हिंदू छात्रा की हत्या में अली शान और मेहरान गिरफ्तार, नमृता का क्रेडिट कार्ड यूज करता था मेहरान

मेडिकल छात्रा नमृता के साथ ही पढ़ते थे गिरफ्तार संदिग्ध। लोगों के सड़क पर उतरने के बाद हरकत में आया प्रशासन। शुरुआत में आत्महत्या बता मामले को रफा-दफा करने की हुई थी कोशिश।

पाकिस्तान के सिंध प्रान्त में हिन्दू लड़की नमृता चंदानी की हत्या के मामले में पुलिस ने 2 को गिरफ्तार किया है। लरकाना के वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक (एसएसपी) के मुताबिक, गिरफ्तार किए गए दोनों संदिग्ध नमृता के करीबी दोस्त और सहपाठी हैं। इनकी पहचान अली शान मेमन और मेहरान अब्रो के तौर पर हुई है।

मेडिकल की छात्रा नमृता घोटकी शहर से ताल्लुक रखती थी, जहाँ हाल ही में एक हिंदू मंदिर में तोड़फोड़ की गई थी। नमृता का शव 17 सितंबर को उसके हॉस्टल के कमरे में चारपाई पर संदिग्ध हालत में मिली थी। उसका कमरा अंदर से बंद था और गले में रस्सी बंधी थी।

ARY न्यूज के अनुसार, मेहरान अब्रो, नमृता का क्रेडिट कार्ड का इस्तेमाल कर रहा था। वहीं, नमृता के परिवार ने मामले की गहन जाँच की माँग की है। नमृता के भाई, विशाल जो कि एक मेडिकल कंसल्टेंट हैं, ने कहा कि शुरुआती जाँच से पता चला है कि उसकी हत्या की गई थी।

- विज्ञापन - - लेख आगे पढ़ें -

विशाल ने कहा, “यह आत्महत्या नहीं है। आत्महत्या के निशान अलग होते हैं। मुझे उसकी गर्दन के चारों ओर केबल के निशान मिले थे। उसके हाथ पर भी निशान थे। लेकिन उसकी दोस्तों ने बताया था कि उसने नमृता के गले पर दुपट्टा बँधा देखा था।”

जब विशाल से पूछा गया कि क्या नमृता किसी तरह की परेशानी या समस्या का सामना कर रही थी, तो उन्होंने कहा कि नहीं, ऐसा कुछ भी नहीं है। उन्होंने 2 दिन पहले ही नमृता से बात की थी। वह बहुत ब्रिलिएंट स्टूडेंट थी। विशाल ने इस मामले में निष्पक्ष रूप से जाँच करने की माँग की है और साथ ही न्याय के लिए नागरिकों को परिवार का समर्थन करने की अपील की है।

नमृता की हत्या की गुत्थी ने लोगों के मन में यह संशय पैदा कर दिया कि कहीं ये जबरन धर्म परिवर्तन का मामला तो नहीं था। इस घटना के बाद कराची में बड़े पैमाने पर विरोध-प्रदर्शन हुए। प्रदर्शनकारियों ने इमरान खान के नेतृत्व वाली सरकार के खिलाफ अपना गुस्सा जाहिर करते हुए नमृता लिए न्याय की माँग की। प्रशासन ने शुरुआत में इस मामले को आत्महत्या बता रफा-दफा करने की कोशिश की थी।

शेयर करें, मदद करें:
Support OpIndia by making a monetary contribution

बड़ी ख़बर

उन्नाव गैंगरेप, यूपी पुलिस, कांग्रेस
यूपी में कॉन्ग्रेसी भी योगी सरकार के ख़िलाफ़ प्रदर्शन करते हुए सड़कों पर निकल गए। लेकिन उत्तर प्रदेश विधानसभा के बाहर कॉन्ग्रेस के झंडे लेकर पहुँचे कार्यकर्ताओं ने तब भागना शुरू कर दिया, जब यूपी पुलिस ने लाठियों से उन्हें जम कर पीटा। सोशल मीडिया पर इसका वीडियो भी वायरल हो गया।

सबसे ज़्यादा पढ़ी गईं ख़बरें

ताज़ा ख़बरें

हमसे जुड़ें

117,585फैंसलाइक करें
25,871फॉलोवर्सफॉलो करें
126,000सब्सक्राइबर्ससब्सक्राइब करें

ज़रूर पढ़ें

Advertisements
शेयर करें, मदद करें: