Saturday, July 13, 2024
Homeविविध विषयधर्म और संस्कृतिभूतल में राम लला, प्रथम तल पर पूरा परिवार: 2023 में ही पूरा हो...

भूतल में राम लला, प्रथम तल पर पूरा परिवार: 2023 में ही पूरा हो जाएगा राम मंदिर का निर्माण, 1 हजार साल तक नहीं पड़ेगी मरम्मत की जरूरत

चम्पत राय ने राम मंदिर के निर्माण से जुड़ी जानकारियाँ देते हुए बताया कि राम मंदिर को इस तरह से बनाया जा रहा है कि इसमें 1 हजार साल तक मरम्मत की जरूरत न पड़े।

विश्व हिन्दू परिषद (VHP) के अंतर्राष्ट्रीय उपाध्यक्ष चम्पत राय ने अपने बयान में कहा है कि अयोध्या में भगवान राम के निर्माणाधीन मंदिर का इसी साल दिसंबर माह में पूरा हो जाएगा। उन्होंने कहा है कि मंदिर में जो मूर्ति स्थापित होगी वह राम के बालक रूप की होगी। मूर्ति की प्राण प्रतिष्ठा के लिए उन्होंने कहा कि साल 2024 में 15 जनवरी से 26 जनवरी के बीच जो भी तारीख सही निकलेगी उस दिन मूर्ति की प्राण प्रतिष्ठा की जाएगी। चम्पत राय ने यह बयान रविवार (16 जनवरी 2023) को दिया है।

चम्पंत राय ने बताया कि मंदिर के गर्भगृह में स्थापित होने वाली मूर्ति भगवान राम के 5 वर्षीय बालक रूप की है। प्रतिमा भूतल में मौजूद रहेगी। इन प्रतिमाओं का निर्माण भी अयोध्या में शुरू हो गया है जिसे अक्टूबर तक पूरा कर लिए जाने की उम्मीद है। राम मंदिर की चौखट मार्बल की है। इसके दरवाजे महाराष्ट्र से आई लकड़ी के बने हैं जिन पर अयोध्या में ही नक्काशी करवाई जा रही है। चम्पत राय ने फिनिशिंग टच जैसे छोटे-मोटे काम दिसंबर तक पूरा हो जाने की उम्मीद जताई है।

मूर्तियों की प्राण-प्रतिष्ठा के लिए चम्पत राय ने 15 से 24 जनवरी 2024 के बीच की तारीख़ उपयुक्त बताया। 15 जनवरी को मकर संक्रांति और इसी माह 26 को गणतंत्र दिवस के बीच की तारीख को भगवान राम की मूर्ति की प्राण प्रतिष्ठा के लिए चम्पत राय ने उत्तम समय बताया है। इस मंदिर के पहले फ्लोर पर भगवान राम का परिवार विराजमान होगा। सेकेंड फ्लोर पर अभी तक किसी भी प्रतिमा की स्थापना की योजना न बताते हुए चम्पत राय ने कहा कि उसे मंदिर को ऊँचाई देने के लिए बनाया गया है। पिछले माह 22 जून को चम्पत राय ने निर्माणाधीन मंदिर के कुछ हिस्सों की तस्वीरें भी शेयर की थीं।

चम्पत राय ने आगे बताया कि एक अनुमान के मुताबिक मंदिर निर्माण में 21 लाख ग्रेनाइट, घनपुट, सैंड स्टोन और मार्बल प्रयोग हो रहा है। उन्होंने यह भी दावा किया कि मंदिर के हर हिस्से को ऐसी मजबूती से बनाया जा रहा है जिसे लगभग 1 हजार वर्ष तक मरम्मत की जरूरत नहीं पड़ेगी।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

लैंड जिहाद की जिस ‘मासूमियत’ को देख आगे बढ़ जाते हैं हम, उससे रोज लड़ते हैं प्रीत सिंह सिरोही: दिल्ली को 2000+ मजार-मस्जिद जैसी...

प्रीत सिरोही का कहना है कि वह इन अवैध इमारतों को खाली करवाएँगे। इन खाली हुई जमीनों पर वह स्कूल और अस्पताल बनाने का प्रयास करेंगे।

‘आपातकाल तो उत्तर भारत का मुद्दा है, दक्षिण में तो इंदिरा गाँधी जीत गई थीं’: राजदीप सरदेसाई ने ‘संविधान की हत्या’ को ठहराया जायज

सरदेसाई ने कहा कि आपातकाल के काले दौर में पूरे देश पर अत्याचार करने के बाद भी कॉन्ग्रेस चुनावों में विजयी हुई, जिसका मतलब है कि लोग आगे बढ़ चुके हैं।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -