Saturday, July 13, 2024
Homeविविध विषयअन्यदिल्ली के चिड़ियाघर में कुत्तों की घुसपैठ, बाड़े में जाकर हिरणों को नोच डाला:...

दिल्ली के चिड़ियाघर में कुत्तों की घुसपैठ, बाड़े में जाकर हिरणों को नोच डाला: तीन की मौत के बाद बाउंड्रीवाल की बढ़ेगी हाइट

यह पहली बार नहीं है जब आवारा कुत्तों ने चिड़ियाघर के जानवरों को मारा है। 2012 में भी आवारा कुत्तों ने चिंकारा को अपना शिकार बनाया था।

देश की राजधानी दिल्ली के चिड़ियाघर में आवारा कुत्तों ने तीन हिरणों को मार दिया। अधिकारियों ने जानकारी दी है कि आवारा कुत्तों ने दो विलुप्तप्राय ‘हॉग हिरण’ और एक ‘सिका’ यानी जापानी हिरण पर हमला कर उन्हें मार डाला। अधिकारियों ने बताया कि घटना 12 नवंबर 2022 के रात की है।

जानकारी के मुताबिक कुत्ते आठ फीट ऊँची दीवार फाँदकर हिरणों के बाड़े में घुस गए। हमले से बेखबर गार्ड्स को अगली सुबह 2 ‘हॉग हिरणों’ के क्षत-विक्षत शव मिले, जबकि ‘सिका’ घायल अवस्था में पड़ा मिला। इलाज के दौरान ‘सिका’ हिरण ने भी दम तोड़ दिया। चिड़ियाघर के अधिकारियों का मानना है कि चारदीवारी के पास लगे कचरे और मलबे के ढेर से होकर कुत्ते घुसे होंगे। रिपोर्ट्स के मुताबिक घटना की आंतरिक जाँच के आदेश दिए गए हैं।

चिड़ियाघर की निदेशक आकांक्षा महाजन ने कहा है कि चिड़ियाघर के चारदीवारी के पास कचरा डंप किए जाने की वजह से कचरे के ढेर की ऊँचाई बाउंड्रीवाल के बराबर हो गई है। जिससे आवारा कुत्तों के लिए चिड़ियाघर में दाखिल होना आसान हो गया है। उन्होंने बताया कि कचरे के ढेर को हटवाने के लिए एमसीडी को खत लिखा गया है। चिड़ियाघर की चारदीवारी की ऊँचाई बढ़ाने के लिए टेंडर जारी किया है। फिलहाल चिड़ियाघर के उन कंटीले तारों की मरम्मत कर दी गई है, जिसे कुत्तों ने नुकसान पहुँचाया था।

रिपोर्ट्स की मानें तो यह पहली बार नहीं है जब आवारा कुत्तों ने चिड़ियाघर के जानवरों को मार दिया हो। इसके पहले साल 2012 में भी आवारा कुत्तों ने चिंकारा हिरण को अपना शिकार बनाया था। चिंकारा हिरणों के शव भी अगले दिन बरामद हुए थे। उनके गर्दन और सिर पर गहरे घाव पाए गए थे।

दिल्ली के आवारा कुत्ते कचरे या शिकार द्वारा ही अपना भोजन प्राप्त करते हैं। उनका मानव बस्तियों से कम ही संपर्क होता है। ऐसे कुत्ते अभयारण्यों, वेटलैंड्स के आसपास पाए जाने वाले कई प्रजातियों के लिए खतरा बन चुके हैं। खासकर पक्षियों की प्रजातियों को इनसे बड़ा खतरा है।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

लैंड जिहाद की जिस ‘मासूमियत’ को देख आगे बढ़ जाते हैं हम, उससे रोज लड़ते हैं प्रीत सिंह सिरोही: दिल्ली को 2000+ मजार-मस्जिद जैसी...

प्रीत सिरोही का कहना है कि वह इन अवैध इमारतों को खाली करवाएँगे। इन खाली हुई जमीनों पर वह स्कूल और अस्पताल बनाने का प्रयास करेंगे।

‘आपातकाल तो उत्तर भारत का मुद्दा है, दक्षिण में तो इंदिरा गाँधी जीत गई थीं’: राजदीप सरदेसाई ने ‘संविधान की हत्या’ को ठहराया जायज

सरदेसाई ने कहा कि आपातकाल के काले दौर में पूरे देश पर अत्याचार करने के बाद भी कॉन्ग्रेस चुनावों में विजयी हुई, जिसका मतलब है कि लोग आगे बढ़ चुके हैं।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -