Wednesday, July 24, 2024
Homeविविध विषयमनोरंजनये Filmfare नहीं, Unfair अवॉर्ड्स... 7 नॉमिनेशन, लेकिन निर्माता को बुलाया ही नहीं: बोले...

ये Filmfare नहीं, Unfair अवॉर्ड्स… 7 नॉमिनेशन, लेकिन निर्माता को बुलाया ही नहीं: बोले ‘The Kashmir Files’ के प्रोड्यूसर – ये जनता की फिल्म

अभिषेक अग्रवाल ने कहा कि अब समय आ गया है जब मनोरंजन इंडस्ट्री को निर्माताओं को सम्मान देना चाहिए, क्योंकि वही होते हैं जो स्टार्स बनाते हैं।

मार्च 2022 में रिलीज हुई ‘द कश्मीर फाइल्स’ को जनता का काफी प्यार मिला था और दुनिया भर में इसने 250 करोड़ रुपए कमा कर सनसनी मचा दी थी। अब ‘Filmfare Awards 2023’ में फिल्म को 7 कैटेगरी में नॉमिनेट किया गया था। लेकिन, निर्देशक विवेक अग्निहोत्री ने नॉमिनेशन को ठुकरा दिया। अब फिल्म के निर्माता अभिषेक अग्रवाल ने फिल्मफेयर को अन्यायपूर्ण बताते हुए आरोप लगाया है कि उन्हें समारोह में आमंत्रित तक नहीं किया गया।

अभिषेक अग्रवाल ने कहा कि उन्होंने दुनिया को एक सच्ची कहानी बताने के लिए ‘The Kashmir Files’ जैसी फिल्म का निर्माण किया और इसका समर्थन किया, जो बॉक्स ऑफिस पर ब्लॉकबस्टर भी हुई। उन्होंने आश्चर्य जताया कि फिल्म को फिल्मफेयर में 7 नॉमिनेशन मिले, लेकिन समारोह में उन्हें इन्वाइट तक नहीं किया गया। बता दें कि फिल्मफेयर अवॉर्ड्स में पुरस्कारों का ऐलान हो चुका है और ‘द कश्मीर फाइल्स’ को एक भी अवॉर्ड नहीं दिया गया।

अभिषेक अग्रवाल ने कहा कि अब समय आ गया है जब मनोरंजन इंडस्ट्री को निर्माताओं को सम्मान देना चाहिए, क्योंकि वही होते हैं जो स्टार्स बनाते हैं। बकौल अभिषेक अग्रवाल, सम्मान और पहचान मिलने पर फिल्म निर्माताओं और बड़ी कहानियाँ कहने के लिए प्रेरणा मिलेगी। अभिषेक अग्रवाल द्वारा निर्मित ‘कार्तिकेय 2’ भी सुपरहिट रही थी और रवि तेजा अभिनीत उनकी अगली फिल्म ‘टाइगर नागेश्वर राव’ को रिलीज से पहले ही अच्छी प्रतिक्रिया मिल रही है।

‘द कश्मीर फाइल्स’ को ‘जनता की फिल्म’ बताते हुए अभिषेक अग्रवाल ने कहा, “फिल्मफेयर में इसे 7 नॉमिनेशंस ख़ुशी की बात है, क्योंकि जनता के दबाव में उन्हें ऐसा करना ही था। उनके पास विकल्प नहीं थे। मेरी फिल्म को 7 नामांकन मिले, लेकिन मुझे कोई इन्वाइट नहीं आया। जनता का प्यार और आशीर्वाद जब तक मेरे साथ है, मैं काम करता जाऊँगा। लेकिन, हमें ये समझना होगा कि जैसे डायरेक्टर-एक्टर के बिना फिल्म नहीं बन सकती, वैसे ही प्रोड्यूसर के बिना भी नहीं बन सकती।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

औरतें और बच्चियाँ सेक्स का खिलौना नहीं… कट्टर इस्लामी मानसिकता पर बैन लगाओ, OpIndia पर नहीं: हज पर यौन शोषण की खबरें 100% सच

हज पर मुस्लिम महिलाओं और बच्चियों का यौन शोषण होता है, यह खबर 100% सत्य है। BBC, Washington Post और अरब देश की मीडिया में भी यह छपा है।

‘मेरे बेटे को मार डाला’: आधुनिक पश्चिमी सभ्यता ने दुनिया के सबसे अमीर शख्स को भी दे दिया ऐसा दर्द, कहा – Woke वाले...

लिंग-परिवर्तन कराने वाले को उसके पुराने नाम से पुकारना 'Deadnaming' कहलाता है। उन्होंने कहा कि इसका अर्थ है कि उनका बेटा मर चुका है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -