Wednesday, April 1, 2020
होम विविध विषय धर्म और संस्कृति हिन्दू धर्मांतरण क्यों नहीं करते? कलमा क्यों नहीं पढ़ लेते? क्योंकि वो काल को...

हिन्दू धर्मांतरण क्यों नहीं करते? कलमा क्यों नहीं पढ़ लेते? क्योंकि वो काल को जीतने वाले राम के उपासक हैं

पाकिस्तानी हिन्दू विस्थापित इतनी विपरीत परिस्थितियों में भी धर्मांतरण क्यों नहीं करते? कलमा क्यों नहीं पढ़ लेते? अपना सर्वस्व त्यागकर ये हिंदू भारत की शरण में आ जाते हैं, पर धर्मांतरण नहीं करते हैं। क्यों?

ये भी पढ़ें

Omendra Ratnuhttp://nimittekam.org/
Jaipur based Doctor, working for Pakistani Hindus and Dalit Sahodaras (brothers) via Nimittekam. Public speaker, and a singer.

गत दस वर्षों में पाकिस्तानी हिन्दू विस्थापितों के साथ काम करते एक प्रश्न ने मुझे बहुत अचंभित किया है। वह यह है कि इतनी विपरीत परिस्थितियों में भी ये हिन्दू धर्मांतरण क्यों नहीं करते? कलमा क्यों नहीं पढ़ लेते हैं? अपना सर्वस्व त्यागकर ये हिंदू भारत की शरण में आ जाते हैं, पर धर्मांतरण नहीं करते हैं।

आज जब राम जन्मभूमि का निर्णय हो गया है तो मुझे इस प्रश्न का उत्तर थोड़ा-थोड़ा समझ में आने लगा है।

ऐसे लोगों को क्या कहा जाए जो धरती के एक टुकड़े के लिए पाँच सौ साल तक संघर्ष करते हैं? क्या कहा जाए ऐसे लोगों को, जो हर प्रकार की यातना और दुख उठाने के उपरांत भी धरती के उस टुकड़े पर अपना अधिकार ना विस्मृत करते हैं, ना छोड़ते हैं? क्या कहा जाए ऐसे लोगों को, जो मुग़ल बर्बरता, विदेशी आक्रांताओं की दासता और सदियों के नरसंहार के बाद भी इसी आस पर जिए जाते हैं कि एक दिन धरती का वह टुकड़ा वे पुनः प्राप्त करेंगे?

- विज्ञापन - - लेख आगे पढ़ें -

राम जन्मभूमि की मुक्ति का संघर्ष मानव इतिहास के गिने चुने संघर्षों में से एक है जो पाँच सदी तक अनवरत चला। 

इन 500 वर्षों से अधिकांश समय ऐसा था जब दूर-दूर तक कोई आशा भी ना थी कि राम जन्मभूमि को हिन्दू पुनः प्राप्त भी कर सकेंगे। राम जन्मभूमि पर इतना एकतरफ़ा और बर्बर क़ब्ज़ा था कि किसी भी प्रकार की आशा लगाना हास्यास्पद और कल्पना के विपरीत था। न सिर्फ़ विदेशी आक्रांता, बल्कि स्वतंत्रता के पश्चात भारत का शीर्ष राजनीतिक नेतृत्व व भारत के शीर्ष इतिहासविद् भी इस हिन्दू मान्यता के विपरीत थे कि भगवान राम का जन्म इसी पवित्र भूमि पर हुआ था ।

पढ़ें वो मार्मिक कहानी: रामभक्त भाइयों की शहादत के 29 साल: शरद के सिर और रामकुमार के गले को पार कर गई गोली

इतनी घोर विपरीत परिस्थितियों व वामपंथी षड्यंत्रों के बीच भी किस प्रकार हिन्दू जनमानस ने राम जन्मभूमि पर अधिकार को नहीं छोड़ा, समकालीन मानव समाज के लिए यह एक अद्भुत प्रसंग है।

ये कैसा आग्रह था? ये कैसी हठधर्मिता थी हिन्दुओं की? यह कैसा अनोखा संकल्प था कि चारों ओर से विकराल आँधियों में घिरे होने के उपरांत भी हिंदू हृदय में इस नन्हे-से दिए की लौ टिमटिमाती रही!

वर्षों पहले मैं अपने बड़े भाई के साथ कैंटोनमेंट एरिया में गया था। एक अधेड़ सैनिक ने मेरे बड़े भ्राता, जो कि उस समय मेजर थे, को देखकर छाती निकालकर ‘राम राम’ कहा ।

मैं आश्चर्य और आनंद से स्तब्ध खड़ा रह गया। 

सेना के सब अफ़सर, इनकी स्त्रियां, इनके बच्चे आपस में अंग्रेज़ी में बात करते हैं, किंतु साधारण सैनिकों ने राम का नाम आग्रहपूर्वक जीवित रखा हुआ है- और यहीं से स्पष्ट हो जाता है कि यद्यपि विदेशी दरिंदों ने हमारे आराध्य भगवान राम का मंदिर नष्ट कर दिया, श्री राम की जन्मभूमि हम से हथिया ली, पर हिन्दू जनमानस से राम व रामनाम को वे नहीं मिटा पाए ।

जो राम जन्मभूमि और मंदिर रूप में हमसे छिन गए, उसे तत्व बनाकर हमने अपनी आत्मा में प्रवाहित कर लिया।

जन्म के समय के मंगल गीत से लेकर विवाह संस्कार व चिता की अग्नि में शरीर के समर्पण तक राम-नाम का सत्य ही हिन्दुओं का उद्घोष बन गया। संसार का कोई आक्रमण हृदय में बैठे राम को नहीं मिटा सकता था, यह सत्य हमारे पुरखों को ज्ञात था, तथा इस तथ्य का भरपूर उपयोग हमारे पुरखों ने धर्म की रक्षा हेतु किया।

एक कहानी यह भी: भए प्रगट कृपाला: 70 साल पहले आधी रात हुई अलौकिक रोशनी, भाइयों संग प्रकट हुए रामलला

समकालीन मानव समाज में जब कि हर बात स्थूल से स्थूलतर होती जा रही है तब इतनी सूक्ष्म बात को जनमानस में उतार कर प्रत्यक्ष जीवित रखना हिन्दू समाज की एक विलक्षण खोज है। नेतृत्वहीन, निर्धन, निराश्रित हिन्दू विश्व के सबसे क्रूर धर्मावलम्बियों के सामने किस आत्मबल से डटे रहे, यह भी मनोवैज्ञानिकों व इतिहासकारों के लिए शोध का विषय हो सकता है। 

इस्लामी आक्रान्ताओं ने भारतीय उपमहाद्वीप में हज़ारों मंदिरों को धूल-धूसरित कर उन पर मस्जिदें खड़ी कीं। पर हमारे ऋषियों, मठाधीशों, व गुरुओं ने तीन पवित्रतम स्थानों पर काल की धूल नहीं जमने दी। वे थे शिव की काशी, मथुरा की कृष्ण जन्मभूमि  व राम जन्मभूमि। 

हिन्दुओं के लिए ये तीन स्थान कभी महज़ भूखंड नहीं, बल्कि सनातन हिन्दू धर्म का मर्मस्थल रहे हैं।  हिन्दू मानस सब आक्रमण सह कर भी इन भूखंडों पर समझौते को कभी राज़ी नहीं हुआ। 

हिन्दू धर्म में ज्योतिष के अनुसार धरती का बहुत अधिक महत्व होता है। ज्यामिति का कोण, वास्तुकला, सूर्य के साथ संबंध, भूखंड की भौगोलिक स्थिति को विशेष प्राथमिकता दी जाती है। इसलिए कोई भी भूखंड सनातन धर्म में धरती का एक टुकड़ा न होकर ईश्वरीय तत्व के अवतरण का स्थान माना गया है।

इस नियम के आधार पर इन तीनों पवित्रतम स्थानों के अधिग्रहण पर स्वीकृति नहीं दी जा सकती थी।

यदि श्रीराम जन्मभूमि की संदर्भ में बात करें तो वहाँ पाँच सौ साल के अनवरत संघर्ष में हज़ारों हिन्दू व सिख वीरों ने राम जन्मभूमि की मुक्ति के लिए सतत् संघर्ष किया। गोस्वामी तुलसीदास जैसे भक्त कवियों ने अपनी कविताओं द्वारा राम को जीवित रखा। विभिन्न जातियों के हिन्दुओं ने एक सनक की तरह श्रीराम जन्मभूमि पर हिन्दुओं के अधिकार को तिरोहित नहीं होने दिया, क्यूंकि अपने अंतर्मन में हर हिन्दू यह बात जानता था कि श्री राम व राम का नाम हिन्दू धर्म की आत्मा हैराम गए तो हिन्दू धर्म नहीं बचेगा। 

यह चमत्कार उस अज्ञात हिंदू के कारण हुआ जिसकी सहर्ष श्रद्धा को कोई विदेशी आक्रांता, कोई हिंसा, कोई प्रताड़ना, नहीं चुका पाई। वह अज्ञात हिन्दू, जिसने अपने बच्चों को बाबरी मस्जिद के नीचे राम जन्मभूमि होने का विस्मरण नहीं होने दिया। वह अज्ञात हिन्दू, जिसने जगह-जगह इस बात का विवरण लिखा। वह अज्ञात हिन्दू, जो सतत इसी राम जन्मभूमि के पास रामलला की पूजा करता रहा ।

वह अज्ञात निहंग सिख जिन्होंने 19 वी शताब्दी के मध्य में रामजन्मभूमि पर सशस्त्र आक्रमण कर उसे मुक्त किया। वह अज्ञात हिन्दू, जिसने ब्रिटिश राज के सामने राम जन्मभूमि की मुक्ति के लिए मुक़द्दमे दर्ज किए। वह अज्ञात हिन्दू, जिन्होंने विभाजन के समय सफल नेतृत्व देकर राम जन्म भूमि सरकार द्वारा अधिग्रहित नहीं होने दी।

वह अज्ञात हिन्दू कार सेवक, जो लाखों की संख्या में अयोध्या पहुँचा तथा मुलायम सिंह की पुलिस के द्वारा गोलियाँ व लाठी खाकर वीरगति को प्राप्त हुआ। वह अज्ञात हिन्दू, जिसने सवा रुपया व एक ईंट अपने घर से अयोध्या भेजी थी। इन्हीं अज्ञात हिन्दुओं के सामूहिक चैतन्य व त्याग के फलस्वरूप आज राम जन्मभूमि पूर्णतया मुक्त हो गई है।

जिस दिन इस भव्य मंदिर का निर्माण होगा, तो उस दिन विश्व को जो दृष्टिगोचर होगा वह ईंट पत्थर के बने मंदिर से कहीं अधिक होगा। वह एक स्मारक होगा इस भयंकर धार्मिक उत्पीड़न के सम्मुख मनुष्य  के अदम्य साहस का। वह आश्रय होगा पीढ़ियों से निराश्रित समाज का। वह एक प्रतीक होगा कि किस प्रकार विश्व में प्रताड़ित होने के उपरांत भी अपनी खोई हुई धरोहर को पुनः अर्जित किया जा सकता है। 

सारे विश्व के हिन्दुओं के लिए यह श्रद्धा, आशा व शौर्य का केंद्र होगा। 

इस्लामी आक्रान्ताओं द्वारा अपने मंदिरों के नष्ट होने की पीड़ा की यात्रा में हिन्दुओं ने डिनायल से लेकर आक्रोश तक की यात्रा की है। इस पीड़ा ने हिन्दू समाज को अधिक लचीला, शक्तिशाली व ब्रिटिश साम्राज्यवाद अत्याचार के विरुद्ध खड़े होने में सहायक बनाया है।

यही समय है कि हम अपने दृढ़ निश्चय को पहचानें। सनातन धर्म के प्रति ख़ूब आस्था को पुनः इंगित करें। वह आस्था, वह श्रद्धा जो हमारे रक्त और हमारी हड्डियों में समाई हुई है। हमारे वेदों, शास्त्रों, सद्गुरुओं व कर्मकांडों ने हमारे चित्तों में एक अखंड ज्योति का एक बीजारोपण किया है जो कितनी भी क्षीण हो गई हो, पर बुझाई ना जा सकी। वह ज्योति जो हर बार गिरने के बाद हमें फिर संभलकर खड़ा होने को उद्यत करती है।

तो राम जन्मभूमि स्थल की विशेषता क्या है ? 

राम जन्मभूमि, राम का जन्मस्थान होने के अतिरिक्त सामूहिक हिन्दू स्मृति व चेतना में एक पवित्रतम  स्थान है, जो कभी मरा नहीं और आज जिसने दर्शा दिया वह स्थान कभी मिटाया नहीं जा सकता। हमें मूर्तिपूजक कह कर हमारा उपहास करने वाले मतांधों को भी हिन्दुओं ने दिखा दिया कि हम उस रिक्त स्थान के लिए भी कट मर सकते हैं। 

वह रिक्त स्थान हर हिन्दू हृदय में एक विशेष कोना बन गया। राम जन्मभूमि का मुक़दमा कदाचित इतिहास में सबसे दीर्घकालीन मामलों में से एक होगा। 

परंतु यह एक और कारण के चलते बहुत महत्वपूर्ण है। राम जन्मभूमि का मामला एक आपराधिक नरसंहार का है जिसका एकमात्र लक्ष्य हिन्दुओं की धर्म व संस्कृति का समूल नाश था। लेकिन हिन्दूओं ने अपनी संस्कृति का नाश नहीं होने दिया। 

संसार के सबसे क्रूर व धनी हत्यारों व सबसे धूर्त वामपंथियों के चंगुल से राम जन्मभूमि को छुड़ाना ऐसे ही है जैसे मगरमच्छ के मुँह से उसका निवाला छीनना। हिन्दुओं ने अपनी सामूहिक चेतना व आग्रह के दम पर असम्भव को भी कर दिखाया है। 

पाकिस्तान में बसने वाले हिन्दू भी इसी सामूहिक चेतना का ज्वलंत उदाहरण हैं। मैंने जब भी पाक से विस्थापित हिन्दुओं से पूछा कि आप लोग अपना धर्म परिवर्तित क्यूँ नहीं करते, तो एक तीरथ राम मेघवाल सहजता से मेरी ओर देखकर बोला, “बाप-दादों का धर्म ऐसे कैसे छोड़ दें साहब?” 

आज मुझे तीरथ राम की बात समझ आई है कि क्यूँ हिन्दू धर्म सत्य सनातन है। आज समझ आया है कि जब तक आकाश में सूर्य उदय हो रहा है, सनातन हिन्दू धर्म जीवित रहेगा। आज समझ आया कि राम का ‘तत्व’ ही वह सत्य है जो काल की गति को पराजित कर पुनर्जीवित हो सकता है। राम का ‘तत्व’ ही वह शाश्वत धारा है जिसने हिन्दू समाज को विषम-से-विषम परिस्थिति में भी स्पंदित व जीवित रखा है, तथा सदैव रखेगी। 

जय श्री राम…

- ऑपइंडिया की मदद करें -
Support OpIndia by making a monetary contribution

ख़ास ख़बरें

Omendra Ratnuhttp://nimittekam.org/
Jaipur based Doctor, working for Pakistani Hindus and Dalit Sahodaras (brothers) via Nimittekam. Public speaker, and a singer.

ताज़ा ख़बरें

Covid-19: दुनिया भर में संक्रमितों की कुल संख्या 853981, भारत में अब तक संक्रमितों की संख्या 1397, 35 मौतें

दुनिया भर में अब तक 853,981 लोग इस वायरस की चपेट में आ चुके हैं। इनमें 42,006 की मौत हो हुई है। 176,906 को सफलतापूर्वक रिकवर भी कर लिया गया है। भारत में 35 लोग अब तक इस संक्रमण से जान गॅंवा चुके हैं।

सिसली में शवों से भरे 12 जहाजों से लेकर वुहान के कोरोना तक: हमेशा गतिशील धनाढ्य वर्ग के कारण फैले ऐसे विषाणु

पैनडेमिक के पीछे कभी भी गरीब, पिछड़े और आम जीवन व्यतीत करने वालों का हाथ नहीं रहा। इसके पीछे प्राय: धनी, सुदृढ़, प्रवासी, धनाकांक्षी, गतिशील लोग होते थे और आज भी स्थिति वही है। फिर चाहे देश में पहला कोरोना केस बना वुहान से लौटा केरल का छात्र हो या लंदन से लौटी कनिका कपूर। सब एक समृद्ध समाज का हिस्सा हैं। जिनके लिए आज यहाँ कल वहाँ एक आम बात है।

तमिलनाडु में सामने आए कोरोना के 50 नए मामले, प्रदेश से निजामुद्दीन मरकज में शामिल हुए 1500, 501 की हुई पहचान

तमिलनाडु से 50 कोरोना के नए मरीज सामने आए हैं। आश्चर्य की बात यह कि इन 50 नए मरीजों में से 45 मरीज वह हैं, जिन्होंने दिल्ली के निजामुद्दीन में हुए मजहबी सम्मेलन में हिस्सा लिया था। सम्मेलन में तमिलनाडु से शामिल होने वाले 501 जमातियों की पहचान हो गई है।

45 किचेन, रोज बाँटे जा रहे 75000 पैकेट: लगे हैं ‘सेवा भारती’ के 5000 कार्यकर्ता, गोमाता का भी रखा जा रहा ध्यान

पूरी दिल्ली में क्राउड मैनेजमेंट के लिए भी काम किया जा रहा है। जैसे, आनंद विहार में जब केजरीवाल सरकार ने हजारों-लाखों मजदूरों को यूपी सीमा पर ढाह दिया, तब वहाँ अफरातफरी मचने पर 250 संघ कार्यकर्ताओं ने जाकर लोगों को सँभालने में पुलिस की मदद की।

मक्का से लौटे, क्वारंटाइन का नियम तोड़ा, मुहर मिटाई: माँ-बेटे पॉजिटिव, पीलीभीत के 35 लोगों पर मुकदमा

अमरिया क्षेत्र के रहने वाले 35 लोग 25 फरवरी को उमरा करने के लिए सऊदी अरब गए थे, जो कि 20 मार्च को सऊदी अरब से मुंबई के एयरपोर्ट पहुँचे थे, जहाँ सभी की स्क्रीनिंग की गई। जाँच में संदिग्ध पाए जाने पर सभी लोगों को कोरोना वायरस संदिग्ध की मुहर लगाई गई थी।

जम्मू कश्मीर पर भारत को बदनाम करने में लगा है ध्रुव राठी, बलूचिस्तान पर साध लेता है चुप्पी

इसी बीच उसका एक और प्रोपेगंडा सामने आया है। वो कई देशों के स्वतंत्रता संग्राम पर भी वीडियो बनाता रहा है। इस दौरान वो जम्मू कश्मीर का नाम तो लेता है लेकिन कभी भी बलूचिस्तान के बारे में कुछ नहीं कहता।

प्रचलित ख़बरें

रवीश है खोदी पत्रकार, BHU प्रोफेसर ने भोजपुरी में विडियो बनाके रगड़ दी मिर्ची (लाल वाली)

प्रोफेसर कौशल किशोर ने रवीश कुमार को सलाह देते हुए कहा कि वो थोड़ी सकारात्मक बातें भी करें। जब प्रधानमंत्री देश की जनता की परेशानी के लिए क्षमा माँग रहे हैं, ऐसे में रवीश क्या कहते हैं कि देश की सारी जनता मर जाए?

केजरीवाल की खुली पोल: बिजली-पानी काट बॉर्डर पर छोड़ा, UP सरकार की बसें बनी सहारा

लॉकडाउन के बाद दिल्ली-यूपी बॉर्डर पर गॉंव लौटने के लिए लोगों की भारी भीड़ दिख रही है। अब पता चला है कि इन्हें किस तरह गुमराह किया गया। दिल्ली सरकार के अधिकारी बक़ायदा एनाउंसममेंट कर अफ़वाह फैलाते रहे कि यूपी बॉर्डर पर बसें खड़ी हैं, जो उन्हें घर ले जाएँगी।

800 विदेशी इस्लामिक प्रचारक होंगे ब्लैकलिस्ट: गृह मंत्रालय का फैसला, नियम के खिलाफ घूम-घूम कर रहे थे प्रचार

“वे पर्यटक वीजा पर यहाँ आए थे लेकिन मजहबी सम्मेलनों में भाग ले रहे थे, यह वीजा नियमों के शर्तों का उल्लंघन है। हम लगभग 800 इंडोनेशियाई प्रचारकों को ब्लैकलिस्ट करने जा रहे हैं ताकि भविष्य में वे देश में प्रवेश न कर सकें।”

मेरठ लॉकडाउन: मवाना और सरधना के मस्जिदों में छिपे थे 19 विदेशी मौलवी, प्रशासन को धोखा देने के लिए बाहर से बंद था ताला

मवाना में दारोगा नरेंद्र सिंह ने शहर काजी मौलाना नफीस, एडवोकेट असलम, नईम सौफी समेत अन्य के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज की है। पुलिस ने आईपीसी की धारा 188, 269, 270 व 14 विदेशी अधिनियम, महामारी एक्ट के तहत केस दर्ज किया है।

लाल सलाम की फट गई डफली, जिस अंबानी-अडानी को देते थे गाली… वही उद्योगपति आज कर रहे देश की मदद

डफली बजाने से अगर कोरोना से लड़ाई लड़ ली जाती तो शायद आज JNU के वामपंथी ब्रिगेड से ही सबसे ज्यादा डॉक्टर और वैज्ञानिक निकलते। अगर प्रोपेगेंडा पोर्टलों में लेख लिखने से कोरोना भाग जाता तो राणा अयूब, सदानंद धुमे और बरखा दत्त जैसे लोगों ने अब तक वैक्सीन का अविष्कार कर लिया होता।

ऑपइंडिया के सारे लेख, आपके ई-मेल पे पाएं

दिन भर के सारे आर्टिकल्स की लिस्ट अब ई-मेल पे! सब्सक्राइब करने के बाद रोज़ सुबह आपको एक ई-मेल भेजा जाएगा

हमसे जुड़ें

169,325FansLike
52,714FollowersFollow
209,000SubscribersSubscribe
Advertisements