Tuesday, July 16, 2024
Homeविविध विषयमनोरंजन'मानसिक संतुलन बनाए रखने के लिए कर रही संघर्ष': 'ट्रॉलिंग' के कारण डॉक्टरों के...

‘मानसिक संतुलन बनाए रखने के लिए कर रही संघर्ष’: ‘ट्रॉलिंग’ के कारण डॉक्टरों के भरोसे स्वरा भास्कर, नई फिल्म रिलीज होते ही हो गई सुपर फ्लॉप

उन्होंने कहा कि करण जौहर को कोई पसंद नहीं करता है, तो इसका मतलब ये नहीं कि वो हत्यारा हैं।

बॉलीवुड अभिनेत्री स्वरा भास्कर ने कहा है कि ‘ट्रॉलिंग’ के कारण वो अपना मानसिक संतुलन बनाए रखने के लिए डॉक्टरों की मदद लेती हैं। उनकी फिल्म ‘जहाँ चार यार’ भी बॉक्स ऑफिस पर बुरी तरह फ्लॉप हो चुकी है। उन्होंने बॉलीवुड के सभी लोगों से एकजुट होने की अपील करते हुए कहा कि एकता बनी रहेगी तो हमले कम होंगे। स्वरा भास्कर ने कहा कि ये फिल्म इंडस्ट्री के लिए सामान्य समय नहीं चल रहा है और इसे निशाना बनाया जा रहा है।

स्वरा भास्कर का दावा है कि उन्हें सोशल मीडिया पर खासा ट्रॉल किया जाता है और साथ ही उन्हें धमकियाँ भी मिलती हैं। ‘ABP News’ के अनुसार, स्वरा भास्कर ने कहा कि अपना मानसिक संतुलन बनाए रखने के लिए वो संघर्ष करती हैं और सभी मुद्दों पर अपने डॉक्टरों से बात करती रहती हैं। उन्होंने ‘कनेक्ट FM कनाडा’ से बात करते हुए ये कहा। उन्होंने कहा कि करण जौहर को कोई पसंद नहीं करता है, तो इसका मतलब ये नहीं कि वो हत्यारा हैं।

उन्होंने इस दौरान अक्षय कुमार पर भी निशाना साधते हुए कहा कि वो जिस तरह की फिल्मों का समर्थन करते हैं, उससे वो सहमत नहीं हैं। स्वरा भास्कर ने कहा कि बॉलीवुड में कोई एक सुर में नहीं बोलता है और यही दिक्कत है। हाल ही में स्वरा भास्कर ने अपनी ताज़ा फिल्म ‘जहाँ चार यार’ के स्क्रीनिंग में AAP (आम आदमी पार्टी) के विधायकों को बुलाया था। दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल की पत्नी सुनीता भी स्क्रीनिंग में मौजूद थीं।

हम आपको बता चुके हैं कि स्वरा भास्कर की फिल्म ‘जहाँ चार यार’ शुक्रवार (16 सितंबर, 2022) को रिलीज तो हो गई, लेकिन न तो थिएटर में दर्शकों का अता-पता है और न ही IMDb पर रेटिंग का। IMDb पर फिल्म को मात्र 4.5 रेटिंग मिली है। पहले ये 1.1 थी, लेकिन अचानक से 10 रेटिंग दे-दे कर इसे बढ़ाया गया। वहीं समीक्षकों ने भी इस फिल्म को बड़ी तरह नकारते हुए कहा है कि ये भद्दे डायलॉग्स और पकाऊ कॉमेडी से भरी पड़ी है।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

जिस भोजशाला को मुस्लिम कहते हैं कमाल मौलाना मस्जिद, वह मंदिर ही है: ASI ने हाई कोर्ट को बताया- मंदिरों के हिस्से पर बने...

मध्य प्रदेश हाई कोर्ट को सौंपी गई रिपोर्ट में ASI ने कहा है कि भोजशाला का वर्तमान परिसर यहाँ पहले मौजूद मंदिर के अवशेषों से बनाया गया था।

भारतवंशी पत्नी, हिंदू पंडित ने करवाई शादी: कौन हैं JD वेंस जिन्हें डोनाल्ड ट्रम्प ने चुना अपना उपराष्ट्रपति उम्मीदवार, हमले के बाद पूर्व अमेरिकी...

पूर्व राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प को रिपब्लिकन पार्टी के नेशनल कंवेंशन में राष्ट्रपति और सीनेटर JD वेंस को उपराष्ट्रपति उम्मीदवार चुना है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -