Tuesday, July 23, 2024
Homeविविध विषयमनोरंजनबॉलीवुड गैंग से लेकर सुशांत के दर्द तक पर बोले विवेक ओबेरॉय, लेकिन ऐश्वर्या...

बॉलीवुड गैंग से लेकर सुशांत के दर्द तक पर बोले विवेक ओबेरॉय, लेकिन ऐश्वर्या राय पर नहीं तोड़ी चुप्पी: कहा- सुसाइड की सोच रहा था

विवेक ओबेरॉय ने कहा कि बॉलीवुड के पावरफुल लोगों की वजह से उनका ​करियर तबाह हो गया। हिट फिल्में देने के बाद बावजूद उनके पास कोई काम नहीं था। उन्होंने कहा, "मैं सुशांत सिंह राजपूत और उनके जैसे अन्य लोगों का दर्द समझ सकता हूँ, क्योंकि मैं भी उस बुरे दौर से गुजर चुका हूँ।"

बॉलीवुड को ‘कंपनी’ और ‘साथिया’ जैसी फिल्में देने वाले अभिनेता विवेक ओबेरॉय (Vivek Oberoi) का हाल ही में बॉलीवुड बबल (Bollywood Bubble) को दिया गया एक्सक्लूसिव इंटरव्यू खासा चर्चा में है। इस इंटरव्यू में उन्होंने ऐश्वर्या राय संग अपने रिश्ते पर जहाँ चुप्पी साध ली। वहीं बॉलीवुड पर कुछ लोगों के कंट्रोल समेत कई चौंकाने वाले खुलासे किए।

विवेक ओबेरॉय ने बताया कि बॉलीवुड के पावरफुल लोगों की वजह से उनका ​करियर तबाह हो गया। हिट फिल्में देने के बाद बावजूद उनके पास कोई काम नहीं था। उन्होंने कहा, “मैं सुशांत सिंह राजपूत और उनके जैसे अन्य लोगों का दर्द समझ सकता हूँ, क्योंकि मैं भी उस बुरे दौर से गुजर चुका हूँ, जब मेरे मन में सब कुछ खत्म करने का विचार आया था।”

बॉलीवुड से ओटीटी का रुख करने वाले अभिनेता ने खुलासा किया कि डेढ़ साल तक उनके पास कोई काम नहीं था। वह ऑडिशन देने के लिए प्रोडक्शन ऑफिस के बाहर कई देर तक खड़े रहते थे, लेकिन उन्होंने कभी भी किसी को ये नहीं बताया वह बॉलीवुड के दिग्गज अभिनेता सुरेश ओबेरॉय के बेटे हैं। कई विवादों और परेशानियों के चलते वह अपने रास्ते से भटक गए थे। लेकिन इस दौरान अभिनेता की पत्नी प्रियंका ओबेरॉय ने उनकी काफी मदद की।

विवेक ने कहा, “एक समय मेरे मन में बहुत नेगटिव विचार आए, लेकिन इससे बाहर निकलने में मेरे परिवार ने मेरी मदद की।” उन्होंने कहा, “मैं अपने आसपास की नकारात्मकता से काफी परेशान रहता था। शायद यही एजेंडा था। एजेंडा कभी-कभी आपको मानसिक रूप से तोड़ने काम करता है। लेकिन इस दौरान मेरी पत्नी प्रियंका ने मुझे साहस दिया और इस बुरे दौर से निकलने में अहम भूमिका निभाई। उसकी वजह से ही मैं यह जान पाया ​कि मैं कौन हूँ।”

ओबेरॉय ने आगे कहा कि ‘सब कुछ खत्म करने’ का मतलब काफी गहरा है, इसलिए वह सुशांत सिंह राजपूत और अन्य लोगों के साथ जो हुआ उस डार्क साइड और दर्द को महसूस कर सकते हैं। इंडस्ट्री के पावरफुल लोग टैलेंटड लोगों से खुद को असुरक्षित महसूस करते हैं। बॉलीवुड कुछ लोगों के कंट्रोल में है।

हालाँकि, ऐश्वर्या राय संग रिश्ते पर सवाल सुनकर विवेक ओबेरॉय ने चुप्पी साध ली। एक समय ऐसा भी था, जब विवेक ओबेरॉय और ऐश्वर्या राय के रिलेशनशिप की खबरें हर टीवी चैनल और अखबार का हिस्सा बनती थीं। इसके साथ ही सलमान खान के विवेक ओबरॉय से भिड़ने की खबर भी किसी ​से छिपी नहीं है। इसी बीच जब इंटरव्यू में विवेक से पूछा गया, “अगर करियर की शुरुआत में एक्स गर्लफेंड ऐश्वर्या राय संग रिलेशनशिप को पब्लिक नहीं किया होता तो?” इस सवाल पर एक्टर ने कुछ भी कहने से इनकार कर दिया। उन्होंने कहा कि अब सब खत्म हो चुका है।

वह कहते हैं कि ये जगह काफी भयावह हो सकती है। यहाँ आपको कुचलने की कोशिश में लोग क्रूर हो सकते हैं। एक झूठ बार-बार बोला जाए, तो वह भी सच लगने लगता है। आपको यह बात मानने पर मजबूर किया जाता है कि यही आपकी सच्चाई है। लेकिन सच को आप ज्यादा दिनों तक नहीं छिपा सकते हैं। जब आप शांति से, खुशी मन से अपनी ता​कत को पहचानेगे तो खुद ही महसूस करेंगे कि आपकी सच्चाई क्या है। कोई भी झूठ इसका स्थान नहीं ले सकता है।

जब उनसे पूछा गया कि आपको इस दर्द से लड़ने और आगे बढ़ने की ताकत कैसे मिली, तो उन्होंने कहा, “मेरी माँ।” विवेक कहते हैं, “मेरी माँ ने मुझे इस दर्द से बाहर निकालने के लिए उन बच्चों से मिलवाया, जो टाटा मेमोरियल अस्पताल में कैंसर की बीमारी से जूझ रहे थे। जब मैं वहाँ गया, तो वे बच्चे मुझे मुस्कराते हुए दिखाई दिए। उस दिन मुझे दो बातें समझ में आईं, एक तो मेरी परेशानी उन बच्चों और माता-पिता के आगे कुछ भी नहीं है। इसलिए, मैं इससे निपट सकता हूँ। दूसरा यह है कि सेलिब्रिटी, लोकप्रियता, सफलता केवल ईश्वर का उपहार है। वास्तव में वही आँसू पोंछ सकता है और लोगों के चेहरे पर मुस्कान ला सकता है। यही वह शक्ति है जिससे मेरा हौसला बढ़ा। अब मैं खुद को एक व्यक्ति के रूप में अधिक संपूर्ण और बहुत खुश महसूस करता हूँ।

बता दें कि हाल ही में विवेक ओबेरॉय को मैक्स प्लेयर पर सुनील शेट्टी के साथ ‘धारावी बैंक‘ वेब सीरीज में देखा गया। इसमें उनके किरदार को दर्शकों ने खूब पसंद किया। ‘धारावी बैंक’ की कहानी मुंबई के स्लम धारावी पर आधारित है।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

नेचुरल फार्मिंग क्या है, बजट में क्यों इसे 1 करोड़ किसानों से जोड़ने का ऐलान: गोबर-गोमूत्र के इस्तेमाल से बढ़ेगी किसानों की आय

प्राकृतिक खेती एक रसायनमुक्त व्यवस्था है जिसमें प्राकृतिक संसाधनों का इस्तेमाल किया जाता है, जो फसलों, पेड़ों और पशुधन को एकीकृत करती है।

नारी शक्ति को मोदी सरकार ने समर्पित किए ₹3 लाख करोड़: नौकरी कर रहीं महिलाओं और उनके बच्चों के लिए भी रहने की सुविधा,...

बजट में महिलाओं की हिस्सेदारी कार्यबल में बढ़ाने पर काम किया गया है। इसके अलावा कामकाजी महिलाओं के लिए छात्रावास स्थापित करने का भी ऐलान हुआ।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -