Monday, May 25, 2020
होम विविध विषय धर्म और संस्कृति होलिका बहुजन और दुर्गा वेश्या: दानवी को दलित आइकॉन बता बाल हत्या को बढ़ावा...

होलिका बहुजन और दुर्गा वेश्या: दानवी को दलित आइकॉन बता बाल हत्या को बढ़ावा देती JNU वाली जड़ता

जब दलित अस्मिता का आइडेंटिफिकेशन पूतना, होलिका और महिषासुर से किया जाता है तब ब्राह्मनिज्म को नुकसान नहीं होता, दलितों की आत्म-छवि को होता है। इन तीनों असुरों की दलित आइकॉन के रूप में प्रशंसा न इन्हें कहीं पहुँचाती है, न दलितों को।

ये भी पढ़ें

होली प्रह्लाद का पर्व है। यानी अत्यधिक आनंद का। वैसे ही आनंद का जिसका जिक्र सुदर्शन ने अपनी कहानी ‘हार की जीत’ के पहले ही वाक्य में ये कहकर किया है कि माँ को अपने बेटे और किसान को अपने लहलहाते खेत देखकर जो आनंद आता है, वही आनंद बाबा भारती को अपना घोड़ा देखकर आता था। यह नवान्न के आनंद का पर्व है। इस रात जो अग्नि जलाई जाती है और उसमें गेहूँ की जो बालियाँ अग्नि में जलाई जाती हैं, उनका बाहरी हिस्सा जल जाता है, भीतर का अन्न बचा रहता है। वह जो बाहर की बाली के अंक में था, प्रह्लाद वही है। बाहर की बाली होलिका की तरह उसे लिए हुए है।

यह एक अच्छा संयोग था, जिससे प्रह्लाद और हिरण्यकशिपु की घटना जुड़ गई। निःसंदेह कोई गेहूँ का अन्न प्रार्थना के स्तोत्र नहीं गढ़ता। प्रह्लाद का नृसिंह स्तोत्र श्रीमद्भागवत पुराण में दिया हुआ है। अतः होली एक युगान्तर का पर्व है। तब जब सभ्यता ने कृषि का आविष्कार किया और तब जब नृसिंह का अवतार हुआ।

अब JNU में जिस तरह की जड़ता आश्रय पाती है, वहाँ कुछ लोग ऐसे पोस्टर लगाते हैं, जिनमें होली को स्त्री विरोधी त्यौहार की तरह बताया जाता है। एक पोस्टर की भाषा देखिए: “Why does Brahmanical Patriarchal India celebrate burning of Holika, an Asura Bahujan woman? What is holy about Holi ? Holi will not only remain anti-bahujan, anti-dalit and anti-adivasi women in character, but is against womanhood itself. SAY NO TO HOLI!”

- विज्ञापन - - लेख आगे पढ़ें -

यह जड़ता यदि स्त्री के लिए वाकई आदर रखती तो महिषासुरमर्दिनी दुर्गा को वैश्या नहीं बता रही होती। इसके लिए तो वैसा ही IQ level चाहिए, जिसमें बुआ होलिका तो असुर बहुजन स्त्री हो, लेकिन भतीजा प्रह्लाद ब्राह्मनिकल हो। वो प्रह्लाद जो अपनी प्रार्थना में यह कहता हो:

“जो ब्राह्मण धन, कुलीनता, रूप, तप, विद्या, ओज, तेज, प्रभाव, बल, पौरुष, बुद्धि और योग के बारह गुणों से युक्त है किन्तु भगवान कमलनाभ के चरणों से विमुख है, उससे तो मैं उस चांडाल को श्रेष्ठ समझता हूँ जिसने अपने मन, वचन, कर्म, धन और प्राण श्रीहरि में लगा रखे हैं। वह अपने कुल को पवित्र कर देता है, किन्तु अधिक प्रभावशाली ब्राह्मण वैसा नहीं कर सकता।”

प्रॉब्लम ये है कि हमारी परंपरा की एक बड़ी कटी-पिटी सी पढ़ाई हमारे विश्वविद्यालयों में होती है। समाज में भी उनका एक बड़ा अबौद्धिक किस्म का निर्वहन सा होता है। इसी कारण अपने समय के सबसे निरंकुश सत्तावाद के प्रतिरोध और उसकी पराजय के प्रतीक हमारे त्यौहार अपनी गतानुगतिकता में अपनी चमक खोते गए हैं। नहीं तो होली, दशहरा, दीपावली सब अधिनायकवादी सत्ता के खिलाफ संघर्ष के स्मृति-संदर्भ हैं।

रावण हों या महिषासुर या हिरण्यकशिपु इनमें से कोई भी दलित-वंचित नहीं था। सब अधिकारिता का अधिकतम संघनन थे। इन्हें बहुजन जैसे चालू जुमलों का लाभ वही दे सकता है जिसका IQ level ही निगेटिव हो। आज के प्रतिरोध आंदोलनों की सबसे बड़ी त्रासदी यह है कि वे पुराने रेसिस्टेंस मूवमेंट्स से सबक नहीं लेते, बल्कि उनका मूर्खतापूर्ण तिरस्कार करते हैं, उन लोगों के चक्कर में आकर जिनका लक्ष्य भारतीय जीवन-शक्ति का दुर्दमन है।

- विज्ञापन - - लेख आगे पढ़ें -

आज होलिका जैसी दानवी के माध्यम से यदि वे वूमेनहुड का कोई विमर्श रचना चाहें तो प्रह्लाद की बाल-हत्या के प्रयास क्या कहलाएँगे? यह कौन सा वूमेनहुड है जो infanticide पर पनपता है? पूतना और होलिका को खलनायिका से नायिका बनाने की कोशिश बाल-हत्या के महिमामंडन की कोशिश है। उसे ब्राह्मणवाद के विरोध के नाम पर ढका नहीं जा सकता। ब्राह्मण तो वे दधीचि थे, जिन्होंने वृत्रासुर को मारने के लिए अपनी अस्थियाँ दे दीं। वज्र का निर्माण करने वास्ते अपनी हड्डियाँ देने वाले ऋषि।

जब दलित अस्मिता का आइडेंटिफिकेशन पूतना, होलिका और महिषासुर से किया जाता है तब ब्राह्मनिज्म को नुकसान नहीं होता, दलितों की आत्म-छवि को होता है। इन तीनों असुरों की दलित आइकॉन के रूप में प्रशंसा न इन्हें कहीं पहुँचाती है, न दलितों को। स्वयं ही सोचें कि यदि ये वाकई ऐसे आइकॉन हैं जिन पर गर्व कर सकें तो क्या आंबेडकर को आज महिषासुर कह के हम संतुष्ट होंगे या सावित्री फुले को होलिका कह सकेंगे।

यह कोई संयोग नहीं है कि फाल्गुन पूर्णिमा के दिन एक बालक की देह को जलाकर मार देने की कोशिश करने वाली होलिका असुर कहलाई और आज ही के दिन जनकल्याण के लिए अपना देहोत्सर्ग करने वाले दधीचि ब्राह्मण कहलाए।

महिलाओं के साथ ‘छेड़छाड़’ के लिए होली है: लेफ्ट लिबरल और इस्लामिक गैंग प्रोपेगेंडा के साथ लौटा

- विज्ञापन - - लेख आगे पढ़ें -

बरसाने की लट्ठ मार होली देखने पहुँचे देश-विदेश से लाखों लोग, नंदगाँव के हुरियारों पर सखियों ने बरसाईं प्रेम की लाठियाँ

होली खेलता कसाब, साईंभक्त लादेन और PUBG खेलते आतंकी: लोगों ने ‘फॉल्ट न्यूज़’ के यूँ लिए मजे

(लेखक आशुतोष सिंह ठाकुर ‘यंग थिंकर्स फोरम’ के फाउंडिंग डायरेक्टर हैं)

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ख़ास ख़बरें

मोदी-योगी को बताया ‘नपुंसक’, स्मृति ईरानी को कहा ‘दोगली’: अलका लाम्बा की गिरफ्तारी की उठी माँग

अलका लाम्बा PM मोदी और CM योगी के मुँह पर थूकने की बात करते हुए उन्हें नपुंसक बता रहीं। उन्होंने स्मृति ईरानी को 'दोगली' तक कहा और...

‘₹60 लाख रिश्वत लिया AAP MLA प्रकाश जारवाल ने’ – टैंकर मालिकों का आरोप, डॉक्टर आत्महत्या में पहले से है आरोपित

AAP विधायक प्रकाश जारवाल ने पानी टैंकर मालिकों से एक महीने में 60 लाख रुपए की रिश्वत ली है। अपनी शिकायत लेकर 20 वाटर टैंकर मालिकों ने...

‘महाराष्ट्र में मजदूरों को एंट्री के लिए लेनी होगी अनुमति’ – राज ठाकरे ने शुरू की हिंदी-मराठी राजनीति

मजदूरों पर राजनीति करते हुए राज ठाकरे ने CM योगी आदित्यनाथ के 'माइग्रेशन कमीशन' के फैसले पर बयान जारी किया। दरअसल वे हिंदी-मराठी के जरिये...

कॉन्ग्रेस का सन्देश है कि जो गाँधी परिवार के खिलाफ बोलेगा उसे प्रताड़ित किया जाएगा: तजिंदर बग्गा

तजिंदर बग्गा ने पूछा कि अगर सिख नरसंहार में राजीव गाँधी का हाथ नहीं होता तो इसमें शामिल लोगों को मंत्रिपद देकर क्यों नवाजा जाता?

उद्धव सरकार की वजह से खाली लौट रही ट्रेनें, देर रात तक जानकारी माँगते रहे पीयूष गोयल, नहीं मिली पैसेंजरों की लिस्ट

“रात के 12 बज चुके हैं और 5 घंटे बाद भी हमारे पास महाराष्ट्र सरकार से कल की 125 ट्रेनों की डिटेल्स और पैसेंजर लिस्टें नही आई है। मैंने अधिकारियों को आदेश दिया है फिर भी प्रतीक्षा करें और तैयारियाँ जारी रखें।"

घर लौटे श्रमिकों को उत्तर प्रदेश में देंगे रोजगार, बीमा सहित सामाजिक सुरक्षा होगी सुनिश्चित: योगी आदित्यनाथ

जो भी राज्य चाहता है कि प्रदेश के प्रवासी कामगार उनके यहाँ वापस आएँ, उन्हें राज्य सरकार से इसकी इजाजत लेनी होगी

प्रचलित ख़बरें

गोरखपुर में चौथी के बच्चों ने पढ़ा- पाकिस्तान हमारी प्रिय मातृभूमि है, पढ़ाने वाली हैं शादाब खानम

गोरखपुर के एक स्कूल के बच्चों की ऑनलाइन पढ़ाई के लिए बने व्हाट्सएप ग्रुप में शादाब खानम ने संज्ञा समझाते-समझाते पाकिस्तान प्रेम का पाठ पढ़ा डाला।

‘न्यूजलॉन्ड्री! तुम पत्रकारिता का सबसे गिरा स्वरुप हो’ कोरोना संक्रमित को फ़ोन कर सुधीर चौधरी के विरोध में कहने को विवश कर रहा NL

जी न्यूज़ के स्टाफ ने खुलासा किया है कि फर्जी ख़बरें चलाने वाले 'न्यूजलॉन्ड्री' के लोग उन्हें लगातार फ़ोन और व्हाट्सऐप पर सुधीर चौधरी के खिलाफ बयान देने के लिए विवश कर रहे हैं।

राजस्थान के ‘सबसे जाँबाज’ SHO विष्णुदत्त विश्नोई की आत्महत्या: एथलीट से कॉन्ग्रेस MLA बनी कृष्णा पूनिया पर उठी उँगली

विष्णुदत्त विश्नोई दबंग अफसर माने जाते थे। उनके वायरल चैट और सुसाइड नोट के बाद कॉन्ग्रेस विधायक कृष्णा पूनिया पर सवाल उठ रहे हैं।

रवीश ने 2 दिन में शेयर किए 2 फेक न्यूज! एक के लिए कहा: इसे हिन्दी के लाखों पाठकों तक पहुँचा दें

NDTV के पत्रकार रवीश कुमार ने 2 दिन में फेसबुक पर दो बार फेक न्यूज़ शेयर किया। दोनों ही बार फैक्ट-चेक होने के कारण उनकी पोल खुल गई। फिर भी...

तब भंवरी बनी थी मुसीबत का फंदा, अब विष्णुदत्त विश्नोई सुसाइड केस में उलझी राजस्थान की कॉन्ग्रेस सरकार

जिस अफसर की पोस्टिंग ही पब्लिक डिमांड पर होती रही हो उसकी आत्महत्या पर सवाल उठने लाजिमी हैं। इन सवालों की छाया सीधे गहलोत सरकार पर है।

हमसे जुड़ें

206,924FansLike
60,016FollowersFollow
241,000SubscribersSubscribe
Advertisements