कोर्ट कमिश्नर विशाल सिंह ने भी कहा कि सभी पक्षों के दावे उनके निजी हैं।

गौरतलब है कि पहले दिन के सर्वे के बाद दूसरे दिन काम पूरा नहीं हो सका था, जिस वजह से तीसरे दिन यानी आज सोमवार को दो घंटे का सर्वे पूरा किया गया। सर्वे के आखिरी दिन टीम के अधिकारियों और उच्चाधिकारियों के फैसले के बाद परिसर में मौजूद वजूखाने का पानी निकालकर वीडियोग्राफी कराई गई। जिसके बाद ही हिन्दू पक्ष के वकील ने दावा किया कि अंदर एक शिवलिंग मिला है। वकील विष्णु जैन ने कोर्ट में शिवलिंग वाली जगह को सील करने की याचिका दाखिल की थी, जिसे स्वीकार करते हुए कोर्ट ने जिला प्रशासन को निर्देश दिया कि मस्जिद के जिस वजू खाने के अंदर से शिवलिंग मिला है, उस जगह को सील करके प्रशासन अभी अपनी सुरक्षा में ले ले।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘भारत जल्द बनेगा $30 ट्रिलियन की इकोनॉमी’ : देश का मजाक उड़वाने के लिए NDTV ने पीयूष गोयल के बयान से की छेड़छाड़, पोल...

एनडीटीवी ने झूठ बोलकर पाठकों को भ्रमित करने का काम अभी बंद नहीं किया है। हाल में इस चैनल ने भाजपा नेता पीयूष गोयल के बयान को तोड़-मरोड़ के पेश किया।

’47 साल पहले हुआ था लोकतंत्र को कुचलने का प्रयास’: जर्मनी में PM मोदी ने याद दिलाया आपातकाल, कहा – ये इतिहास पर काला...

"आज भारत हर महीनें औसतन 500 से अधिक आधुनिक रेलवे कोच बना रहा है। आज भारत हर महीने औसतन 18 लाख घरों को पाइप वॉटर सप्लाई से जोड़ रहा है।"

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
199,523FollowersFollow
416,000SubscribersSubscribe