Saturday, July 31, 2021
Homeविविध विषयभारत की बातनरेंद्र मोदी को मालदीव का सर्वोच्च पुरस्कार, करेंगे 'मजलिस' को संबोधित

नरेंद्र मोदी को मालदीव का सर्वोच्च पुरस्कार, करेंगे ‘मजलिस’ को संबोधित

इस द्विपक्षीय यात्रा का उद्देश्य मालदीव के साथ भारत की सामरिक साझेदारी स्थापित करना है। इससे चीन के प्रभुत्व को कम करने में मदद मिलेगी।

प्रधानमंत्री को मालदीव के सर्वोच्च सम्मान से नवाज़ा जाएगा। यह सम्मान मालदीव में किसी विदेशी महानुभाव को दिया जाने वाला सर्वोच्च सम्मान है। मालदीव के राष्ट्रपति इब्राहिम मोहम्मद सोलिह ने यह घोषणा की कि भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को आर्डर ऑफ़ दी रूल ऑफ़ इज़्ज़ुद्दीन से सम्मानित किया जाएगा।

मालदीव के राष्ट्रपति कार्यालय ने बयान जारी करते हुए कहा है कि नरेंद्र मोदी को यह सम्मान दोनों देशों के बीच संबंध प्रगाढ़ करने के लिए दिया जा रहा है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के कार्यकाल में भारत ने जिस प्रकार मालदीव की सहायता की उसके लिए मालदीव आभार प्रकट करता है।

प्रधानमंत्री के रूप में शपथ लेने के बाद नरेंद्र मोदी श्री लंका और मालदीव की यात्रा पर हैं। यह उनके दूसरे कार्यकाल की पहली विदेश यात्रा है। मोदी विगत आठ वर्षों में मालदीव की आधिकारिक द्विपक्षीय यात्रा करने वाले प्रथम भारतीय प्रधानमंत्री हैं। इस द्विपक्षीय यात्रा का उद्देश्य मालदीव के साथ भारत की सामरिक साझेदारी स्थापित करना है। इससे चीन के प्रभुत्व को कम करने में मदद मिलेगी। मालदीव यात्रा के दौरान नरेंद्र मोदी वहाँ की पार्लियामेंट ‘मजलिस’ को भी संबोधित करेंगे। ऐसा करने वाले वह विश्व के दूसरे शासनाध्यक्ष होंगे। पिछले महीने ही मालदीव की पार्लियामेंट ने यह प्रस्ताव पारित किया था।

इससे पहले नरेंद्र मोदी भूटान, नेपाल, ऑस्ट्रेलिया, फिजी, मॉरीशस, श्री लंका, मंगोलिया, अफ़ग़ानिस्तान, अमेरिका, ब्रिटेन, और युगांडा की पार्लियामेंट को संबोधित कर चुके हैं। उन्हें रूस, संयुक्त अरब अमीरात, अफ़ग़ानिस्तान और सऊदी अरब का सर्वोच्च नागरिक सम्मान मिल चुका है। उन्हें 2018 में सिओल पुरस्कार भी मिल चुका है।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

माँ का किडनी ट्रांसप्लांट, खुद की कोरोना से लड़ाई: संघर्ष से भरा लवलीना का जीवन, ₹2500/माह में पिता चलाते थे 3 बेटियों का परिवार

टोक्यो ओलंपिक में मेडल पक्का करने वाली लवलीना बोरगोहेन के पिता गाँव के ही एक चाय बागान में काम करते थे। वो मात्र 2500 रुपए प्रति महीने ही कमा पाते थे।

फ्लाईओवर के ऊपर ‘पैदा’ हो गया मज़ार, अवैध अतिक्रमण से घंटों लगता है ट्रैफिक जाम: देश की राजधानी की घटना

ताज़ा घटना दिल्ली के आज़ादपुर की है। बड़ी सब्जी मंडी होने की वजह से ये इलाका जाना जाता है। यहाँ के एक फ्लाईओवर पर अवैध मजार बना दिया गया है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
112,105FollowersFollow
394,000SubscribersSubscribe