Tuesday, April 13, 2021
Home विविध विषय भारत की बात बहन! मैंने राखी का वायदा पूरा किया पर Pak का अंतिम टैंक नहीं उड़ा...

बहन! मैंने राखी का वायदा पूरा किया पर Pak का अंतिम टैंक नहीं उड़ा सका: ‘परमवीर’ अब्दुल हमीद

मात्र 32 वर्ष की उम्र में देश के लिए अपना बलिदान दिया। दुशमन की गोलीबारी के बीच जब वो घायल हो गए थे, तब भी उनके मुँह से बार-बार यही शब्द निकल कर गूँज रहे थे- 'आगे बढ़ो।' ऐसा नहीं है कि उन्होंने सिर्फ़ भारत-पाकिस्तान के युद्ध में ही अपना शौर्य दिखाया था। इससे पहले 1962 भारत-चीन युद्ध में उन्होंने चीन के भी दाँत खट्टे किए थे।

भारत और पाकिस्तान के बीच 1965 में हुए युद्ध के बलिदानी अब्दुल हमीद को उनकी वीरता और साहस के लिए याद किया जाता है। अब्दुल हमीद को उनके वीरगति को प्राप्त होने के उपरांत परमवीर चक्र से नवाजा गया था। अगस्त 2019 में उनकी पत्नी रसूलन बीबी का निधन हुआ था, जो 95 वर्ष की थीं। अब्दुल हमीद गाजीपुर जिले के धामूपुर गाँव के निवासी थे। सितम्बर 2020 में वीर अब्दुल हमीद के बलिदान को 55 वर्ष हो जाएँगे। यहाँ आगे हम बताएँगे कि कैसे उन्होंने अपनी ‘बहन’ से किया राखी का वादा निभाया।

जब सितम्बर 10, 2017 में भारतीय सेना के तत्कालीन प्रमुख (अब सीडीएस) जनरल विपिन रावत ने रसूलन बीबी के पाँव छूकर आशीर्वाद लिया था उन्होंने कहा था कि रावत उनके बेटे की तरह हैं। आज भी अब्दुल हमीद को जब उनकी वीरता के लिए याद किया जाता है तो उन लोगों को उनके बारे में याद दिलाना ज़रूरी है जो समुदाय विशेष को गुमराह करने के लिए राजनीति करते हैं।

सम्मानित दिवंगत पत्रकार शिवकुमार गोयल अपनी पुस्तक ‘जवानों की गाथाएँ‘ में वीर अब्दुल हमीद की वीरता का वर्णन सबसे अलग तरीके से करते हैं। वो चौथी ग्रेनेडियर्स के कम्पनी क्वार्टर मास्टर हवलदार थे, जिन्होंने लाहौर के कुसूर क्षेत्र से भी आगे तक पाकिस्तानी सेना को घर में घुस कर खदेड़ा था। ये सितम्बर 17, 1965 की बात है, जब पाकिस्तान की सेना अपने पैटन टैंकों के साथ आगे बढ़ रही थी। उनके दस्ते में अच्छी-ख़ासी संख्या में जवान थे।

यही वो जगह थी, जहाँ पाकिस्तानी सेना और वीर अब्दुल हमीद के जवानों के बीच जबरदस्त युद्ध हुआ। हवलदार अब्दुल हमीद अपनी जीप पर आरसीएल गन लेकर तैनात थे और उन्होंने उसी से टैंकों वाली सेना के छक्के छुड़ा दिए। उन्होंने उन टैंकों के साए में जाकर उससे मात्र 150 गज की दूरी पर स्थित होकर युद्ध किया था। अब्दुल हमीद का निशाना इतना अचूक था कि उस पराक्रमी जवान ने अपने पहले ही गोले में पाकिस्तानी टैंक को धूल में मिला दिया था।

जिस साहस के साथ वो पाकिस्तानी टैंकों पर गोले बरसा रहे थे, वो देखने लायक था। उन्होंने दूसरा गोला दागा और इसे बाद एक और पाकिस्तानी पैटन टैंक ध्वस्त हो गया। इस वीर जवान ने तीसरे पाकिस्तानी टैंक को भी लगभग उड़ा ही दिया था लेकिन वो वीरगति को प्राप्त हुए। हालाँकि, वो टैंक भी क्षतिग्रस्त ज़रूर हो गया था। उन्हीं टैंकों में से एक का गोला उनके पास आकर गिरा और उन्होंने देश के लिए अपना बलिदान दिया।

इस दौरान एक और वाकए का जिर्क करना आवश्यक है। बलिदानी वीर अब्दुल हमीद के पॉकेट से एक चिट्ठी भी निकली थी, जिसमें लिखा था- “बहन! मैंने राखी के तुम्हारे वायदे को पूरा किया। मैंने दुश्मन के दो पैंटन टैंकों को तबाह कर दिया है लेकिन तीसरे को नहीं कर सका। इसके लिए माफ़ करना- तुम्हारा भाई अब्दुल हमीद।” दरअसल, इस चिट्ठी के पीछे भी एक कहानी है, जिसका जिक्र शम्भूनाथ पांडेय ने अपनी पुस्तक ‘प्रेरक कथाएँ‘ में किया है। हालाँकि, उन्होंने अपनी टुकड़ी के साथ कुल मिला कर 6 पाकिस्तानी टैंकों को धूल में मिला दिया था।

दरअसल, 1965 के भारत-पाकिस्तान युद्ध के समय देशप्रेम का जज्बा अपने पूरे शबाब पर था। यहाँ तक कि देश का एक-एक बच्चा ख़ुद को सैनिक ही समझ रहा था। सब ने किसी न किसी रूप में योगदान दिया था। अब्दुल हमीद की टुकड़ी भी जब आगे बढ़ रही थी तो उनका जगह-जगह पर लोगों द्वारा अभिवादन किया जा रहा था। ये दिखाता है कि सेना को लेकर लोगों के मन में कितना सम्मान था, आज भी है।

इसी क्रम में हुआ यूँ कि अब्दुल हमीद की टुकड़ी जब तक पंजाब पहुँचती, तब तक रक्षाबंधन की तारीख पास आ गई। मोर्चा संभालने जा रहे जवानों की बहनों को उनकी याद आनी स्वाभाविक थी, ठीक इसी तरह इन जवानों को भी अपनी बहनों की याद आई ही होगी। पंजाब की ही एक महिला ने इस दौरान अबुल हमीद को राखी बाँधी। जैसा कि हर भाई का कर्त्तव्य होता है, अब्दुल हमीद ने भी कुछ भेंट निकाल कर अपनी उस ‘बहन’ को देनी चाही।

लेकिन उस महिला ने वीर सैनिक से कुछ भी लेने से इनकार कर दिया। उसने कहा कि आप युद्ध-क्षेत्र में दुश्मन के छक्के छुड़ा देना, मेरे लिए राखी की सच्ची भेंट यही होगी। अब्दुल हमीद को बलिदान के समय भी थी। उस वीर सैनिक के मन में देशभक्ति के अलावा राखी का ‘कर्ज’ उतारने की बात चल रही थी। जहाँ राखी बँधवाने समय उनके मन में अपार हर्ष था, बलिदान के वक़्त एक दुर्लभ संयम।

वीर अब्दुल हमीद के बारे में कुछ और जान लेते हैं। उनका जन्म जुलाई 1, 1933 को हुआ था। उन्होंने मात्र 32 वर्ष की उम्र में देश के लिए अपना बलिदान दिया। दुशमन की गोलीबारी के बीच जब वो घायल हो गए थे, तब भी उनके मुँह से बार-बार यही शब्द निकल कर गूँज रहे थे- ‘आगे बढ़ो।‘ ऐसा नहीं है कि उन्होंने सिर्फ़ भारत-पाकिस्तान के युद्ध में ही अपना शौर्य दिखाया था। इससे पहले 1962 भारत-चीन युद्ध में उन्होंने चीन के भी दाँत खट्टे किए थे।

उस समय वो नेफा मोर्चे पर तैनात थे, जहाँ चीन से भीषण युद्ध हुआ था। उन्हें परमवीर चक्र से मरणोपरांत सम्मानित करते हुए उल्लेख किया गया कि वीर अब्दुल हमीद ने ‘अपनी सुरक्षा की परवाह किए बिना निष्ठापूर्वक कर्त्तव्य पालन’ करते हुए ‘सर्वश्रेष्ठ वीरता’ का प्रदर्शन किया। तत्कालीन यूपी सरकार की तरफ से उनके परिवार को 10 हजार रुपए की सहायता दी गई और खेती-बारी के लिए परिवार को भूमि उपलब्ध कराई गई थी।

अब्दुल हमीद 1954 में भारतीय सेना में शामिल हुए थे। दरअसल, 1965 में वो पंजाब के खेमकरण सेक्टर में सेना की अग्रिम पंक्ति में ही तैनात थे। सितम्बर 8 की रात जब पाकिस्तान ने हमला किया था तब उनके पास पाकिस्तानी सेना को रोकने की चुनौती थी। पाकिस्तान के पास जो पैटन टैंक थे, वो उसे अमेरिका से मिले थे। रक्षा विशेषज्ञ कहते हैं कि अब्दुल हमीद की ‘गन मॉउंटेड जीप’ उन टैंकों के सामने खिलौना भर ही थी।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

अनुपम कुमार सिंहhttp://anupamkrsin.wordpress.com
चम्पारण से. हमेशा राइट. भारतीय इतिहास, राजनीति और संस्कृति की समझ. बीआईटी मेसरा से कंप्यूटर साइंस में स्नातक.

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

मरकज से कुम्भ की तुलना पर CM तीरथ सिंह ने दिया ‘लिबरलों’ को करारा जवाब, कहा- एक हॉल और 16 घाट, इनकी तुलना कैसे?

हरिद्वार में चल रहे कुंभ की तुलना तबलीगी जमात के मरकज से करने वालों को मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत ने करारा जवाब दिया है।

यूपी पंचायत चुनाव लड़ रहे एक प्रत्याशी के घर से भारी मात्रा समोसे-जलेबी की जब्ती, दक्षिण भारत में छिड़ा घमासान

क्या ज़माना आ गया है। चुनाव के मौसम में छापे मारने पर समोसे और जलेबियाँ बरामद हो रही हैं! जब ज़माना अच्छा था और सब ख़ुशी से जीवनयापन करते थे तब चुनावी मौसम में पड़ने वाले छापे में शराब जैसे चुनावी पेय पदार्थ बरामद होते थे।

100 करोड़ की वसूली के मामले में अनिल देशमुख को CBI का समन, 14 अप्रैल को होगी ‘गहन पूछताछ’

महाराष्ट्र के पूर्व गृह मंत्री अनिल देशमुख को 100 करोड़ रुपए की वसूली मामले में पूछताछ के लिए समन जारी किया है। उन्हें 14 अप्रैल को जाँच एजेंसी के सामने पेश होना पड़ेगा।

आंध्र या कर्नाटक… कहाँ पैदा हुए रामभक्त हनुमान? जन्म स्थान को लेकर जानें क्यों छिड़ा है नया विवाद

तिरुमाला तिरुपति देवस्थानम (टीटीडी) द्वारा गठित एक विशेषज्ञ पैनल 21 अप्रैल को इस मामले पर अपनी रिपोर्ट सौंप सकता है। पैनल में वैदिक विद्वानों, पुरातत्वविदों और एक इसरो वैज्ञानिक भी शामिल हैं।

‘गुस्ताख-ए-नबी की इक सजा, सर तन से जुदा’: यति नरसिंहानंद के खिलाफ मुस्लिम बच्चों ने लगाए नारे, वीडियो वायरल

डासना देवी मंदिर के महंत यति नरसिंहानंद के खिलाफ सोमवार को मुस्लिम बच्चों ने 'सर तन से जुदा' के नारे लगाए। पिछले हफ्ते आम आदमी पार्टी के विधायक अमानतुल्ला खान ने अपने ट्विटर अकाउंट पर महंत की गर्दन काट देने की बात की थी।

कुम्भ और तबलीगी जमात के बीच ओछी समानता दिखाने की लिबरलों ने की जी-तोड़ कोशिश, जानें क्यों ‘बकवास’ है ऐसी तुलना

हरिद्वार में चल रहे कुंभ की दुर्भावनापूर्ण इरादे के साथ सोशल मीडिया पर सेक्युलरों ने कुंभ तुलना निजामुद्दीन मरकज़ के तबलीगी जमात से की है। जबकि दोनों ही घटनाओं में मूलभूत अंतर है।

प्रचलित ख़बरें

राजस्थान: छबड़ा में सांप्रदायिक हिंसा, दुकानों को फूँका; पुलिस-दमकल सब पर पत्थरबाजी

राजस्थान के बारां जिले के छाबड़ा में सांप्रदायिक हिसा के बाद कर्फ्यू लगा दिया गया गया है। चाकूबाजी की घटना के बाद स्थानीय लोगों ने...

‘हमें बार-बार जाना पड़ता है, वो वॉशरूम कब जाती हैं’: साक्षी जोशी का PK से सवाल- क्या है ममता बनर्जी का टॉयलेट शेड्यूल

क्लबहाउस पर बातचीत में ‘स्वतंत्र पत्रकार’ साक्षी जोशी ने ममता बनर्जी की शौचालय की दिनचर्या के बारे में उनके चुनावी रणनीतिकार प्रशांत किशोर से पूछताछ की।

बालाघाट में यति नरसिंहानंद के पोस्टर लगाए, अपशब्दों का इस्तेमाल: 4 की गिरफ्तारी पर भड़की ओवैसी की AIMIM

बालाघाट पुलिस ने यति नरसिंहानंद सरस्वती के खिलाफ पोस्टर लगाने के आरोप में मतीन अजहरी, कासिम खान, सोहेब खान और रजा खान को गिरफ्तार किया।

गुफरान ने 5 साल की दलित बच्ची का किया रेप, गला घोंट मार डाला: ‘बड़े सरकार की दरगाह’ पर परिवार के साथ आया था

गुफरान अपने परिवार के साथ 'बड़े सरकार की दरगाह' पर आया हुआ था। 30 वर्षीय आरोपित ने रेप के बाद गला घोंट कर बच्ची की हत्या की।

SHO अश्विनी की हत्या के लिए मस्जिद से जुटाई गई थी भीड़: बेटी की CBI जाँच की माँग, पत्नी ने कहा- सर्किल इंस्पेक्टर पर...

बिहार के किशनगंज जिला के नगर थाना प्रभारी अश्विनी कुमार की शनिवार को पश्चिम बंगाल में हत्या के मामले में उनकी बेटी ने इसे षड़यंत्र करार देते हुए सीबीआई जाँच की माँग की है। वहीं उनकी पत्नी ने सर्किल इंस्पेक्टर पर केस दर्ज करने की माँग की है।

कुरान की 26 आयतों को हटाने वाली याचिका सुप्रीम कोर्ट में खारिज, वसीम रिजवी पर 50000 रुपए का जुर्माना

वसीम रिजवी ने सुप्रीम कोर्ट में कुरान की 26 आयतों को हटाने के संबंध में याचिका दाखिल की थी। इस याचिका को सुप्रीम कोर्ट ने खारिज कर दिया है।
- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

292,985FansLike
82,160FollowersFollow
394,000SubscribersSubscribe