Wednesday, April 17, 2024
Homeविविध विषयमनोरंजनLock Upp का विजेता बना मुनव्वर फारूकी: खुद का यौन शोषण, छोड़ चुके बीवी-बच्चे...

Lock Upp का विजेता बना मुनव्वर फारूकी: खुद का यौन शोषण, छोड़ चुके बीवी-बच्चे और अम्मी के तेजाब पीने की कहानी… जानें पूरा सफर

जिस तरह से Lock Upp से मुनव्वर फारूकी की खबरों को मीडिया में प्रसारित किया गया, उससे शो निर्माताओं की नीयत पर सवाल उठे। माना जा रहा है कि मुनव्वर ने अपनी हिन्दू विरोधी छवि को सुधारने की कोशिश की है।

विवादित कॉमेडियन मुनव्वर फारुकी ने रियलिटी शो लॉक अप (Lock Upp) का पहला भाग जीत लिया है। इस जीत के बाद उन्हें 20 लाख रुपए कैश के साथ एक मारूति अर्टिगा कार इनाम में मिली। साथ ही उन्हें विदेश में इटली की यात्रा का भी मौका दिया गया। फाइनल में उन्होंने बॉलीवुड अभिनेत्री पायल रोहतगी को हराया। यह घोषणा 7 मई 2022 (शनिवार) को देर रात हुई।

जीत के बाद मुनव्वर फारुकी (Munawar Faruqui) ने बाहर निकल कर शेर सुनाया। उन्होंने कहा, “उठा तूफ़ान जो दस्तक दे कर आया, अकेला था लगा लश्कर ले कर आया। पूछेंगे कि किस की है ये लोहे जैसी लेगसी, कहना वो डोंगरी वाला आग ले कर आया।”

मीडिया से बात करते हुए फारुकी ने कहा, “बहुत ख़ुशी हो रही है जीत के बाद। बहुत मेहनत की थी मैंने। लोगों की दुआएँ मेरे साथ थीं। लॉक अप में हर पल हसीन था। यहाँ हम रोए, हँसे और नाचे-गाए। ये जगह छोड़ने में बुरा लगा रहा। पायल मजबूत प्रतिद्वंद्वी थीं। लेकिन मैं सोचंता था कि मेरा समाज के लिए किया गया काम और लोगों को दिया गया मज़ा जीतने के लिए पायल रोहतगी से बेहतर है। हालाँकि मैं नर्वस था।”

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक लॉकअप OTT प्लेटफॉर्म का सबसे विवादित रियलिटी शो माना जाता है। इस शो में मुनव्वर फारुकी ने अपनी पर्नसल जिंदगी से जुड़े कई खुलासे किए थे। माना जा रहा है कि मुनव्वर ने इन खुलासों के साथ अपनी कथित हिन्दू विरोधी छवि को सुधारने की कोशिश की। इस दौरान उन्होंने बचपन में अपने साथ यौन शोषण होने और अपनी माँ के तेजाब पीने जैसे खुलासे किए।

मुनव्वर फारुकी के मुताबिक उनके रिश्तेदारों ने ही उनका 6 साल की उम्र से 11 साल का होने तक यौन शोषण किया था। इसी के साथ बचपन में उनकी अम्मी ने तेजाब पी लिया था और वे उसके कुछ दिन पहले से कुछ खा नहीं रही थीं। फारूकी ने बताया था कि उनकी माँ अपनी शादी में कभी खुश नहीं थीं। उन्हें पीटा जाता था, लड़ाई होती थी।

गौरतलब है कि मुनव्वर फारुकी अपनी असल जिंदगी में अपनी बीवी और बच्चों से अलग रहते हैं। उनका केस कोर्ट में चल रहा है। लेकिन ‘लॉक अप’ में अंजली और सायशा से मिले धोखे से मुनव्वर का दिल इस कदर टूट गया था कि वह शो में प्रिंस के सामने रोने लगा था। जिस तरह से लॉकअप से मुनव्वर फारूकी की खबरों को मीडिया में प्रसारित किया गया, उससे शो निर्माताओं की नीयत पर सवाल उठे थे।

फारुकी के कॉमेडी पंच, खेल स्ट्रैटेजी, सादगी को बाकियों से हटकर दिखाया गया। जितना प्रमोशन फारूकी का सोशल मीडिया पर हुआ, उतना शायद ही 1 मिलियन फॉलोवर वाली अंजलि अरोड़ा या टीवी इंडस्ट्री के मशहूर करणवीर बोहरा जैसे अन्य प्रतिभागियों का हुआ।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

नॉर्थ-ईस्ट को कॉन्ग्रेस ने सिर्फ समस्याएँ दी, BJP ने सम्भावनाओं का स्रोत बनाया: असम में बोले PM मोदी, CM हिमंता की थपथपाई पीठ

PM मोदी ने कहा कि प्रभु राम का जन्मदिन मनाने के लिए भगवान सूर्य किरण के रूप में उतर रहे हैं, 500 साल बाद अपने घर में श्रीराम बर्थडे मना रहे।

शंख का नाद, घड़ियाल की ध्वनि, मंत्रोच्चार का वातावरण, प्रज्जवलित आरती… भगवान भास्कर ने अपने कुलभूषण का किया तिलक, रामनवमी पर अध्यात्म में एकाकार...

ऑप्टिक्स और मेकेनिक्स के माध्यम से भारत के वैज्ञानिकों ने ये कमाल किया। सूर्य की किरणों को लेंस और दर्पण के माध्यम से सीधे राम मंदिर के गर्भगृह में रामलला के मस्तक तक पहुँचाया गया।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
282,677FollowersFollow
417,000SubscribersSubscribe