Sunday, October 17, 2021
Homeविविध विषयमनोरंजनहिंदूफोबिक कंटेट से लेकर वामपंथियों की सरपरस्ती तक, अमेजन प्राइम वाली अपर्णा पुरोहित की...

हिंदूफोबिक कंटेट से लेकर वामपंथियों की सरपरस्ती तक, अमेजन प्राइम वाली अपर्णा पुरोहित की कारस्तानी कई

एक फेसबुक पोस्ट में वे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को बदनाम करते हुए उन्हें 'अपराधी' की तरह दिखा चुकी हैं। उन्होंने जेएनयू में हुई वामपंथी छात्रों की हिंसा के लिए पीएम मोदी और अमित शाह को जिम्मेदार ठहराया था। वो 'द वायर' जैसे मीडिया पोर्टलों के लेख भी शेयर करती रहती हैं।

भारत में ‘अमेज़न प्राइम’ की कंटेंट हेड अपर्णा पुरोहित के खिलाफ भाजपा नेताओं ने आवाज़ उठाई है और कंपनी से उन्हें बरखास्त करने की माँग की है। भाजपा नेता तजिंदर पाल सिंह बग्गा ने सोशल मीडिया के माध्यम से कुछ स्क्रीनशॉट्स शेयर कर दावा किया कि वे वामपंथी झुकाव वाली हैं। अपर्णा पुरोहित ने सद्गुरु जग्गी वासुदेव के खिलाफ भी पोस्ट शेयर किया था। उसमें उन्हें ‘फ्रॉड’ बताया गया था।

एक अन्य सोशल मीडिया पोस्ट में उन्होंने CAA और NRC के खिलाफ चल रहे दुष्प्रचार अभियान का भी साथ दिया था और वरुण ग्रोवर की कविता ‘हम कागज़ नहीं दिखाएँगे’ को आगे बढ़ाया था। उन्होंने लिखा था कि वरुण ग्रोवर ने इन शब्दों को काफी अच्छे से पिरोया है। CAA विरोधी आंदोलन के दौरान वामपंथी मीडिया की खबरों को शेयर करते हुए उन्होंने लिखा था- ‘यही है विकास का सच’ और मोदी सरकार पर कटाक्ष किया था।

जामिया हिंसा मामले में भी उन्होंने हिंसा करने वाले कट्टर इस्लामी छात्रों का साथ दिया था। भाजपा आईटी सेल के अध्यक्ष अमित मालवीय ने एक पत्र लिख कर ऑपइंडिया की खबर कंपनी के कंट्री हेड को भेजते हुए ‘अमेज़न प्राइम’ पर चल रहे हिन्दूविरोधी कंटेंट्स को लेकर चिंता जताई थी। इसमें उन्होंने लिखा था कि कैसे अपर्णा पुरोहित के अंतर्गत वीडियो प्लेटफॉर्म पर हिन्दू विरोधी कंटेंटस परोसे जा रहे हैं।

इससे पहले ‘पाताल लोक’ नामक एक सीरीज में जम कर हिन्दू विरोधी कंटेंट्स डाले गए थे। उसमें भी देवी-देवताओं का अपमान, मंदिर का अपमान और जातिवादी कंटेंट्स थे। अपर्णा पुरोहित ही ‘अमेज़न प्राइम’ की क्रिएटिव डेवलपमेंट टीम की हेड हैं। साथ ही वो प्लेटफार्म की ‘ओरिजिनल वेब टीम’ की इंचार्ज भी हैं। अपर्णा पुरोहित जामिया मिल्लिया इस्लामिया यूनिवर्सिटी से पढ़ी हैं। उनका कहना है कि वे 15 वर्षों से फ़िल्में बनाने के काम में हैं।

एक फेसबुक पोस्ट में वे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को बदनाम करते हुए उन्हें ‘अपराधी’ की तरह दिखा चुकी हैं। उन्होंने जेएनयू में हुई वामपंथी छात्रों की हिंसा के लिए पीएम मोदी और अमित शाह को जिम्मेदार ठहराया था। वो ‘द वायर’ जैसे मीडिया पोर्टलों के लेख भी शेयर करती रहती हैं। उन्होंने अरुंधति रॉय का वीडियो भी शेयर किया था। वह स्वरा भास्कर जैसों का बचाव करते हुए भी नजर आई थीं। उन्होंने CAA विरोधी प्रदर्शनों के दौरान फेक न्यूज़ भी शेयर की थी

बता दें कि वेब सीरिज ‘तांडव’ में हिंदुओं की भावनाओं को आहत करने वाले दृश्यों तथा डायलॉग को लेकर मचे बवाल के बाद बहुजन समाज पार्टी (BSP) की प्रमुख मायावती ने भी इस पूरे मामले पर प्रतिक्रिया दी है। उनका कहना है कि सीरीज से विवादित दृश्यों को हटा देना ही सबसे उचित होगा। इस बाबत लखनऊ मध्य के हजरतगंज थाने में रविवार (जनवरी 17, 2021) को केस भी दर्ज किया गया था।

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘बेअदबी करने वालों को यही सज़ा मिलेगी, हम गुरु की फौज और आदि ग्रन्थ ही हमारा कानून’: हथियारबंद निहंगों को दलित की हत्या पर...

हथियारबंद निहंग सिखों ने खुद को गुरू ग्रंथ साहिब की सेना बताया। साथ ही कहा कि गुरु की फौजें किसानों और पुलिस के बीच की दीवार हैं।

सरकारी नौकरी से निकाला गया सैयद अली शाह गिलानी का पोता, J&K में रिसर्च ऑफिसर बन कर बैठा था: आतंकियों के समर्थन का आरोप

अलगाववादी नेता रहे सैयद अली शाह गिलानी के पोते अनीस-उल-इस्लाम को जम्मू कश्मीर में सरकारी नौकरी से निकाल बाहर किया गया है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
129,107FollowersFollow
411,000SubscribersSubscribe