Saturday, January 16, 2021
Home विविध विषय भारत की बात जहाँ एक नपुंसक ने मुग़ल शहजादों को औरतों के कपड़े में नचाया: लाल किला...

जहाँ एक नपुंसक ने मुग़ल शहजादों को औरतों के कपड़े में नचाया: लाल किला की कहानी

लाल किला की नींव भले ही 29 अप्रैल को पड़ गई थी लेकिन इसके निर्माण की प्रक्रिया 12 मई को शुरू हुई थी। इतने दिन का अंतराल रखने की वजह यह पता लगाना था कि कुछ ही दूर बह रही यमुना से इस निर्माण को ख़तरा तो नहीं होगा? लाल किला 1648 में बन कर अंतिम रूप से तैयार हुआ।

लाल किला का भारत के इतिहास में अहम स्थान है। हर स्वतंत्रता दिवस पर 15 अगस्त को भारत के प्रधानमंत्री यही पर झंडोतोलन करते हैं और फिर यहाँ से राष्ट्र को सम्बोधित करते हैं। अप्रैल 29 के दिन ही 1639 में इसकी नींव पड़ी थी।

इससे कुछ ही दूरी पर स्थित है सलीमगढ़ किला, जिसे शेरशाह सूरी ने बनवाया था। लाल किले के बनने से पहले मुग़ल जब आगरा से दिल्ली आते थे तो इसे ही अपना ठिकाना बनाते थे। ख़ासकर गर्मियों में ऐसा होता था। जहाँ पर किला-ए-कहुना, यानी पुराना किला स्थित था, उस जगह को मुग़ल मनहूस मानने लगे थे क्योंकि वहाँ हुमायूँ की असमय मृत्यु हुई थी।

कैसे बना था लाल किला?

शाहजहाँ चाहता था कि वो एक नया शहर बसाए, आगरा की तरह- नदी के किनारे बसा हुआ। मकरमत खान को इस किले के निर्माण के निगरानी की जिम्मेदारी दी गई और ग़ैरत ख़ान को उसकी सहायता करने भेजा गया। उस्ताद हामिद और उस्ताद अहमद को इस किले के निर्माण की जिम्मेदारी सौंपी गई। शाहजहाँ ख़ुद इसके निर्माण में दिलचस्पी ले रहा था और वास्तुकला से जुडी चीजों की भी समीक्षा करता था। जब वो शहजादा था, तब अहमदाबाद का गवर्नर रहते हुए उसे आर्किटेक्चर की अच्छी ट्रेनिंग मिली थी। लिहाजा उसे इन चीजों की समझ थी। ऐसा कहा जाता है कि शाहजहाँ वेश बदल कर भी निर्माण स्थल पर जाता था।

हालाँकि, लाल किला की नींव भले ही 29 अप्रैल को पड़ गई थी लेकिन इसके निर्माण की प्रक्रिया 12 मई को शुरू हुई थी। इतने दिन का अंतराल रखने की वजह यह पता लगाना था कि कुछ ही दूर बह रही यमुना से इस निर्माण को ख़तरा तो नहीं होगा? लाल किला 1648 में बन कर अंतिम रूप से तैयार हुआ। दीवान-ए-आलम की दीवालों को सिल्क से ढका गया और दरबार में फर्श पर महँगे कार्पेट बिछाए गए। चीन और तुर्कमेनिस्तान से सिल्क और वेलवेट मँगाए गए थे। शाहजहाँ ने नदी की तरफ वाले गेट से किले में पहली बार क़दम रखा और उसके बेटे ऊपर से उस पर स्वर्णमुद्राओं की बारिश कर रहे थे।

शाहजहाँ भी ख़ुश था। उसने अपनी बेटी जहाँआरा को 1 लाख रुपए दिए और बेटे दारा के रैंक को बढ़ा दिया। उसे उम्दा हथियार व 20 हज़ार घोड़े दिए। प्रिंस सुलेमान और सिफर को क्रमशः 300 और 250 रुपए का भत्ता देने की घोषणा की गई, जो पहले से ज्यादा था। मकरमत खान को भी ‘पंज हजारी’ का खिताब देकर उसे 5000 घोड़ों से नवाजा गया। ऊँटों, घोड़ों और हाथियों के बड़े-बड़े जत्थों ने पूरे शहर में एंट्री ली। इस तरह का दृश्य 1911 में ही इसके बाद देखने को मिला था, जब अँग्रेजों ने नई दिल्ली में जॉर्ज V और क्वीन मेरी का राज्याभिषेक किया। ऐसी ही चहल-पहल तब भी थी।

लाल किला को बनाने में उस समय खुल कर रुपए लुटाए गए थे। दीवालों और उसके चारों तरफ घेरा बनाने के लिए 21 लाख खर्च किए गए थे। पूरे पैलेस पर 67 लाख रुपए खर्च किए गए थे। पैलेस में स्थित पब्लिक बिल्डिंग पर 28 लाख रुपए खर्च किए गए। दीवान-ए-ख़ास को बनाने में 14 लाख रुपए और दीवान-ए-ख़ास को बनाने में ढाई लाख लगे थे। रंग महल और ख़ास महल के निर्माण में साढ़े 5 लाख रुपए ख़र्च किए गए। 6 लाख रुपए में हयात बख्श बाग़ को तैयार किया गया। जहाँआरा बगल और अन्य मुग़ल घराने की महिलाओं ने ज़नाना इमारत बनाने में 7 लाख रुपए अलग से ख़र्च किए।

जब नपुंसक रोहिल्ला ने मुगलों के बीच जाकर मचाया कोहराम

लाल किले की अब कुछ अन्य पहलुओं पर चर्चा करते हैं, जो इसके इतिहास से आपको रू-ब-रू करवाएगा। वो 1739 का समय था, जब पर्शिया के नादिर शाह ने दिल्ली पर आक्रमण किया और यहाँ ऐसा कत्लेआम मचाया कि किसी की भी रूह तक काँप उठे। नादिर शाह ने मुग़ल बादशाह शाह आलम को हरा दिया। उसकी फ़ौज ने दिल्ली को लूटना शुरू कर दिया। लोगों को मारा जाने लगा। यहाँ तक कि आम लोगों को भी मार कर उसके शवों को क्षत-विक्षत किया गया। वो मार्च 7, 1739 का दिन था जब नादिर शाह लाल किले में घुसा। 10 मार्च को 30,000 लोगों का क्रूरता से कत्लेआम किया गया।

मई 1739 में नादिर शाह पर्शिया तो लौटा लेकिन साथ में वो लाल किले से ‘पीकॉक थ्रोन’ लूट कर ले गया। उसके साथ कई ऐसी चीजें थीं, जो उसने दिल्ली से लूटी थीं। इसके 7 साल बाद अफ़ग़ानिस्तान से अहमद शाह दुर्रानी दिल्ली पहुँचा। उसने दिल्ली पर कब्जा कर लिया और लूट शुरू कर दी। इसके बाद रोहिल्ले लड़ाके दिल्ली पहुँचे और उन्होंने कब्ज़ा कर लूट मचाई। उस समय के बादशाह शाह आलम II को क़ैद कर अंधा कर दिया गया। ये रेड डालने वाले रोहिल्ला का नाम था गुलाम कादिर खान। उसके आदमी ‘छिपे खजाने’ की तलाश में लाल किले की छान मारते रहे।

गुलाम कादिर का किस्सा काफ़ी महशूर और रोचक है। उसने शाह आलम के सभी 19 बेटों को जेल में ठूँस दिया और प्रताड़ित करवाया। उसने लगभग ढाई महीने तक मुगलों को अपने कब्जे में रखा। शहजादों को कोड़े से पिटवाया और शहजादियों का यौन शोषण किया गया। इसके बाद जैसे ही मराठा महादजी शिंदे को ये सब पता चला, उन्होंने पुणे में बैठे पेशवा की अनुमति लेकर दिल्ली की तरफ ख़ुद मार्च किया और यहाँ क़ानून-व्यवस्था को नियंत्रित किया। इतिहासकार डब्ल्यू फ्रैंकलिन लिखते हैं कि रोहिल्लों ने लाल किले में जो किया, वो उन्हें 18वीं शताब्दी के सबसे क्रूर विलेन्स में से एक बनाता है। गुलाम कादिर को महादजी सिंधिया ने धर-दबोचा था और उसे उसके किए की ऐसी सज़ा दी गई कि दुनिया के सामने ये एक मिसाल बना।

सबसे बड़ी बात कि रोहिल्ला ने मुग़ल बादशाह शाह आलम के सारे बेटों-पोतों को औरतों के वस्त्र पहना कर नचवाया और अपने फ़ौज के मनोरंजन के लिए उनका इस्तेमाल किया। शहजादियों के कपड़े फाड़ डाले गए और उन्हें नंगा कर उनका यौन शोषण किया गया। इसके पीछे की एक दिलचस्प कहानी है, जो आपको लाल किले में हुए इस हादसे का बैकग्राउंड समझने में मदद करेगी। दरअसल, शाह आलम ने गुलाम कादिर के पिता को हरा दिया था। तब कादिर मात्र 10 साल का था और देखने में काफी अच्छा था। बादशाह ने उसका लिंग कटवा दिया और उससे महिलाओं के वस्त्र में डांस करवाया जाता था।

गुलाम कादिर के बारे में ये भी कहा जाता है कि बादशाह ने उसके साथ काफी समय तक अप्राकृतिक सेक्स किया था। इन्हीं चीजों के कारण गुलाम कादिर ने इस तरह का बदला लिया। तो ये कहानी थी लाल किले के अच्छे और बुरे दिनों की, मुगलकाल में।

आज ये लालकिला देश की शान है, जहाँ से दुनिया के सबसे बड़े लोकतंत्र के प्रधानमंत्री हर स्वतंत्रता दिवस पर देश को संबोधित करते हैं।

(सोर्स: Red Fort: Remembering the Magnificent Mughals By Debasish Das)
(सोर्स 2: The Blinding of a Mughal emperor by Manu S. Pillai)

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

अनुपम कुमार सिंहhttp://anupamkrsin.wordpress.com
चम्पारण से. हमेशा राइट. भारतीय इतिहास, राजनीति और संस्कृति की समझ. बीआईटी मेसरा से कंप्यूटर साइंस में स्नातक.

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

पालघर नागा साधु मॉब लिंचिंग केस में कोर्ट ने गिरफ्तार 89 आरोपितों को दी जमानत: बताई ये वजह

पालघर भीड़ हिंसा (मॉब लिंचिंग) मामले में गिरफ्तार किए गए सभी 89 लोगों पर जमानत के लिए 15 हजार रुपए की राशि जमा कराने का निर्देश दिया है। अदालत ने इन्हें इस आधार पर जमानत दी कि ये लोग केवल घटनास्थल पर मौजूद थे।

घोटालेबाज, खालिस्तान समर्थक, चीनी कंपनियों का पैरोकार: नवदीप बैंस के चेहरे कई

कनाडा के भारतीय मूल के हाई-प्रोफाइल सिख मंत्री नवदीप बैंस ने अपने पद से इस्तीफा देते हुए राजनीति छोड़ दी है।

हिन्दू देवी-देवताओं के सिर पर लात मारने वाले पादरी को HDFC ने बताया था हीरो, CID ने की गिरफ़्तारी तो वीडियो हटाया

पादरी प्रवीण चक्रवर्ती ने कहा था कि वो 'पत्थरों के भगवान' को लात से मारेगा और पेड़ों (नीम, पीपल और तुलसी जैसे पवित्र पेड़-पौधे) को भी लात मारेगा।

हार्वर्ड ने लालू यादव की बेटी के झूठ की जब खोली पोल, फुस्स हो गया था मीसा भारती का ‘स्पीकर’ वाला दावा

निधि राजदान भले खुद को ‘फिशिंग अटैक’ का शिकार बात रहीं हो, पर कुछ साल पहले लालू यादव की बेटी ने भी हार्वर्ड को लेकर एक 'दावा' किया था।

मुंबई पुलिस पर मुस्लिम बहुल इलाके में भगवान श्रीराम के पोस्टर फाड़ने का आरोप, 3 विहिप नेताओं को गिरफ्तार किया

मुंबई पुलिस से जब इस घटना को लेकर सवाल पूछा गया तो उन्होंने कथित रूप से कहा कि राम मंदिर के पोस्टर्स विवादित थे।

धूर्तता को गलती बता बहलाने की कोशिश कर रहे रवीश कुमार: फेक न्यूज का फैक्टचेक भी नहीं

AltNews ने फैक्टचेक नहीं किया। फेसबुक ने रीच नहीं घटाई। रवीश कुमार अपनी 'गलती स्वीकार' कर 'महान' बन गए।

प्रचलित ख़बरें

मारपीट से रोका तो शाहबाज अंसारी ने भीम आर्मी के नेता रंजीत पासवान को चाकुओं से गोदा, मौत

शाहबाज अंसारी ने भीम आर्मी नेता रंजीत पासवान की चाकू घोंप कर हत्या कर दी, जिसके बाद गुस्साए ग्रामीणों ने आरोपित के घर को जला दिया।

दुकान में घुस कर मोहम्मद आदिल, दाउद, मेहरबान अली ने हिंदू महिला को लाठी, बेल्ट, हंटर से पीटा: देखें Video

वीडियो में देख सकते हैं कि आरोपित युवक महिला को घेर कर पहले उसके कपड़े खींचते हैं, उसके साथ लाठी-डंडों, बेल्ट और हंटरों से मारपीट करते है।

अब्बू करते हैं गंदा काम… मना करने पर चुभाते हैं सेफ्टी पिन: बच्चियों ने रो-रोकर माँ को सुनाई आपबीती, शिकायत दर्ज

माँ कहती हैं कि उन्होंने इस संबंध में अपने शौहर से बात की थी लेकिन जवाब में उसने कहा कि अगर ये सब किसी को पता चली तो वह जान से मार देगा।

निधि राजदान की ‘प्रोफेसरी’ से संस्थानों ने भी झाड़ा पल्ला, हार्वर्ड ने कहा- हमारे यहाँ जर्नलिज्म डिपार्टमेंट नहीं

निधि राजदान द्वारा खुद को 'फिशिंग अटैक' का शिकार बताने के बाद हार्वर्ड ने कहा है कि उसके कैम्पस में न तो पत्रकारिता का कोई विभाग और न ही कोई कॉलेज है।

चोटी गुहल कनिया रहिए गेल: NDTV में रहीं निधि राजदान को हार्वर्ड ने कभी नहीं बुलाया, बताई ठगे जाने की व्यथा

वह महामारी के कारण सब चीजों को नजर अंदाज करती रहीं लेकिन हाल ही में उन्हें इन चीजों को लेकर शक गहराया और उन्होंने यूनिवर्सिटी के शीर्ष प्रशासन से संपर्क किया तो...

MBBS छात्रा पूजा भारती की हत्या, हाथ-पाँव बाँध फेंका डैम में: झारखंड सरकार के खिलाफ गुस्सा

हजारीबाग मेडिकल कालेज की छात्रा पूजा भारती पूर्वे के हाथ-पैर बाँध कर उसे जिंदा ही डैम में फेंक दिया गया। पूजा की लाश पतरातू डैम से बरामद हुई।

पालघर नागा साधु मॉब लिंचिंग केस में कोर्ट ने गिरफ्तार 89 आरोपितों को दी जमानत: बताई ये वजह

पालघर भीड़ हिंसा (मॉब लिंचिंग) मामले में गिरफ्तार किए गए सभी 89 लोगों पर जमानत के लिए 15 हजार रुपए की राशि जमा कराने का निर्देश दिया है। अदालत ने इन्हें इस आधार पर जमानत दी कि ये लोग केवल घटनास्थल पर मौजूद थे।

तब अलर्ट हो जाती निधि राजदान तो आज हार्वर्ड पर नहीं पड़ता रोना

खुद को ‘फिशिंग अटैक’ की पीड़ित बता रहीं निधि राजदान ने 2018 में भी ऑनलाइन फर्जीवाड़े को लेकर ट्वीट किया था।

‘ICU में भर्ती मेरे पिता को बचा लीजिए, मुंबई पुलिस ने दी घोर प्रताड़ना’: पूर्व BARC सीईओ की बेटी ने PM से लगाई गुहार

"हम सब जब अस्पताल पहुँचे तो वो आधी बेहोशी की ही अवस्था में थे। मेरे पिता कुछ कहना चाहते थे और बातें करना चाहते थे, लेकिन वो कुछ बोल नहीं पा रहे थे।"

घोटालेबाज, खालिस्तान समर्थक, चीनी कंपनियों का पैरोकार: नवदीप बैंस के चेहरे कई

कनाडा के भारतीय मूल के हाई-प्रोफाइल सिख मंत्री नवदीप बैंस ने अपने पद से इस्तीफा देते हुए राजनीति छोड़ दी है।

हिन्दू देवी-देवताओं के सिर पर लात मारने वाले पादरी को HDFC ने बताया था हीरो, CID ने की गिरफ़्तारी तो वीडियो हटाया

पादरी प्रवीण चक्रवर्ती ने कहा था कि वो 'पत्थरों के भगवान' को लात से मारेगा और पेड़ों (नीम, पीपल और तुलसी जैसे पवित्र पेड़-पौधे) को भी लात मारेगा।

मंच पर माँ सरस्वती की तस्वीर से भड़का मराठी कवि, हटाई नहीं तो ठुकराया अवॉर्ड

मराठी कवि यशवंत मनोहर का कहना था कि उन्होंने सम्मान समारोह के मंच पर रखी गई सरस्वती की तस्वीर पर आपत्ति जताई थी। फिर भी तस्वीर नहीं हटाई गई थी इसलिए उन्होंने पुरस्कार लेने से मना कर दिया।

हार्वर्ड ने लालू यादव की बेटी के झूठ की जब खोली पोल, फुस्स हो गया था मीसा भारती का ‘स्पीकर’ वाला दावा

निधि राजदान भले खुद को ‘फिशिंग अटैक’ का शिकार बात रहीं हो, पर कुछ साल पहले लालू यादव की बेटी ने भी हार्वर्ड को लेकर एक 'दावा' किया था।

मुंबई पुलिस पर मुस्लिम बहुल इलाके में भगवान श्रीराम के पोस्टर फाड़ने का आरोप, 3 विहिप नेताओं को गिरफ्तार किया

मुंबई पुलिस से जब इस घटना को लेकर सवाल पूछा गया तो उन्होंने कथित रूप से कहा कि राम मंदिर के पोस्टर्स विवादित थे।

धूर्तता को गलती बता बहलाने की कोशिश कर रहे रवीश कुमार: फेक न्यूज का फैक्टचेक भी नहीं

AltNews ने फैक्टचेक नहीं किया। फेसबुक ने रीच नहीं घटाई। रवीश कुमार अपनी 'गलती स्वीकार' कर 'महान' बन गए।

उस्मानाबाद का नाम बदलकर ‘धाराशिव’ करने की तैयारी, संभाजी नगर पर कॉन्ग्रेस-शिवसेना में चल रही है तनातनी

शिवसेना ने उस्मानाबाद का नाम 'धाराशिव' रखने के संकेत दिए हैं। मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे के कार्यालय ने ट्वीट में इस नाम का उल्लेख किया है।

हमसे जुड़ें

272,571FansLike
80,695FollowersFollow
380,000SubscribersSubscribe